बाल कविताएँ // मुस्कान चांदनी

-----------

-----------

image

1: तितली रानी

बरसात के आते ही
दिख पड़ती है तितली रानी
बरसात खत्म होते ही
लौट जाती है अपने देश को
हरेक रंग की होती है
हर किसी को भाँति है
नीले आसमान की शोभा बनकर
बच्चों को महकाती है
फूलो से रस लेकर
अपना भूख मिटाती है
सब तितलियों में लाल तितली ही
तितली रानी कहलाती है ।

2 : परी

परियों के देश से
आयी एक नन्ही परी
जिसकी सुन्दर काया से
सराबोर हुआ अपना जग
नाम मिला उसको सोनपरी
हाथ में छड़ी सर पर मुकुट
चेहरे पर चंचलता
सुन्दर वस्त्र से लिपटी हुई
बच्चों के सपने को पूरा करने
ढेर सारी खुशियाँ बाँटने
अपनी जादू की छड़ी से
जन्नत दिखाने आ गयी
परियों के देश से
एक मनमोहिनी सी मासूम परी ।

3 : पैसा पैसा

दुनिया में जिसका बोलबाला
वह है पैसा पैसा
समाज में इज्जत दिलाता है
जिसके पास है पैसा
सारे जग में छा जाता है
लोगों की हसरतें पूरी करता है
सबके बीच चर्चा का विषय है
मेरे पास कितना
तेरे पास है कितना पैसा
अर्थव्यवस्था का मापदंड है
खुशियों का संसार है
जिवन का आधार है पैसा
जीने के लिए एक मात्र साधन है
सिर्फ पैसा पैसा
सब का यही मानना है ।

4 : किताब

किताब आईना है जीवन का
जो शिक्षा बरसाता है
अहिंसा का पाठ पढ़ाकर
दुनिया में मानवता लाता है
दो सरहदों को भी
आपस में मिलाता है
अज्ञानता के अंधेरे को
दूर कर प्रकाश फैलाता है
किताब है ज्ञान का भंडार
जो अज्ञानी को ज्ञान दिलाता है
किताब सच्चे दोस्त की भाँति
मुशकिल में साथ निभाता है
गैरों को भी अपना बनाने
का पाठ पढ़ाता है
किताब की ही भाषा
सबको समझ में आता है
किताब आईना है जीवन का
जो शिक्षा बरसाता है ।

5 : रूमाल

कपड़े के टुकड़े से
बना यह रेशमी रूमाल
न जाने कितने लोगों
के आती यह काम
दाम न इसका मत पूछो
कितना उपयोगी है यह देखो
हर रंग में आती है
सबके मन को भाँति है
गर्मी में यह राहत लाती
सबकी मुश्किल आसान बनाती
इसके बिना न काम चलता
यह हर किसी के जेब में रहता
सस्ती सोने के कारण
हर लोगों के पास रहता
इसे बनाने में
कपड़े के टुकड़े का काम आता
मँहगाई के इस जमाने में
इसे खरीदने में
न हिचकिचाहट होती
खो जाए या फट जाए तो
कोई गम न होता
इसे खरीदना कितना आसान होता
फैशन की इस दुनिया में
रूमाल का उपयोग कम न होता ।

6 : बिल्ली मौसी

बिल्ली रानी बड़ी सयानी
करे है सदा अपनी मनमानी
हर घर में है इससे परेशानी
बिल्ली रानी की है एक कमजोरी
चूहे को देख
मुँह में आ जाता पानी
चोरी चोरी चुपके चुपके
घर में घुसकर
चट कर जाती दूध मलाई
डकार लेकर फिर करती
मिआऊं मिआऊं
बच्चे देखकर जिसको कहते
बिल्ली मौसी बिल्ली मौसी ।

7 : जाड़े की धूप

जब जाड़े का मौसम आता
सुबह की धूप सबको भाता
उठकर सुबह सुबह मैं
दादा के संग धूप में
बैठकर चाय पीता
दादी मुझको मालिश करती
हर सुबह नहाने को कहती
फिर विटामिन डी भरपूर लेता
शरीर में ऊर्जा का संचार होता
तरोताजा होकर
धूप में लेटकर
बड़े मजे से पढ़ाई करता
मम्मी के हाथो से बना
गर्मागर्म फिर पकौड़ी खाता
पापा मुझको स्कूल पहुँचाते
आकर शाम को स्कूल से मैं
हर रोज की तरह
सुबह होने का इंतिजार करता
सुबह की धूप का
भरपूर मैं आनंद उठाता ।

8: भारत देश

मेरा भारत देश महान
सबका है यही अभियान
जिसको ले जाना है
हर क्षेत्र में शिर्ष पर
हर भारतवासी देखे
कुछ ऐसा सपना
जहाँ जन्म लिए वीर महान
जिसने दिलायी भारत को आजादी
गाँधी नेहरू शास्त्री ने
भारत को बनाया महान
कल्पना सुनिता ने तो
भारत को दे डाली अलग पहचान
जहाँ धर्मनिरपेक्षता का राज है
इन्सानियत बसा है लोगों के रग रग में
शत्रु को भी माफ करना
हमें खूब आता है
भाईचारा का संदेश देते हैं
इस देश में अतिथियों को
भगवान समझा जाता है
ऐसा है अपना भारत देश महान ।

9 : चलो पिकनिक

चलो पिकनिक का मूड बनाओ
घुमो फिरो नाचो गाओ
जाड़े के मौसम को हसीन बनाओ
नये साल का स्वागत
बड़े धूमधाम से करो
पिकनिक की मस्ती में
पिछले साल के सारे
शिकवे गिले भूल जाएं
सारे जहान की खुशियाँ
अपने दामन में भर लो
पिकनिक के हर
एक पल का आनंद उठाओ
हर मौसम में पिकनिक
जाने का इरादा कर लो ।

10 : क्रिसमस

मेरा प्रिय पर्व है क्रिसमस
हर साल दिसंबर माह में आता है
चारों ओर खुशहाली लाकर
जीवन में नया उमंग सजाता है
क्रिसमस के दिन सांता
बहुत खिलौने लाकर
बच्चों को खुश करता है
हर बच्चों को इस दिन का
बेसब्री से इंतिजार रहता है
मौज मस्ती का जैसे
हर किसी में आलम छा जाता है
मिठाईयाँ खाकर हर कोई
एक दूसरे को बधाई देता है
जाते जाते पुराना साल
एक खुशी का पर्व दे जाता है
क्रिसमस खुशहाली का संदेश देता है ।

मुस्कान चाँदनी, बिहारशरीफ

-----------

-----------

0 टिप्पणी "बाल कविताएँ // मुस्कान चांदनी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.