शुक्रवार, 27 अक्तूबर 2017

देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–5 : 3 चौदह // सुषमा गुप्ता

clip_image002

3 चौदह[1]

एक बार की बात है कि एक पति पत्नी के 13 लड़के थे। उनके एक लड़का और हो गया तो उन्होंने उसका नाम चौदह रख दिया।

वह जल्दी जल्दी बड़ा होने लगा। जब वह बड़ा हो गया तो उसकी माँ ने उससे कहा — “बेटा अब तुमको खेतों को खोदने आदि में अपने भाइयों की सहायता करनी चाहिये। लो अपने और उनके खाने की यह टोकरी लो और खेतों पर उनके साथ चले जाओ और वहाँ जा कर उनकी सहायता करो।”

कह कर उसने चौदह को एक टोकरी दी जिस में 14 गोल डबल रोटियाँ थीं, 14 चीज़ के टुकड़े[2] थे और 14 सेर शराब थी। माँ से यह सब ले कर चौदह खेतों की तरफ चल पड़ा।

जब वह बीच रास्ते में पहुँचा तो उसे भूख और प्यास दोनों लग आयीं। उसने खाने की वह टोकरी खोली और चौदहों डबल रोटी और चौदहों चीज़ के टुकड़े खा लिये और चौदहों बोतल शराब पी गया। उस दिन उसके भाई लोग बेचारे भूखे प्यासे ही रह गये।

उन्होंने उससे कहा — “चलो एक हल ले लो और खेतों में काम करना शुरू कर दो।”

चौदह बोला — “हाँ हाँ क्यों नहीं। पर मुझे तो ऐसा हल चाहिये जो 14 पौंड भारी हो।”

सो उसके लिये उन्होंने 14 पौंड का एक हल ढूँढ कर ला कर दिया। अब 14 भाइयों ने मिल कर खेत जोतना शुरू किया तो बीच में ही चौदह बोला — “क्या हम इस खेत को आखीर तक जोतने के लिये दौड़ लगायें?”

“हाँ हाँ क्यों नहीं।”

चौदहों भाई खेत खोदते हुए दौड़े तो चौदह जीत गया। उसके बाद से चौदह अपने भाइयों के साथ काम करने लगा। वह चौदह आदमियों का काम करता तो वह चौदह आदमियों का खाना भी खाता था।

इस तरह उसके तेरहों भाई डंडों की तरह दुबले होते चले गये और वह खुद तन्दुरुस्त होता चला गया।

एक दिन उसके माता पिता ने उससे कहा — “बेटा अब तुम थोड़ा बाहर जाओ और दुनिया देखो।”

सो वह घर से बाहर चल दिया। चलते चलते वह एक अमीर किसान के पास आया। उस किसान को 15 मजदूरों की जरूरत थी।

लड़का बोला — “तुम्हारा 14 लोगों का काम तो मैं कर सकता हूँ। पर मैं खाता पीता भी 14 लोगों के खाने के बराबर हूँ। इस लिये मुझे तनख्वाह भी 14 लोगों के बराबर ही दी जानी चाहिये। अगर तुम मुझे इन शर्तों पर काम देना चाहो तो मैं तुम्हारे लिये काम करने के लिये तैयार हूँ।”

उस किसान की कुछ समझ में नहीं आया पर फिर भी उसने उसको एक मौका देना चाहा सो उसने उसको और एक और आदमी को अपने खेत पर रख लिया। इस तरह उसके पास चौदह और एक और आदमी कुल मिला कर 15 मजदूर हो गये।

उन्होंने खेत में हल चलाना शुरू कर दिया तो चौदह ने उस एक मजदूर से सचमुच ही चौदह गुना काम किया तो उस किसान का वह खेत बहुत जल्दी ही खुद गया।

खेत खुदने के बाद वह अमीर किसान चौदह को उसको उसकी 14 मजदूरों की मजदूरी और 14 आदमियों का खाना देना नहीं चाहता था सो उसने चौदह से बचने की एक तरकीब सोची।

वह बोला — “सुनो तुम अब मेरा एक काम और कर दो। तुम ये 7 खच्चर और 14 बालटी ले कर नरक जाओ और वहाँ से इनमें लूसीबैलो[3] का सोना भर लाओ।”

clip_image004चौदह बोला — “मैं यकीनन ले आऊँगा पर तुम मुझको 14 पौंड भारी पकड़ने वाला एक चिमटा[4] दे दो।”

उस अमीर किसान ने उसको एक 14 पौंड भारी चिमटा दे दिया और चौदह वह 14 पौंड भारी चिमटा, 14 बालटी और 7 खच्चर ले कर नरक की तरफ चल दिया।

जब वह नरक पहुँचा तो उसके बाहर के दरवाजे पर एक शैतान खड़ा था। उसने उस शैतान से कहा — “लूसीबैलो को बुलाओ।”

चौकीदार शैतान ने चौदह से पूछा — “तुमको हमारे सरदार से क्या काम है?”

चौदह ने अमीर किसान की लिखी वह चिठ्ठी जो उसने लूसीबैलो के नाम लिखी थी जिसमें लिखा था “इसको 14 बालटी सोना दे दो।” उस शैतान को दे दी।

वह उस चिठ्ठी को अपने मालिक के पास ले गया तो मालिक लूसीबैलो ने चौदह को अन्दर बुला लिया और उसको सोना निकालने के लिये नीचे जाने के लिये कहा।

जैसे ही चौदह जमीन के नीचे पहुँचा 14 शैतान उसको ज़िन्दा खाने के लिये उसके ऊपर कूद पड़े पर चौदह ने अपने 14 पौंड भारी चिमटे से उन 14 शैतानों की जीभ पकड़ ली और उन्हें इतना सताया कि वे सब मर गये। बस केवल उनका सरदार लूसीबैलो ही ज़िन्दा बचा।

लूसीबैलो बोला — “मैं अब इन बालटियों को सोने से कैसे भरूँगा जब तुमने मेरे 14 शैतानों को तो मार दिया जो इन बालटियों को सोने से भरते।”

चौदह बोला — “तुमको इस बात की चिन्ता करने की कोई जरूरत नहीं मैं इन बालटियों को सोने से अपने आप भर लूँगा।”

उसने अपनी 14 बालटियाँ सोने से भरीं, लूसीबैलो को बाई बाई किया और वहाँ से चल दिया।

लूसीबैलो बोला — “रुको तो। तुम इस तरह से यहाँ से नहीं जा सकते।”

clip_image006उसने चौदह को खाने के लिये जैसे ही अपना मुँह खोला तो चौदह ने अपनी सँड़ासी से उसकी जबान पकड़ ली। उसको अपने कन्धे के ऊपर डाला और अपने सोने से लदे खच्चर ले कर वहाँ से चल दिया।

चौदह सही सलामत उस अमीर किसान के घर आ गया। घर आ कर उसने शैतान को रसोईघर में रखी मेज के पाये से बाँध दिया।

लूसीबैलो बोला — “अब तुम मेरे साथ क्या करना चाहते हो?”

चौदह बोला — “कुछ खास नहीं। बस तुम मेरे मालिक को साथ ले कर नरक चले जाओ और फिर यहाँ कभी नहीं आना।”

इतना कह कर उसने लूसीबैलो को खोल दिया और वह उस अमीर किसान को ले कर नरक चला गया।

इस तरह शैतान को उससे बचने के लिये अपनी ज़िन्दगी की भीख नहीं माँगनी पड़ी। उसने उसको बस उस अमीर किसान के वहाँ से ले जाने के बदले में ही आजाद कर दिया था।

उस अमीर किसान के जाने के बाद अब चौदह उस गाँव का सबसे ज़्यादा अमीर किसान बन गया था।

clip_image007

4


[1] Fourteen (Story No 96) – a folktale from Marcbe area, Italy, Europe.

Adapted from the book : “Italian Folktales”, by Italo Calvino. Translated by George Martin in 1980.

[2] Cheese in the western world is the processed Paneer of India.

[3] Name of the Chief Satan (Devil) – known with several names, such as Lucifer, Lucibello etc

[4] Translated for the word “Tongs” – see its picture above.

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------