सोमवार, 23 अक्तूबर 2017

हास्य-व्यंग्य// मुख्य अतिथि बनने का सुख // अमित शर्मा (CA)

image

मेहता जी एक सम्मानित व्यक्तित्व हैं जिसका एक मात्र उपयोग वे मुख्य अतिथि बनने में करते हैं। यह अनुमान लगाना कठिन है कि वे पहले से सम्मानित थे या फिर विभिन्न समारोह में मुख्य अतिथि बनने के बाद वे सम्मान-गति को प्राप्त हुए हैं।

मेहता जी तन मन और आदतन मुख्य अतिथि है। मुख्य अतिथि बनना उनके नित्यकर्म में घुसपैठ कर अपना आधार और आधार कार्ड दोनों बना चुका है। बिना दृष्टिदोष के पता लगाना मुश्किल है कि मुख्य अतिथि बनना मेहता जी का पेशा है या फिर पैशन। अपारिवारिक सूत्र बताते हैं कि वे बचपन से मुख्य अतिथि बनना चाहते थे और पचपन तक पहुँचने पर भी इस स्थिति में कोई सुधार नहीं आया है। उन्होंने अपनी डायरी के हर पेज पर हैडर और फुटर में लिख भी रखा है, "मुख्य अतिथि बनना मेरा "वहमसिद्ध" अधिकार है और मैं इसे हड़प कर रहूँगा।" ज़बान देने के बाद मेहता साहब कभी मेज़बान से दगा नहीं करते है और नियत समय और स्थान पर वे आयोजको से पहले ही पहुँचकर आयोजको का हौसला और BP दोनों बढ़ाते हैं।

इतने कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि बनने के बाद भी बड़प्पन मेहता जी का स्पर्श सुख नहीं ले पाया है। मुख्य अतिथि बनने के लिए वो किसी पेशकश या आमंत्रण का इंतज़ार नहीं करते हैं और ना ही तारीख पर तारीख देते हैं बल्कि खुद क्रीज़ से बाहर आकर आयोजकों को मुख्य अतिथि बनाने के लिए ललकारते हैं।

मुख्य अतिथि बनकर  अपने माल्यार्पण के लिए मेहता जी हमेशा HD क्वालिटी में तत्पर दिखाई देते हैं। माल्यार्पण के प्रति उनका यह समर्पण आयोजकों को भी मुख्य अतिथि का पद हमेशा उनको अर्पण करने हेतु उकसाता रहता है। मेहता जी शुरू से अपने स्पॉंसरों को बरगलाने में सफल रहे हैं कि कोई भी आयोजन,जन (जनता) के बिना सफल हो सकता है लेकिन मुख्य अतिथि के बिना नहीं , आयोजक भले ही कार्यक्रम में पैसा फूंकते हों लेकिन जान तो मुख्य अतिथि ही फूंकता है। मुख्य अतिथि बनने की राह में कभी भी ज्ञान और योग्यता मेहता जी के आड़े नहीं आई क्योंकि मेहता जी साइड से निकल लेने में सिद्धहस्त हैं। मेहता जी हमेशा ज्ञान और योग्यता का सम्मान करते आए हैं इसलिए कभी भी उन्होंने अपने आपको इनकी कसौटी पर कसकर इनका अपमान नहीं किया।

मेहता जी का मानना है कि उनके मुख्य आतिथ्य से हर कार्यक्रम में बिना दाग वाले चार चाँद लग जाते हैं। मेहता जी, हर कार्यक्रम में चीता बनकर फीता काटते हैं और मंच पर चढ़ने के बाद बिना लंच किए  "चीफ गेस्ट" का चोला कभी नहीं उतारते हैं। हालाँकि उनके करीबी लोग उनसे दूर होने पर बताते हैं कि वो केवल सम्मान के भूखे हैं लेकिन बुफे में उनकी चपेट में आई प्लेट इस बात की गवाही देने से कतई इंकार कर देती है।

बार-बार मुख्य अतिथि बनने को मेहता जी कोई बड़ी उपलब्धि नहीं मानते हैं उनके अनुसार बतौर मुख्य अतिथि के उनका संबोधन सुनकर भी आयोजक उन्हें बार-बार मुख्य अतिथि बनाने के लिए बुलाते हैं, यही उनके जीवन की सबसे बड़ी कमाई है। मुख्य अतिथि बनने के धंधे में मेहता जी मोनोपोली एन्जॉय करते हैं, अभी कोई भी प्रतिस्पर्धी उनके स्तर का मुख्य आतिथ्य नहीं टिका पा रहा है,  जो सस्ता भी हो और टिकाऊ भी हो और समय पड़ने पर बिकाऊ भी। एक सफ़ल मुख्य अतिथि कैसे बने इसके गुर मेहता जी को गुरु बनाकर इस क्षेत्र में "स्टार्ट अप्स" करने वाले लोगों को रामबाण समझकर राममंदिर मुद्दे की तरह हथिया लेने चाहिए ताकि ज़ब मेहता जी अपना मुख्य आतिथ्य खूंटी पर टाँगेंगे तो उनकी इस महान विरासत को आगे धर्मनिरपेक्षता की तरह ज़िंदा रखा जा सके।

मेहता जी की मुख्य अतिथि पद के प्रति "प्रेम-अगन" देखकर वह दिन दूर नहीं लगता ज़ब मेहता जी को यूनेस्को और आईएसओ प्रमाणित मुख्य अतिथि घोषित कर दिया जाएगा जिसके बाद देश की चारदीवारी के बाहर विदेशों में भी उनके मुख्य अतिथि बनने का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा।  इसके फलस्वरूप मेहता जी के हर चाहने वाले के दिल और रोयें रोयें से यही निकलेगा, " पंछी, नदिया, गगन के झोंके और मेहता जी, कोई सरहद ना इन्हें रोके जी।"

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------