गुरुवार, 30 नवंबर 2017

*"लेखन क्षमता" विकास हेतु साहित्यिक आयोजन*

20171129_152408

     नारायणी साहित्य अकादमी एवं  फाफाडीह  स्थित विवेक कान्वेंट हायर सेकेंडरी स्कूल के संयुक्त तत्वावधान में स्कूल के सभागार  में  दिनांक 29 नवम्बर को  छात्रों के भीतर *साहित्यिक     लेखन की आदत* विकसित करने के उद्देश्य से  एक साहित्यिक आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में शाला के छात्रों ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया।

      कार्यक्रम में  शाला की छात्रा कुमारी सिमरन कौर ने "माँ" पर कविता सुनाते हुए कहा "कितने ख़ुशनसीब है हम पास हमारे है माँ, होते बदनसीब वे कितने जिनके पास न होती मां" ।कुमारी ओज शर्मा ने "मिल जाये मेरा देश मुझे, नदियों की कल -कल धारा में,  हर एक खेत खलिहानों में" के द्वारा देश प्रेम की बात कही। सादिया खान ने प्रकृति पर अपनी रचना का पाठ करते हुए प्रकृति संरक्षण का संदेश दिया। निधि सिंह ने "प्यारी जिंदगी" पर अपना मार्मिक एवं प्रेरणादायक निबंध पढ़ते हुए कहा कि" बार बार करवट बदलती जिंदगी हमें अंदर से हिम्मती और धैर्यशील बनाती है"। कुमारी अल्वीरा बानो ने   "पिता मुझे कभी रोने नहीं देते, बेटा कहकर बुलाते हैं" जैसी रचना प्रस्तुत की। कुमारी सिमरन ने सुनाया "जीने दो मुझे, जीता हूँ तेरे लिए" कहते हुए वृक्ष पर अपनी रचना प्रस्तुत की। अल्फीया ने कहा- "मेरे माता-पिता है अल्लाह का सबसे बड़ा तोहफा मेरे लिए"। "मुस्कुराहट" पर अपनी बात कहते हुए कुमारी दिशा अग्रवाल ने कहा "मुस्कुराहट दुनिया की सबसे अनमोल चीज है।"

       अकादमी की प्रांतीय अध्यक्ष श्रीमती मृणालिका ओझा ने कहा कि  छात्रों  में साहित्यिक अभिरुचि को बढ़ाना एवं उनमें लेखन की क्षमता को विकसित करना ही इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है। एक कथा सुनाते हुए उन्होंने छात्रों को  साहित्यिक  लेखन के लिए प्रेरित किया। श्री  राजेश जैन "राही" ने प्रेरित वक्तव्य देते हुए "खा कर थप्पड़ गाल पर, होना नहीं अधीर, तुमको पिता बना रहे, धीर, वीर, गंभीर" दोहा सुना कर पिता के प्रति सम्मान व्यक्त किया । श्रीमती जयश्री शर्मा ने भी "नहीं मुझे किसी खत का इंतजार" में   पिता का बच्चों के प्रति समर्पण बताया। श्री  के. पी. सक्सेना ने शिक्षा से वंचित बच्चों पर इन शब्दों में अपनी बात कही - "पालीथीन बिनता बच्चा, अगर ठिठक कर देख रहा हो स्कूलों को जाता रेला, मुझको विद्यालय के घंटे बजते रास नहीं आते"। श्री लक्ष्मी नारायण लाहोटी ने देश प्रेम पर अपनी बात रखते हुए कहा कि " आओ हम सब मिलकर, सुन्दर भारत का निर्माण करें, ईश्वर के आदर्शों को अपनाकर, धरती स्वर्ग समान करें।" शाला के प्राचार्य श्री अशोक दुबे ने "हमें चलते रहना है, कभी रुकना- झुकना नहीं है, मंजिल जरूर मिलेगी" जैसे शब्दों से बच्चों को प्रेरणा दी एवं इस कार्यक्रम को छात्रों के लिए उपयोगी भी बताया।

      कार्यक्रम का संचालन  शाला की शिक्षिका श्रीमती वंदना शर्मा एवं धन्यवाद ज्ञापन  श्री राजेंद्र ओझा द्वारा किया गया।

राजेंद्र ओझा

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------