मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

पं.हरप्रसाद पाठक-स्मृति बाल साहित्य पुरस्कार समारोह-2016-17 का आयोजन सम्पन्न

प्रख्यात साहित्यकार डॉ .विमला भण्डारी, डॉ.कामना सिंह,श्रीमती रेखा लोढ़ा,डॉ.अशोक बंसल, आचार्य नीरज शास्त्री एवं श्री प्रमोद लवानिया'बादल&...

व्यंग्य // मेरे मित्र का पद्मश्री दर्द... // सूर्यकांत मिश्रा

भारत सरकार द्वारा नागरिकों को दिये जाने वाले अवार्ड्स में पद्मश्री का चौथा नंबर है। यह अवार्ड भारतीय नागरिकों को दिया जाता है। इसे प्रदान कर...

श्रीरघुनाथ कथा प्रश्नोत्तरी // मानसश्री डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता

श्रीरघुनाथ कथा प्रश्नोत्तरी - 1 मानसश्री डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता ''मानस शिरोमणि एवं विद्यावाचस्पति गोस्वामी तुलसीदासजी ने कहा है ...

मोक्षदायिनी देवप्रबोधिनी एकादशी // डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता

मोक्षदायिनी देवप्रबोधिनी एकादशी डॉ .नरेन्द्रकुमार मेहता मानस शिरोमणि एवं विद्यावाचस्पति आषाढ़ के शुक्ल पक्ष में एकादशी तिथि को शंखासु...

बड़ी नेमत है अपनी चुनी राह पर चलते जाना // डॉ.चन्द्रकुमार जैन

अभी के दौर में जीवन मूल्यों को भी आयात-निर्यात की नजर से देखा जाने लगा है। लेकिन भारत ने अपने मूल्य न तो अभी तक किसी पर थोपे हैं, न ही उनका ...

सोमवार, 30 अक्तूबर 2017

व्यंग्य // प्रगति की पेंटिंग में विकास को देखना // ओम वर्मा

विकास विकास न हुआ, रीतिकालीन नायिका का कँगना हो गया है जिसे वह नदिया किनारे ‘हिरा’ आई है और गा गाकर न मिल पाने की व्यथा व्यक्त कर रही है। इ...

रविवार, 29 अक्तूबर 2017

व्यंग्य // प्रकाशक-पुराण // वीरेन्द्र 'सरल'

प्रकाशक स्वयं प्रकाशित नहीं होता पर वह लेखक को प्रकाशित करता है। बिना प्रकाशन के रोग लगे कोई लेखक हो भी नहीं सकता। पर मेरे साथ जरा उल्टा हुआ...

हवाएँ ग़ज़ल कहती हैं // ग़ज़ल संग्रह // कुमार रवीन्द्र

हवाएँ ग़ज़ल कहती हैं ग़ज़ल संग्रह कुमार रवीन्द्र रचनाकार.ऑर्ग की प्रस्तुति   भूमिका : काँचघरों के अक़्स हिंदी ग़ज़ल: कुछ सवाल-कुछ विचार ...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------