बुधवार, 6 सितंबर 2017

रचनाकार हो गया अब करोड़पति !

नीचे का स्क्रीनशॉट देखें -

image

रचनाकार के पृष्ठ-पठन संख्या का आंकड़ा 1 करोड़ से पार हो चुका है. वास्तविक आंकड़ा इससे कहीं अधिक है. यह आंकड़ा जब से गूगल एनालिटिक्स इंटीग्रेट हुआ है तब से है, और ईमेल सब्सक्रिप्शन आदि के जरिए पठन-पाठन के आंकड़े सम्मिलित नहीं हैं. वर्तमान में प्रतिदिन रचनाकार के औसतन 15 हजार पेज पढ़े जाते हैं.  धीर गंभीर साहित्यिक ई-पत्रिका की लोकप्रियता का यह एक नया पैमाना है.

रचनाकार के सभी प्रसंशकों, समर्थकों, रचनाकारों, पाठकों का आभार व धन्यवाद.

थोड़ी और अंतर्दृष्टि डालें तो स्पष्ट दिखता है कि अधिकांश पाठक अब गूगल सर्च से आते हैं, अपने काम की चीज़ों को खोजबीन कर पढ़ते हैं. रचनाकार एंड्रायड ऐप्प से भी नियमित पढ़ने का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है. विंडोज व पीसी के बजाए अब अधिकांश पाठक अपने स्मार्टफ़ोनों (एंड्रायड) से पढ़ना पसंद करते हैं.

विशिष्ट अवसरों पर विशिष्ट विषयों के रचनाओं की भी अतिरिक्त खोजबीन की जाती है. सर्वकालिक लोकप्रिय विषय हास्यव्यंग्य तो है ही.


करोड़पति रचनाकार से आप भी जुड़ें. अपनी रचनाओं की पहुँच को विस्तार दें. आज ही रचनाकार में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजें.

---

6 blogger-facebook:

  1. आपके रचनाकार ब्लॉग पर पोर्न साइट्स के विज्ञापन ऊधम मचा रहे हैं। दर्शक संख्या (पाठक नहीं) तो बढेगी ही। लेकिन यह ठीक नहीम लग रहा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सिद्धार्थ शंकर जी, सूचना के लिए धन्यवाद. परंतु क्या स्क्रीनशाट भेजेंगे? आमतौर पर गूगल वही विज्ञापन परोसता है जिसकी खोजबीन जिस कंप्यूटर पर अधिक होती है. वैसे भी रचनाकार पर पोर्न साइटों के विज्ञापन बंद हैं, केवल गूगल एडसेंस वाले ही विज्ञापन आते हैं जो कि आमतौर पर सामाजिकता युक्त होते हैं, फिर भी शोधबीन करनी जरूरी है अतः जानकारी अवश्य दें धन्यवाद वैसे अन्यत्र से इस तरह की शिकायत नहीं आई है आपके कंप्यूटर का हाजमा ठीक है उसमें कोई वायरस आदि तो नहीं या फिर स्मार्टफोनों पर भी यही हाल है कृपया प्रकाश अवश्य डालें

      हटाएं
  2. ASHISH SHRIVASTAVA7:07 pm

    ADARNIYE SAMPADAK JI AUR SAMUCHI TEAM KO HARDIK SHUBHKAMNAYIN....AAPKI MEHNAT YU HI RANG LATI RAHE AUR HINDI VISWA KI NO. 1 BHASA BANE....YAHI KAMNA....HINDI SAHITYA MEI AAPKE YOGDAN KE LIYE AAPKA SAMMAN HONA CHAHIYE.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. सिद्धार्थ शंकर जी, क्या स्क्रीनशाट भेजेंगे? आमतौर पर गूगल वही विज्ञापन परोसता है जिसकी खोजबीन जिस कंप्यूटर पर अधिक होती है. वैसे भी रचनाकार पर पोर्न साइटों के विज्ञापन बंद हैं फिर भी शोधबीन करनी जरूरी है अतः जानकारी अवश्य दें धन्यवाद वैसे अन्यत्र से इस तरह की शिकायत नहीं आई है आपके कंप्यूटर का हाजमा ठीक है या फिर स्मार्टफोनों पर भी यही हाल है कृपया प्रकाश अवश्य डालें

    उत्तर देंहटाएं
  4. रचनाकार को कोटि कोटि धन्यवाद व बधाइयाँ...यह पैमाना अपने आप में सिद्ध करता है कि लोग साहित्य में कितनी अभिरुचि दर्शाते हैं. रचनाकारों को भी अभिनिन्दन. रविजी के अथक व सार्थक प्रयासों से ही यह संभव हुआ है...किन्तु साहित्यकारों की रचनाओं से ही तो यह समृद्ध बना है. उज्जवल भविष्य व उत्तरोत्तर प्रगति के पथ पर रचनाकार अग्रसर रहे ऐसी मंगल व शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बधाई. रचनाकार ने पढ़ने की आदत बनाने में बेहतर काम किया है. बधाई आपके परिश्रम और आपके सोच की.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------