370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

इटली की लोक कथाएँ–2 : 2 जिद्दी आत्‍माएँ // सुषमा गुप्ता

clip_image002

एक दिन एक किसान अपने किसी जरूरी काम से बीला जा रहा था। उस दिन मौसम बहुत खराब था। बहुत बड़ा तूफान आया हुआ था।

उसको सड़क पर चलने में बहुत परेशानी हो रही थी पर फिर भी क्योंकि उसको वहाँ जरूरी काम था इसलिये उसका वहाँ जाना बहुत जरूरी था सो बस वह चलता ही जा रहा था।

रास्ते में उसको एक बूढ़ा आता हुआ दिखायी दिया तो उसने उस किसान से पूछा — “गुड डे, ऐसे तूफान में तुम इतनी जल्दी जल्दी कहाँ चले जा रहे हो?”

किसान चलते चलते बोला — “मैं बीला जा रहा हूँ।”

बूढ़ा बोला — “तुमको कम से कम यह तो कहना चाहिये कि “अगर भगवान की इच्छा रही तो...।”

अब किसान रुका और उसने उस बूढ़े की तरफ देखा और बोला — “अगर भगवान की इच्छा रही तो, मैं बीला जा रहा हूँ पर अगर भगवान की इच्छा नहीं भी हुई न, तो भी मुझे वहाँ पहुँचना तो है ही।”

अब यह बूढ़ा तो भगवान था। वह बोला — “अगर ऐसा है तो बीला पहुँचने में तुम्हें सात साल लगेंगे। इस बीच तुम इस कीचड़ में कूद जाओ और सात साल तक इसी कीचड़ में ही रहो।”

उस बूढ़े के यह कहते ही वह किसान एक मेंढक बन गया और वहीं पास में बने कीचड़ के एक तालाब में कूद गया।

वह वहाँ सात साल तक रहा। सात साल के बाद वह वहाँ से निकला और आदमी के रूप में आ गया। उसने अपना टोप पहना और फिर बीला की तरफ चल दिया।

कुछ दूर चलने के बाद वही बूढ़ा उसको फिर मिल गया तो उसने फिर पूछा — “अब किधर चल दिये?”

उस किसान ने उसको इस बार भी वही जवाब दिया — “मैं बीला जा रहा हूँ।”

वह बूढ़ा फिर बोला — “कम से कम तुमको यह तो कहना चाहिये “अगर भगवान की इच्छा रही तो ....”।”

किसान बोला — “ठीक है ठीक है “अगर भगवान की इच्छा रही तो” और नहीं भी हुई न, तो भी मुझे पता है कि मेरा क्या होना है। मैं अब उस कीचड़ में बिना किसी की सहायता के जा सकता हूँ।” और उसके बाद वह ज़िन्दगी भर नहीं बोला।

 ------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं की एक अन्य पुस्तक - रैवन की लोक कथाएँ में से एक लोक कथा यहाँ पढ़ सकते हैं. इथियोपिया व इटली की बहुत सी अन्य लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

लोककथा 8046486747215589002

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव