370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथाएँ : डॉ. अनुज प्रभात // प्राची - दिसंबर 2017 : लघुकथा विशेषांक

image

डॉ. अनुज प्रभात

जन्म : 1 अप्रैल, 1954

उपलब्धियां : आधे-अधूरे स्वप्न (कविता संग्रह) बूढ़ी आंखों का दर्द एवं नील पारवी (कहानी संग्रह).

प्रबंधन- सचिव रेणु स्मृति पुंज फारबिसगंज (अररिया)

संपर्कः दीन दयाल चौक, फारबिसगंज (अररिया)

पिन- 854318,

डॉ. अनुज प्रभात

तीसरी पीढ़ी

‘सुना तुमने जुगेसर की मां मर गई. फिर आयेगा मांगने. अब तक तो बीसों बार ले गया. लौटाया एक बार भी नहीं. लिखकर रखा भी है या नहीं. कितने रुपये हुए?’ वर्मा जी की धर्मपत्नी क्रोध से तमतमाते स्वर में बोली.

सच भी था जुगेसर को जब कहीं से कोई जुगाड़ नहीं होता तब वर्मा जी के पास चला आता. कभी बच्चे की बीमारी को लेकर... तो कभी पत्नी के... तो कभी अपने को खाँसता हुआ दिखाकर...

हर बार वर्मा जी उसे कुछ न कुछ देते और एक पहर तक पत्नी का क्रोध झेलते. इसलिए आज उनकी धर्मपत्नी जी को जैसे पता लगा कि जुगेसर की मां मर गई है, पहले से ही सतर्क करने लगी. फिर उसने एक हिदयत भी दे डाली- ‘उछलकर वहां मत चले जाना, तुम्हारी तो आदत है... कहीं कुछ हुआ दौड़ गए... चुपचाप घर में रहो... जब कोई आएगा तब, देखा जायेगा.’

अभी उनकी बातें खत्म भी नहीं हुई थी कि जुगेसर का बेटा मानव आ गया. बोला- ‘चाचा जी, दादी गुजर गई हैं पिताजी नहीं आयेंगे. मुझे पता है... बार-बार कर्ज लेकर उन्होंने चुकता नहीं किया. लेकिन मैं दादी की तीसरी पीढ़ी हूं. तीन पीढ़ी के ऋण का बोझ चौथी पीढ़ी पर नहीं डालूंगा. दादी ने एक बार कहा था- ‘दादा की जान आपके पिताजी ने बचाई थी.’

वर्मा जी अवाक थे, बालक सब जान रहा था. अभी वे कुछ सोच ही रहे थे कि धर्मपत्नी जी ने कुछ रुपये लाकर उस बच्चे के हाथ में दे दिया और कहा- ‘चिंता मत करो जो भी दिक्कत हो बोलना. बेटा हम तुम्हारे साथ हैं.’

वर्मा जी ने देखा उसकी आंखों में आंसू है. शायद नारी के कोमल हृदय ने तीसरी पीढ़ी को समझ लिया था.

-------------

लघुकथा 2455048990732069122

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव