मंगलवार, 5 दिसंबर 2017

हे नदी तुम मत मरो // सुशील शर्मा

image

एक नदी केवल मीठे पानी जल धारा नहीं है अपितु जल विज्ञान, भू-भूमिक, पारिस्थितिक,जैव विविधता समृद्ध, परिदृश्य स्तर प्रणाली है जो ताजे पानी चक्र का महत्वपूर्ण हिस्सा है। नदी एक प्राकृतिक, जीवित, कार्बनिक , जल विज्ञान और पारिस्थितिक प्रणाली है। यह सिर्फ एक बहती जल धारा नहीं है यह एक साथ कई कार्य करती है। यह जलीय जीवन और वनस्पति का समर्थन करती है; मनुष्य, उनके पशुधन और वन्य जीवन को पीने के पानी उपलब्ध कराती  है; सूक्ष्म जलवायु को प्रभावित करती है; भूजल पुनर्भरण; प्रदूषण को कम करती  है और खुद को शुद्ध करती  है; आजीविका की एक विस्तृत श्रृंखला को बनाए रखती  है; गाद को स्थानांतरित करती  है और मिट्टी को समृद्ध करती  है; सही स्तर पर अपनी लवणता रखने के लिए समुद्र को आवश्यक मीठे पानी प्रदान करती  है; समुद्र से लवणता के आक्रमण को  रोकती  है; समुद्री जीवन में पोषक तत्व प्रदान करती  है;यह बर्फबारी, वर्षा, सतह के पानी और भूजल के बीच गतिशील संतुलन प्रदान करती है और अपने वाटरशेड के माध्यम से लोगों और पारिस्थितिकी प्रणालियों के लिए सामाजिक और आर्थिक सेतु के रूप में अपनी सेवाएं देती है।

हम लोगों का अस्तित्व नदियों के कारण हैं। भारत प्रमुख नदियों के किनारों पर ही विकसित हुआ है। मोहनजो-दारो और हड़प्पा जैसी हमारी प्राचीन सभ्यतायें   जल के साथ पैदा हुईं थी ,और जब नदियों ने वहां से अपने रास्ते बदले तो ये सभ्यताएं इतिहास के गाल में समा गयीं। आज, हमारी नदियां हर साल 8% कम हो रही हैं; इसका मतलब है कि हमारी सभी नदियों 20 वर्षों में मौसमी हो जाएगी।भारत एक गंभीर पानी संकट की ओर बढ़ रहा है और उपचारात्मक उपायों को स्थगित नहीं किया जा सकता है। पीने की ज़रूरतों, उद्योगों और ऊर्जा क्षेत्र के बाद सिंचाई के करीब 80% पानी की मांग है।

क्या आप जानते हैं कि पृथ्वी का केवल 3% ताजा पानी है? और उस 3% से, 2 / 3 भाग  ग्लेशियरों और ध्रुवीय बर्फ टोपी में जमी है। इसका मतलब है कि पृथ्वी के मीठे पानी की आपूर्ति का केवल 1% उपयोग के लिए सुलभ है! यही कारण है कि हमारे पास सीमित मात्रा में पानी की रक्षा करना इतना महत्वपूर्ण है

तनाव का एक स्पष्ट संकेत वार्षिक प्रति व्यक्ति पानी की उपलब्धता है। यह 1 9 51 में 5177 क्यूबिक मीटर था, जो 2011 में 1545 घन मीटर से घटकर 1700 घन मीटर पर आंकी गई पानी के तनाव के लिए अंतरराष्ट्रीय सीमा के मुकाबले गिरावट आई थी। हालांकि, जलविज्ञान के राष्ट्रीय संस्थान ने भारत में प्रति व्यक्ति पानी की उपलब्धता 2010 में सिर्फ 9 38 घन मीटर में उपलब्ध कर दी है और उम्मीद है कि यह 2025 तक 814 घन मीटर हो जाएगा।

नदियों को हमेशा भारत में पूजा की जाती है, और फिर भी वे आज दु: खद स्थिति में हैं। देश में कई नदियां घट रही हैं या मर रही हैं। जीवित, स्वस्थ नदियां ढूंढना मुश्किल है, और यहां तक कि जो कुछ भी मौजूद हैं उनमें गिरावट का खतरा हैं। यमुना की गिरावट इन प्रवृत्तियों का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है यमुना 1400 किमी लंबी नदी व्यवस्था है जिसमें लगभग 30 सहायक नदियों का निर्माण होता है, जो कि एक बार बारहमासी और पवित्र नदी थी जो हमारे पौराणिक कथाओं (कृष्ण काल  और महाभारत महाकाव्य काल ) और इतिहास (दिल्ली के प्राचीन शहरों का हिस्सा था) मथुरा और आगरा उस पर खड़े हैं। आज, नदी एक सीवर से ज्यादा कुछ नहीं है।

लोग आपातकालीन समाधान चाहते हैं और ये समाधान नीति निर्माताओं को नदियों का आपस में जोड़ने और भूमि के अधिक क्षेत्रों में पानी देने की कोशिश करने का प्रयास की ओर ले रहे हैं। यह समाधान और भी विनाश कारी है क्योंकि इस पर हम न केवल भारी मात्रा में पैसा खर्च करेंगे साथ ही एक बड़ी पारिस्थितिक आपदा पैदा करेंगे। इसके वैकल्पिक उपाय के लिए हमें नदियों के बारे में अपनी सोच बदलनी होगी हमें सोच में जागरूकता पैदा करनी होगी। हम आज नदियों से कैसा सुलूक कर रहे हैं इस पर सोचना होगा और उनकी बेहतरी के लिए हम क्या कर सकते हैं , इसके बारे में जागरुकता पैदा करना होगी । हमें लोगों को नदियों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाने के लिए जागरूकता अभियान की आवश्यकता है ; तभी यदि हम लाभदायक समाधान प्रदान कर सकते हैं। हम लोगों को हमारी नदियों को बचाने के प्रेरित करें । हम हर साल करीब एक लाख लोगों को पेड़ लगाने और अगले दस सालों तक पोषण करने और हरे रंग की आवरण के नीचे भारी मात्रा में जमीन लाने के लिए प्रोत्साहित करें और उनका मार्गनिर्देशन का काम कर सकते हैं। इस प्रकार हम मानसून को नियमित रूप से आने के लिए आमंत्रित करेंगे। हम अपने नदियों को जहर से रोक सकते हैं यह एकमात्र व्यापक समाधान है जो नदियों को जोड़ने के लिए लागत का 10% से अधिक नहीं खर्च करेगा।

नदियों और धाराओं को सुरक्षित रखने के तरीके

धार्मिक क्रियाकलापों से नदियां  उतनी दूषित नहीं हो रही जितनी कि तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या, जीवन के निरंतर ऊंचे होते हुए मानकों, औद्योगिकीकरण और शहरीकरण के हुए अत्यधिक विकास के कारण मैली हो रही है। अधिकांश नदियों के प्रदूषित होने का सबसे बड़ा कारण सीवेज है। बड़े पैमाने पर शहरों से निकलने वाला मल-जल नदियों में मिलाया जा रहा है जबकि उसके शोधन के पर्याप्त इंतजाम ही नहीं हैं।

1. व्यापक मानचित्र और स्ट्रीम के जैविक, भूवैज्ञानिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और भूमि उपयोग घटकों के आंकड़ों को इकट्ठा करना होगा । इससे मौजूदा अवसरों और समस्याओं को समझने में मदद मिलेगी और अपने लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी।

अतिक्रमण की स्थिति में व्यापक निगरानी प्रणाली बनें :नदियों के विधिक इकाई बनाए जाने के बाद व्यावहारिक दृष्टिकोण से क्या परिवर्तन अपेक्षित है। नदी जिस जिस प्रदेश व जिले से होकर गुजरती है वहां के अधिकारी मुख्य सचिव एवं महाधिवक्ता तथा जिलाधिकारी को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया जाय।

2.  सामुदायिक जलप्रभावों को पुनर्जीवित करने और पुनर्स्थापित करना। स्वस्थ riverfronts आर्थिक समृद्धि और जीवन की एक उच्च गुणवत्ता प्रदान करते हैं।

3. एक सफल जल ट्रेल तैयार करना होगा इसमें उन हितधारकों की साझेदारी को सुनिश्चित करना होगा जो  निरंतर नदियों से जुड़े हैं। ( इनमे नदियों के आसपास के भूमि मालिक, स्थानीय और राज्य एजेंसियां, शहर एवं गांव की पंचायतें उनके अधिकारी, नदी उत्साही, शिक्षक,छात्र  वाटरशेड समूह, स्थानीय व्यापारी ,आदि शामिल हैं। ) पानी  और नदी के मुद्दे पर हमें एक जुटता दिखानी होगी।

4. नदी के किनारे की वनस्पतियों और मार्श की रक्षा करना होगी , जो जैविक रूप से विविध वन्य जीवन समुदायों को संरक्षित करते हैं हैं। नदी के नीचे cottonwoods और उनसे  जुड़े गीले भूमि पौधों मिट्टी और पानी की बहुतायत होती है ये  प्राकृतिक बाढ़ नियंत्रण और पानी निस्पंदन में सहायता कारक होते हैं । आर्द्रभूमि वनस्पतियां निवासी और प्रवासी पक्षियों और जानवरों को आश्रय प्रदान करती हैं। ये नदी की प्राण वायु हैं  और पानी के तापमान को स्थिर करती हैं ।

5. सहायक नदियों झीलों तालाबों पोखरों तथा खादरों को पुनर्जीवित करना :- बरसात में वृहत स्तर पर जल संचयन किया जाना चाहिए। उस समय जल की उपलब्धता रहती है। इसलिए मूल नदी से इतर हर छोटी बड़ी स्रोतों को संपुष्ट किया जाना चाहिए। इससे मूल नदी में भी पानी की कमी नहीं होने पाती और भूजल का स्तर भी गिरने से बचा रहता है।

6.  नदियों को गटर बनने से रोकना होगा हम सभी नदियों और नदियों के आसपास सफाई करने के लिए प्रतिबद्ध हो जिससे  उनमें जो कूड़ा भरा हुआ है उसे नष्ट कर सकें।यह कूड़ा वन्यजीव, पानी की गुणवत्ता और जंगली जगह की खूबसूरती के लिए हानिकारक है।

7. इन्स्ट्रीम प्रवाह की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सिंचाई प्रणाली, बांधों और सेवन संरचनाओं और नहरों को संशोधित प्रणाली को अपनाना होगा इससे । पानी के उपयोग और दक्षता के विज्ञान में होगा, जिससे पानी के उपयोग को लंबे समय तक अनुबंधित किया जा सकता है और इससे आर्थिक लाभ भी प्राप्त किया जा सकता है। इससे पानी के उच्च प्रवाह और उसके जीवों की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सकती है।

8.  नदी को स्वाभाविक रूप से अपने बाढ़ के मैदान पर कब्जा करने और गैर-संरचनात्मक विकल्प का उपयोग करके अपने बैंकों को स्थिर करने की प्रणाली को विकसित करना होगा।

9. नदी के आसपास की जमीन के मालिकों के साथ काम करने एवं उनको नदी के वास्तविक स्वरुप और उसके पानी के उपयोग के प्रति जागरूक करने के लिए अभियान की आवश्यकता है।

10.  निर्मलता एवं अविरलता नदी का मूल अधिकार :- सामान्य रूप से किसी नदी के अधिकार उसकी निर्मलता एवं अविरलता ही हैं। ये दोनों चीजें आपस में स्वाभाविक रूप से जुड़ी हुई भी हैं। नदी का जीवन उसका प्रवाह होता है और उसमें बाधा उत्पन्न होने से नदी के टूटने व विलुप्त होने की संभावना बढ़ जाती है।

11.  बाढ़ के मैदान में उचित भूमि उपयोग को बढ़ावा देना बाढ़ के मैदान के भीतर विकास बाढ़ क्षेत्र से दूर निर्देशित किया जा सकता है।

12. पशुधन चराई प्रथाओं को बढ़ावा देना जो घास के मैदानों को बाढ़ के प्रति प्रतिरोधक बनाते हैं।

13. नदीयों  के तट के सभी गाँवों और शहरों को खुले में शौच से मुक्त किया जाये।

14. नदी के दोनों ओर बहने वाले सभी  नालों के पानी को नदी  में जाने से रोकने के सुनियोजित प्रयास किये जायें।

15. नदी के दोनों ओर हम सघन व़क्षारोपण करेंगे ताकि नदी में जल की मात्रा बढ़ सके।

16. सभी घाटों पर शवदाह गृह, स्नानागार और पूजा सामग्री विसर्जन कुण्ड बनाये जायें ताकि नदी को पूर्णत: प्रदूषण रहित रखा जा सके।

17. पानी की मांग फसल पैटर्न, बेकार की प्रथाओं को रोकने, और नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने जैसे कमजोर कदमों पर कार्य करने की आवश्यकता है।

18. नदियों के कर्तव्य और उत्तरदायित्व संरक्षित व सुरक्षित :- कानूनी व्यक्तित्व के रूप में मान्यता के बाद नदियों के कर्तव्य और उत्तरदायित्व भी होने चाहिए और इसके लिए सरकार और समाज ही जिम्मेदार हैं।

नदी एवं उसके जल प्रबंधन पर कुछ कानून 

वर्तमान में नदी एवं उसके जल प्रबंधन पर कुछ कानून और  कुछ प्रासंगिक अधिनियमों और प्रावधानों में निम्नलिखित शामिल हैं:

 राज्य सिंचाई और ड्रेनेज अधिनियम

 अंतरराज्यीय नदी जल विवाद अधिनियम, 1 9 56

 नदी बोर्ड अधिनियम, 1 9 56

 अंतरराज्यीय जल विवाद न्यायाधिकरण पुरस्कार

 ईआईए अधिसूचना, सितम्बर 2006

73 वें और 74 वां संवैधानिक संशोधन के माध्यम से विकेन्द्रीकरण के प्रयास किये गए है इनमे अनुसूचित क्षेत्र अधिनियम, 1996 के लिए पंचायत एक्सटेंशन प्रमुख है। ब्रिटिश काल में, नदी संरक्षण अधिनियम (1884 के मद्रास एक्ट IV) 5 नामक एक अधिनियम था।हालांकि, इसे पढ़ने पर, नदी के भीतर भूमि के उपयोग को विनियमित करने के बजाय ऐसा लगता है कि यह एक ऐसा अधिनियम है जो न सिर्फ नदी के भीतर के जल विनिमय को अभिरक्षित करता है बल्कि नदी के बहार भी पानी के संरक्षण के लिए उपयोगी है। इसमें जल विनिमन की संक्षिप्त में समीक्षा की गई है।इसके  प्रमुख तत्वों में राष्ट्रीय नदियों की नीति, नदी क्षेत्र विनियमन, बाढ़ के मैदान शामिल हैं।सुरक्षा, जलग्रहण प्रबंधन, स्थानीय जल प्रणालियों, आर्द्रभूमि और वनों की सुरक्षा, सुनिश्चित करना मौजूदा बाँध, पनबिजली परियोजनाओं और विचलन से भी बारहमासी नदियों में मीठे पानी का प्रवाह और  भविष्य की ऐसी परियोजनाओं से, जिनमे प्रदूषण नियंत्रण शासन संचालित होता है, जिसमें प्राकृतिक प्रवाह सुनिश्चित किया जा सके और पश्चिमी घाटों, पूर्वोत्तर भारत और हिमालयी राज्यों में  नदियों, विश्वसनीय निवारण तंत्र,अन्य तत्वों के बीच अनुपालन सुनिश्चित करना प्रमुख है ।

विकास और सभ्यता के बारे में  हमारे विचारों का बदलाव ही  हमारी नदियों को बचाएगा।  नदियों को बचाना हमारी दुनिया को बचाने और खुद को बचाने का हिस्सा होना चाहिए तभी हम अपने आपको सभ्य कहलाने योग्य बनेंगे।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------