देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–9 : 14 जौन बालेन्टो // सुषमा गुप्ता

-----------

-----------

clip_image002

14 जौन बालेन्टो[1]

एक बार एक बहुत छोटे से शहर में एक चमार रहता था। वह बहुत पुराने पुराने जूते ठीक करता था। उसका नाम था जौन बालैन्टो। हालाँकि वह साइज़ में बहुत छोटा था पर अक्लमन्द बहुत था।

एक दिन जब वह एक जूता सिल रहा था तो गलती से जूता सिलने वाली सुई उसकी उँगली में चुभ गयी। उसके मुँह से एक चीख सी निकल गयी “उफ़।”

उसकी यह चीख उसके पड़ोसियों ने सुन तो ली पर उस पर उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया। उन्होंने चिन्ता ही नहीं की जौन बालैन्टो को क्या हुआ।

पर जौन बालैन्टो की चीखों ने वहाँ उड़ती हुई सारी मक्खियों की उत्सुकता जगा दी। वे तुरन्त ही उड़ कर जौन बालैन्टो के पास यह देखने के लिये आ गयीं कि उसको क्या हो गया।

उन मक्खियों में से एक मक्खी जौन बालैन्टो के घाव पर बैठ गयी और उसने उसके उस घाव से निकलता सारा खून चूस लिया। दूसरी मक्खी नूडिल्स[2] का एक कटोरा ले आयी और उसके ऊपर भिनभिनाने लगी।

जौन बोला — “अरे ये मक्खियाँ यहाँ क्या कर रही हैं। भागो भागो यहाँ से।” कह कर उसने चमड़े के एक टुकड़े से उनको उड़ाने की कोशिश की पर वे तो बहुत ही जिद्दी थीं। वे वहाँ से गयी नहीं। वे उस नूडिल्स के कटोरे के ऊपर भिनभिनाती ही रहीं।

जब वे वहाँ से नहीं गयी तो जौन बालैन्टो ने हाथ का घूँसा बना कर इतनी ज़ोर से उन मक्खियों को मारा कि उसके उस घूँसे से काफी मक्खियाँ मर गयीं।

उनको मार कर उसने जब जमीन पर पड़ी मरी हुई मक्खियाँ गिनी तो वे कम से कम 1000 तो होंगी। और 500 मक्खियों के करीब मक्खियाँ तो घायल भी हो गयी थीं।

उसने सोचा तो यह था मेरा एक ज़ोरदार घूँसा। लोग सोचते हैं कि मैं किसी काम का नहीं पर अगर मैं कोशिश करूँ तो मैं भी अपने आपको दिखा सकता हूँ कि मैं क्या हूँ।

फिर उसने एक सूखी हुई डंडी उठायी उसे स्याही में भिगोया और उससे एक कपड़े की बड़ी सी पट्टी पर बड़े बड़े अक्षरों में लिखा – “जौन बालैन्टो से मिलो जिसने अभी अभी 1000 मार दिये और 500 घायल कर दिये।”

उसने इस पट्टी को अपने टोप में लगा लिया जो वह उस समय पहने हुआ था। जिसने भी यह पढ़ा वही ज़ोर से हँस पड़ा और जौन से पूछा — “जौन कितने मारे?”

जौन बोला — “मैंने 1000 मारे और 500 घायल किये।”

इससे जौन बालैन्टो तो बहुत मशहूर हो गया। उसकी शोहरत एक मुँह से दूसरे मुँह तक होती हुई शहर भर में फैल गयी और फिर दूसरे शहरों में भी फैल गयी। एक साल के अन्दर अन्दर तो जौन बालैन्टो दूर दूर तक मशहूर हो गया।

इस बीच जौन ने अपना जूता सिलने का काम छोड़ दिया – जूते सिलने का धागा, चाकू, सुई आदि आदि सब उठा कर रख दिये और दूसरे देश में अपनी किस्मत आजमाने चल दिया।

वह एक बहुत ही पतले दुबले गधे पर चढ़ा जिसकी बस खाल और हड्डियाँ ही दिखायी दे रही थीं। न उसने अपने साथ कोई सामान लिया और न ही कोई पैसा बस वह तो चल दिया।

तीन दिन की जंगल की यात्रा के बाद वह एक सराय में आया। वह दरवाजे से ही चिल्लाया — “मैं जौन बालैन्टो हूँ जिसने 1000 मार दिये और 500 घायल कर दिये।”

इत्तफाक से वह सराय उस समय डाकुओं से भरी हुई थी। इतने बड़े हीरो का नाम सुन कर तो वहाँ रह रहे डाकू डर गये और तुरन्त ही उन्होंने अपने चमकते हुए हथियार और घोड़े तो वहीं छोड़े और सराय के दरवाजे और खिड़कियों से बाहर निकल कर चारों तरफ भाग गये।

जौन को अपने गधे से उतरने में थोड़ी देर लग गयी। गधे से उतर कर वह मेज पर पहुँचा तो सराय के मालिक ने कहा — “ओ बड़े आदमी, आइये और आप यहाँ पेट भर कर खाइये। मैं तो हमेशा आपका आभारी रहूँगा कि आपका नाम सुनते ही मेरी सराय से डाकू भाग गये।”

जौन बालैन्टो प्लेट की तरफ देखते हुए और खाना खाते हुए बोला — “दूसरे लोग तो मेरा जिस जिस तरीके से फायदा उठाते हैं उसके मुकाबले में यह तो कुछ भी नहीं है।”

जब जौन पेट भर कर खाना खा चुका तो उसने उन डाकुओं के घोड़ों में से सबसे बढ़िया घोड़ा लिया, उस पर सवार हुआ और सराय के मालिक से बोला — “अगर तुम्हें कभी भी किसी भी सहायता की जरूरत हो तो बस मुझे याद करना न भूलना।

जब तक मैं ज़िन्दा हूँ तब तक कोई भी तुमसे किसी भी तरह का कोई भी बुरा बरताव नहीं करेगा और करेगा भी तो बच कर नहीं जा सकता।”

कह कर उसने अपने घोड़े को एड़ लगायी और वहाँ से चल दिया। सराय के मालिक और उसके नौकरों के सिर उसके पीछे भी झुके के झुके रह गये।

जौन पहले कभी किसी घोड़े पर नहीं बैठा था इसलिये उसको घोड़े पर बैठना नहीं आता था। सो वह तो बस उस पर लटकता हुआ चला जा रहा था और उसके हर कदम पर हवा में कूद जाता था।

उसने सोचा — “ओ मेरे प्यारे औजारों, मैंने तुमको क्या सोच कर उठा कर रख दिया था?”

फिर भी वह उस पर चलता ही रहा और बाद में उस पर चढ़ने का आदी हो गया। वह जहाँ भी गया वहीं उसका बड़ी इज़्ज़त के साथ स्वागत हुआ।

clip_image006आखिर वह एक बड़े साइज़ के आदमियों[3] के शहर में पहुँच गया। जैसे ही उन्होंने जौन को देखा तो वे बड़े साइज़ के आदमी जो चेस्टनट[4] के पेड़ जैसे मजबूत थे और चीड़ के पेड़ जैसे लम्बे थे अपने बहुत बड़े बड़े मुँह खोलते हुए और अपने होठ चाटते हुए उसकी तरफ उसको खाने के लिये दौड़.े। जौन तो उनको देख कर पत्ते की तरह से काँप उठा।

बड़े साइज़ के आदमियों का सरदार बोला — “तो तुम्हीं वह जौन बालैन्टो हो जिसने 1000 मार दिये और 500 घायल कर दिये। क्या तुम मुझसे लड़ना पसन्द करोगे? चलो नदी के उस पार चलो उधर चल कर लड़ते हैं।”

जौन बोला — “सुनो सुनो। अच्छा हो कि अगर तुम मुझे शान्ति से मेरे रास्ते जाने दो। तुम्हें मालूम है कि मैं कैसा हूँ।

जैसे मिर्च को ही ले लो। मिर्च कितनी छोटी सी होती है पर बहुत ताकतवर होती है उसी तरह से मैं हूँ। मैं अगर एक बार अपनी तलवार छू दूँ तो बस फिर तुम्हें भगवान ही बचाये।”

यह सुन कर बड़े साइज़ वाले आदमियों ने इस पर विचार किया और फिर ज़रा नरम आवाज में बोले — “ठीक है ठीक है। हम तुम्हें तुम्हारे रास्ते जाने देंगे पर पहले तुम अपनी ताकत हमें साबित करके दिखाओ।

क्या तुम वह चट्टान वहाँ देख रहे हो? हम यह चाहते हैं कि तुम उस चट्टान को लुढ़का कर यहाँ ले आओ। अगर तुमने यह कर दिया तो हम तुमको अपना राजा बना लेंगे।”

जौन बालैन्टो ने अपने दोनों हाथों का एक प्याला बना कर अपने मुँह पर रखा और चिल्ला कर बोला — “रास्ते से हट जाओ। इस घाटी में हर रहने वाला अपनी जान बचा कर भागे।

शानदार जौन बालैन्टो अब इस बड़ी चट्टान को हिलाने वाला है जिससे कि लोग मर भी सकते हैं। भागो भागो हर आदमी भागो। अपनी जान बचा कर भागो।”

यह सुन कर उस घाटी में रहने वाले सारे लोग बेचारे अपने अपने परिवारों को ले कर वहाँ से भागने लगे।

जब इतने सारे लोग वहाँ से भागे तो बड़े साइज़ के लोग भी डर गये और वे भी वहाँ से भाग लिये। तुरन्त ही वहाँ से सारे लोग भाग रहे थे। भागते भागते वे चिल्लाते भी जा रहे थे —

“जौन बालैन्टो को देखो उसने 1000 मार दिये हैं और 500 घायल कर दिये हैं।”

देखते देखते सारा गाँव खाली हो गया। जब सारे लोग वहाँ से भाग गये तो जौन ने अपने घोड़े को एड़ लगायी, नदी पार की और शान्ति से उन बड़े साइज़ के आदमियों की जगह पार करके वहाँ से चला गया।

अब चट्टान को तो वहाँ से न हिलना था और वह न हिली। पर ऐसे कामों से उसकी शोहरत बढ़ती ही गयी बढ़ती ही गयी।

कुछ दूर जाने के बाद उसको दो सेनाएं मिलीं जो आपस में लड़ने के लिये तैयार खड़ी थीं। राजा वहाँ अपने जनरलों से घिरा खड़ा था पर वह लड़ाई के लिये बिल्कुल तैयार नहीं था।

क्योंकि अगर वह हार गया तो उसको अपना राज्य और ताज छोड़ना पड़ता और मरना पड़ता और यह वह करना नहीं चाहता था। इसलिये वह बहुत डरा हुआ था।

पर जैसे ही उसने जौन बालैन्टो को देखा तो उसको कुछ उम्मीद बँधी। उसने जौन से कहा — “ओ मशहूर जौन बालैन्टो। लगता है कि तुमको भगवान ने मेरी जीत के लिये ही इस समय यहाँ भेज दिया। मेहरबानी करके तुम मेरी सेना को सँभाल लो।”

अब जौन को लगा कि अब झूठ से काम नहीं चलने का, अब सच बोलने का समय आ गया सो वह बोला — “मैजेस्टी, मैं वह आदमी नहीं हूँ जो आप समझ रहे हैं। मैं तो एक गरीब चमार हूँ। मैं तो केवल अपने जूते में इस्तेमाल करने वाली सुई और धागा ही इस्तेमाल कर सकता हूँ।”

राजा ने उसे बीच में ही टोका — “हाँ हाँ सुन लिया। पर क्या हम ये बातें बाद में कर सकते हैं। अभी हमारे पास समय कम है। तुम हमारे जनरल का पद सँभालो और मेरी इस सेना को ले कर लड़ाई के लिये चलो।

यह रहा मेरा घोड़ा। लड़ाई के लिये बिल्कुल तैयार है। और यह है मेरा जिरहबख्तर[5] और यह रही मेरी तलवार।”

जौन के काफी मना करने के बावजूद राजा ने उसको लड़ाई की पोशाक पहनायी और उसको अपने घोड़े पर बिठा दिया। उसके बैठते ही राजा का घोड़ा तो वहाँ से भाग लिया।

जनरल को दुश्मन की सेना की तरफ जाते देख कर राजा के दूसरे सिपाही भी उत्साहपूर्वक उसके पीछे पीछे भाग लिये और कुछ ही देर में उन्होंने दुश्मनों की सेना का सफाया कर दिया।

राजा जीत गया तो सिपाहियों ने राजा की जीत की खुशियाँ मनानी शुरू कर दीं। पर जनरल का तो कहीं पता ही नहीं था। वह कहाँ गया? ढूँढने पर उनको वह चार लीग[6] दूर मिला।

वह दुश्मनों की सेना में से हो कर तेजी से भाग गया था। फिर राजा की अपनी सेना के घुड़सवार उसे ढूँढ कर राजा के पास ले कर आये।

जौन ने राजा के सामने कृतज्ञता से सिर झुकाते हुए कहा — “अगर आप लोग मेरे साथ आते तो हम लोगों ने अब तक तीन राज्य और तीन ताज जीत लिये होते। खैर अब हमने यह लडाई तो जीत ही ली है सो अब हमें इसी से सन्तुष्ट रहना चाहिये।”

राजा आश्चर्य से बोला — “क्या? क्या तुम अभी और भी लड़ाई के लिये जाना चाहते हो? मैं तो तुम्हारे साथ अपनी बेटी की शादी करने की सोच रहा हूँ।”

पर जौन किसी के बहकावे में आने वाला नहीं था। वह अपने उस काम के लिये कुछ भी स्वीकार नहीं करना चाह रहा था। वह राजा का सब कुछ छोड़ कर अपने रास्ते चल दिया।

काफी दूर जाने के बाद वह अमेज़नों[7] के राज्य में आ गया। जैसा कि सब जानते हैं कि अमेज़न की स्त्रियाँ बहुत अच्छी लड़ने वाली होती हैं। उनका अपना राज्य है जिसको एक रानी चलाती है।

उनके राज्य में किसी आदमी को रहने की इजाज़त नहीं है। अगर कोई आदमी उनको अपने राज्य में दिखायी दे जाता है तो वे उसके टुकड़े टुकड़े कर डालती हैं और उनको कुत्तों को खिला देती हैं और उसकी खाल के ढोल बना लेती हैं।

अमेज़न राज्य की रानी एक बहुत ही बेरहम स्त्री थी। वह अपनी पूरी ज़िन्दगी में हँसना तो दूर कभी मुस्कुरायी भी नहीं थी। और जौन बालैन्टो अब ऐसी ही स्त्रियों के बीच में था।

जैसे ही उन्होंने उसको देखा तो उन सबने मिल कर उसको पकड़ लिया और जंजीरों से बाँध कर घसीटते हुए रानी के सामने ले गयीं। अमेज़न के दरबार में बहुत सारे घोड़े थे सो उसका दरबार मक्खियों से भरा हुआ था।

वे सब घोड़े अपनी अपनी पूँछें हिला कर अपनी मक्खियाँ भगा रहे थे और वहाँ बैठीं अमेज़न स्त्रियाँ पंखा झल झल कर अपनी मक्खियाँ उड़ा रही थीं। पर जौन जो जंजीरों से बँधा हुआ था हिल भी नहीं सकता था और उसके ऊपर बहुत सारी मक्खियाँ बैठी हुई थीं।

रानी बोली — “बस अब तुम अपने आपको मरा हुआ ही समझो क्योंकि हमारा यही कानून है कि जो भी आदमी हमारे राज्य में आ जाता है हम उसे मार देते हैं। तुम हमारे राज्य में घुसे ही क्यों?”

जौन ने मुँह लटकाते हुए अपने आपसे कहा “ओ मेरे जूते में छेद करने वाले सूए, ओ मेरे धागे, ओ मेरी बैन्च, अगर मैं तुम्हारे साथ ही रहता तो आज मेरी यह हालत न होती।”

रानी ने अपनी बात जारी रखते हुए आगे कहा — “और सुनो, मुझे एक गरीब आदमी को मारना बिल्कुल अच्छा नहीं लगता। वह मुझे ऐसा लगता है जैसे मैं किसी कुत्ते को मार रही हूँ। तुम मुझे सच सच बता दो कि तुम कौन हो तो मैं तुम्हारी जिन्दगी बख्श दूँगी। क्या तुमने वाकई 1000 मारे और 500 घायल किये?”

जौन तुरन्त ही बोला — “एक ही झटके में, योर मैजेस्टी।”

“यह तुमने कैसे किया?”

“आप मेरी जंजीरें खोल दें तो मैं आपको दिखा दूँ।”

रानी ने हुकुम दिया कि उसकी जंजीरें खोल दी जायें। रानी के हुकुम का पालन किया गया। उसकी जंजीरें खोल दी गयीं। उसके चारों तरफ जो घुड़सवार स्त्रियाँ खड़ी थी वे सब उसकी तरफ देखने लगीं।

दरबार में बिल्कुल शान्ति थी। एक भी आवाज सुनायी नहीं दे रही थी सिवाय घोड़ों की पूँछों के हिलने की, पंखा झलने की और मक्खियों के उड़ने की आवाज के।

जौन ने कहा — “पहले मैने कैसे किया था। ऐसे।” कह कर उसने अपने हाथ की मुठ्ठी बाँधी और उसको अपने चारों तरफ भिनभिनाती मक्खियों के बीच में घुमा दिया और उन सब मक्खियों को मार दिया।

फिर वह बोला — “अब इनको गिनो।”

“ओह तो वे मक्खियाँ थीं। ओह मेरे भगवान।” कह कर घोड़ों पर बैठी सारी अमेज़न स्त्रियाँ बहुत ज़ोर से हँस पड़ीं। हँसते हँसते उनके शरीर में बल पड़ गये। पर सबसे ज़्यादा ज़ोर से जो हँसी वह थी वहाँ की रानी।

“हा हा हा हा। मैं तो अपनी ज़िन्दगी भर में कभी इतना नहीं हँसी जितना मैं अभी हँसी। जौन बालैन्टो, तुम मेरी सारी ज़िन्दगी में वह पहले आदमी हो जिसने मुझे हँसाया है। और तुम्हारी इस मक्खियाँ मारने की तरकीब से तो तुम मेरे राज्य में भगवान के भेजे हुए दूत हो। अब तुम यहीं रहो और मेरे पति बन जाओ।”

सो उस जौन बालैन्टो की शादी अमेज़न की रानी से हो गयी और वह चमार अमेज़न राज्य का राजा बन गया। बहुत दिनों तक उन दोनों की शादी की खुशियाँ मनायी जाती रहीं।

clip_image008


[1] John Balento (Story No 199) – a folktale from Italy from its Corsica area.

Adapted from the book “Italian Folktales”, by Italo Calvino. Translated by George Martin in 1980.

[2] Noodles is an Italian dish. Noodles are like Indian Semiyaan, come in many lengths, but lot longer than Semiyaan. See its picture above.

[3] Translated for the word “Giants”

[4] Chestnut is a kind of nut whose fruit and the tree is shown in the picture above.

[5] Translated for the word “Armor”. Ir is normally worn in war anf figting to save loneself from other’s weapons’ wounds.

[6] League is an obsolete unit to measure length. It is approximately an hour’s walk. Its measurement was different in different countries. Now it is not used anywhere in the world.

[7] Amazon

------------

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,  इथियोपिया इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी….)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "देश विदेश की लोक कथाएँ — यूरोप–इटली–9 : 14 जौन बालेन्टो // सुषमा गुप्ता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.