शुक्रवार, 27 अक्तूबर 2017

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 2 शापित रानी का महल // सुषमा गुप्ता

clip_image002

2 शापित रानी का महल[1]

बहुत पुरानी बात है कि एक शहर में एक बूढ़ी विधवा रहती थी। जो सूत कात कर अपना गुजारा करती थी।

उसके तीन बेटियाँ थीं। वे भी सूत कातती थीं। हालाँकि वे तीनों रात दिन अपने-अपने चरखों पर लगी रहती फिर भी वे एक सैन्ट भी नहीं बचा पाती थीं क्योंकि उस कताई से वे केवल उतना ही कमा पाती थीं जिससे उनका रोज का खर्चा चल जाये।

एक दिन वह बुढ़िया बहुत बीमार हो गयी। उसको बहुत तेज़ बुखार आ गया और तीन दिन बाद तो वह बस मरने वाली ही हो गयी।

उसने अपनी तीनों रोती हुई बेटियों को बुलाया और कहा — “बेटी रोओ नहीं। कोई यहाँ हमेशा के लिये नहीं रहता। मैं तो काफी दिन ज़िन्दा रह कर अपनी काफी ज़िन्दगी जी चुकी। अब मेरा मरने का समय आ गया है।

मेरा दिल तो केवल इसलिये रोता है कि मैं तुम लोगों को इतना गरीब छोड़ कर जा रही हूँ। पर मुझे इस बात की खुशी है कि क्योंकि तुम लोग अपनी कमाई करना जानती हो इसलिये तुम लोग किसी तरह से अपने आपको सँभाल लोगी। कम से कम भूखी नहीं मरोगी। मैं भगवान से प्रार्थना करूँगी कि वह तुम्हारी सहायता करे।

जो कुछ दहेज में मैं तुम्हारे लिये छोड़ कर जा रही हूँ वह हैं ये तीन रुई के गोले। वे तीनों गोले आलमारी में रखे हैं।” यह कह कर उसने अपनी आखिरी साँस ली और इस दुनिया से चली गयी।

कुछ दिनों बाद वे तीनों लड़कियाँ आपस में बात कर रही थीं — “इस रविवार को ईस्टर रविवार है और हमारे पास एक अच्छे ईस्टर खाने के लिये कुछ भी नहीं है।”[2]

सो सबसे बड़ी वाली लड़की मैरी[3] बोली — “मैं अपने धागे का गोला बेच दूँगी और उसके आये पैसे से ईस्टर के लिये खाना खरीदूँगी।”

ईस्टर की सुबह उसने अपने धागे का गोला उठाया और उसको बेचने के लिये बाजार चल दी। उसके हाथ का कता हुआ धागा बहुत बढ़िया था सो वह बहुत अच्छे दामों में बिक गया। उस पैसे से उसने डबल रोटी, बकरे की एक टाँग और एक बोतल शराब खरीदी और घर की तरफ चल दी।

जब वह घर आ रही थी तो एक कुत्ता उसके पीछे दौड़ पड़ा। उसने उसके हाथ में लगी वह बकरे की टाँग और डबल रोटी तो मुँह में दबोच ली और शराब की बोतल नीचे गिरा दी।

नीचे गिरते ही वह बोतल तो टूट गयी और बकरे की टाँग और डबल रोटी ले कर वह कुत्ता वहाँ से भाग गया। वह लड़की तो डर के मारे हक्का बक्का सी रह गयी। वह तुरन्त ही वहाँ से घर भाग गयी।

जब वह घर आयी तो उसने अपनी बहिनों को बताया कि उस दिन उसके साथ क्या हुआ था। सो उस दिन उनको ब्राउन डबल रोटी के कुछ टुकड़े खा कर ही सन्तुष्ट रह जाना पड़ा।

अगले दिन बीच वाली लड़की रोज़[4] बोली — “आज मैं देखती हूँ कि वह कुत्ता कैसे परेशान करता है?” सो उस दिन वह अपना सूत ले कर बाजार गयी।

उसका सूत भी अच्छा कता हुआ था सो उसको भी अपने सूत के बहुत अच्छे पैसे मिले। उसने भी अपने पैसों से बकरे का कुछ माँस, डबल रोटी और शराब की एक बोतल खरीदी और घर की तरफ चल दी।

इस लड़की ने मैरी के रास्ते को छोड़ कर अपने घर के लिये एक दूसरा ही रास्ता लिया। पर वह कुत्ता तो इस रास्ते पर भी उसके पीछे भागा। उसने इस लड़की का भी बकरे का माँस और डबल रोटी अपने मुँह में दबा ली और शराब की बोतल नीचे गिरा कर तोड़ दी और माँस और डबल रोटी ले कर भाग गया।

रोज़ मैरी से ज़्यादा हिम्मत वाली थी सो वह उस कुत्ते के पीछे भागी पर वह कुत्ता तो उससे कहीं तेज़ भाग रहा था सो वह उसका पीछा बहुत देर तक नहीं कर सकी और कुछ ही देर में थक कर वापस घर आ गयी। उसने भी हाँफते-हाँफते अपनी बहिनों को बताया कि उस दिन उसके साथ क्या हुआ था।

उस दिन भी उन लोगों को ब्राउन डबल रोटी ही खानी पड़ी। उस दिन सबसे छोटी लड़की नीना[5] बोली — “कल मेरी बारी है। कल मैं जाऊँगी और देखती हूँ कि वह कुत्ता मेरे साथ भी ऐसा ही करता है क्या।”

सो अगली सुबह नीना ने अपने सूत का गोला लिया और अपनी दोनों बहिनों के जाने के समय से बहुत पहले ही घर से बाजार के लिये निकल पड़ी।

वहाँ उसने भी अपना सूत बहुत अच्छे दामों पर बेचा और बहुत सारा खाने का सामान खरीदा और एक तीसरे रास्ते से घर की तरफ चल दी।

कुछ दूर चलने के बाद उसके पीछे भी एक कुत्ता आया। उसने भी नीना के हाथ में लगी शराब की बोतल गिरा कर तोड़ दी और बाकी का सामान ले कर भाग गया।

नीना उसके पीेछे पीछे भागी और भागती ही रही। भागते भागते वह एक महल के पास आ गयी जहाँ आ कर वह कुत्ता गायब हो गया।

उसने सोचा कि अगर मुझे कोई इस महल के अन्दर मिलता है तो मैं उसको बताऊँगी कि एक कुत्ता तीन दिन से हमारा खाना ले कर भाग रहा है और फिर मैं उससे अपने खाने का बदला लूँगी।

यह सोच कर वह उस महल में अन्दर घुसी और उसके रसोईघर तक आ पहुँची। वहाँ आग जल रही थी और बरतनों में खाना पकाया जा रहा था।

एक जगह बकरे की टाँग भूनी जा रही थी। नीना ने एक बरतन का ढकना उठा कर उस बरतन में झाँका तो उसने देखा कि उसमें तो वही माँस पक रहा था जो उसने अभी थोड़ी देर पहले ही खरीदा था और दूसरे बरतन में बकरे का माँस था।

फिर उसने रसोईघर की एक आलमारी खोली तो देखा कि उसमें तीन डबल रोटियाँ रखी हुई थीं।

फिर वह महल देखने चली गयी। वह सारे महल में घूम ली पर आश्चर्य की बात कि उसको उस महल में एक भी आदमी दिखायी नहीं दिया। पर वहाँ खाने के कमरे में एक मेज पर तीन आदमियों के लिये खाना लगा था।

नीना ने अपने मन में सोचा “लगता है कि यह खाना तो केवल हमारे लिये ही लगा है और वह भी हमारे ही खरीदे हुए खाने से। अगर मेरी बहिनें यहाँ होती तो मैं यहाँ अभी अभी खाना खाने बैठ जाती पर अब मैं क्या करूँ।”

उसी समय उसने सड़क पर जाती हुई एक गाड़ी की आवाज सुनी तो उसने खिड़की से बाहर देखा। उसने उस गाड़ी चलाने वाले को पहचान लिया।

उसने उस गाड़ीवान से कहा कि वह उसकी बहिनों से जा कर कह दे कि उनकी छोटी बहिन नीना यहाँ महल में उनका इन्तजार कर रही थी। उनके लिये यहाँ बहुत बढ़िया खाना लगा रखा है। सो वे तुरन्त ही यहाँ चली आयें।

उस गाड़ीवान ने उसकी बहिनों को जा कर नीना का सन्देश दिया तो वे दोनों वहीं आ गयीं। नीना ने उन दोनों को बताया कि उसके साथ क्या क्या हुआ।

फिर वह बोली — “चलो खाना खाते हैं। अगर इस घर के मालिक आ जाते हैं तो हम उनसे कह देंगे कि हम तो केवल अपना ही खाना खा रहे हैं।”

उसकी बहिनें उतनी बहादुर तो नहीं थीं जितनी नीना थी पर इस समय तक उनको भी भूख लग आयी थी सो वे सब वहाँ उस मेज पर खाना खाने बैठ गयीं।

अभी वे मेज पर बैठी ही थीं कि लड़कियों ने देखा कि अचानक बाहर अंधेरा हो आया था। उस महल की खिड़कियाँ बन्द होने लगीं और उसमें लगे लैम्प जलने लगे। वे अभी उनकी तारीफ ही कर रही थीं कि उनका खाना अपने आप आ गया और मेज पर लग गया।

नीना ने खाना खाने से पहले प्रार्थना की — “जो भी हमें हमारा यह खाना परस रहा है और जिसने हमें खाना बनाने से बचाया हम उसका धन्यवाद करते हैं।”

फिर वह अपनी बहिनों से बोली — “आओ बहिनों खाना शुरू करते हैं।” और उन्होंने बकरे की टाँग खानी शुरू कर दी।

नीना की बहिनें तो डर के मारे सुन्न सी हो गयी थीं। वे बड़ी मुश्किल से खाना खा पा रही थीं और वे सारी शाम एक दूसरे को ही देखती रहीं क्योंकि उनको लग रहा था कि वहाँ कभी भी कहीं से भी कोई भी बड़ा सा राक्षस आ सकता था।

पर नीना बोली — “अगर वे हमको यहाँ खाना खिलाना नहीं चाहते थे तो वे हमारे लिये न तो खाना पकाते, न हमें खाना परसते और न ही हमारे लिये लैम्प जलाते।” पर उसकी बहिनें उसके इस विचार से राजी नहीं थीं।

खाना खाने के बाद जल्दी ही उनको नींद आने लगी तो नीना उनको महल में ले गयी। वहाँ वे सब एक ऐसे कमरे में आ गयीं जहाँ तीन बिस्तर लगे हुए थे सो नीना बोली “चलो सोया जाये।”

उसकी बहिनें बोलीं — “नहीं नहीं। हम लोगों को अपने घर चलना चाहिये। यहाँ तो हमको बहुत डर लग रहा है।”

नीना ने हँस कर कहा — “तुम लोग तो बहुत ही डरपोक हो। देखो न हम लोग यहाँ कितने आनन्द से हैं और तुम लोग यहाँ से जाना चाहती हो। मैं तो सोने जा रही हूँ तुमको अगर आना हो तो तुम भी आ जाना।”

वह उनको दोबारा सोने के लिये कहने ही वाली ही थी कि उन्होंने सीढ़ी के नीचे से एक आवाज सुनी — “नीना, मुझे ज़रा रोशनी तो दिखाना।”

यह सुन कर नीना की बहिनें तो डर के मारे जम सी गयीं — “हे भगवान हम पर दया करो। यह कौन हो सकता है? नीना, मत जाना वहाँ। पता नहीं कौन है वहाँ।”

नीना बोली — “मैं तो जाऊँगी।”

कह कर उसने एक लैम्प उठाया और सीढ़ियों से नीचे की तरफ जाने लगी। वह नीचे उतरी तो एक कमरे में आ गयी जिसमें एक रानी एक कुरसी पर जंजीरों से बँधी बैठी थी। उसके मुँह कान और नाक से लपटें निकल रही थीं।

रानी उन लपटों के बीच में से ही बोली — “सुनो नीना, क्या तुम अपनी किस्मत बनाना चाहोगी?”

“हाँ हाँ क्यों नहीं।”

“तब तुमको अपनी बहिनों की सहायता लेनी पड़ेगी।”

“मैं उनको बता दूँगी।”

रानी फिर बोली — “तुम लोगों को कुछ अजीब-अजीब चीज़ें करनी पड़ेंगी और ध्यान रखना कि अगर तुम डर गयीं तो तुम मर जाओगी।”

नीना बोली — “मैं उनको वैसे कामों को करने के लिये किसी तरह से मना लूँगी जो उनको करने के लिये जरूरी होंगे।”

रानी फिर बोली — “बहुत अच्छे। तो देखो, वे तीन बक्से खोलो। उन सब में रानियों वाले कपड़े और गहने रखे हैं। मैं एक बार शहर के एक नौजवान से प्रेम करने लगी थी और उसी की वजह से मैं आज इस नरक में हूँ।

उसने जो भी कुछ मेरे साथ किया गलत किया। वह किसी दूसरी लड़की से शादी करना चाहता था। अब मैं यह चाहती हूँ कि वह भी मेरे साथ इस नरक को सहे। उसके साथ न्याय करने का यही एक तरीका है।

तुम कल मेरे कपड़े पहनना। अपने बाल भी वैसे ही बनाना जैसे मेरे बने हैं और हाथ में एक किताब ले कर बाहर छज्जे की दीवार के सहारे झुक कर खड़ी हो जाना।

एक निश्चित समय पर वह नौजवान यहाँ आयेगा और तुमसे पूछेगा — “मैम, क्या में आपके पास आ सकता हूँ?” तो तुम उसका जवाब देना “हाँ।”

और तब तुम उसको कौफी के लिये बुलाना और उसको जहर मिली कौफी का यह प्याला दे देना। जब वह मर जाये तो उसको यहाँ नीचे ले आना। फिर यह आलमारी खोलना और उसको इस आलमारी के अन्दर फेंक देना। और फिर उसके चारों तरफ चार मोमबत्ती जला देना।

मैं बहुत अमीर थी। यह मेरी चीज़ों की लिस्ट है जिनको तुम मेरे नौकरों से ले सकती हो जो आज कल मेरी हर चीज़ चुराने पर लगे हैं।”

यह सुन कर नीना सीढ़ियों से ऊपर गयी और अपनी बहिनों को जा कर सब कुछ बताया कि उसने सीढ़ियों के नीचे क्या-क्या देखा और बोली — “तुम लोग कसम खाओ कि तुम मेरी सहायता करोगी नहीं तो फिर भगवान ही तुम्हारी सहायता करें।”

उसकी दोनों बहिनों ने वायदा किया कि वे उसकी सहायता जरूर करेंगी।

अगली सुबह नीना उस मरी हुई रानी की तरह तैयार हुई और वहाँ जैसे रानी ने बताया था हाथ में किताब ले कर छज्जे की दीवार के सहारे झुक कर खड़ी हो गयी।

जल्दी ही उसको घोड़े की टापों की आवाज सुनायी पड़ी और एक नौजवान घोड़े पर सवार वहाँ आया। उसने नीना की तरफ देख कर उसको नमस्ते की। नीना ने भी अपना सिर हिला कर उसकी नमस्ते का जवाब दिया।

उस नौजवान ने पूछा — “क्या मैं आपके पास आ सकता हूँ मैम?”

नीना बोली — “यकीनन।”

वह नौजवान अपने घोड़े पर से उतरा और महल की सीढ़ियाँ चढ़ कर ऊपर आ गया।

नीना ने कहा — “चलो, हम लोग साथ बैठ कर कौफी पीते हैं।”

वह नौजवान बोला — “खुशी से।”

नीना ने उसको एक प्याले में जहरीली कौफी डाल कर दे दी। वह नौजवान उस कौफी को पीते ही मर गया। नीना ने फिर अपनी दोनों बहिनों को बुलाया और उनसे कहा कि वह उसके शरीर को नीचे ले जाने में उसकी सहायता करें पर उन्होंने मना कर दिया।

नीना बोली — “अगर तुम लोगों ने मेरी सहायता नहीं की तो मैं तुम लोगों को यहीं मार दूँगी।”

इस पर वे डर गयीं और उस नौजवान के शरीर को नीचे ले जाने में नीना की सहायता करने में लग गयीं। नीना ने उस नौजवान का सिर पकड़ा और उसकी बहिनों ने उसके पैर और तीनों उसको खींचते हुए नीचे आलमारी के पास ले गयीं। उस आलमारी के चारों तरफ चार मोमबत्ती लगी हुई थीं।

उसकी बहिनें तो यह सब देख कर काँपने लगीं और उस नौजवान के शरीर को वहीं छोड़ कर भागने ही वाली थीं कि नीना बोली — “तुम भाग कर तो देखो। फिर तुम देखना कि मैं तुम्हारे साथ क्या करती हूँ।”

उसके बाद उसकी बहिनों की वहाँ से भागने की हिम्मत ही नहीं पड़ी।

नीना ने वह आलमारी खोली तो उसमें वह आग की लपट वाली रानी एक सोने के सिंहासन पर बैठी थी। उन्होंने उसके प्रेमी को उसके पास ही रख दिया।

रानी ने भी उसको हाथ से पकड़ कर अपने पास बिठा लिया और बोली — “आओ मेरे पास नरक में आओ, ओ नीच आदमी। अब तुम मुझे छोड़ कर कहीं नहीं जा सकोगे।”

इसके साथ ही वह आलमारी एक बहुत ज़ोर की आवाज के साथ झटके से बन्द हो गयी और गायब हो गयी।

यह सब देख कर नीना की बहिनें तो डर के मारे बेहोश सी हो गयीं। नीना उनको किसी तरह होश में लायी और उनको उस घटना के धक्के से बाहर निकाला।

फिर उन्होंने उस रानी का खजाना नौकरों से लिया और वे दुनिया की सबसे ज़्यादा अमीर लड़कियाँ हो गयीं।

clip_image004कुछ साल बाद नीना की दोनों बहिनों की शादी हो गयी और उसने उनकी शादी में इतना अच्छा दहेज दिया जैसे किसी राजकुमारी की शादी में दिया जाता है। बाद में उसकी अपनी भी शादी हो गयी और वह भी एक रानी की तरह रही।



[1] The Palace of the Doomed Queen (Story No 93) – a folktale from Siena area, Italy, Europe.

Adapted from the book : “Italian Folktales”, by Italo Calvino”. Translated by George Martin in 1980.

[2] Easter Sunday – the day Jesus was resurrected after his crucifixion on Friday (Good Friday),

[3] Mary – name of the eldest girl

[4] Rose – the name of the middle girl

[5] Nina – the name of the youngest girlsrc="https://lh3.googleusercontent.com/-PjF1dOKZB8A/V0WA1RvSMHI/AAAAAAAAt38/7SKvFeWw83k/clip_image004_thumb.jpg?imgmax=800">

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------