---प्रायोजक---

---***---

रु. 30,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

दिवाली विशेष कविताएँ–दिए जलाने की है वेला

साझा करें:

कुमार रवीन्द्र दिये जलाने की है बेला रात अमावस   घना अँधेरा दिये जलाने की है बेला ड्योढ़ी पर गणपति का दीया आँगन में पुरखों की बाती क...

कुमार रवीन्द्र

दिये जलाने की है बेला


रात अमावस  
घना अँधेरा
दिये जलाने की है बेला

ड्योढ़ी पर गणपति का दीया
आँगन में पुरखों की बाती
कलश-धरी जोती में बाँचें
लछमी मइया सुख की पाती

देवा काटें
दुख बरसों का  
अवधपुरी ने जो है झेला

महल और कुटिया दोनों में
नेह-भरा होवे उजियारा
भीतर जो बहती है गंगा
जल उसका हो कभी न खारा

विपदा-कष्ट
न व्यापे जग को  
कोई होवे नहीं अकेला  

नीचे दीयों की मजलिस है
ऊपर है तारों की महफ़िल
जो उजास है बसा आँख में 
वही बने यादों की मंज़िल

उधर यक्षपुर
इधर रामगिरि
दोनों ओर दियों का मेला   

**********************

मंजुल भटनागर

क्षणिकाएं १
अमावसी रात में
दीप तुम हो दिव्यार्थ
दीप है घर पाहुना
देता नूतन प्रकाश
सुन्दर किसलय संग
अंबुज पर
माँ लक्ष्मी का वास
दीप जले अनवरत
हर ओर हो
माँ लक्ष्मी का वास .

दीप पुरुष है
दीप है प्रकृति
मिटटी पानी की देह रची
ज्योति दीप की
प्राण गति
दीप मनु है
बात्ती इरावती
दीप वेदों की है अनुकृति।


दीप पर्व है
दीप है गति
दीप स्वर्ग की है स्वीकृति
अन्धकार में
बन कर्मरत
दीप जलाये रखना
हर चौखट चौराहों पर
उजड गए जो
उन दरियारों पर
एक दीप जलाये रखना
एक आस जगाए रखना


आँधियों से भी
बुझे नहीं
दीप अनवरत
जलता रहे
भीषण झंझावात में
पथ दिखाता  रहे
टपकती बरसात में भी
बुझे  नहीं कोई आस
द्वार ,छप्पर बंधे रहे
दीप तेरा आलोक फैले
मन में तन में
दीप्त हों दिशाएं
हर मन में उम्मीद का दीप जलता रहे
-----.

घुप अन्धेरा क्षितिज पर लेटा
द्वार भोर का नहीं दीखता
सघन कालिमा पसरी जाए
पग डंडी भी नज़र ना आये
राहो को दमकाता दीपक,
राहें नयी दिखाता दीपक

लालच पसरा आतंक फैला
अनाचार ने तांडव खेला,
मनुष्यता है धूमिल हाय
राह कोई भी नज़र ना आये
सही राह दिखाता दीपक,
घर अपने पहुंचता दीपक

रिश्ते जो भी रूठ गए हैं
साथी जो  थे  छूट गए  हैं
मन के कोने लीप लाप कर
बरसो की धूल  हटाता दीपक,
  हर चौखट और देहेरी पर
फिर से दीप जलाता दीपक

एक हो मेरा एक तुम्हारा,
दीप पंक्ति से मिटे घनेरा
चाँद गगन का दीप सही
दीप  मृतिका ने  उकेरा
दीपावली का दीप जले तो
अज्ञान तिरोहित , हो नया सवेरा

**********************

सुशील शर्मा


हाइकु -108
दीवाली


मन का दीया
जलती रहे बाती
प्रेम का तेल।

दीपमालाऐं
झिलमिल सितारे
जमीं पे सारे।

दीपक तले
छिपता है तिमिर 
कहाँ भागता।

सजा रंगोली
बैठीं हूँ दरवाजे
आओ माँ लक्ष्मी।

आई दीवाली
अंधयारी मावस
बनी दुल्हन।

दीपक की लौं
अन्धकार चीरती
अकेली खड़ी

बम फटाखे
अहंकार मिटाके
धूम धड़ाके।

घना तमस
उजियारे की आस
दीये के पास।

नेह के दीये
ज्योतिर्मय ह्रदय
जीवन जिए।

नन्हा दीपक
दूर तक फैलाये
आशा की आभा

हर आँगन
अंजुरी भर कर
बिखरा प्रेम।

दिव्य दीवाली
कलश द्वार द्वार
बंदनवार।

मुक्ति किरण
प्रेम अवतरण
तम हरण।

अटल प्रण
अंतस का दर्पण
ज्वलित क्षण
 
  ---

दोहे बन गए दीप


विडाल (विन्यास ---3 गुरु 42 लघु )

जलत बुझत लहरत अचल ,दीप जलत मनमीत।
थिरक थिरक गदगद सजल  ,मन मन मिलत सप्रीत।

नयन भरत उमगत मगन,सुखमय मन चित चोर।
लिपटत सिमटत झपट कर सजग सहज पिय ओर।

करभ (विन्यास - 16 गुरु 16  लघु )

ज्योतिर्मय आकाश है उजियारे की भोर।
अँधकार मन का मिटा ,दीप जलें चहुँ ओर।

मन अनंग सा मचलता ,पिया मिलन की आस।
दीवाली सी झूमती ,बाँहों में आकाश।

धनतेरस में लाइए ,सोना चांदी खास।
धन्वन्तरि को पूजिये ,घर सदा लक्ष्मी वास।

माटी का दीपक जले ,देहरी छत मुंड़ेर।
सजी दिवाली प्रेम की ,पिय न लगाओ देर।

पयोधर (विंन्यास --12 गुरु 24 लघु )

माटी के इस दीप में जन जन का उत्कर्ष।
कटे तिमिर की रात सब नूतन नवल विमर्श।

माटी दिया जलाय कर ,तमस हरो सब आज।
ज्योतिर्मय मन को करो पूरण हों सब काज।

कमल अमर संग उर्मिला ,दीप त्रिवेणी साध।
उत्साहित सब को करें ,विनय सुधीर अबाध।

वानर पान (विंन्यास --10 गुरु 28 लघु )

ज्योति सदा मन में जले ,अंतर करत प्रकाश।
तिमिर हरे सुखमय करे ,जीवन भर दे आस।

स्वान ( विन्यास --2 गुरु 44 लघु )
नटखट मन हुलसत फिरत ,चहक चहक छवि रूप।
मचलत विलखत नयन तन ,धरि धरि अगम सरूप।

व्याल (विन्यास --4 गुरु 40  लघु )
जलत जलत मन बुझत है ,गिरत गिरत उठ जात।
सहत सहत तन तनत है,सजल सजल पुनि गात।

मच्छ (विन्यास --7 गुरु 34 लघु )
जल जल कर दीपक कहत ,मत कर रे अभिमान।
तिल तिल कर मिट जात है ,तन मन धूलि समान।

**********************


आचार्य बलवन्त


चलो, दिवाली आज मनाएं

हर  आँगन में उजियारा हो
तिमिर मिटे संसार का।
चलो, दिवाली आज मनाएं
दीया जलाकर प्यार का।
 
सपने हो मन में  अनंत के
हो अनंत की अभिलाषा।
मन अनंत का ही भूखा हो
मन अनंत का हो प्यासा।
कोई भी उपयोग नहीं
सूने वीणा के तार का ।
चलो, दिवाली आज मनाएं
दीया जलाकर प्यार का।

इन दीयों से  दूर न होगा
अन्तर्मन का अंधियारा।
इनसे  प्रकट न हो पायेगी
मन में ज्योतिर्मय धारा।
प्रादुर्भूत न हो पायेगा
शाश्वत स्वर ओमकार का।
चलो, दिवाली आज मनाएं
दीया जलाकर प्यार का।

अपने लिए जीयें लेकिन
औरों का भी कुछ ध्यान धरें।
दीन-हीन, असहाय, उपेक्षित
लोगों की कुछ मदद करें।
यदि मन से मन मिला  नहीं
फिर क्या मतलब त्योहार का ? 
चलो, दिवाली आज मनाएं
दीया जलाकर प्यार का।


   आचार्य बलवन्त हिंदी विभागाध्यक्ष,
  कमला कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट स्टडीस
  450, ओ.टी.सी.रोड, कॉटनपेट, बेंगलूर-560053 (कर्नाटक)
  मो. 91-9844558064 , 7337810240  
   Email- balwant.acharya@gmail.com

---------------------.

शशांक मिश्र भारती

दीवाली आ गई

दीपकों के साथ
नूतन विश्वास
आदर्शों-परम्पराओं का सम्बल
संघर्ष कर बढ़ने को-
झेल झंझा ‘दमकने-दमकाने को
आ गई दीवाली,
सज्जन या सरिता
तरू या जलद
सर्व लोक कल्याणार्थ
सृजन से विनाश तक
मात्र-परार्थ
तपते अज्ञान, अनाचार अनैतिक तत्वों-
से जनमानस को उद्वेलित बना
डालने को क्रान्ति बीज
इस धरा भरत भूमि पर
दीपावली,
हाँ ज्योतिर्मय- मंगलकर्ता
आभामयी दीवाली।

----


दीपावली
स्वागत् है
तू आ गयी
यहीं पर इस वर्ष
शुभ दीपावली।
अब जाचुकी है
बरसात
पर-
आने वाली हैं सरदी की रातें
तू आ पहुंची है धरा पर
आभा फैलाने वाली
सरद ऋतु आने का
पूर्व सन्देश देने वाली
शुभ दीपावली
आयी है तू
मौसम के होठों पर
मुस्कान बिखेरती
आंगन में किलकारियां लेती
देश में
एक नव सुखद
प्रभात देती
नूंपुरों की ध्वनि जगाती
कोमल पुष्पों का हार बनाती
स्वच्छ वसन पहने
शुभ दीपावली
आती है तू
वर्ष में एक बार
आकर प्रत्येक दिवस अनुग्रहित कर हमें
अपना प्यार।
कर दें
नन्हें, कोमल हस्तों वाले
बच्चों को
आनन्द में हर्ष-विभोर
बरसात में घूमने वाले
बच्चों के लिए
बनती है
तुम्हारे आने पर
निकेतों के ऊपर
जलने वाले असंख्य दीपों की आभा
इन्दु की चमक के समान
तुम्हारे
वसन बनते हैं
आलयों की अट्टालिकाओं पर
असंख्य दीपकों की प्रभा के समान
तू
आ खड़ी है
समय को पीछे छोड़
सामने मेरे
पवित्र
सुख का सन्देश लिए
स्वर्णिम मूर्ति से युक्त
शुभ दीपावली ।

--


दीप का संदेश
पर्व दीवाली का फिर आया है
उत्साह नया चहुँ ओर छाया है,
मिटे अंधेरा अपने अन्दर का
यही संदेश दीपक लाया है,
बाहर सभी ने जलाये दीपक
अंधेरा अन्दर छाया गहरा है,
तब बोलो कैसी दीवाली-
विकृतियों का लगा पहरा है,
दीप जलाते प्रत्येक वर्ष है
क्या अन्र्तमन जगमगाते हैं,
घर -गलियां साफ कर देते
दूसरों पे कलुष मिटाते हैं,
कल नहीं तो आज सहीं
दीप का अर्पण जान लो,
सुख,समृद्धि,विकास,स्नेह
अपनत्व बढ़ाना मान लो,
नन्हा दीपक बुझते-बुझते
फिर जल उत्साह बढ़ाता है,
सबके मन का छँटे कुहासा
हर लौ से कह जाता है।।

---------------


हिमांशु सिंह 'वैरागी'


आख़िरकार आ ही गया ना,
यम द्वितीया का त्यौहार,
कहाँ है वो रोली,
वो अक्षत,
कहाँ गया वो हमारा परस्पर प्रेम,
छीन लिया ना तुझे,
मुझसे तेरा वो आतिफ़ कहार.

आखिरकार आ ही गया ना,
भातृ द्वितीया का त्यौहार,
कहाँ है वो ओली,
वो गत,
कहाँ गया वो हमारा फ़ाज़िल प्रेम,
तोड़ दिया ना मुझे,
समझकर एक सतार.

आख़िरकार आ ही गया ना,
भाऊ बीज का त्यौहार,
कहाँ है वो जोली,
वो विक्षत,
कहाँ गया वो हमारा अपरिमित प्रेम,
भुला दिया ना मुझे,
समझकर एक चमार.
--

oooooooooooooooooooooooooooooo


हमने सोचा था, हम साथ रहेंगे...
हर विकट-प्रसंग में,
एक-दूसरे के आसंग में,
संग-संग में,
दुनिया की पासंग में,
संगम सा हम साथ बहेंगे...

हमने सोचा था, हम साथ रहेंगे...
मुझे पता था,
लोग मुझे भंडर कहेंगे
मुझे दुःख नहीं इस बात का
क्योंकि आस थी मुझे,
कि आप मुझे अपना कहेंगे...

हमने सोचा था, हम साथ रहेंगे...
एक मंजुल पे,
एक वंजुल के,
छाँव में,
उस छाया की तरह
परिरंभण रूप दिखेंगे...
हमने सोचा था,
हम साथ-साथ
एक आसनी पे
अपनी जीवनी लिखेंगे...
 

-------------------.

Poet -  Sardar Jaspal Soos, Faisalabad, Pakistan

Translator – Vina Bhatia, New Delhi, India


पंजाब का हाल

फूलों जैसी धरती पर
नशे का बिछा दिया जाल
कब्रों-सा हो गया
मेरे पंजाब का हाल

नशे की लत में घुलते
रिश्तों पर जुल्म हैं करते
बोलना भी हो गया कहर
फैलता नशे का जहर
कब्रों-सा हो गया
मेरे पंजाब का हाल

बाप के मोह से दूर
माँ को भी गए भूल
भगत सिंह के सच्चे वारिस
चिट्टे में हो गए धूल
जिधर देखें हर कोई फंसा
लालच का बिछा है जाल
कब्रों-सा हो गया
मेरे पंजाब का हाल

मिट्टी में जहर घुल गया
कर्जे में भी वो फंस गया
पेट जगत का भरने वाला
देखो खुद भूखा मर गया
मजबूरी के साथ लड़ता
हाल हुआ उसका बेहाल
कब्रों-सा हो गया
मेरे पंजाब का हाल

ऐसा हाल अगर रहा
सब खत्म हो जाएगा
हरा-भरा पंजाब मेरा
पतझड़-सा हो जाएगा
रूह देखो काँप जाए
आए जब भी ये ख्याल
कब्रों-सा हो गया
मेरे पंजाब का हाल़


----------------------.

सीताराम साहू

आज मेरा मन सखी री चाँद के वश हो गया ।
हर घड़ी लगता मनोरथ आज पूरा हो गया ।
तुम मेरे जीवन की सांसें तुम मेरी हो आत्मा ।
उसको न महसूस कर पाए तुम्ही परमात्मा ।
तेरे बिन जीना नहीं साजन मुझे कुछ हो गया ।
हर घड़ी लगता मनोरथ आज पूरा हो गया ।
जीवनी मेरी तुम्हीं तुम ही मेरी आतमकथा ।
साथ तेरे रह रही जब से नहीं कोई व्यथा ।
तू मिला सुन्दर सुहाना सपना पूरा हो गया ।
हर घड़ी लगता मनोरथ आज पूरा हो गया ।
लगता तेरे बिन नहीं है कुछ भी मेरी जिंदगी ।

तू ही ईश्वर प्राण प्रियतम तू है मेरी बन्दगी ।
तेरे चिंतन के बिना जीवन अधूरा हो गया ।
हर घड़ी लगता मनोरथ आज पूरा हो गया ।
----------.
कोई पूछता है मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत,
मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के मुस्कुराना ।
मेरी उलझी जिन्दगी में कभी हाल दिल न पूछा,
तब याद आ गया है गुजरा हुआ जमाना ।
बचपन था सबसे अच्छा दिल चाहे हंस ले ,रो ले,
अब रो भी नहीं सकते हंसने का न बहाना ।
अब डर रहा हूं डर से पत्थर ही हो न जाऊं,
बदली तेरी अदाएं बदला हुआ जमाना ।
तुझे भूल भी तो जाऊ मेरे बस में अब नहीं है,
तेरे जख्मी दिल की बातें वो गम में मुस्कुराना ।
तेरी आरजू यही है दिल मेरा अब भी   तड़पे,
चाहत तो मेरी भी है दिल में तुझे बसाना  ।
------------.

बहुत वर्षों में जागा हूं तुम्हारा प्यार पाने में ।
मुझे लग जायेगी सदियां तुम्हें राधे भुलाने में ।
तुझे बांटा नहीं दुख-दर्द रक्खा है छुपा दिल में ,
ये जीवन बीत जायेगा दर्द तुझको बताने में ।
न कोई आरजू जीवन की  नहीं कोई तमन्ना है,
तुझे न पा सका कोशिश बहुत की तुमको पाने की ।
तुम्हारे बिन ये जीवन कैसा होगा कह नहीं सकता।
जमाने भर ने कोशिश की तेरे दर को भुलाने की ।
मेरी उलझी समस्याओं को तुमने दिल से सुलझाया,
संवर जीवन गया चाहत थी शायद तुमको पाने की है।
निभाया फर्ज तुमने मेरे खातिर मिट गए खुद ही,
बहुत बेशर्म हूँ हिम्मत नहीं वादा निभाने की ।
जो न दे रोशनी किस काम का दीपक भला राधे,
जरूरत ऐसे दीपक की नहीं, मिट्टी बनाने की ।

--------------.
   

  मुरसलीन साकी.


ऐ दूर जाने वाले तेरी याद आयेगी.
आंखें गुलाब होंगी नजर झिलमिलायेगी.


तू साथ था बहार मेरे साथ साथ थी.
तू दूर है तो अब के खिजां मुस्करायेगी.


उठेगी हसरतों से नजर बाम की तरफ.
इक आह सर्द मेरे जिगर को जलायेगी.


इक आग तन बदन मे मेरे फैल जायेगी.
जब आसमां पे काली घटा गुनगुनायेगी.


गुल हों कि खार हों कि कली हो या हो चमन.
सब रूठ जायेंगे तू अगर रूठ जायेगी.

                
                   लखीमपुर खीरी यू० पी०
--------------.


संस्कार जैन


अक्सर सोचता हूँ आखिर क्या रखा है
मुड़कर देखने में,
एक गुज़रे वक़्त के पन्नों को
फिर से पलटने में,
फिर
इस सोच का एक लम्हा
ऊँगली थाम के ले जाता है
वापिस तुम्हारी ओर,
और
दिखा जाता है एक झलक जिंदगी की,
तुम्हारी उन चमकती आँखों में.....
 
 
                       
------.

फूलसिंह कुम्पावत

(1)    आतंकवाद
देश की धरा पर खूनी मंजर छाया ,
अंधकार का जहर भरा खंजर लाया ,
हिंसा की जंजीर ये  लाया ,
जब आतंकवाद अपने  देश में आया  ।

इंसानियत की मौत का पैगाम ये लाया ,
मानवता की चोट का आलम ये लाया ,
विकसित स्थिति को बिगाड़ने ये आया ,
जब आतंकवाद अपने  देश में आया  ।

समस्याओं का पिटारा ये लाया ,
दानवों का भंडारा ये लाया ,
मजबूत इरादे को मिटाने आया ,
जब आतंकवाद अपने  देश में आया  ।

चहुं ओर युद्ध की सूचना ये लाया ,
मौत से  भरी वेदना ये लाया ,
प्रेम के मायने भुलाने आया ,
जब आतंकवाद अपने  देश मै आया ।

कमर देश की तोड़ने ये आया ,
अमन-चैन मिटाने ये आया ,
अपनों का श्राद्ध कराने ये आया ,
जब आतंकवाद अपने देश मैं आया ।

देख आतंकवाद का फंदा, मिटाने इसे  मैं आया ,
पैरों में ताकत दिलों में जोश दिलाने मैं आया ,
भावी पीढ़ियों की जान बचाने मैं आया ,
श्रद्धांजलि आतंकवाद को देने मैं आया ,
जब  आतंकवाद मेरे देश में आया ।

(2) बाल -विवाह का आविष्कार 

जबरन शादी की जंजीरों में जकड़कर ,
रीति-रिवाजों का नकाब ओढ़ाकर ,
बंधुआ मजदूर के सामान पकड़कर ,
अक्षय तृतीया के दिन खासकर ,
बाल -विवाह का आविष्कार हमने कराया ।

मानव तस्करी सामान अपराध गढ़ाकर ,
अनुच्छेद 14 व 21* के अधिकारों को जलाकर ,
कानून के विरुद्ध कार्य  अपनाकर ,
अठारह साल से कम उम्र में विवाह करवाकर ,
बाल-विवाह का आविष्कार हमने कराया ,
बाल-विवाह का आविष्कार हमने कराया ।

अभिशाप बाल-विवाह का जानकर ,
आत्ममंथन से इसे सुलझाया ,
जागरूकता की ज्ञानाग्नि से इसे जलाकर ,
खिलाफ इसके कदम उठाकर ,
बाल-विवाह का आविष्कार हमने भुलाया ,
बाल-विवाह का आविष्कार हमने भुलाया ।
अनुच्छेद 14  = बराबरी का अधिकार
अनुच्छेद 21 = जीने  का अधिकार

परिचय :
नाम - फूलसिंह कुम्पावत
ई-मेल :phoolsinghkumpawat@gmail.com
संपर्क : 09460400552
जन्मतिथि- 14 जुलाई, 1985 ई.
शिक्षा- बी. एस. सी. (रसायन विज्ञानं), पर्यावरण और सतत विकास में पी.जी डिप्लोमा , जलग्रहण प्रबंधन में  डिप्लोमा ,  एल. एल. बी (M.D.S.U)  
सम्प्रति- रसायनज्ञ Chemist पावर प्लांट ( श्री सीमेंट ब्यावर)

स्थायी पता- गांव / पोस्ट - इटंदरा , तहसील - रानी , जिला - पाली (राज.) 306115
वर्तमान पता- 29,राधाकृष्ण कॉलोनी , सेंदरा रोड , होटल राजमहल के पास , ब्यावर 305901

----------------------------.

मिथिलेश राय


मैं बहुत बेकरार हूँ तुमसे बात करने को!
गुजरे हुए ख्यालों से फिर मुलाकात करने को!
जब यादें तड़पाती हैं मुझको तन्हाई में,
जिन्दगी रुक जाती है तन्हा रात करने को!


| mkraihmvns@gmail.com
----------------------.


महादेव मुंडा


शिकायत
कोई खता नहीं कोई खबर नहीं
आपको शायद
हमारी दोस्ती की कदर नहीं
हम आपको याद करते हैं
हर सांस के साथ
और आपको
शायद हमारी सांसों की फिकर नहीं

सबेरा क्या हुआ
आप सितारों को भूल गये
सूरज क्या उगा
आप बहारों को भूल गये
गुजरा क्या कुछ पल
हमारे बिना
आप हमें ही भूल गये

ऐसा भी क्या कसूर कर दिया हमने
इस तरह से गैर हमें कर दिया
माफ करना हमारी गलतियों को
जिनकी वजह से हमें आपने
याद करना छोड़ दिया
--
फिर भी तुम

बैठ जाऊँ मैं थककर
बीच राहों में
तुम कदम हमेशा
हौसलों से आगे बढा़ना

मैं बुझ जाऊँ दीपक बनकर
तुम चमकना आसमान में
सूर्य बनकर

हमारे गमों से कोई
वास्ता मत रखना
गर मैं बिखर जाऊँ
जमीं पर
धूल बनकर

फिर भी तुम
हमेशा छूना ऊँचाइयों को
आसमान बनकर
---.
वो आहत है
वो बड़ी आहत है
ये मैं नहीं कहता
उसकी चेहरा बता रहा है

कभी सामने आती है
कभी छिप जाती है
कभी मुस्कुरा कर
नजर झुकाती है

दिल में उसकी चाहत है
ये मैं नहीं कहता
उसकी चेहरा बता रहा है
वो बड़ी आहत है

उसे चाहत है मुझसे
उसे मोहब्बत है मुझसे
वो मुझे जानती है
वो मुझे पहचानती है
मेरा हर बात उसे
अच्छा लगता है
हो गयी उनको प्यार है

वो बड़ी आहत है
ये मैं नहीं कहता
उसकी चेहरा बता रहा है
वो बड़ी आहत है
-----.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3865,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आवश्यक सूचना!,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2814,कहानी,2138,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,91,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,881,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,39,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,660,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,705,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,61,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,187,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: दिवाली विशेष कविताएँ–दिए जलाने की है वेला
दिवाली विशेष कविताएँ–दिए जलाने की है वेला
https://lh3.googleusercontent.com/-r0Z2KR9z1nE/WeB_0gSDx8I/AAAAAAAA7xI/L6OWaL-Ss2Y6iSeXwPxO8ECVqhQKU1EtACHMYCw/image_thumb?imgmax=300
https://lh3.googleusercontent.com/-r0Z2KR9z1nE/WeB_0gSDx8I/AAAAAAAA7xI/L6OWaL-Ss2Y6iSeXwPxO8ECVqhQKU1EtACHMYCw/s72-c/image_thumb?imgmax=300
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/10/blog-post_19.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/10/blog-post_19.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ