मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

श्रीरघुनाथ कथा प्रश्नोत्तरी // मानसश्री डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता

clip_image002

श्रीरघुनाथ कथा प्रश्नोत्तरी - 1

मानसश्री डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता

''मानस शिरोमणि एवं विद्यावाचस्पति

गोस्वामी तुलसीदासजी ने कहा है कि, '' राम कथा के मिति नाही '' श्रीराम कथा की कोई सीमा नहीं है। इस तथ्य को दृष्टिगत रखते हुए श्री रधुनाथकथा बहुविकल्पी प्रश्नोत्तरी द्वारा दी जा रही है।

विश्व के किसी भी क्षेत्र या देश में रहने वाले हिन्दू रामायण-श्रीरामचरितमानस के प्रति अपनी अगाध श्रद्धा-भक्ति एवं भावनात्मक लगाव रखते हैं। इन दोनों पवित्र ग्रन्थों में वर्णित कथाओं की चर्चा यत्र-तत्र-सर्वत्र बड़ी ही आस्था तथा श्रद्धा से की जाती है । इन कथाओं के श्रवण से हमारा मन कभी भी पूरा भरा नहीं जाता है तथा इन्हें बार-बार सुनना सुनाना आनन्ददायक लगता है। समय के अभाव के कारण श्रीरघुनाथजी कथा के ग्रन्थों को पूरा-पूरा पढ़ नहीं पाते हैं।

अतः पाठकों, वक्ताओं,शिक्षकों, छात्र-छात्राओं एवं शोधार्थियों के लिये अल्प समय में ज्ञान प्राप्ति हेतु बहुविकल्प प्रश्नों के माध्यम से प्रश्नावाली एवं उनके उत्तर दिये गये हैं। ये प्रश्न प्रमुख रूप से वाल्मिकी रामायण, श्रीरामचरितमानस, पद्मपुराण अध्यात्य रामायण, अदभुत रामायण, आनन्द रामायण आदि ग्रन्थों से लिये गये हैं।

बहुविकल्प प्रश्नों में से सही उत्तर चुनकर अपने ज्ञान का मूल्यांकन करें।

1- वह कौनसा वीर था, जिसने रावण को बन्दी बनाकर कारागार में बंद कर दिया था, और रावण के पितामह के निवेदन पर रावण को मुक्त किया था ?

अ-दशरथ ब-जनक स-सहस्त्रार्जुन द-बालि

2- वह कौन वीर था जो रावण को 6 माह तक अपनी बगल (काँख) में दबाए रक्खा था-

अ-मय ब-अंगद स-बालि द-गय

3- श्रीराम के राज्याभिषेक के समय निम्न में से कौन पाँच सौ नदियों का जल लाया -

अ-नील ब-नल स-सुग्रीव द-जाम्बवान्

4-वह कौन राक्षसी थी जिसने सीता को, रावण को अस्वीकृत करने पर खा जाने की धमकी दी थी

अ-ताड़का ब-शूर्पणखा स-पुधसा द-त्रिजटा

5- निम्न में वह कौन महाराक्षस था जो सिर नीचे तपस्या कर रहा था-

अ-मेघनाथ ब-शंबूक स-त्रिशंकू द-अहिरावण

6- वह कौन सा राक्षस था जिसे श्रीराम एवं लक्ष्मण ने गड्ढे में गाड़ दिया था -

अ-मारीच ब-सुबाहु स-विराध द-कुम्भकरण

7- लंका में कौन सी राक्षसी थी जिसने कभी भी झूठ नही बोला-

अ-शूर्पणखा ब-त्रिजटा स-ताडका द-प्रधसा

8- सरयु नदी का नाम कैंसे पड़ा -

अ-तेजगति से बहने के कारण ब-अनेक धाराओं में बहने के कारण

स-अयोध्या के निकट बहने के कारण द-ब्रह्यसर(मानस) से निकलने के कारण

9- राक्षसों को यातुधान क्यों कहा गया है-

अ-ब्रह्याजी के वरदान दिये जाने के कारण ब-ऋषियों के यज्ञ विध्वंस करने के कारण

स-वीर और अति पराक्रमी होने के कारण द-उन्हें यातु विद्या (जादू) का ज्ञान होने के कारण

10- सम्पाति का पुत्र इनमें से कौन था -

अ-दीर्धायु 2-जटायु 3-सुपार्श्व द-गरूड़

11- इनमें से कौन योद्धा था जो गोह के बने दस्ताने पहनकर युद्ध करता था-

अ-प्रहस्त ब-बालि स-मेघनाथ द-रावण

12- इनमें से किसने गायत्री मंत्र की रचना की है-

अ-वसिष्ठ ब-वाल्मीकि स-नारदजी द-विश्वामित्र

13- इसमे से ''नागमाता'' किसे कहते है-

अ-सिहंका ब-मन्दोदरी स-सुरसा द-सरमा

14- ऋषि भरद्वाज के गुरू कौन से महर्षि थे-

अ-परशुराम 2-वेदव्यास स-वाल्मीकि द-याज्ञवत्ल्य

15- बरवै रामायण की रचना किसने की थी-

अ-वाल्मीकि ब-व्यासजी स-तुलसीदासजी द-वसिष्ठ

16- हहा और हूहू कौन थे -

अ-वानर ब-यज्ञ स-राक्षस द-गंधर्व

17- शूक और सारण लंका में किस पद पर थे-

अ-सारथी ब-गुप्तचर स-अमात्य द-सेनापति

18- बनवास उपरांत अयोध्या वापस आते हुए श्रीराम ने किसे अपना दूत बनाकर भरत के पास भेजा था-

अ- हनुमान् ब-जाम्बवान् स-विभीषण द-अंगद

19- भरत एवं शत्रुध्न के श्वसूर कौन थे-

अ-सीरध्वज ब-शतध्वज स-मकरध्वज द-कुशध्वज

20- सुतीक्ष्ण मुनि किसके शिष्य थे-

अ-याज्ञवल्क्य ब-जमदाग्नि स-परशुराम द-अगस्त्य

21-वाल्मीकि रामायण की रचना किस छंद में है-

अ-दोहा ब-चौपाई स-अनुष्टुप द-रोंला

22- वाल्मीकि रामायण किस शब्द से प्रारम्भ की गई है -

अ-श्रुत्वा ब-ऊँ तपः स-समः द-ततः

23- रामायण किस युग से संबंधित हमारा श्रेष्ठ धर्म ग्रन्थ है-

अ-कलियुग ब-सत्य/सत्युग स-द्वापरयुग द-त्रेतायुग

24- वाल्मीकिजी का बचपन में क्या नाम था -

अ-रत्नदीप ब-रत्नाकर स-रत्नासेन द-रत्ननिधि

25- इनमें से कौन महर्षि अपने पूर्वाद्ध जीवन में डाकू थे -

अ-भरद्वाज ब-नारद स-वाल्मीकि द-परशुराम

26- वाल्मीकि रामायण में इस नाम का काण्ड नहीं है-

अ-बालकाण्ड ब-सुन्दरकाण्ड स-अयोध्याकाण्ड द-लंकाकाण्ड

27- रामायण में सबसे बड़ा काण्ड इनमें से कौन सा है-

अ-किष्किन्घाकाण्ड ब-युद्धकाण्ड स-उत्तरकाण्ड द-सुन्दरकाण्ड

28- रामायण में इनमे से कौन सा काण्ड सबसे छोटा है-

अ-बालकाण्ड ब-अयोध्याकाण्ड स-सुन्दरकाण्ड द-अरण्यकाण्ड

29- रामायण आदिकाव्य का इसमें से एक ओर नाम है -

अ-मेघनाथवघ ब-पौलस्त्यवघ अथवा दशानन वघ स-रावणवघ द-लंकेशवघ

30- योग का आश्रय लेकर किस महर्षि ने रामायण में पूर्वकाल में जो-जो घटनाएं घटित हुई थी उन सब को वहॉ हाथ पर रखे ऑवले की तरह पूर्व प्रत्यक्ष दर्शन कर लिया था 7

अ-विश्वामित्र ब-वसिाष्ठ स-वाल्मीकि द-परशुराम

31- विजयादशमी या दशहरे के त्योहार को किस मास किस तिथि एवं पक्ष में मनाया जाता है

अ- चैत्र रामनवमी शुक्लपक्ष ब- चैत्रशुक्ल दशमी

स- आश्विनी शुक्ल पक्ष दशमी द- अश्वि कृष्ण पक्ष दशमी

उपरोक्त प्रश्नों के उत्तर -

1-स-सहस्त्रार्जुन, 2-स बालि, द-जाम्बवान् 4- स प्रधसा 5-ब शंबुक 6- स विराध, 7 ब-त्रिजटा, 8-द ब्रह्यसर(मानस) से निकलने के कारण,9 द-उन्हे यातु विद्या(जादू)का ज्ञान होने के कारण 10-स सुपार्श्व,11-स मेघनाद,12 द विश्वामित्र,13-स सुरसा,14-स वाल्मीकि,15 स तुलसीदासजी, 16-द गंधर्व, 17 स अमात्य, 18 अ हनुमान्,19 द कुशध्वज 20 द-अगस्त्य 21 स अनुष्टुक 22 ब ऊँ तपः 23 द त्रेतायुग, 24 ब रत्नाकर,25 स वाल्मीकि 26 द लकाकाण्ड,27 ब युद्धकाण्ड, 28 द अरण्यकाण्ड, 29 ब पौलस्त्यवध अथवा दशानन वध 30 स वाल्मीकि, 31 स- आश्विनी शुक्ल पक्ष दशमी

----


श्रीरघुनाथ कथा प्रश्नोत्तरी -2

गोस्वामी तुलसीदासजी ने कहा है कि, '' राम कथा के मिति नाही '' श्रीराम कथा की कोई सीमा नहीं है। इस तथ्य को दृष्टिगत रखते हुए श्री रधुनाथकथा बहुविकल्पी प्रश्नोत्तरी द्वारा दी जा रही है।

विश्व के किसी भी क्षेत्र या देश में रहने वाले हिन्दू रामायण-श्रीरामचरितमानस के प्रति अपनी अगाध श्रद्धा-भक्ति एवं भावनात्मक लगाव रखते है। इन दोनो पवित्र ग्रन्थों में वर्णित कथाओं की चर्चा यत्र-तत्र-सर्वत्र बड़ी ही आस्था तथा श्रद्धा से की जाती है । इन कथाओं के श्रवण से हमारा मन कभी भी पूरा भरा नहीं जाता है तथा इन्हें बार-बार सुनना सुनाना आनन्ददायक लगता है। समय के अभाव के कारण श्रीरघुनाथजी कथा के ग्रन्थों को पूरा-पूरा पढ़ नहीं पाते है।

अतः पाठकों, वक्ताओं,शिक्षकों, छात्र-छात्राओं एवं शोधार्थियों के लिये अल्प समय में ज्ञान प्राप्ति हेतु बहुविकल्प प्रश्नों के माध्यम से प्रश्नावाली एवं उनके उत्तर दिये गये है। ये प्रश्न प्रमुख रूप से वाल्मिकी रामायण, श्रीरामचरितमानस, पद्मपुराण अध्यात्य रामायण, अदभुत रामायण, आनन्द रामायण आदि ग्रन्थों से लिये गये है।

बहुविकल्प प्रश्नों में से सही उत्तर चुनकर अपने ज्ञान का मूल्यांकन करें।

1- शूर्पणखा के पति का क्या नाम था -

अ-मय ब-विद्युतलज्जिहृ स-खर द-दूषण

2- ताड़का (राक्षसी) के पिता कौंन थे-

अ-मारीच ब-रावण स-सुकेतु द-विराध

3- मेघनाथ की पत्नी सुलोचना के पिता कौन थे-

अ-तक्षक (नाग) ब-अश्वसेन(नाग) स-वासुकि(नाग) द-आर्यक(नाग)

4- राजा जनक के पुरोहित किसके पुत्र थे-

अ-गौतम ब-भरद्वाज स-वाल्मीकि द-जाबालि

5- ब्रह्यर्षि विश्वामित्र के पिता का क्या नाम था-

अ-अत्रि ब-मारीच स-कश्यप द-गाधि

6- खर और दूषण का पिता कौन था -

अ-सूकेतु ब-महिरावण स-अहिरावण द-विश्रवा

7- सरमा इनमे से किसकी पत्नी थी-

अ-सुग्रीव ब-बालि स-विभीषण द-कुम्भकरण

8- व्रजज्वाला इनमें से किसकी पत्नी थी-

अ-कुम्भकर्ण ब-सारण स-मारीच द-अक्षय

9- वैश्रवण इनमें से किसका नाम था-

अ-रावण ब-विश्रवा स-कुबेर द-पुलस्त्य

10- राजा सगर की इनमे से दूसरी पत्नी कौन थी -

अ-सुमति ब-सुलोचना स-सुनीति द-रेणुका

11- जाम्बवान् के पिता का नाम क्या था-

अ-केसरी ब-ब्रह्याजी स-ऋक्षराज द-ऋक्षवंत

12- मंदोदरी किसकी पुत्री थी-

अ-मारीच ब-मय स-सुमाली द-सुबाहु

13- मंदोदरी इसने से किसकी पत्नी थी -

अ-रावण ब-विश्रवा स-मधुदैत्य द-प्रहस्त

14- इन्दुमति इनमें से किसकी माता थी-

अ-जनक ब-दशरथ स-विश्वामित्र द-वसिष्ठ

15- मंदोदरी किसकी पुत्री थी-

अ-उर्वशी ब-मेनका स-हेमा द-शंकुन्तला

16- जटायु किसके पुत्र थे-

अ-प्राक्षा ब-विनिता स-दिति द-श्येनी

17- कुशनाभ के पिता कौन थे-

अ-विश्वामित्र ब-महाराज गाधि स-परशुराम द-कुशध्वज

18- राजा मांधाता के पिता कौन थे-

अ-त्रिशंकु ब-युनाश्व स-नहुष द-नाभाग

19- अत्रि इसमे से किसके पिता थे-

अ-भरद्वाज ब-व्यास स-दुर्वासा द-परशुराम

20- कैकेयी के पिता कौन थे-

अ-मकरध्वज ब-मोरध्वज स-अश्वपति द-युद्धाजीत

21- असमंज किसके पुत्र थे -

अ-अंशुमान ब-सगर स-भगीरथ द-दिलीप

22- इनमें से कुबेर का पुत्र कौन था-

अ-नलकुबर ब-इन्द्र स-वरूण द-अग्नि

23- मारीच राक्षस एवं रावण का क्या रिश्ता था-

अ-चाचा ब-मामा स-नाना स-ससुर

24- इनमें से मेघनाघ के मामा कौन थे -

अ-अधासुर ब-प्रहस्त द-दुंदभि द-अतिकाय

25- अयोध्या नरेश मंधाता किसके द्वारा मारे गये-

अ-मेघनाद ब-रावण स-मधुदैत्य द-लवणासुर

26- मेधनाथ का वध किसने किया-

अ- श्रीराम ब-हनुमान्जी स-लक्ष्मण द-सुग्रीव

27- वृत्रासुर का वध किसने किया -

अ-श्रीराम ब-इन्द्र स-शिवजी द-कार्तिकेय

28- इसमें किस ऋषि के साथ विश्वामित्र का भयंकर युद्ध हुआ था-

अ-अत्रि ब-भरद्वाज, स-परशुराम द-वसिाष्ठ

29- महर्षि वाल्मीकिजी को रामायण की रचना के लिये इनमें से किसके द्वारा प्रेरित किया गया-

अ-शिवजी ब-काकभुशुण्डी स-नारदजी द-ब्रह्याजी

30- राष्ट्रवर्द्धन इनमें से किसके मंत्री थे -

अ-राजा दशरथ ब-जनकजी स-श्रीराम द-विभीषण


उपरोक्त वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के उत्तर क्रमवार आपकी जानकारी हेतु -

1 ब-विद्युतज्जिहृ 2 स-सुकेतु 3 स-वासुकि(नाग) 4 अ-गौतम 5 द-गाधि 6 द-विश्रवा

7 स-विभीषण 8 अ-कुम्भकर्ण 9 स-कुबेर 10 अ-सुमति 11 स-ऋक्षराज 12 ब-मय

13 अ-रावण 14 ब-दशरथ 15 स-हेमा 16 द-श्येनी 17 ब-महाराज गाधि 18 ब-युनाश्व

19 स-दुर्वासा 20 स-अश्वपति 21 ब-सगर 22 अ-नलकुबर 23 ब-मामा 24 द-दुंदभि

25 ब-रावण 26 स-लक्ष्मण 27 ब-इन्द्र 28 द-वसिाष्ठ 29 स-नारदजी

30 अ-राजा दशरथ

--

- डॉ.नरेन्द्रकुमार मेहता

मानस शिरोमणि एवं विद्यावाचस्पति

Sr. MIG-103 व्यास नगर, ऋषिनगर विस्तार

उज्जैन (म.प्र.)पिनकोड- 456010

Email: drnarendrakmehta@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------