लघुकथाएँ : श्याम कुमार राई // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image002

श्याम कुमार राई

जन्म : 4 मई 1953

प्रकाशन : सन्मार्ग, जनसत्ता सबरंग, शुभतारिका, कथाबिंब, प्रतिनिधि लघुकथाएं, जबलपुर में रचनाएं प्रकाशित.

संपादनः ‘सलुवा नई दिशा’ मासिक.

संपर्कः कांथरा पुरानी बस्ती, डाकः सलुवा- 721145

(पं.बं),

श्याम कुमार राई

बाबा का आशीर्वाद

अपने मित्र के आग्रह को टाल न पाने की वजह से मुझे शहर में आये परम् पूजनीय कल्याणी बाबा के शिविर में जाना पड़ा. पंडाल में भक्तों की भारी भीड़ थी. भक्तगण उनसे आशीर्वाद पाने और अपना-अपना अनुभव बताने के लिए आतुर थे.

एक भक्त ने बड़े ही श्रद्धाभाव से अपना अनुभव सुनाया- ‘बाबा जी, अभी पिछले हफ्ते का अनुभव बता रहा हूं. मैंने विभागीय प्रमोशन की परीक्षा दी. कुल 50 लोगों ने परीक्षा दी थी. नतीजा जब निकला तो बाबा जी उसमें 15 लोगों ने सफलता प्राप्त की, जिसमें मैं भी एक हूं आपका भक्त. आपके आशीर्वाद से ही मुझे सफलता मिली. बाबा जी, इसी तरह कृपा बनाए रखिएगा.’

मैंने अपने मित्र के कान के करीब जाकर फुसफुसाते हुए बोला- ‘क्यों यार, बाकी के 14 लोगों के सिर पर किस बाबा का आशीर्वाद था?’

मेरा मित्र आश्चर्यचकित होकर कभी मुझे कभी बाबा की ओर देखने लगा.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "लघुकथाएँ : श्याम कुमार राई // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.