---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 15 पागल, चालाक और काँटा // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

15 पागल , चालाक और काँटा [1] एक बार की बात है कि तीन रोग थे – एक था पागल, एक था चालाक और एक था काँटा। एक बार उन्होंने आपस में शर्त लगायी कि ...

clip_image006

15 पागल, चालाक और काँटा[1]

एक बार की बात है कि तीन रोग थे – एक था पागल, एक था चालाक और एक था काँटा। एक बार उन्होंने आपस में शर्त लगायी कि देखा जाये कि उनमें से कौन सबसे ज़्यादा होशियार और चालाक है। सो वे चल दिये।

clip_image002

उनमें से पागल सबसे आगे जा रहा था। उसने एक पेड़ के ऊपर एक मैना[2] अपने घोंसले में बैठी देखी तो उसने अपने दोस्तों से पूछा — “क्या तुम देखना चाहते हो कि मैं इस मैना के अंडे इसके नीचे से बिना इसके जाने और बिना इसको उठाये कैसे निकाल सकता हूँ.?”

उसके दोनों दोस्त बोले — “हाँ हाँ देखें तुम ऐसा कैसे करते हो?”

सो वह पागल अंडे चुराने के लिये पेड़ पर चढ़ा और जब उन को वह वहाँ से ले रहा था तो चालाक ने उसके जूतों की एड़ी काटी और अपने टोप में छिपा ली। पर इससे पहले कि वह टोप अपने सिर पर रखता काँटे ने उसके जूतों की एड़ी को उसके टोप में से निकाल लिया।

पागल पेड़ पर से नीचे आया और बोला — “मैं सबसे ज़्यादा होशियार और चालाक हूँ क्योंकि मैंने मैना के अंडे उसके नीचे से बिना उसको वहाँ से उठाये चुरा लिये हैं।”

चालाक बोला — “नहीं मैं सबसे ज़्यादा होशियार और चालाक हूँ क्योंकि मैंने तुम्हारे बिना देखे ही तुम्हारे जूतों से तुम्हारी एड़ी निकाल ली है।”

काँटा बोला — “मुझे लगता है कि मैं सबसे ज़्यादा होशियार और चालाक हूँ क्योंकि मैंने तुम्हारे टोप में से तुम्हारे बिना जाने ही पागल के जूतों की एड़ी चुरा ली है।

और क्योंकि मैं सबसे ज़्यादा होशियार और तेज़ हूँ इसलिये अब मैं तुम दोनों से अलग होता हूँ। मैं तुम लोगों से ज़्यादा अच्छा करूँगा।” कह कर वह अपने रास्ते चला गया।

बाद में उसने इतना पैसा इकठ्ठा कर लिया कि वह बहुत अमीर हो गया। वह कई शहरों में गया। उसने शादी कर ली और फिर एक सूअर को मारने वाली दूकान खोल ली।

दूसरे दो लोग भी घूमते रहे, चोरी करते रहे और फिर लौट कर उसी शहर में आ गये जिसमें काँटे की दूकान थी। उन्होंने काँटे की दूकान देखी तो वह उसकी दूकान देख कर बहुत खुश हुए और आपस में बोले — “चलो अन्दर चलते हैं। यहाँ अच्छा समय गुजरेगा।”

वे दूकान के अन्दर गये तो वहाँ दूकान पर काँटे की पत्नी बैठी थी। उन्होंने उससे कहा — “मैम, क्या हमको कुछ खाने को मिलेगा?”

काँटे की पत्नी ने पूछा — “तुम्हें क्या चाहिये? क्या दूँ मैं तुम्हें?”

“चीज़[3] का एक टुकड़ा।”

clip_image004

सो वह उनके लिये चीज़ काटने लगी। जब वह चीज़ काट रही थी तो दोनों ने दूकान में इधर उधर देखा कि वे वहाँ से क्या उठा सकते थे। उनको वहाँ एक कटा हुआ सूअर दिखायी दे गया। वह उस दूकान में ऊपर लटका हुआ था।

उसको देख कर दोनों ने एक दूसरे को आँखों ही आँखों में इशारा किया कि आज रात को ही वे लोग इस सूअर को यहाँ से ले जायेंगे। काँटे की पत्नी ने यह सब देख लिया पर वह बोली कुछ नहीं। जब उसका पति आया तो उसने उसको सब कुछ बता दिया।

अब काँटा तो सबसे बड़ा चोर था सो उसने उन दोनों को पहचान लिया। उसने सोचा कि वे दोनों जरूर ही पागल और चालाक रहे होंगे जो उस सूअर को चुराने का प्लान बना रहे थे।

उसने अपने मन में कहा “ठीक है, तुम इन्तजार करो। मैं देखता हूँ कि तुम मेरा सूअर कैसे चुराते हो।” यह सोच कर उसने वह सूअर ओवन[4] में रख दिया।

शाम हुई तो वह सोने चला गया। जब रात हुई तो वे पागल और चालाक उस सूअर को चुराने के लिये काँटे की दूकान पर आये। उन्होंने दूकान में चारों तरफ निगाह दौड़ायी पर वह सूअर तो उनको वहाँ कहीं दिखायी ही नहीं दिया।

सो चालाक ने सोचा कि जब सूअर कहीं दिखायी नहीं दे रहा तो इसका पलंग ही चुरा लिया जाये। उस पलंग के बराबर में काँटे की पत्नी सो रही थी।

चालाक काँटे की पत्नी से बोला — “सुनो, मुझे यहाँ सूअर कहीं दिखायी नहीं दे रहा है तुमने कहाँ रखा है?”

यह सोचते हुए कि वह उसका पति बोल रहा है काँटे की पत्नी बोली — “सो जाओ, तुमको तो कुछ याद ही नहीं रहता। तुम्हीं ने तो कल रात उसे ओवन में रख दिया था।” और वह सो गयी।

अब वे दोनों चोर ओवन के पास गये उसमें से सूअर निकाला और उसको ले कर चल दिये। पहले चालाक बाहर निकला, इसके बाद पागल सूअर को अपनी पीठ पर लाद कर बाहर निकला।

काँटे की दूकान के सामने ही एक छोटा सा बागीचा था। जब वे उस बागीचे को पार कर रहे थे तो पागल ने देखा कि वहाँ सूप बनाने की कुछ पत्तियाँ उग रही थीं।

सो वह आगे चालाक के पास तक पहुँचा और बोला — “काँटे के बागीचे तक जाओे। उसके बागीचे में सूप बनाने की कई पत्तियाँ उगी हुई हैं। आज कुछ पत्तियाँ तोड़ लो जिनको हम सूअर की टाँग के साथ उबाल लेंगे।”

सो चालाक आगे से लौट कर सूप के लिये पत्तियाँ तोड़ने के लिये काँटे के बागीचे तक वापस गया और पागल अपने रास्ते चलता चला गया।

इतने में काँटे की आँख खुली तो वह अपना ओवन देखने गया तो देखा कि सूअर तो वहाँ से जा चुका था। उसने अपने बागीचे की तरफ निगाह डाली तो चालाक को बागीचे में से सूप बनाने के लिये कुछ पत्ते तोड़ते देखा। उसने सोचा कि वह उसको वहीं से पत्ते तोड़ने देगा।

फिर उसने अपने घर में ही लगा हुआ सूप में डालने वाले पत्तों का एक बड़ा सा गुच्छा तोड़ लिया और अपने बागीचे की तरफ भागा ताकि वह चालाक उसको देख ले।

भागते भागते वह चालाक के आगे निकल गया और आगे जा कर उसने पागल को पकड़ लिया जो सूअर के बोझ से झुका हुआ चला जा रहा था। काँटे ने उसको इशारे से कहा कि थोड़ी दूर तक वह उस सूअर को ले जाने में उसकी सहायता करेगा।

पागल ने सोचा कि वह चालाक था और वह पत्ते ले कर लौट आया था और अब सूअर को ले जाने में उसकी सहायता करने के लिये इशारा कर रहा था। सो पागल ने उससे पत्ते का गुच्छा ले लिया और सूअर उसको दे दिया।

एक बार सूअर काँटे के पास आ गया तो बस, वह तो पलटा और अपने घर की तरफ भाग लिया। कुछ ही देर में चालाक ने भी पत्ते इकठ्ठे कर लिये थे सो उसने भी आगे आ कर पागल को पकड़ लिया।

पास आने पर चालाक ने देखा कि पागल के पास सूअर तो है नहीं और वह बस एक पत्तों का गुच्छा लिये आराम से चलता चला जा रहा है तो उसने उससे पूछा — “तुमने सूअर का क्या किया?”

पागल बोला — “क्या किया का क्या मतलब है। तुम्हीं ने तो मुझसे उसे ले लिया था।”

चालाक ने पूछा — “मैंने? लेकिन मैं तो यहाँ था ही नहीं। मैं कहाँ से लेता। मैं तो यहाँ अभी अभी आया हूँ। नहीं नहीं, मैंने नहीं लिया।”

पागल कुछ परेशान सा बोला — “पर तुमने उसको अभी कुछ देर पहले ही तो पत्तों के बदले में मुझसे उसे ले लिया था।”

चालाक बोला — “मैंने ऐसा कब किया? तुमने ही तो मुझे सूप के लिये पत्ते इकठ्ठे करने को लिये भेजा था और मैं अभी अभी पत्ते लेकर चला आ रहा हूँ।”

अन्त में दोनों को पता चल गया कि काँटे ने ही उन दोनों को बेवकूफ बनाया है। एक बार काँटा फिर उन दोनों को बेवकूफ बना गया था इसलिये उन दोनों ने मान लिया कि उन तीनों में वही सबसे ज़्यादा चालाक और होशियार था।



[1] Crack, Crook and Hook (Story No 123) – a folktale from Irpinia area, Italy, Europe.

Adapted from the book : “Italian Folktales” by Italo Calvino. Translated by George Martin in 1980.

[2] Magpie – a singing bird. See her picture sitting in her nest.

[3] Cheese is a kind of processed Indian Paneer. There are many kinds of cheese and are very popular in western world food items

[4] Oven is a box, made of iron or bricks etc which when is made hot by fire or electricity can cook food. In western world most food are cooked in this way – bread, cake, biscuits, meat dishes etc

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

---प्रायोजक---

---***---

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

---प्रायोजक---

---***---

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच कर पढ़ें : ~

|* कहानी * |

| * उपन्यास *|

| * हास्य-व्यंग्य * |

| * कविता  *|

| * आलेख * |

| * लोककथा * |

| * लघुकथा * |

| * ग़ज़ल  *|

| * संस्मरण * |

| * साहित्य समाचार * |

| * कला जगत  *|

| * पाक कला * |

| * हास-परिहास * |

| * नाटक * |

| * बाल कथा * |

| * विज्ञान कथा * |

* समीक्षा * |

---***---



---प्रायोजक---

---***---

|आपको ये रचनाएँ भी पसंद आएंगी-_$type=three$count=6$src=random$page=1$va=0$au=0

प्रायोजक

----****----

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3951,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,338,ईबुक,193,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,262,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,110,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2901,कहानी,2198,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,506,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,31,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,93,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,23,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,367,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,337,बाल कलम,25,बाल दिवस,3,बालकथा,60,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,24,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,240,लघुकथा,1174,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,241,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,68,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1978,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,688,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,747,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,75,साहित्यम्,6,साहित्यिक गतिविधियाँ,196,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,59,हास्य-व्यंग्य,75,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 15 पागल, चालाक और काँटा // सुषमा गुप्ता
देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 15 पागल, चालाक और काँटा // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-9sbjUASjKaI/WfMUwdMctAI/AAAAAAAA8Os/62ebM_qgE50K9t3QL-vfntO6Dc7hQPKiwCHMYCw/clip_image006_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-9sbjUASjKaI/WfMUwdMctAI/AAAAAAAA8Os/62ebM_qgE50K9t3QL-vfntO6Dc7hQPKiwCHMYCw/s72-c/clip_image006_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/10/5-15-italy-lokkatha-5-pagal-kanta.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/10/5-15-italy-lokkatha-5-pagal-kanta.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ