लघुकथाएँ : किशोर बागरे // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

किशोर बागरे

उपलब्धियां : प्रसिद्ध चित्रकार, गीतकार एवं गायक.

संपर्कः 154/102 टेलीफोन नगर, रामदेवी अपार्टमेंट,

इन्दौर, पिन- 452016

किशोर बागरे

पासपोर्ट

पिताजी ने ताउम्र धन कमाया लेकिन घर छोड़कर कभी बाहर नहीं गये. कई बार मैंने उनसे आग्रह किया कि आप विदेश घूम आयें और अमेरिका में रहनेवाली अपनी बिटिया से भी मिल आयें. हर बार उन्होंने मेरे निवेदन को ठुकरा दिया. फिर भी मैंने पासपोर्ट से सम्बंधी कागगजों पर उनके हस्ताक्षर करवा लिए और उनके पासपोर्ट की करवाई कर दी. दो-तीन माह बाद पिताजी को फॉलिज मार गया. तत्काल डॉक्टर को बुलाया गया. जैसे ही डॉक्टर ने घर में प्रवेश किया तभी पोस्टमैन ने आवाज लगाई, ‘साहब आपका पासपोर्ट लेकर आया हूं’ पिताजी ने सुन लिया. उनकी आंखें भीग गईं. आंसुओं में छुपी व्यथा जैसे कह रही थी- अब कैसा पासपोर्ट.

0 टिप्पणी "लघुकथाएँ : किशोर बागरे // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.