गुरुवार, 16 नवंबर 2017

14 नवंबर बाल दिवस विशेष : बच्चों की सोच (लघु बाल कथा) // सुशील शर्मा

image

जंगल के स्कूल में शेर सिंह प्राचार्य थे। जंगल के सभी बच्चे उनके स्कूल में पढ़ते थे।

हाथी चंद हिंदी के शिक्षक थे, लोमड़ प्रसाद सामाजिक विज्ञान पढ़ाते थे, भालू प्रसाद संस्कृत के शिक्षक थे, धनवंती घोड़ी विज्ञान की शिक्षिका थी।

आज शिक्षक दिवस पर सभी बच्चों ने धनवंती मैडम से कहा कि आप प्राचार्य महोदय से बाल मेला लगाने की अनुमति दिलवाओ। हम सभी अपनी अपनी दुकानें लगाना चाहते हैं। धनवंती मैडम ने कहा तुम चिन्ता मत करो लगा लो मैं प्राचार्य महोदय से बात करूंगी।

स्कूल के समय से पहले ही सभी बच्चों ने अपनी अपनी चाट, खोमचे, और अन्य सामग्री की दुकानें लगा लीं।

स्कूल के लगने की घंटी बजी तो सभी लोग प्रार्थना स्थल पर आए। प्राचार्य शेर सिंह भी प्रार्थना स्थल पर पहुंचे बाजू में बच्चे छोटी छोटी दुकानें लगाए हुए थे।

"ये दुकानें किस ने लगाई किस ने अनुमति दी" शेर सिंह चिल्लाएं।

"जी मैंने दी है "डरते हुए धनवंती मैडम बोलीं।

"मैडम ये बच्चों के पढ़ने का समय है या मौज मस्ती का" शेरसिंह ने मैडम से प्रश्न किया।

"आप प्रेयर के बाद मेरे कक्ष में आइए" शेर सिंह ने आदेशात्मक स्वर में कहा।

सभाकक्ष में सन्नाटा था प्रेयर के बाद प्राचार्य महोदय शेरसिंह के कक्ष में धनवंती मैडम की पेशी हुई।

"इस विद्यालय की प्राचार्य आप हैं या मैं" शेरसिंह ने गुर्राते हुए कहा।

"जी आप" धनवंती मैडम ने कहा।

"फिर मेरी अनुमति के बगैर आपने इन्हें कैसे दुकान लगाने को कहा" शेरसिंह ने बात की तह तक जाते हुए कहा।

"सर कल बच्चे मेरे पास आये थे आपसे अनुमति के लिए कहा था किंतु आप मीटिंग में थे उन्होंने जो वजह बताई उस कारण में इनकार नहीं कर सकी" धनवंती मैडम ने सफाई देते हुए कहा।

"हम भी तो सुनें ऐसी क्या महत्वपूर्ण वजह है?"शेर सिंह ने प्रश्न वाचक दृष्टि से धनवंती मैडम को देखा।

"सर हमारे विद्यालय में कक्षा नवमी का एक छात्र है गोलू बंदर एक दुर्घटना में उसके माता पिता दोनों शांत हो गए और अब वह अनाथ है कुछ दिनों से बीमार चल रहा है ये बच्चे आज की कमाई से उसकी सहायता करना चाहते है इस कारण से मैंने आप से बगैर पूछे अनुमति दे दी। इसके लिए क्षमा प्रार्थी हूं। मैं अभी इन सब दुकानों को बंद करवाती हूं।" धनवंती मैडम ने कक्ष से बाहर जाने को उद्यत हुईं।

"रुकिए मैडम" प्राचार्य शेर सिंह की आवाज़ गूंजी।

"आप सभी बच्चों और स्टाफ को इकट्ठा करें और भी बच्चों से दुकान लगवाए ,हम सभी उन बच्चों की सहायता करेंगे और बालदिवस के अवसर पर उस गरीब बच्चे की जितनी अधिक मदद हो सके हम करेंगे" शेर सिंह ने धनवंती मैडम की ओर प्रशंसा भरी दृष्टि से देखा।

उस दिन सबने पहली बार देखा कि प्राचार्य शेरसिंह हर बच्चे की दुकान पर जाकर कुछ न कुछ खरीद रहे हैं।

शाम को सभी बच्चों ने जितना भी समान बेचा था वो सारे पैसे उन्होंने प्राचार्य महोदय की टेबिल पर जमा कर दिए।

शेरसिंह अपने विद्यालय के बच्चों की सोच से अभिभूत थे।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------