370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथाएँ : नरेन्द्र श्रीवास्तव // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

clip_image002

नरेन्द्र श्रीवास्तव

जन्म : 1 जुलाई 1955

उपलब्धियां : एक दर्जन से अधिक पुस्तकें प्रकाशित. अनेक पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित, आकाशवाणी, टी.वी. से रचनाएं एवं साक्षात्कार प्रसारित. प्रतिष्ठित सम्मानों से विभूषित.

संपर्कः पलोटन गंज, गाडरवारा, जिला- नरसिंहपुर (म.प्र.)

पिन- 487551,

नरेन्द्र श्रीवास्तव

प्रायश्चित

एक टपरेनुमा चाय की दुकान के एक कोने में एक कुत्ता लेटा हुआ था. तभी एक ग्राहक ने वहीं पास की एक टेबिल पर अपना बैग रखते हुए एक कप चाय का ऑर्डर दिया. अचानक उसकी नजर उस कुत्ते पर गई. उसे जाने क्या सूझा वह उठा और पत्थर उटाकर उसने उस लेटे हुए कुत्ते पर मारा. कुत्ता नींद में था. अचानक हुए हमले से घबरा गया. पत्थर उसके पैर में लगा. वह तिलमिला गया और चीखकर लंगड़ाते हुये वहां से दूर जाकर लेट गया.

ग्राहक ने चाय पी और बिल चुकाने दुकानदार के पास गया. वह रुपये दे ही रहा था कि उसकी नजर अपने बैग पर पड़ी. एक चोर उसे उठाकर भाग रहा था. वह पकड़ो-पकड़ो कहकर चोर के पीछे-पीछे भागा. शोर-शराबा सुनकर उस कुत्ते की भी नींद खुल गई. वह कुत्ता भी भौंकता हुआ उस चोर के पीछे दौड़ा किंतु वह पैर में लगी चोट से लंगड़ाने की वजह से नहीं दौड़ पाया और चोर भाग गया. ग्राहक को अब समझ में आया कि बेवजह कुत्ते को पत्थर मारने का उसे कितना बड़ा दंड मिला है.

लघुकथा 5755368116276485944

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव