370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

रावण को कौन जलाए // लघुकथा // सुशील शर्मा

आज मुहल्ले में बहुत उत्साह था।सब बच्चे रावण की तैयारी में दो दिन से लगे थे।आज शाम को रावण बन कर तैयार था।दस सिर वाला रावण मुहल्ले के मैदान में खड़ा था।किंतु अब एक नई समस्या सामने आ गई थी।मुन्नू,शंटी, बंटी,सोनू सब ने खूब मेहनत कर रावण बनाया था और हर बच्चा चाहता था कि रावण को सबसे पहले वो आग लगाए।

सोनू सबसे बड़ा था कहने लगा "देखो मेरे मार्गदर्शन में ये रावण बना है और मैं तुम सबसे बड़ा हूँ तो इसे सबसे पहले आग मैं ही लगाऊंगा।"

शंटी चिल्लाया "नही ऐसा नही हो सकता मैंने घर घर जाकर चंदा इकठ्ठा किया है,अगर पैसा नही होता तो कहां से बना लेते रावण?सबसे पहले मैं ही आग लगाऊंगा।"

"अरे वाह मैं दिन भर से मेहनत कर रहा हूँ बांस का ढांचा बनाया मटके का सिर बनाया पसीना बहा रहा हूँ मेरा पहला अधिकार है रावण जलाने का"मुन्नू ने अपना दावा पुख्ता पेश किया।

"अच्छा और मैंने दिन भर रावण के कपड़े सिले उसका क्या पहले मैं ही आग लगाउंगी"

रानी ने अपना पक्का दावा ठोका।

बच्चों की बातें बड़ो तक पहुंची हर बच्चे के माता पिता को उनके बच्चे की बात तर्कसंगत लगी।

आखिर निर्णय हुआ कि आप पर ये निर्णय छोड़ा जाए कि इन चार बच्चों में से रावण को कौन सबसे पहले जलाएगा।

आप का निर्णय तर्क सहित सादर आमंत्रित हैं।

लघुकथा 7001514897915005028

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव