गुरुवार, 23 नवंबर 2017

कस्तूरी की तलाश - हिन्दी काव्य साहित्य को एक अनुपम उपहार डा. सुरेन्द्र वर्मा

clip_image002

समीक्षित पुस्तक – “कस्तूरी की तलाश” (श्रृंखलित पद्य) सम्पादक, प्रदीप कुमार डास ‘दीपक’ अयन प्रकाशन, नई दिल्ली, २०१७, पृष्ठ १४८

हिन्दी काव्य साहित्य को एक अनुपम उपहार

डा. सुरेन्द्र वर्मा

नए रास्तों की तलाश करने वाले श्री प्रदीप कुमार डास ‘दीपक’ हाइकु विधाओं की खोज में रेंगा काव्य से टकरा गए और जापान से उसे भारत हिन्दी साहित्य में ले आए। हिन्दी में उन्होंने अपने वात्सेप ग्रुप के हाइकु कवियों से श्रृंखलाबद्ध रूप से ये कवितायेँ लिखवाईं और उन्हें संपादित कर हिन्दी काव्य को परोस दिया। नाम दिया “कस्तूरी की तलाश’। हिन्दी काव्य को उनका यह प्रयत्न एक अनुपम उपहार है।

दीपक जी ने पुस्तक के अपने ‘पुरोवाक्’...में जापान की काव्य विधा, ‘रेंगा’ का एक सुबोध परिचय कराया है। उसके विस्तार में जाने की ज़रूरत नहीं है। संक्षेप में बताते चलें कि रेंगा एक समवेत श्रृंखला बद्ध काव्य है। यह दो या दो से अधिक सहयोगी कवियों द्वारा रचित एक कविता है। रेंगा कविता में जिस प्रकार दो या दो से अधिक सहयोगी कवि होते हैं उसी तरह् उसमें दो या दो से अधिक छंद भी होते हैः। प्रत्येक छंद का स्वरूप एक ‘वाका’ (या तांका) कविता की तरह होता है। रेंगा इस प्रकार कई (कम से कम दो) कवियों द्वारा रचित वाका कविताओं के ढीले-ढाले समायोजन से बनी एक श्रृंखला-बद्ध कविता है।

रेंगा कविता की आतंरिक मन:स्थिति और विषयगत भूमिका कविता का प्रथम छंद (वह तांका जिससे कविता आरम्भ हुई है) तय करता है। हर ताँके के दो खंड होते हैं। पहला खंड ५-७-५ वर्ण-क्रम में लिखा एक ‘होक्कु’ होता है। (यही होक्कु अब स्वतन्त्र होकर ‘हाइकु’ कहलाने लगा है|) वस्तुत: यह होक्कु ही रेंगा की मन:स्थिति और विषयगत भूमिका तैयार करता है। कोई एक कवि एक होक्कु लिखता है। उस होक्कु को आधार बनाकर कोई दूसरा कवि ताँका पूरा करने के लिए ७-७ वर्ण की उसमें दो पंक्तियाँ जोड़ता है। उन दो पंक्तियों को आधार बनाकर कोई अन्य दो कवि रेंगा का दूसरा छंद (तांका) तैयार करते हैं। कविता के अंत तक यह क्रम चलता रहता है। रेंगा को समाप्त करने के लिए प्राय: अंत में ७-७ वर्ण क्रम की दो अतिरिक्त पंक्तियाँ और जोड़ दी जाती हैं। रेंगा इस प्रकार एक से अधिक कवियों द्वारा रचित एक से अधिक तांकाओं की समवेत कविता है।

‘कस्तूरी की तलाश’ रेंगा कविताओं का हिन्दी में पहला संकलन है। दीपक जी ने इसे बड़े परिश्रम और सूझ-बूझ कर संपादित किया है। एक पूरी कविता संपादित करने के लिए वह जिन सहयोगी कवियों को एक के बाद एक प्रत्येक चरण के लिए प्रेरित कर सके, वह अद्भुत है। कवियों को पता ही नहीं चला कि वे रेंगा कविताओं के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने इस रचनात्मक कार्य के लिए स्वयं को मिलाकर ६५ कवियों को जोड़ा। उनके एक सहयोगी कवि का कथन है कि “एकला चलो” सिद्धांत के साथ गुपचुप अपने लक्ष्य को प्रदीप जी ने जिस खूबसूरती से अंजाम दिया, काबिले तारीफ़ है। सच, ‘समवेत’ कविताओं को आकार देने के लिए वे ‘अकेले’ ही चले और सफल हुए। कस्तूरी की तलाश में उनकी लगन, श्रम, और प्रतिभा वन्दनीय है।

जैसा कि बताया जा चुका है किसी भी रेंगा कविता का आरंभ एक होक्कु से होता है। संकलन में संपादित सभी रेंगा कविताओं के ‘होक्कु’ स्वयं प्रदीप जी के हैं। कविता के शेष चरण अन्यान्य कविगण जोड़ते चले गई हैं। कुछ अपवादों को छोड़कर अधिकतर रेंगा कवितायेँ ६ तांकाओं से जुड़कर बनी हैं।

अंत में मैं इन रेंगा कविताओं में से कुछ चुनिन्दा पंक्तियाँ मैं आपके आस्वादन हेतु प्रस्तुत कर रहा हूँ –

जीवनरेखा / रेत रेत हो गई / नदी की व्यथा // नारी सम थी कथा / सदियों की अव्यवस्था (रेंगा,१)

नाजों में पली / अधखिली कली / खुशी से चली // खिलने से पहले / गुलदान में सजी (रेंगा ११)

बरसा पानी / नाचे मन मयूर / मस्ती में चूर // प्यासी धरा अघाई / छाया नव उल्लास (रेंगा २१)

गृह पालिका / स्नेह मयी जननी / कष्ट विमोचनी // जीवन की सुरभि / शांत व् तेजस्वनी (रेंगा ३०)

रंग बिरंगे / जीवन के सपने / आशा दौडाते // स्वप्न छलते रहे / सदा ही अनकहे (रेन्गा ४०)

हरित धरा / रंगीन पेड़ पौधे / मन मोहते // मानिए उपकार / उपहार संसार (रेंगा ५१)

पानी की बूंद / स्वाति नक्षत्र योग / बनते मोती // सीपी गर्भ में मोती / सिन्धु मन हर्षित (रेंगा ६१)

पीत वसन / वृक्ष हो गए ठूँठ / हवा बैरन // जीवन की तलाश / पुन: होगा विकास (रेन्गा ७१)

देहरी दीप / रोशन कर देता / घर बाहर // दीया लिखे कहानी / कलम रूपी बाती (रेंगा ८१)

गाता सावन / हो रही बरसात / झूलों की याद // महकती मेंहदी / नैन बसा मायका (रेंगा ९०)

पौधे उगते / ऊंचाइयों का अब / स्वप्न देखते // इतिहास रचते / पौधे आकाश छूते (रेंगा ९८)

(उपर्युक्त पंक्तियाँ जिन सहयोगी कवियों ने रची हैं उनके नाम हैः – प्रदीप कुमार डाश, चंचला इंचुलकर, डा. अखिलेश शर्मा, रमा प्रवीर वर्मा, नीतू उमरे, गंगा पाण्डेय, किरण मिश्रा, रामेश्वर बंग, देवेन्द्र नारायण दास, मधु सिन्धी और सुधा राठौर )

मुझे पूरा विश्वास है, कि हिन्दी काव्य जगत दीपक जी के इस प्रयत्न की भूरि भूरि प्रशंसा करेगा और उसे रेंगा-पथ पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगा।

--

--डा. सुरेन्द्र वर्मा

१०, एच आई जी / १, सर्कुलर रोड

इलाहाबाद -२११००१

1 blogger-facebook:

  1. बहुत ही बढ़ियाव संशोधनपूर्ण लेख, यह अभ्यासपूर्ण एवं अन्य भाषाओं के काव्य प्रेमियों के लिए भी प्रेरक। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------