---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

डॉ. कविता भट्ट की कविताएँ

साझा करें:

१-    नन्हा भरतू और भारत बंद  डा कविता भट्ट हे०न० ब० गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर गढ़वाल उत्तराखंड mrs.kavitabhatt@gmail.com सुबह से शाम ...

image

१-    नन्हा भरतू और भारत बंद 

डा कविता भट्ट
हे०न० ब० गढ़वाल विश्वविद्यालय
श्रीनगर गढ़वाल उत्तराखंड
mrs.kavitabhatt@gmail.com

सुबह से शाम तक, कूड़े से बोतलें-खिलौने बीनता नन्हा भरतू
कतार में नहीं लगता, चक्का जाम न भारत बंद करता है

दरवाजा है न छत उसकी वो बंद करे भी तो क्या
वो तो बस हर शाम की दाल-रोटी का प्रबंध करता है

पहले कुछ टिन-बोतलें चुन जो दाल खरीद लेता था
अब उसके लिए कई ग्राहकों को रजामंद करता है

बचपन से सपने बुनते- बैनर इश्तेहार बदलते रहे
गिरे बैनर तम्बू बना, सर्द रातों में मौत से जंग करता है
   
सड़क पर मिले चुनावी पन्नो के लिफाफे बनाकर
मूंगफली-सब्जी-राशन वालों से रोज अनुबंध करता है
 
कूड़े की जो बोरी नन्हे कंधे पर लटकते-२ फट गयी 
बस यही खजाना उसका, टाँके से उसके छेद बंद करता है

इतनी बोतलें- हड्डियाँ कूड़े में, यक्ष प्रश्न है- उसके जेहन में 
बेहोशी-मदहोशी या नुक्कड़ की हवेली वाला आनंद करता है

निश्छल भरतू पूछ बैठा, कूड़े में नोट? आखिर क्या माजरा है?
तेरे सवाल का पैसा नहीं, अम्मा बोली- काहे दंद-फंद करता है ?

एक सवाल लाख का उनका, तेरे से क्या उनकी क्या तुलना?
बूढ़े बापू, उम्र ढली कूड़े में, तू क्यों अपना धंधा मंद करता है

इसीलिए नन्हा भरतू कूड़े,  दाल और रोटी में ही खोया है   
कतार में नहीं लगता, चक्का जाम न भारत बंद करता है

[ads-post]

२-    आर-पार
जब सुलह के निष्फल हो जाया करते हैं, सभी प्रयास
शान्ति हेतु मात्र युद्ध उपाय, इसका साक्षी है इतिहास
एक सुई की नोंक भूमि नहीं दूंगा दुर्योधन हुंकारा था
हो निराश शांतिदूत कृष्ण ने कुंती का नाम पुकारा था  

वीर प्रसूता जननी- तेज़स्विनी नारी का उपदेश था
“धर्मराज! तुम युद्ध करो” ये महतारी का सन्देश था 
तुम निर्भय बन अत्याचारी की जड़ उखाड़ कर फेंको
कर्त्तव्य और धर्म पथ पर तुम आत्मत्याग कर देखो 

साहस भरे इन वचनों से कृष्ण प्रभावित हुए अपार
आगे चलकर ये गीता- कर्मयोग के बने थे आधार
मात्र पांच गाँव की बात थी महाभारत के मूल में 
कश्मीर लगा सम्मान दांव पर, सैनिक प्रतिदिन शूल में

कितने सैनिक लिपटे, लिपट रहे और लिपटेंगे अभी
तिरंगा पूछ रहा- अधिनायक! सोचो मिलकर जरा सभी
रात का रोना बहुत हो चुका अब सुप्रभात होनी चाहिए
बलिदानों पर लाल किले से निर्णायक बात होनी चाहिए

अंतिम स्टिंग, एक बार में ही सब आर-पार हो जाये बस
कोबरे-किंग-साँप-संपेरे-बाहर-भीतर,प्रलयंकार हो जाये बस
तुम निर्भय हो, उठो कृष्ण बन लाखों अर्जुन बना डालो
चिर-शांति स्थापना के लिए अब सीमा को रण बना डालो  
 


३-    प्रेम है अपना
वेदों की ऋचा सा है प्रेम अपना, मधुर ध्वनि में इसको गाना
अक्षर-अक्षर पावन मन्त्रों सा , आँख मूँद हमें है जपते जाना

गंगाजल सा शीतल मन है,
और दीप्त शिखा सा मेरा तन है
पत्र - पुष्प कांटों में से चुनती हूँ ,
जीवन विरह का आँगन-उपवन है

भगवतगीता के अमृत-रस सा, घूँट-घूँट तुम पीते जाना
वचन-वचन पावन श्लोकों सा, तर्कों में इसको न उलझाना

तुमने कानों में रस घोला था
होंठों पर मुस्कान सजायी
रोम- रोम प्रियतम बोला  था
कामनाओं ने ली अंगडाई

उपनिषदों के तत्त्वमसि सा, साँस- साँस तुम्हे  है रटते जाना
तुम चाहो इसको जो समझो , मैंने तुम्हे परब्रह्म सा है माना 


४-    इनमें खो जाऊं
ये घुन्घरू बजाती अप्सराओं सी नदियाँ
अभिसार को आतुर ये बादल की गतियाँ

बर्फीले बिछौनों पर ये अनुपम आलिंगन
सुरीली हवाओं के उन्नत पहाड़ों को चुम्बन

ये घाटी, ये चोटी ये उन्नत हिमाला
कन्या सी कड़ी शांति लिए पुष्पमाला

कभी गुनगुनाती, कभी गुदगुदाती
धूप प्रेयसी सी उँगलियाँ फिराती

मंगल गाते वृक्ष-लताएँ लिपटे समवेत
स्वर्ग को जाती सुन्दर सीढियों से खेत

युगल-पक्षियों की प्रणय रत कतारें
मृग-कस्तूरी सी सुगन्धित अनुपम बयारें

अपनी ही प्रतिध्वनि कुछ ऐसे लौट आये
जैसे प्रेयसी को उसका प्रियतम बुलाये 

इस प्रतिध्वनि में डूब ऐसे खो जाऊं
पद-धन-मान छोड़ बस इनमें खो जाऊं

५-    अनुबन्ध


मानव के वश में होता तो प्रकृति पर भी होते प्रतिबन्ध
कौन लता किस पेड़ से लिपटे, इसके भी होते अनुबन्ध

घटा न मचलती और न घुमड़ती
चंचल हवा चूम आँचल न उड़ती  
भंवरे कली से नहीं यों बहकते 
तितली मचलती न पंछी चहकते

किससे, कब, कैसे हाथ मिलाना? व्यापारों से होते सम्बन्ध
कौन लता किस पेड़ से लिपटे, इसके भी होते अनुबन्ध

झरने न बहते, नदियों पर पहरे
सीपी, न मोती सागर होते गहरे
चाँदनी मुस्कुराती न तारे निकलते
बिन शर्त सूरज-चाँद उगते न ढलते

मुखोटे पहने ये रंगीन चेहरे, नकली फूलों में कैसी सुगन्ध
कौन लता किस पेड़ से लिपटे, इसके भी होते अनुबन्ध

उन्मुक्त बहना है प्रफुल्ल रहना
जीवन की शर्त है जीवन्त रहना
हृदय की ध्वनि को यों न दबायें 
बिन स्वार्थ कुछ क्षण संग बिताएं

सहजीवी बनें और बस प्रेम बांटे, झूठे व्यापारों में कैसा आनन्द
कौन लता किस पेड़ से लिपटे, इसके तो ना करो अनुबन्ध
 


६-    मेरी बीमार माँ
मेरी नींद खुली तो दिल में हलचल बड़ी थी,
घबरा के देखा मैं अस्पताल के सामने खड़ी थी
उसी समय नर्स ने रजिस्टर देखकर पुकार लगायी  
ईनाम की औरत के साथ कौन आया है भा“हिंदी” 
  
आस-पास मेरे तथाकथित भाई बहन चिल्ला रहे थे
“आईसीयू में हमारी बुढ़िया माँ है” ऐसा बता रहे थे
जिसे हमारे पूर्वज वर्षो पहले ओल्डएज होम छोड़ आये थे
वही के कर्मचारी आज सुबह ही उसे अस्पताल लाये थे

ऑक्सीजन लगी बुढिया कभी भी मर सकती थी
अपनी वसीयत ओल्डएज होम के नाम कर सकती थी 
समझी नहीं फटेहाल बुढिया को माँ क्यों बता रहे थे
घडियाली आंसुओ से मेरे भाई बहन क्या जता रहे थे 

वहीँ जींसटॉप में “इंग्लिश” नामक औरत मुस्करा रही थी
जो कई सालों से खुद को हम सबकी माँ बता रही थी
क्या है, गड़बड़ झाला मुझे समझ ही नहीं आया
और मैंने पास खड़े डॉक्टर से माजरा पुछवाया

सौतन है वो माँ की जिसने साजिशन डेरा जमाया है
डॉक्टर बोला इसी ने तुम्हारी माँ को ओल्डएज होम भिजवाया है
पर मुझे लगा की डॉक्टर को भी अधूरी जानकारी थी
मात्र सौतन की नहीं, वो हम सबकी साजिश की मारी थी

लोरियां याद रही हमें लेकिन हम माँ को भूल गए
अपनी माँ की कुटिल सौतन के गले में ही झूल गए  
मैं पास गयी माँ के नर्स खड़ी थी दरवाजा खोलकर
पोते पोतियों से मिलवाओ माँ रो पड़ी ये बोलकर

मैंने कहा वो अमेरिका तो कुछ इंग्लॅण्ड में पढ़ रहे है
लेकिन वो तुम्हारी चिंता छोड़, आपस में ही लड़ रहे हैं
खुद को अलग अलग परिवारों का बता रहे हैं
तुम्हारी भावी पीढ़ी हैं ऐसा कहने में घबरा रहे हैं 

माँ बोली उनके साथ मुझे रखो मैं उन्हें दुलार दूंगी
तुम्हे भी सहला के जीवन रस-रंग संस्कार उपहार दूंगी
मेरी ममता और लोरियों का कर्ज चुकाओगे क्या
ओल्ड एज होम से वापस मुझे ले जाओगे क्या 

मेरे जवाब के लिए अब भी वह बिस्तर पर पड़ी है
मेरे उत्तर की प्रतीक्षा में उसकी धड़कन बढ़ी है
कभी घडियाली आंसू लिए भाई बहनों को देखती हूँ 
कभी अपनी बीमार माँ को देख जोरों से चीखती हूँ

चलो अब तो माँ को घर ले चलें ये है अनुरोध
इसे जीवन्त करें जिससे न हो कोई गतिरोध
धीमे-धीमे ही सही इसको खुली हवा में टहलाएँ
ये हमारी पहचान है, जड़ है, इसको सींचे-सहलाएं   

   
७-    यदि मानव के वश में होता
सोचो ...यदि मानव के वश में होता
ये प्रकृति को अनुचरी बनाता, सूरज की नित दिशा बदलती
चाँदनी भी बंधक बन जाती, निशा प्रेमगीत लिए न मटकती  
धरा का धर्म है धारण करना, किन्तु ये स्वच्छंद न विचरती
आकाश-पिता अमृत कैसे बरसाता? उसमे भी रेखाएं उभरती
घटा न उमड़ती-घुमड़ती, न चुम्बन लेती, देश-परदेश विहरती
बिन वीजा हवाएं न आती-जाती, मंद-सुगंध भयभीत सिहरती    
कोयल कैसे कूहू गाती, तितलियाँ कैसे सीमाविहीन उचकती
झरने न मिलते नदियों से, पहरे होते- सागर में न सिमटती
भंवरा किस कली पर मंडराए-रस चुराए, ये सब शर्तें ठहरती 
वृक्ष उगे कहाँ-कैसे, लता वृक्ष-आरोहण के अनुबंध ही करती

८-    शैल-बाला

पहाड़ियों पर बिखरे सुन्दर समवेत
देवत्व की सीढियों से सुन्दर खेत

ध्वनित नित विश्वहित प्रार्थना मुखर
पंक्तिबद्ध खड़े अनुशासन में तरु-शिखर

शैल-बालाओं के घाटी में गूंजते मंगलगान
वो स्वामिनी; अनुचरी नहीं, कौन कहे अनजान

दूर पहाड़ी-सूरज से पहले ही, उसकी उनींदी भोर
रात्रि उसे विश्राम न देती, बस देती झकझोर

हाड़ कंपाती शीत दे जाती गर्म कहानी झुलसाती
चारा-पत्ती, पानी ढोने में वह मधुमास बिताती
 
विकट संघर्ष, किन्तु अधरों पर मुस्कान
दृढ, सबल, श्रेष्ठ वह, है तपस्विनी महान 

और वहीँ पर कहीं रम गया मेरा वैरागी मन
वहीँ बसी हैं चेतन, उपचेतन और अवचेतन

सब के सब करते वंदन जड़ चेतन अविराम  
देवदूत नतमस्तक कर्मयोगिनी तुम्हें प्रणाम

   

९-    फूलदेई

आज चौंक पूछ बैठी मुझसे एक सखी क्या है- फूलदेई?
मैं बोली पुरखों की विरासत है- पहाड़ी लोकपर्व- फूलदेई 
मैं नहीं थी हैरान, सखी सुदूर प्रान्त की; क्या जाने- फूलदेई 
किन्तु, गहन थी पीड़ा; पहाड़ी बच्चा भी नहीं जानता- फूलदेई 

आँख मूँदकर तब मैं अपने बचपन में तैरती चली गयी
चैत्र संक्रांति से बैशाखी तक उमड़ती थी फुलारों की टोली
रंग-रंगीले फूल चुनकर सांझ-सवेरे सजती डलिया फूलों की 
सरसों, बांसा, किन्गोड़, बुरांस; मुस्कुराती नन्ही फ्योंली सी

उमड़-घुमड़ गीत गाते थे मैं और मेरे झूमते संगी-सखी
इस, कभी उस खेत के बीठों से चुन-२ फूल डलिया भरी
गोधूलि-मधुर बेला, बैलों के गलघंटियों से धुन-ताल मिलाती
सुन्दर महकती डलिया को छज्जे के ऊपर लटका देती थी

प्रत्येक सवेरे सूरज दादा से पहले, अंगड़ाई ले मैं जग जाती थी
मुख धो, डलिया लिए देहरियाँ फूलों से सुगंधित कर आती थी
सबको मंगलकामनाएं- गुंजन भरे गीत मैं गाती-मुस्कुराती थी
दादी-दादा, माँ-पिता, चाची-चाचा, ताई-ताऊ के पांय लगती थी 

सुन्दर फूलों सा खिलता-हँसता बचपन: पकवान लिये- फूलदेई
मिलते थे पैसे, पकवान नन्हे-मुन्हों को : पूरे चैत्र मास- फूलदेई
अठ्ठानब्बे प्रतिशत की दौड़ निगल गयी बचपन के गीत- फूलदेई
बोझा-बस्ता-कम्प्यूटर-स्टेटस सिंबल झूठा निगल गया- फूलदेई 
 
ना बड़े-बूढ़े, न चरण-वंदना, मशीनें- शेष; घायल परिंदा है- फूलदेई
अगली पीढ़ी अंजान, हैरान, परेशान है और शर्मिंदा है- फूलदेई 
बासी संस्कृति को कह भूले; अब गुड मोर्निंग का पुलिंदा है- फूलदेई 
फूल खोये बचपन खोया; बस व्हाट्स एप्प में जिन्दा है- फूलदेई

कितना अच्छा था, खेल-कूद-पढाई साथ-२ : फूलों में हँसता- फूलदेई
गाता-नाचता, आशीष, संस्कार, मंदिर की घंटियों सा पवित्र – फूलदेई
मेरा बचपन- उसी छज्जे पर लटकी टोकरी में; खोजो तो कोई- फूलदेई
हो सके ताज़ा कर दो फूल पानी छिड़ककर; अब भी बासी नहीं- फूलदेई

शब्दार्थ –
फूलदेई- चैत्र संक्रांति से एक माह तक मनाया जाने वाला उत्तराखंड का लोकपर्व
फूलारे- खेतों से फूल चुनकर देह्लियों में फूल सजाने वाले बच्चे
बांसा, बुरांस, किन्गोड़, फ्योली – चैत्र मास में पहाड़ी खेतों के बीठों पे उगने वाले प्राकृतिक औषधीय फूल
बीठा- पत्थरों से निर्मित पहाड़ी सीढ़ीनुमा खेतों की दीवारें
छज्जा- पुराने पहाड़ी घरों में लकड़ी-पत्थर से बने विशेष शैली में बैठने हेतु निर्मित लगभग एक- डेढ़ फीट चौडा स्थान

१०-    सीमाएँ

सीमाएँ
      प्रगाढ़ होती निरंतर किसी वृद्धा के चेहरे की झुर्रियों सी
असीम बलवती- वर्गों की, कागजों, देशों की

सीमाएँ वर्गों की –
तय करती अंधे-बहरे-गूंगे मापदंड,
अद्भुत किन्तु सत्य श्वेत-श्याम-रंग-बेरंग

मेहनत, विफलता और संघर्ष फिर भी,
इधर भूख और प्यास भी अपराध सा है

आराम, सफलता और विजय के दावे ही
उधर दावतों का नित संवाद सा है 

सीमाएँ कागजों की –
     तय करती पारंगतता सच्चे-झूठे प्रमाणों से
संचालक अनकही-अनसुनी-अनदेखी पीड़ा के

इधर गली कूंचे का मेकेनिक छोकरा
असफल ही कहलाता है मैला-कुचैला,

उधर अनाड़ी टाई पहने सफल ही कहलाता
कागज धारी तथाकथित इन्जिनीयर छैला

सीमाएँ देशों की-
संघर्ष, युद्ध, शांति, संधियाँ, वार्ताएं
संकुचन-प्रसारण, सफलताएँ-विफलताएं

इन्सान तो क्या-पौधों, पशु-पक्षियों पर
लगवाती लेबल, बंध्वती ट्रांसमीटर

इन्सान है परन्तु हिन्दुस्तानी-पाकिस्तानी तय करती
नदी निरुत्तर, इधर या उधर का पानी तय करती
 
सीमाएँ -

प्रगाढ़ होती निरंतर किसी वृद्धा के चेहरे की झुर्रियों सी
असीम बलवती- वर्गों की, कागजों, देशों की

११-    जिंदगी

कभी छत पर कभी गलियों में आते-जाते हुए
एक दिन जिंदगी मिली थी मुस्कुराते हुए
उसका पूछा जो पता तो वो तनिक सकुचाई
वो सीता और सलमा, घूँघट-बुर्के में शरमाते हुए

कभी कोई एक मंजा खरीद कर लाया
और डोरी में बंधकर उसे जो उचकाया
वो पतंग बनकर बहुत ऊंचा उड़ना चाहती थी
काट डाले पर किसीने उसके फड़फड़ाते हुए

कहते हैं गीता जिसे वो हरेक मंदिर में
और कुरआन जिसे कहते है हर मस्जिद में
हैं बहुत शर्मनाक उनकी करतूते
उन्हें ही देखा उसके पन्ने फाड़कर जलाते हुए

है जिनको गर्व बहुत अपनी संस्कृति पर
उनसे लुटती रही सलमा और निर्भया बनकर
जिनका इतिहास दुर्गा और रानी झाँसी हैं
उन्हें ही देखा चीरहरण पे सर झुकाए हुए

आज भिखारन सही वो उनकी गलियों की
कल कटोरे में उसके कुछ न कुछ तो होगा ही
आज होगा नहीं तो फिर कल होगा
उसके फटे आँचल में कभी न कभी मखमल होगा


१२-    सागर का विस्तार गगन तक
 
सागर का विस्तार गगन तक
हे प्रिय सागर का विस्तार
क्षण पल मृदु कण सत्व-समाश्रित
कुछ अनंत और शेष अपार,
बूँद निरर्थक नहीं प्रेम की
हे प्रिय मोती-सीप अपार
मेरे मन से तेरे मन तक
बादल प्रतिफल अमृत के  प्रसार
  सागर का विस्तार गगन तक
हे प्रिय सागर का विस्तार
  

१३-    मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत

सीमा पर सरसों खिल जाये काँटों का हो अंत
बारूद नहीं बस हो गुलाल और प्रीत सजे तुरंत

मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत

कुरान आयतों के संग गूंजे गीता सर अनंत
बस मानवता बसी रहे, कोई जाति-धर्म ना पंथ

मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत

फाग रचे होली-गुलाल फहरे दिशा-दिगंत
हर थाली में रहे निवाला, कोई राजा न रंक

मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत

हर बच्ची ऐसे लहराए जैसे उड़े पतंग
मुरझायें न टूटे कलियाँ, ना हो कोई प्रपंच

मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत

खेतों में चलता रहे कलेवा गोरी प्रियतम संग
मुस्कानों का दौर चले न हो रंग में भंग

मेरे भारतवर्ष का ऐसा हो बसंत


१४-    पहाड़ की नारी

लोहे का सिर और बज्र कमर संघर्ष तेरा बलशाली
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी
 
तू पहाड़ पर चलती है हौसले लिए पहाड़ी
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी
 
चंडी-सी चमकती चलती है जीवन संग्राम है जारी
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी
 
एक एक हुनर तेरे समझो सौ सौ पुरुषो पर भारी
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी 

बुद्धि विवेक शारीरिक क्षमता तू असीम बलशाली
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी
 
सैनिक की माता-पत्नी-बहिन मैं तुम पर बलिहारी
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी
 
समर्पित करती कविता तुमको शब्दों की ये फुलवारी
रूकती न कभी थकती न कभी तू हे पहाड़ की नारी 


१५-    बिछुआ उसके पैर का
प्रेम भरे दिनों की स्मृतियों में खोया हुआ,
जब प्रिय था उसके संग टहलता हुआ
कन्च-बर्फ के फर्श पर सर्द सुबहें लिये,
कांपता ही रहा मैं सिर के बल चलता हुआ
जेठ की धूप में गर्म श्वांसें भरते हुए,
एक-एक बूँद को रहा तरसता जलता हुआ
हूँ गवाह- उसके पैरों की बिवाइयों का,
ढलती उम्र की उँगलियों से फिसलता हुआ
सिमटा हुआ सा गिरा हूँ- आंहें लिये,
सीढ़ीनुमा खेत- किसी मेड पर संभलता हुआ
ढली उम्र; लेकिन मैं बिछुआ-
उसके पैर का अब भी हूँ; पहाड़ी नदी सा मचलता हुआ
रागिनी छेड़कर रंग सा बिखेरकर;
कुछ गुनगुनाता हूँ अब भी पहाड़ सा पिघलता हुआ
वृक्षों के रुदन सा भरी बरसात में;
आपदा के मौन का वीभत्स स्वर निगलता हुआ
मैं हराता गया- ओलों-बर्फ को, तपन-सिहरन को,
अंधियारे के गर्त से बाहर निकलता हुआ
चोटी पे बज रही धुन मेरे संघर्ष की,
गाथाओं के गर्भ में मेरा संकल्प पलता हुआ

                                      

                                      
१६-    समर्पण
आजीवन पिया को समर्थन लिखूंगी
प्रेम को अपना समर्पण लिखूंगी l
 
निज आलिंगन से जिसने जीवन संवारा
प्रेम से तृप्त करके अतृप्त मन को दुलारा l

उसे आशाओं स्वप्नों का दर्पण लिखूंगी
प्रेम को अपना समर्पण लिखूंगी l
 
प्रणय निवेदन उसका था वो हमारा
न मुखर वासना थी; बस प्रेम प्यारा l

उससे जीवन उजियार हर क्षण लिखूंगी
प्रेम को अपना समर्पण लिखूंगी l

न दिशा थी, न दशा थी जब संघर्ष हारा
विकट-संकट से उसने हमको उस पल उबारा l

उसमें अपनी श्रद्धा का कण-कण लिखूंगी
प्रेम को अपना समर्पण लिखूंगी l

कौन कहता है जग में प्रेम जल है खारा
मैंने तो मोती-सीप सागर से ही पाया l

इस जल पे जीवन ये अर्पण लिखूंगी
प्रेम को अपना समर्पण लिखूंगी l                    


१७-    विरह-व्यथा में
 
नि:शब्द रात्रि- मरुभूमि उर, पग-२ पर बिखरे शिलालेख
विरह- व्यथित हो रचती ही गयी; अश्रुपूरित गीत अनेक

ना निद्रा न स्वप्न कोई, मात्र प्रश्न, उत्तर की आस नहीं
मुंदी पलकें भूरी पुतलियाँ; जीवित- गति का आभास नहीं
 
प्रेम सुई टूटी; कच्चा- विश्वास धागा, गुंथी न स्वप्नमाला
यौवन- वृद्ध वृक्ष लाचार; जर्जर- प्रिय उपेक्षा ने कर डाला

पुनः–पुनः नभ से प्रणय निवेदन; धराशायी शुष्क धरा का
बदली ऋतु; बिन बदली गगन; प्रियतम दूर खड़ा ही रहा

कंटक बांहे प्रेम वृक्ष की मन प्यासे पंछी सा डोलता रहा
बूंदे-कोंपल-पुष्प-श्रृंगार नहीं कुछ; शेष- अनुत्तरित प्रतीक्षा

नि:शब्द रात्रि- मरुभूमि उर, पग-२ पर बिखरे शिलालेख
विरह- व्यथित हो रचती ही गयी; अश्रुपूरित गीत अनेक

---------

लेखिका परिचय

नाम- डॉ. कविता भट्ट

जन्म तिथि एवं स्थान – ०६ अप्रैल, १९७९, टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड

राष्ट्रीय महासचिव – उन्मेष : ज्ञान-विज्ञान विचार संगठन

प्रतिनिधि, भारत- हिंदी चेतना (अंतर्राष्ट्रीय त्रैमासिक हिंदी पत्रिका), हिंदी प्रचारिणी सभा, कनाडा, यू एस ए

शैक्षिक योग्यता- स्नातकोत्तर (दर्शनशास्त्र, योग, अंग्रेजी, समाजकार्य)

यू जी सी नेट – दर्शन शास्त्र एवं योग

पी एच डी (दर्शनशास्त्र)

डिप्लोमा- योग, महिला सशक्तीकरण

एवार्डेड- जे० आर० एफ०,आई सी पी आर, नयी दिल्ली

जी०आर०एफ०, आई सी पी आर, नयी दिल्ली

पी०डी०एफ० (महिला), यू जी सी, नयी दिल्ली

अध्यापन-अनुसन्धान अनुभव- क्रमश: सात/दस वर्ष, दर्शनशास्त्र एवं योग विभाग, हे०न० ब० गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर गढ़वाल, उत्तराखंड

प्रकाशित- चार पुस्तकें (योगदर्शन पर), दो पुस्तकें (बालसाहित्य), दो काव्य संग्रह, अनेक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय शोध-पत्रिकाओ/पत्रिकाओ/समाचार-पत्रों में लगभग पचास शोध पत्र/लोकप्रिय लेख, अनेक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओ में तथा ऑनलाइन अनेक लोकप्रिय हिंदी कविताएँ

शैक्षणिक/साहित्यिक/सामाजिक गतिविधियाँ- विभिन्न संगोष्ठियों में शोध-पत्रों और कवि सम्मेलनों में कविताओ का प्रस्तुतीकरण, योग शिविर आयोजन, आकाशवाणी से समकालीन विषयों पर वार्ताओं का प्रसारण, सदस्या- हिमालय लोक नीति मसौदा समिति

संपर्क सूत्र- mrs.kavitabhatt@gmail.com 

----------------------

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर: 4
  1. हार्दिक आभार, संपादक महोदय, रचनाकार, मेरी रचनाओं को स्थान देने हेतु

    उत्तर देंहटाएं
  2. Superb mam I have no word to say that how much meaningfull ur poems r...Like always we feel ur poems r very near to our heart because it's a beautiful creation of ur deepest heart....Very true n heart touching....Keep it up our good wishes r always with u...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हार्दिक आभार, प्रिय पंकज, आप स्नेहीजनों की सकारात्मक प्रतिक्रिया ही मेरी ऊर्जा है। भविष्य में भी अपनी आत्मीयता बनाये रखना। पुनः धन्यवाद।

      हटाएं
  3. बेनामी10:05 pm

    Great kavita ma'm

    उत्तर देंहटाएं

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3862,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2810,कहानी,2136,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,862,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,658,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,60,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,185,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: डॉ. कविता भट्ट की कविताएँ
डॉ. कविता भट्ट की कविताएँ
https://lh3.googleusercontent.com/-8K-CL2ELTeI/WbK3SEuNeAI/AAAAAAAA60A/8jOnTA_8V-4004HOgpEHT0LLaaUcB6QKACHMYCw/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-8K-CL2ELTeI/WbK3SEuNeAI/AAAAAAAA60A/8jOnTA_8V-4004HOgpEHT0LLaaUcB6QKACHMYCw/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/09/blog-post_98.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/09/blog-post_98.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ