मंगलवार, 28 फ़रवरी 2017

शब्द संधान / प से पतंग / डा. सुरेन्द्र वर्मा

पतंग के कई अर्थ हैं। कनकौवा तो पतंग है ही, चिड़िया, शलभ, खेलने की गेंद, आग से निकली चिन्गारी भी पतंग कहलाती है। क्या आप बता सकते हैं की इनमे...

सोमवार, 27 फ़रवरी 2017

हिंदी में पद्यान्वित श्रीमद्भगवद्गीता - 4 / शेषनाथ प्रसाद

भाग एक यहाँ पढ़ें भाग दो यहाँ पढ़ें भाग तीन यहाँ पढ़ें दसवाँ अध्याय                        [ओशो कृष्ण को विश्व-मनोविज्ञान का पिता कहते ...

शब्द-सन्धान / व्यंग्य का कारोबार / डा. सुरेन्द्र वर्मा

हिन्दी साहित्य में आजकल व्यंग्य का कारोबार तेज़ी से चल रहा है। लगभग हर निबंध, कहानी, उपन्यास, नाटक आदि, में व्यंग्य के छींटे देखे जा सकते है...

संस्मरण : नींद के लिए मोहताज रात - भगवान वैद्य ‘प्रखर’

हम लोग बेंगलोर से एर्नाकुलम जा रहे थे । ट्रेन थी, बेंगलोर-एर्नाकुलम एक्स्प्रैस । एसी-थ्री का रिजर्वेशन था। रात के दस बज चुके थे । ट्रेन अपन...

समीक्षा - प्रजातंत्र का प्रेतः सामाजिक मूल्यों की उपादेयता / कमलेश ‘कमल’

              जीवन एक  ऐसा सागर है जिसमें आनंद का अथाह जल भी है और शोर मचाती पीड़ा की लहरें भी। जीवन रूपी पुष्प दुख की धरा पर ही खिलकर सौरभ ...

हमारा सांस्कृतिक पर्व-गणगौर तीज / श्रीमती शारदा नरेन्द्र मेहता

हमारा सांस्कृतिक पर्व - गणगौर तीज श्रीमती शारदा नरेन्द्र मेहता ( एम . ए . संस्कृत विशारद ) गणगौर पर्व का प्रारम्भ होली द...

माँग का सिन्दूर और उसकी उपयोगिता / श्रीमती शारदा नरेन्द्र मेहता

माँग का सिन्दूर और उसकी उपयोगिता श्रीमती शारदा नरेन्द्र मेहता (एम.ए. संस्कृत विशारद) माँग में सिन्दूर लगाने की प्रथा अति प्राचीन है । ...

कहानी / इश्कबाज / सुमन त्यागी ‘आकाँक्षी’

रेहान,रेहान खान कॉलेज का मोस्ट पॉपुलर (कई बार फेल होने के कारण) डैशिंग,चार्मिंग, बिंदास और कूल बंदा। एक अजीब सी मस्ती हमेशा उस पर छाई रहती ...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------