370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथाएँ : केसरी प्रसाद पांडेय ‘वृहद’ // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

clip_image002

केसरी प्रसाद पांडेय ‘वृहद’

संपर्कः 527/25 ए, अर्जण नगर, न्यू जगदंबा कॉलोनी, जबलपुर (म.प्र.), पिन- 482002,

केसरी प्रसाद पांडेय ‘वृहद’

चौकीदार

अब वह संयुक्त परिवार नहीं रह गया था. एक दिन था जब यह गांव का परिवार बखरी में रहता था. दो-दो आंगन, लंबी-चौड़ी बखरी थी फिर भी रहने के लिए कम पड़ जाती थी. अब शहर में स्थानांतरित हो गया था यह परिवार और गांव की बखरी में रह गए थे बूढ़े बरगद के समान बूढ़े बाबा.

बस किसी शादी-ब्याह में ही सब के सब इकट्ठे होते और जहां-तहां से बखरी में चले आते. शादी-ब्याह संपन्न होने के बाद जो जहां से आता वहीं चला जाता. एक बूढ़े-बाबा भर रह जाते और अनुमान लगाते कि अब-कब किसकी शादी होगी और मेरे परिवार के लोग कब यहां आएंगे इकट्ठा होकर.

आज तक किसी ने उन बूढ़े बाबा से शहर चलने के लिए नहीं कहा और उन्होंने भी किसी से शहर चलने की चिरौरी नहीं की. आज भी एक शादी संपन्न हुई थी और शहरी एक-एक कर धीरे-धीरे बखरी से रवाना होते जा रहे थे. अंत में एक युवा आया और दादा के चरण छूकर बोला- ‘दादा श्री अब मैं भी चलता हूं. आपका पोता हूं अमेरिका में नौकरी करता हूं. मेरी शादी में आपको अमेरिका ले चलूंगा दादाजी.’

वृद्ध की मुंदी आखों में एकाएक चमक सी पैदा हो गई. उन्हें लगा कि वह भी एक जिम्मेवार आदमी है और उनका भी एक वजूद है. अभी तक तो वह स्वयं को बखरी का एक चौकीदार ही समझ रहे थे.

लघुकथा 6036925297217093617

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव