देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–10 : 19 जूडास की कहानी // सुषमा गुप्ता

-----------

-----------

19 जूडास की कहानी[1]

यह तो तुम सब जानते ही हो कि जूडास वह आदमी था जिसने जीसस को धोखा दिया था। सो जब जूडास ने जीसस को धोखा दे दिया तो जीसस ने उससे कहा — “तुम अपने किये का पश्चाताप कर लो तो मैं तुमको माफ कर दूँगा।”

पर जूडास? नहीं कभी नहीं। वह कभी पश्चाताप नहीं करेगा। वह स्वर्ग और धरती दोनों को नाउम्मीद हो कर कोसता हुआ अपना पैसा ले कर वहाँ से चला गया।

फिर उसने क्या किया?

जब वह इस तरीके से नाउम्मीद हो कर जा रहा था तो वह एक बड़े से इमली के पेड़ के सामने से गुजरा। उन दिनों इमली के पेड़ बहुत बड़े और छायादार हुआ करते थे। उसको देख कर और अपनी धोखेबाजी को याद करते हुए उसके दिमाग में एक खयाल आया।

उसने रस्सी का एक फन्दा बनाया और अपने आपको उस इमली के पेड़ से लटका लिया। और क्योंकि धोखा देने वाले जूडास को लौर्ड ने शाप दे दिया था इसलिये वह इमली का पेड़ सूख गया।

और उस दिन के बाद से वह पेड़ जैसा बड़ा होना रुक गया और छोटा और टेढ़ा मेढ़ा और उलझी हुई झाड़ी जैसा हो गया।[2]

इसकी लकड़ी भी किसी काम में नहीं ली जा सकती। न तो यह जलाने के काम आती है न इससे कोई चीज़ ही बन सकती है और यह सब इसलिये हुआ क्योंकि जूडास जो एक शापित आदमी था इस पेड़ से लटक गया था।

कुछ का कहना है कि जूडास नरक में भी सबसे नीची जगह पर गया है और वहाँ पर भी सबसे ज़्यादा दुख सह रहा है पर मैंने कुछ और लोगों से सुना है कि जूडास को इससे भी ज़्यादा कड़ी सजा मिली है।

उनका कहना है कि वह हवा में है और सारी दुनियाँ में घूम रहा है। और वह जहाँ है वहाँ से न तो वह ऊपर उठ सकता है और न ही नीचे जा सकता है।

और जिस किसी दिन वह जिस भी इमली की झाड़ी को देखता है वह उस पर अपना शरीर लटका हुआ देखता है जिसे कुत्ते फाड़ रहे होते हैं और जिसे चिड़ियें खा रही होती हैं।

उनका यह भी कहना है कि वह जो दर्द सह रहा है उसे बताया नहीं जा सकता। जीसस क्राइस्ट ने उसको इतना बड़ा धोखा देने का ऐसा ही शाप दिया था।


[1] Story of Judas (Story No 56) – a folktale from Italy.

Adapted from the book: “Italian Popular Tales”. By Thomas Frederick Crane. London, 1885.

Available free on the Web Site :

https://books.google.ca/books?id=RALaAAAAMAAJ&pg=PR1&redir_esc=y#v=onepage&q&f=false

[2] Maybe this happens in Italy. In India, even today, a tamarind tree is a very large tree.

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–10 : 19 जूडास की कहानी // सुषमा गुप्ता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.