बुधवार, 18 अक्तूबर 2017

छठवाँ आलोक स्मृति साहित्यकार सम्मान समारोह सम्पन्न

image
छठवाँ आलोक स्मृति साहित्यकार सम्मान समारोह -2017 बड़े गरिमामयी वातावरण में आलोक पब्लिक स्कूल के सभागार में सम्पन्न हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि डॉ० अशोक अग्रवाल, अध्यक्ष डॉ० अनिल गहलौत तथा विशिष्ट अतिथि डॉ० रमाशंकर पाण्डेय ने मिल कर दीप प्रज्जवलन  तथा माँ शारदे के चित्र पर माल्यार्पण किया । इसके साथ ही स्व० आलोक प्रताप सिंह को पुष्पांजलि प्रदान की गयी ।
     प्रति वर्ष होने वाले इस समारोह में तीन साहित्यकारों को 'आलोक स्मृति साहित्य-भूषण सम्मानोपाधि से विभूषित किया गया । इनके नाम हैं - श्री निशेष जार,मथुरा, डॉ० अंजीव अंजुम दौसा (राज.) तथा शैलेन्द्र कुलश्रेष्ठ मथुरा ।


       इस वर्ष एक सम्मानोपाधि श्री बाबूसिंह स्मृति साहित्य-रत्न भी आगरा के डॉ० जयसिंह 'नीरद' (सेवानिवृत निदेशक के.एम.मुंशी हिन्दी संस्थान) को प्रदान की गयी । यह सम्मानोपाधि श्री रवेन्द्रपाल सिंह रसिक ने अपने पिताजी की स्मृति में शुरू की है ।


     मथुरा की मैमोरी गर्ल कु० प्रेरणा शर्मा का भी वैष्णवीसिंह ने शॉल ओढ़ाकर एवं जितेन्द्र सिंह ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया।
       इस अवसर पर साहित्यकार इं०सन्तोष कुमार सिंह की बाल साहित्य की दो पुस्तकों - 'झिलमिल मछली-गिल्लू कछुआ' तथा 'चन्दा मामा करें उई' का विमोचन भी हुआ । सन्तोष कुमार सिंह की यह 40वीं और 41वीं पुस्तकें हैं ।

image
पुस्तकों की समीक्षा डॉ० रमाशंकर पाण्डेय तथा आचार्य नीरज शास्त्री ने प्रस्तुत की । मुख्य अतिथि डॉ० अशोक अग्रवाल ने अपने संबोधन में आलोक स्मृति समारोह के भव्य आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि साहित्यकाऱों का सम्मान करना बहुत अच्छा कार्य है । आज सम्मानित होने वाले साहित्यकाऱों को मैं बधाई देता हूँ । साहित्यकार संतोष कुमार सिंह को भी हार्दिक बधाई देता जो निरंतर बहुत अच्छा साहित्य सृजन कर रहे हैं । वास्तव में इन्हें उ.प्र.हिंदी साहित्य संस्थान से पुरस्कार  मिलना चाहिए ।

      कार्यक्रम का द्वितीय सत्र काव्य पाठ को समर्पित रहा । इसमें लगभग 35 कवि एवं कवयित्रियों ने सुंदर एवं मनभावन कविताओं की छटा बिखेरी । संचालन अनुपम गौतम ने किया । संयोजक जितेन्द्र सिंह सेंगर ने सभी कवियों का सम्मान पटुका ओढ़ाकर तथा राधा-कृष्ण की छवि प्रदान करके किया । कविता पाठ करने वाले कवियों में सुधा अरोड़ा, सरोज अग्रवाल, अंजू शर्मा, रवेन्द्र पाल सिंह रसिक, डॉ. रमाशंकर पाण्डेय, डॉ० अनिल गहलौत, डॉ. दिनेश पाठक शशि, नीरज शास्त्री, मदन मोहन अरविन्द, डॉ. विवेकनिधि, आगरा के डॉ. शेषपाल सिंह शेष तथा गया प्रसाद मौर्य, सिकंदराराऊ के विमल उपाध्याय, मथुरा के संतोष कुमार सिंह, देवी प्रसाद गौड़, हरिदत्त चतुर्वेदी,आर.के.भारद्वाज, अमर अद्वितीय, लाखन सिंह हलचल इत्यादि थे ।


    इस समारोह में रतेन्द्र कुमार सेंगर, ब्रजभूषण वर्मा, सूर्यकांत वर्मा, विजयंत सिह,  दयावती वर्मा, वैष्णवी सिह, निखिता सिंह, देवेन्द्र कुमार, सुंदरसिंह चौहान, कंचन सिंह चौहान, बाबूलाल, महेन्द्र सिंह पटेल, शैलेन्द्र शर्मा, भगवती प्रसाद, डॉ० जी०के०सिंह, अमित जैन आदि उपस्थित थे । अंत में जितेन्द्र सेंगर ने सभी का धन्यवाद ज्ञापन किया ।


   प्रस्तुति -
  जितेंन्द्र सिंह सेंगर

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------