शुक्रवार, 31 मार्च 2017

रागिनी गर्ग की कविताएँ

1.नारी शक्ति है.... पुराणों में पढ़ते आये हैं .. नारी शक्ति है.... बुजुर्गों से सुनते आये हैं... नारी शक्ति है.... शक्ति है तभी देती है जन...

गुरुवार, 30 मार्च 2017

नवरात्र में नारी शक्ति की पूजा / रमेशराज

  क्वार सुदी प्रतिपदा से नवमी तक पवित्र मन के साथ अत्यंत संयम से नवरात्र में रखे जाने वाले व्रत में माँ दुर्गा की पूजा-अर्चना की जाती है। ...

रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग / रमेशराज

कुछ कांग्रेस के पिट्टू इतिहासकार आज भी जोर-शोर से यह प्रचार करते हैं कि बिना खड्ग और बिना तलवार के स्वतंत्रता संग्राम में कूदने वाले कथित अ...

बालकथा / बन्दर और शीशा / शशांक मिश्र भारती

सरयू रामगंगा के संगम के ऊपर एक बहुत बड़ा और घना जंगल था। जहां अनेक प्रकार के जानवर रहते थे। आस-पास छोटी -मोटी बस्तियां थीं। कभी-कभी गीदड़, खर...

मंगलवार, 28 मार्च 2017

हनुमान मुक्त की हास्य-व्यंग्य कथाएँ

अनैतिक काम आज कल शहरों में मैं देखता हूँ कि लोग फ्लेटों में रहते हैं। कोई पांचवी मंजिल पर तो कोई दसवीं पर। सिर्फ फ्लेट आपका है, छत आपकी नह...

राम नरेश 'उज्ज्वल' की 45 बाल कविताएँ

1-माँ के आँचल जैसी धूप सूरज की किरणें हैं फैली, बिखर गई फूलों की थैली, गरम-नरम यों हाथ फेरती, माँ के आँचल जैसी है धूप। . सबको अपने पास बुल...

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------