गुरुवार, 30 नवंबर 2017

राहुल प्रसाद की ग़ज़लें


snip_20171118140725


1

उदासी का सबब न पूछो यारों बहाने बहुत हैं

रहने की चिंता नहीं मुझे कहीं भी ठिकाने बहुत हैं


उसके सुर में है एक अजीब सी झंकार

लगता है उसके पास तराने बहुत है


रोज दिखाता है मुझे वो तरह तरह के सपने

लगता है उसके पास नजराने बहुत हैं


बचा के रखना खुद के प्यार को इस भीड़ में

क्योंकि यहाँ प्रेम के दीवाने बहुत हैं


घर से निकलो तो अपनों को याद करना

यहाँ रस्ते रस्ते पर मयखाने बहुत हैं


तुम रहोगे साथ तो लड़ लूँगा मै सबसे

मैं समझूंगा मेरे पास दुनिया के खजाने बहुत हैं


2

मेरी ही भूल थी वो भी जो दिल तुझसे लगा बैठे

ज़माने में खुद ही को हम बेपर्दा करा बैठे


किये कितने थे मैंने भी जतन तुझको जो पाने के

तुम्हारे साथ रहने के सपने हम सजा बैठे


खता तुमने भी की थी तब इशारा न किया होता

हुई थी भूल हमसे भी नजरें जो मिला बैठे


नींदे भी गयी मेरी गया जब चैन भी सारा

तुम्हें पाने की हसरत में सब कुछ ही लुटा बैठे


मेरे हर ध्यान में पूजा में तुम्हारा नाम होता है

नमाजी बन गया मैं भी खुदा तुमको बना बैठे


उछाला इश्क का मुद्दा भरी महफ़िल में क्यों तुमने

बहुत थी भीड़ लेकिन तुम हमें तन्हा करा बैठे


लिखे थे गीत हमने भी तुम्हें पाने के खातिर जब

मिले जब तुम नहीं हमको खुद ही को हम सुना बैठे


3

भूख से बेहाल होकर मरने लगे हैं लोग

बेचकर खुद को बसर करने लगे हैं लोग


इस शहर में गोलियां अब इस कदर चलने लगी हैं

घर से कैसे निकलेंगे डरने लगे हैं लोग


माहौल डर का इस कदर है खौफ भी हावी हुआ

खुद की छाया देख कर भी ठहरने लगे हैं लोग


आँख खोली थी अभी ही जिन परिंदों ने यहाँ

परों को उनके भी यहाँ कतरने लगें हैं लोग


अब मुझे लगने लगा है शान कुछ मेरी बढ़ी है

बात मेरी पीठ पीछे करने लगे हैं लोग


4

घर की बातों को लोगों ने अखबार बना कर रखा है

बूढ़े माता-पिता को भी लाचार बना कर रखा है


स्कूलों में शोर शराबा है ज्ञान सजा है दीवारों पर

सच कहता हूँ स्कूलों का बाजार बना कर रखा है


किसको कितना मिला है पैसा कौन बिका है कितने में

राजनीति को नेताओं ने व्यापार बना कर रखा है


भाई -भाई अलग अलग हैं माँ-बाप भी रहते जुदा जुदा

कुछ बच्चों ने रिश्तों में दीवार बना कर रखा है


उनसे हाथ मिलते देखे जो दुष्कर्मों में लिप्त रहे

यहाँ स्वार्थ ने बदमाशों को इज्जतदार बना कर रखा है


कागज कलामों से दूर रखा है बंदूकें चाक़ू पकड़ा दी

फूल सरीखे बच्चों को अंगार बना कर रखा है


बातों बातों से लोगों ने खूब यहाँ पर जख्म दिए हैं

जबान को अपनी लोगों ने हथियार बना कर रखा है


--

clip_image002

राहुल प्रसाद

शोधार्थी एम. फिल. हिंदी

गुजरात केंद्रीय विश्वविद्यालय गांधीनगर सेक्टर 29

पिन – 382030


ईमेल – rahul.best9222@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------