370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथाएँ : आनंद कुमार तिवारी // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

clip_image002

आनंद कुमार तिवारी

जन्म : 22 नवंबर 1947

प्रकाशन : कहानी संग्रह- मेरा कसूर क्या है, लघुकथा संग्रह (प्रकाशनाधीन)

सम्मान : साहित्यिक संस्था कादम्बरी द्वारा स्व. नर्मदा प्रसाद खरे सम्मान कहानी संग्रह के लिए.

संपर्कः तुलसीधाम, 36, चंचल कॉलोनी, लक्ष्मीनगर के पास पिपलानी, भोपाल (म.प्र.),

आनंद कुमार तिवारी

अनुत्तरित प्रश्न

उनकी बर्तन साफ करने वाली बाई, अपने दो बच्चों को साथ में लेकर काम पर आती थी. उन्हें बच्चों से परेशानी तो थी, किंतु अच्छी बाइयां नहीं मिलती हैं, इसलिए बच्चों को सहन करना उनकी विवशता थी. बच्चे शैतानी न करें और शांत रहें, इसलिये वे टी.वी. चालू कर कार्टून चैनल लगा देतीं. दोनों बच्चें कार्टून देखने में उलझे रहते और वे स्वयं बाई के आसपास मंडराती हुई उसे देश-विदेश के समाचार सुनाती हुई उसके काम की निगरानी करती रहतीं.

वे हमेशा बाई से बच्चों को पढ़ने के लिये स्कूल भेजने को कहतीं और बाई हंस कर टाल देती. एक दिन बिजली नहीं होने के कारण टी.वी. चालू नहीं हुआ, इसलिए बच्चे शैतानी करने लगे. कुछ देर तक उन्होंने बर्दाश्त किया. परन्तु बच्चे शैतानी करते ही जा रहे थे.

अतः वे नाराज होकर बाई से बोलीं- ‘तुम अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजकर उनका भविष्य बिगाड़ रही हो. वे दिन पर दिन शैतान होते जा रहे हैं. बड़े होकर तो उनका आचरण और खराब हो जायेगा.’

उनकी सीख सुनकर बाई बोली- ‘क्यों भेजूं मैं बच्चों को स्कूल...? आप ही तो बताती रहती हो कि एक स्कूल में टीचर ने एक बच्चे को चालीस चांटे मारे. एक बच्ची यूनीफार्म पहनकर नहीं आई तो उसे लड़कों के टायलेट में खड़ा कर दिया. एक स्कूल में छोटी बच्ची के साथ बलात्कार हुआ. कुछ देर पहले आप बता रही थीं कि एक स्कूल में एक टीचर ने एक बच्चे को दस चांटे मारे और आठ बार स्केल से पीटा. फिर भी मन नहीं भरा तो चार बार लातें भी मारीं. अब आप ही बताओ कि जब स्कूल भेजने से बच्चों का जीवन सुरक्षित नहीं है तो उन्हें पढ़ाने-लिखाने से क्या फायदा? इससे अच्छा तो उनका बिना पढ़े-लिखे होना ही ठीक है.’

बाई की बातें सुनकर उन्हें कोई उत्तर नहीं सूझा.

लघुकथा 3536286873976397149

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव