शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

स्फुट सवैया एवं गीत // डॉ०कुसुमाकर आचार्य

अनिर्बन की कलाकृति

सवैया


पालन है करता जग का नित ,
                          वा जगदीशहिं शीश नवाऊँ।
संतन को ढिग बैठि सदा,
                      इसके नित मैं गुणगान सुनाऊँ।
जीवन में गुरुदेव रजायसु ,
                       आठहुँ यामहिं शीश चढ़ाऊँ I १ ।


क्षण में दुःख दूर करै जग का,
                        धन वैभव शक्ति प्रदायक है।
जिसका अवलम्ब न और कछू,
                          उसका प्रभु तू ही सहायक है।
जगदीश कृपा तुम्हरी जिन पै ,
                         वह तीनहुँ लोक के नायक हैं।
रज पावन पाँवन की तुम्हरी,
                        बड़भागिनि स्वर्ग प्रदायक है। २।


मान न पाये कभी मन से ,
                      किसी और की बात सनेह भरी भी I
गैर सभीको रहे कहते अरु ,
                             सोचा नहीं कभी एक घरी भी।
हैं जिनको दुत्कार रहे नित ,
                             नित्य सुनाते है खोटी खरी भी।
क्या तुमने यह सोचा कभी ,
                    वह भी तो है प्यारे तिहारे करीबी । ३।


प्रलयंकर शंकर हो तुम ही ,
                      तुम ही विधि सृष्टि विधायक हो।
बन विष्णु सदा जग पालत हो ,
                          तुम ही सब के प्रभु नायक को।
सब दीन दु:खीजन का जग में ,
                       तुम ही प्रभु एक सहा‌यक हो।
परमेश्वर चाकर है जग ये ,
                    इक तू ही प्रभो सब लायक होl४।


मन माहि क्षमा ,तन माहि दया,
                        सब धारे फिरैं जगती तल में।
जन से जन की नहि दूरी बढै़
                     सब प्रेम करैं इस भूतल में।
अपनापन हो सबके मन में ,
                       सुख शान्ति रहे जल में ,थल में।
परमेश्वर तू जो कृपा कर दे ,
                           दुःख दर्द हटैं सब के पल में।५।


रोमन - रोमन है ब्रह्मण्ड ,
                     करोड़न जाके न सोचे समाये।
जो हर को , हरिको, विधिना कहँ ,
                    लाखन भाँति सो नाच नचाये।
आदि न अन्त अनन्त असीम ,
                     अगोचर ये जग माहि कहाये ।
भक्तन के हित हेतु यहाँ ,
                        जग में धर रूप अनेकन आये।६।


प्यार पवित्र पसन्द तुम्हें ,
                         सरकार सभी कहँ प्यार ही दीजै ।
या जग में सब हैं तुम्हरे  ,
                      अब नाथ अनाथ बिसार न दीजै ।
पावन पाँवन की रज लै,
                        सिरधार सकैं इतनो कर दीजै।७।


तीन हुँ लोक के ठाकुर को तू ,
                             रिझावन चाहत है जयकारन।
चींटिन चाप भी जो सुनता ,
                          उसको तू सुनावत है टनकारन ।
  सोचा कभी बस होयगो ठाकुर,
                        यूँ चिमटे की तेरी झनकारन।
क्या 'कुसुमाकर' मालिक जागेगा ,
                      यूँ सुनके तेरी चीख पुकारन। ८ ।


बोल कुबोल न तोल के बोलत ,
                         खोलत है न हिये दरवाजे ।
जीवन है अनमोल ,रहा रज-
                         रोल ,बजाकर दुन्दुभि बाजे।
खोलत ना 'कुसुमाकर'नैन तू ,
                       आँखिन आगहि राम विराजे।
झूठहि है करनी धरनी तव,
                         झूठहि झूठ सदा तुम साजे। ९।।
                          

                     X                     x                    
           

                          गीत


                                   


रे मन ! चल जमुना की ओर।
              जो तुमको प्राणों से प्यारा ,
.             टूटेगा तन  का इक  तारा,             
       ढूँढ- ढूँढ़कर थक जायेगा ,नहीं मिलेगी छोर ।
                             रे मन !चल जमुना की ओर।


              जीवन है इक बहती धारा ,
               इसका मिलता नहीं किनारा ,
ऋषि मुनि सन्त सभी पच हारे,मिला ओर ना छोर ।
                            रे मन !चल जमुना की ओर' ।


                 . कहीं नहीं मिलता उजियारा ,
                   पग-पग पर फैला अँधियारा,
         देखा हमने घूम-घूम कर , जग है बड़ा कठोर ।
                              रे मन ! चल जमुना की ओर।


                     ये जीवन है  रैन अँधेरी ,
                     ये काया है राख की ढेरी ,
    लाख जतन कर ले तू लेकिन , टूटे साँस की डोर ।
                             रे मन ! चल जमुना की ओर' ।


                       मेरे   तेरे   जो  अति   प्यारे ,
                       तोड़ के बन्धन जग के सारे ,
तुम को इक दिन जाना होगा , जहाँ अनन्त अछोर ।
                             रे मन ! चल जमुना की ओर**

--------

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------