शुक्रवार, 27 अक्तूबर 2017

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 12 चमकती हुई मछली[ // सुषमा गुप्ता

clip_image006

12 चमकती हुई मछली[1]

एक बार एक बहुत ही अच्छे बूढ़े पति पत्नी के लड़के मर गये थे तो वे बेचारे यह ही नहीं सोच पा रहे थे कि वे उनके बिना अपनी बाकी की ज़िन्दगी कैसे बितायेंगे।

बूढ़े की पत्नी बहुत बूढ़ी थी और बीमार भी बहुत रहती थी। बूढ़ा रोज जंगल जाता था और लकड़ी काट कर लाता था। फिर उस लकड़ी को बेचने के लिये बाजार ले जाता था। उनको बेच कर जो पैसा मिलता था उससे वह अपना पेट पालता था। इसी तरह से वह अपना गुजारा चला रहा था।

एक दिन जब वह जंगल जा रहा था तो कुछ कराहता जा रहा था कि रास्ते में उसको एक भला आदमी मिला जिसके लम्बी सी दाढ़ी थी।

वह लम्बी दाढ़ी वाला उस बूढ़े से बोला — “मुझे तुम्हारी परेशानियों का पता है। मैं तुम्हारी सहायता करूँगा। लो यह बटुआ लो। इसमें 100 डकैट[2] हैं। शायद यह तुम्हारी कुछ सहायता कर सके।”

बूढ़े ने वह बटुआ ले लिया और वह बेहोश हो गया। जब तक उसे होश आया तब तक वह भला आदमी तो गायब भी हो गया था। वह बूढ़ा उस बटुए को ले कर अपने घर चला गया और वह बटुआ खाद के एक ढेर के नीचे छिपा दिया।

उसने अपनी पत्नी को भी इस बारे में कुछ नहीं बताया। उसने सोचा — “अगर मैंने उसको इसके बारे में बताया तो यह सारा पैसा बहुत जल्दी ही खत्म हो जायेगा।” सो अगले दिन वह रोज की तरह फिर लकड़ी काटने जंगल चला गया।

उस शाम जब वह घर पहुँचा तो उसने देखा कि उसकी खाने की मेज पर तो दावत का खाना लगा हुआ है। वह देख कर वह चौंक गया और अपनी पत्नी से पूछा — “तुमने यह सब कहाँ से खरीदा?”

पत्नी सीधे स्वभाव बोली — “आज मैंने खाद बेच दी।”

वह आदमी बोला — “अरी बेवकूफ उसके नीचे तो 100 डकैट छिपे हुए थे।”

“मुझे क्या मालूम। तुमने मुझसे उसके बारे में कुछ कहा ही नहीं था तो मुझे कैसे पता चलता। कहाँ से आये वे?”

अगले दिन वह बूढ़ा फिर ज़ोर ज़ोर से कराहता हुआ जंगल की तरफ चल दिया। उसको वह पहले वाला भला आदमी उसी जगह फिर मिल गया।

वह भला आदमी बोला — “मुझे तुम्हारी बदकिस्मती का पता है। शान्त हो जाओ। यह लो 100 डकैट और।”

बूढ़े ने उन डकैटों को ले लिया और अपने घर वापस आ गया। अब की बार उसने वे पैसे राख के ढेर में छिपा दिये और रोज की तरह अगले दिन फिर जंगल लकड़ी काटने चला गया।

पर जब वह शाम को घर वापस लौटा तो उसकी खाने की मेज फिर वैसे ही बहुत सारे खानों से सजी हुई थी। वह फिर उसको देख कर परेशान हो गया।

उसने अपनी पत्नी से फिर पूछा — “आज तुमने इतना सारा खाना कहाँ से खरीदा?”

पत्नी ने सीधे स्वभाव कहा — “आज मैंने राख बेच दी।”

मगर आज उस बूढ़े के गले से वह खाना नीचे नहीं उतरा और वह बिना खाना खाये ही सोने चला गया। अगले दिन वह बूढ़ा फिर लकड़ी काटने के लिये जंगल चल दिया। आज वह बहुत ज़ोर ज़ोर से रोता हुआ जा रहा था।

clip_image002

आज भी उसको जंगल में वही भला आदमी उसी जगह मिल गया। आज वह बोला — “अब की बार मैं तुमको पैसे नहीं दूँगा। आज तुम ये 24 मेंढक ले जाओ और इनको बेच कर इनके पैसे से एक मछली खरीद लो – सबसे बड़ी मछली जो भी तुम खरीद सकते हो।”

बूढ़े ने वे 24 मेंढक उस भले आदमी से ले लिये और जा कर उनको बाजार में बेच दिये। उससे आये पैसे से उसने एक बहुत बड़ी मछली खरीद ली और घर आ गया। रात को उसने देखा कि वह मछली तो चमक रही थी। उसमें से तो बहुत ज़ोर की रोशनी निकल रही थी जिससे सारी जगह में रोशनी फैल रही थी।

clip_image004

उसकी रोशनी इतनी तेज़ थी कि अगर उस मछली को हाथ में ले कर चलो तो ऐसा लगता था जैसे कोई लालटेन ले कर चल रहा हो। शाम को वह उस मछली को घर के बाहर लटका देता ताकि वह ताजा रहे।

एक दिन बड़ी अ‍ँधेरी और तूफानी रात थी। मछियारे जो बाहर समुद्र पर मछलियाँ पकड़ने गये थे उनको घर वापस लौटने का रास्ता नहीं सुझाई दे रहा था सो वे लोग परेशान थे कि वे अब घर कैसे पहुँचें।

तभी उनको इस बूढ़े की खिड़की पर लटकी हुई इस मछली से निकली रोशनी दिखायी दे गयी। उसको देख कर उन्होंने इसी तरफ अपनी नावें खेना शुरू कर दिया और वे समुद्र में रास्ता भटकने से बच गये। वे ठीक से किनारे आ गये थे।

इस सबके बदले में उन सबने अपनी अपनी कमाई का आधा आधा हिस्सा उस बूढ़े को दे दिया और उससे समझौता किया कि अगर वह उस मछली को वहाँ पर ऐसे ही लटका कर रखेगा तो वे हमेशा अपना रात का शिकार उससे आधा आधा बाँट लेंगे।

बूढ़े ने ऐसा ही किया और फिर उसको कभी खाने की कोई मुश्किल नहीं उठानी पड़ी।



[1] Shining Fish (Story No 118) – a folktale from Abruzzo area, Italy, Europe.

Adapted from the book : “Italian Folktales”, by Italo Calvino”. Translated by George Martin in 1980.

[2] Ducat – currency in use at that time in Europe

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------