रचनाकार.ऑर्ग के लाखों पन्नों में सैकड़ों साहित्यकारों की हजारों रचनाओं में से अपनी मनपसंद विधा की रचनाएं ढूंढकर पढ़ें. इसके लिए नीचे दिए गए सर्च बक्से में खोज शब्द भर कर सर्च बटन पर क्लिक करें:
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 56 : कुछ न सिखला सकी // डॉ़. दीपा गुप्ता

SHARE:

प्रविष्टि क्र. 56  कुछ न सिखला सकी डॉ़. दीपा गुप्ता टे्रन की सीटी सुनते ही मेरे दिल की धड़कन बेक़ाबू हो गई। इतनी बेचैनी तो मुझे अपने जिगर के ट...

image

प्रविष्टि क्र. 56 

कुछ न सिखला सकी

डॉ़. दीपा गुप्ता


टे्रन की सीटी सुनते ही मेरे दिल की धड़कन बेक़ाबू हो गई। इतनी बेचैनी तो मुझे अपने जिगर के टुकड़ों को छोड़कर आते हुए भी नहीं हुई थी। वैसे तो आज मन का झूमना चाहिए। चार महीने की कठिन तपस्या जो पूरी हो रही है। मगर मन ऐसा नहीं सोच रहा। मेरी निगाहें तो खिड़की के बाहर सामने खड़ी कोड़म्मा को निहार रही है। उसकी आँखों में भी वही दर्द। वह अपने को संभालती हुई बताती जा रही है कि मैं किसी से ज्यादा बातें न करूं। बाहर का खाना न खाऊं… ।

धीरे–धीरे टे्रन अपनी रफ्तार पकड़ने लगी। मैं अपना हाथ हिलाती रही। चेहरा उदास और आँखें नम। नज़रें बस कोंड़म्मा पर टिकीं। बड़ी बिन्दी, पीला चेहरा, बालों में गुड़हल के फूल। कुछ अजीब लगी थी पहली बार और आज उसकी ओर से ध्यान हट नहीं रहा। वह भी प्लेटफार्म पर बुत सी खड़ी है, अधखुली हथेली को धीरे–धीरे हिलाती हुई। ओझल होते तक मैं उसे एकटक निहारती रही।

टे्रन प्लेटफार्म के सारे दुकान फिर आस–पास के पेड़–पौधों को पीछे ढ़केलती हुई आगे बढने लगी। मैं बाहर खिड़की से प्रकृति का नजारा लेती, रीमझीम फुहार से रोमांचित हो अपनी ही यादों में खो गयी। बरसात के फुहार की झिंसी चार महीने पहले उस दिन भी ऐसी ही थी। जब मैं ठण्डी हवाओं को चीरती हुई तीव्र गति से स्कूटी चलाती दफ्तर पहुंची। रोज कितनी भी जल्दी–जल्दी काम निपटाऊं, देरी हो ही जाती है। देरी होने के भय से धड़कन थोड़ी तेज थी। पहुंचते के साथ ही चपरासी ने बताया कि सर ने मुझे याद किया है। धड़कनें उबलने लगीं।

“नमस्ते सर² क्या आपने मुझे याद किया?”धड़कनों पर लगाम लगाती हुई मैं बोली। “हाँ आपके लिए एक खुशखबरी है, मैंने कुछ लोगों का नाम सह–प्रबंधक के लिए प्रस्तावित किया था। उसकी मंजूरी आ गयी है। उसमें आपका नाम पहला है। इसके लिए आपको चार महीने हमारे मुख्य कार्यालय विशाखपट्टण्म में प्रशिक्षण लेनी होगी। यदि आप नहीं जाएंगी तो हम दूसरे को भी भेज सकते हैं। यह आपके लिए सुनहरा मौका है। कल तक अपनी राय हमें बता दीजिए। ”

“ठीक है सर” कहती हुई मैं कशमोकश की पोटली लिए बाहर आई। सहकर्मियों की अटकलें लग रही थी। प्रश्नों की झड़ी लग गई। मैं मुस्कराती हुई आगे बढ़ गई। पद–प्रतिष्ठा किसे नहीं भाती? पर चार महीने घर से दूर ऊपर से नई जगह, नया माहौल, भाषा भी अलग। मैंने मन–ही–मन इस अवसर को नकार दिया।

मेरी सहेली श्वेता भी समझाती रही “चली जा आहूति ऐसा मौका बार–बार नहीं आता। विशाखापट्टण्म बहुत सुंदर शहर है, एक बार सागर की लहरों का मजा तो देख। मेरी मौसी भी तो अभी वहीं है, नेवी में। तुम्हें कुछ भी दिक्कत नहीं होगी। कुछ ही दिनों में वहाँ नेवी मेला भी लगने वाला है। बहुत ज़ोरदार होता है। वो तो हमें बहुत बुला भी रही है । तू चलेगी तो तेरे बहाने मैं भी दो–चार दिन घूम आऊँगी। ”

श्वेता मेरे बचपन की सहेली है। मेरे स्वभाव से भली–भाँति परिचित। यहाँ मेरी सहकर्मी भी। वह जानती है कि दीपक और बच्चों को छोड़कर मैं नहीं रह सकती तथा दीपक के बिना कोई भी निर्णय लेना मेरे लिए आसान नहीं। उस दिन, दिन–भर एक तनाव सा रहा। घर भी बोझिल मन से लौटी।

“मुबारक हो मैनेजर साहिबा। ” मेरे दरवाजा खोलते के साथ ही दीपक ने कहा।

“आपको कैसे पता चला?” मैं उनके हाथों से बैग और मिठाई का डब्बा लेती हुई पूछी।

“श्वेता मिली थी हलवाई की दुकान पर उसी ने बताया इसलिए समोसों के साथ–साथ मिठाई भी ले आया। ” “और भी कुछ बतायी या बस यही। ”

“हां बतायी ना कि चार महीने की प्रशिक्षण हेतु तुम्हें विशाखपट्टण्म जाना होगा। ”

जिस बात को सोच कर मैं दिनभर तनाव में थी, उसे कितनी आसानी से दीपक कह गये।

“पर कैसे संभव है? बहुत मुश्किल होगी। मुझे समझ में नहीं आ रहा। छोड़िए–हटाइए, मुझे इच्छा भी नहीं जाने की। ”कहते हुए मैंने अपनी मनःस्थिति जाहिर कर दी।

“नहीं आहूति ऐसा मत सोचो² ऐसे मौके बार–बार नहीं आते। बस चार महीनों की ही तो बात है। वहाँ श्वेता की मौसी भी तो है ना, रहने का इन्तजाम कर देगी। ”दीपक ने मानो निर्णय सुना दिया।

आखिरकार मैं विशाखपट्टण्म के लिए ट्रेन में बैठ ही गई। बच्चे अपने–अपने अनुसार माँगे रखने लगे। दीपक मुझे हिम्मत के साथ–साथ नसीहत भी देते रहे। बच्चे और दीपक को छोड़कर जाना बहुत कष्टदायक लग रहा था। बार–बार यही ख्याल टीस रहा था, क्यों इतनी महत्वाकांक्षाÆ क्यों इतनी पदोन्नति की चाहÆ सब कुछ तो ठीक ही चल रहा था, मैं भी ना…। सोच–सोचकर सारा गुस्सा अपने पर मढ़ती रही। यहाँ श्वेता का साथ बहुत बल दे रहा था। मैं तो थोड़ी गुमसुम ही थी। श्वेता ही इधर–उधर की बातें बता रही थी। अभी तक वह प्रणय–बंधन में बंधी नहीं इसकारण हृदय–बंधन की तड़प से अंजान हँसती खिलखिलाती इस विशाल दुनिया में रमीं रहती है। प्रणय–बंधन दुनिया को सिमटा देती है। मेरी दुनिया तो सिमट चुकी है। मेरे प्राण भी उस कहानी वाले राक्षस के ही भांति है जो अपने प्राण को एक विशाल पीपल के पेड़ के ऊपर पींजडे, में रखा रहता था। मेरा तो उस घर में है जिसमें मैं पीली चुंदरी में सजी, नाक से माँग तक भखरा सिंदूर लगा, सोलहों श्रृंगार कर दीपक के साथ कार में बैठ कर आयी। कार रुकते ही दरवाजे पर औरतों का ज़मावड़ा लग गया। सासु माँ ने बगल की महिला के गोद से बच्चे को लेकर मेरी गोद में बिठा दिया। नन्हा प्यारा बच्चा मेरी गोद में आकर मेरे आभुषण युक्त सजे–धजे रंगीन चेहरे को किंकर्त्तव्यविमूढ़ देखता रहा। सासु माँ ने मेरी भरी माँग को फिर से भरा, गोबर के लड्डू औंछ कर फेकीं तथा दोनों गालों को पान के पत्ते से सेंका। पान के पत्ते में तो गर्माहट नहीं थी पर सासु माँ के खुमार से शीतकाल के ठिठुरते बच्चे को माँ की गर्म रजाई में घुसने का अतुल्य आनंद मेरे भीतर समा गया। सभी औरतों ने एक–एक कर ऐसा ही किया। बाँस की बड़ी–बड़ी दो दौरियाँ लायी गयी। मुझे उसी में उतारा गया। पीछे से दीपक भी उसी में खडे, हो गये। दही का चुकिया मेरे सिर पर रख दीपक उसे पकडे, हुए थे। बहुत मुश्किल लग रहा था उसमें चलना। ननद–भौजाई की हँसी–ठहाकों के साथ दौरी में पैर रख–रखकर ही देवता घर के चौखट तक आयी। चौखट पर खड़ी ननदों को हर्जाना देकर ही अंदर प्रवेश मिला। वही अनजान घर धीर–धीरे मेरी जान बन गयी थी। उसे छोड़कर जाना मेरी अंतःकरण को झकझोर रहा था।

कुछ ही देर के बाद पाँच–छह आदमी कड़बड़–कड़बड़ करते हुए हमारी बोगी में आये। उनकी भाषा बिलकुल हमारी समझ से परे थी। हाव–भाव से बस हम इतना ही समझ पाये कि उन लोगों की सीट भी इसी बोगी में है। सभी के सभी तंदुरुस्त और काले। काला कुर्ता, काला पायज़ामा और गले में लटकता हुआ गमछा भी काला। पैर में चप्पल भी नहीं। ललाट पर साधुओं के समान तिलक–मुद्रा। गले मे ताँबे की कड़ी से गुथी रुद्राक्ष की कई मालाएं। मुझे इन लोगों को देख कर कुछ डर सा लगने लगा। न चाहकर भी ध्यान उधर चला ही जाता। रात की हर करवट में भी मेरा भयभीत मन मेरी नजरों को एक बार इनकी ओर ढकेल ही देता। सर की उसी बात की तरह कि आँखें बंद करके कुछ भी सोचो उस बडे, काले बंदर को न सोचना और बार–बार वही काला बंदर सामने आ जाता है। आधी रात को उनको उतरते देख मेरे पूरे शरीर में शांति की लहर दौड़ गई। प्रशांत मन झपकी की आगोश में समा गया।

हम सुबह–सुबह ही विशाखपट्टण्म पहुंचे। रेलवे स्टेशन पर ही ‘कुली कावाला’, ‘इला रंडी–इला रंडी’ जैसे शब्दों को सुनते ही मैं अकबका गई। स्टेशन से बाहर निकलते ही सिर मुड़ायी हुई कई स्त्र्यिाँ दिखी। ये तो मेरे लिए बिलकुल अचंभा था क्यों कि मेरे यहाँ तो नारियों का सिर मुंडन बहुत अशुभ माना जाता है। यहाँ पर काले वेषधारी के साथ–साथ लाल वेषधारी भी दिखे। पुरुषों का लाल कुर्ता–पायजामा, लाल गमछा, बड़ी सी लाल बिंदी, हाथों में लाल चूड़ी, पैरों में महावर, सब लाल–लाल देखकर लगा कहाँ पहुँच गयी। भय भाग जाने को पे्ररित करने लगा। श्वेता ने बताया कि ये काले वाले स्वामी और लाल वाले भवानी हैं। इनका चालीस दिन का व्रत होता है। इस समय इनका पहनावा अलग, व्यवहार व खान–पान सब सात्विक होता है। डरने की कोई बात नहीं।

श्वेता की मौसी कूरमनापालेम में रहती थी जो स्टेशन से भी तीस–चालीस किलोमीटर दूर था। हम आटो से सीधे वहीं पहुंचे। मैं पूरे रास्ते आटो से बाहर इधर–उधर ही देखती रही। जगहों के नाम पढ़ना भी मेरे लिए मुश्किल था। सभी गोल–गोल ही नज़र आता, मानो अपने लिखे को गोल–गोल करके काट दिया गया हो। कूरमनापालेम का नाम हथेली में लिख कर याद की, यहाँ रहना जो था।

मौसी का मिलनसार व्यवहार देखकर मन प्रसन्न हो गया। वह मेरे रहने का इंतजाम बगल वालपर धीरे–धीरे सब काम अच्छे से कर देगी। सबसे अच्छी बात यह है कि ये थोड़ी–बहुत हिंदी भी जानती है। ” मैं खुश हो गयी सोची ‘यहाँ उपन्यास पढ़ने के लिए अच्छा समय मिल जाएगा, जम कर पढूंगी। ’ मैं और श्वेता तैयार होकर इस्पात निगम के टे्रनिंग एंड डवलपमेंट सेंटर पहुंचे, वही मेरा प्रशिक्षण होने वाला था। नाम पंजीकृत कराकर वापस आ गई।

दूसरे दिन सभी साथ मिलकर नेवी मेला गए। तरह–तरह के झूलों व खिलौनों को देखकर बच्चों की बहुत याद आई। अगले दिन रविवार को आऱ के़ बीच में तो नेवी का समुद्र में प्रदर्शन देखने लायक था, सोची अगली बार दीपक और बच्चों के साथ जरुर आऊंगी। उन्हें फोन पर ही सारा मंजर बयां की। बच्चों से भी बातें हुई, वे तो अपनी ही दुनियाँ में मस्त लगे। मैं पूछी “ मम्मी याद आती है” तो कहता है “थोला–थोला। ”

और यहाँ मैं जल बिन मछली, बछडे, बिन गाय सी। हम बडे, ही अपने को जल्दी ढ़ाल नहीं पाते। श्वेता के साथ तीन दिन बहुत अच्छे गुजरे। हर दिन कहीं–न–कहीं घूमते रहे। कोंडम्मा के कारण खाने–पीने की चिंता से भी निश्चि्ांत। पर खाने का स्वाद नया। बहुत चटकारा, खट्टा, तेल–मसाले से भरपूर। हर चीज में करी पत्ता। हम इसके इतने आदि न थे। ऊपर से पाचन के लिए सुबह शाम मट्ठा। मैं सोचती पेट को बिगाड़ना ही क्यों पर खा–पी लेती, कोंडम्मा के चाव के कारण…।

श्वेता के जाने के बाद और खराब लगने लगा। दिनभर बेगानों के बीच प्रशिक्षण केंद्र में रहती। घर लौटने की भी कोई बेचैनी नहीं जो पहले वहाँ दफ्तर में हुआ करती थी। वहाँ तो चार के बाद ध्यान बस घड़ी पर ही टिकी होती थी। यहाँ पर बस अनजान जगह के कारण जल्दी लौटना चाहती। वैसे यहाँ का माहौल बहुत अच्छा है, डरने जैसी कोई बात नहीं। घर में हो तो समय देखकर प्रशिक्षण केंद्र और केंद्र में हो तो समय देखकर घर। बस यही दिनचर्या बन गयी थी। हर समय यही लगता रहता कैसे कटेंगे चार महीने, दिन में कई बार मेरी नज़रें कैलेंडर पर दौड़ जाती। लगता जो समय पंख लगाकर उड़ रहा था, वह भी अपनी थकान मिटाने के लिए बैठ गया है। दिन कटना ही नहीं। यहाँ मौसी और कोंडम्मा का साथ डूबते को तिनके का सहारा सा था।

सुबह उठने के साथ चाय की तलब होती है।

“कोंडम्मा” कहती हुई मैं रसोई घर में गई।

“ऊंडु–ऊंडु” कहते हुए हाथ के इशारे से उसने मुझे वहीं रोक दिया। फिर मेरे चप्पल की ओर इशारा करके “जोडु–जोडु” कहने लगी। मैं समझ गई, मेरा चप्पल पहन कर रसोई में आना इसे पसंद नहीं। मैं वापस रसोई से बाहर जाकर चप्पल निकाल आयी।

चाय मांगने पर बोली “मैं बनाती पहले ब्रश कर कुछ खा, खाली पेट ना। ” मैं असमंजस में पड़ी चुपचाप बाहर निकल आयी। कोंडम्मा की अधिकार पूर्ण बातें कुछ अजीब लगी। थोड़ा गुस्सा भी आया। जानती हूँ कि वो रसोई को बहुत साफ–सुथरा रखती है, बिना स्नान के खुद भी अंदर नहीं आती, पर ऐसे टोकना उचित है क्याÆ मैं बच्ची तो नहीं…।

धीरे–धीरे मैं ही कोंडम्मा की बातों को मानने लगी। लगता, कौन समझाए, एक तो भाषा की भी समस्या।  माथापच्ची के बनिस्बत मानने में ही भलाई लगा। उठते के साथ जो चाय की तलब होती थी वह भी थोड़ी कम हो गयी पर वह ही हर सुबह मुस्कान बिखेरती हुई कहती “टी बनाती, ब्रश करो। ”

उसकी टूटी–फूटी हिंदी गुदगुदा जाती। बीच–बीच में मौसी भी बहुत सारी बातें बताती और तेलुगु शब्दों से परिचय कराती। हम दोनों मिलकर बहुत हँसते। कोई–कोई शब्द तो अंतरंग तक गुदगुदा देते। हमारी सभी बातों में कोंडम्मा न केवल साथ होती बल्कि मुस्काकर सहमति भी जताती। जुबान की भाषा से तो नहीं पर नजरों की भाषा से मैं उसकी ओर खिंचने लगी थी।

प्रशिक्षण केंद्र से आने के पश्चात् मैं उपन्यासों में ही खोई रहती। कोंडम्मा भी अपना काम खत्म कर चुपचाप मेरे पास ही बैठ जाती। मेरे पन्ना पलटने पर या चिंतन की मुद्रा देख, मुझे समझे बगैर ही अपने बारे में कुछ–न–कुछ बताने लगती। मेरे बारे में भी जानने की कोशिश करती। यहाँ पर उसकी टूटी–फूटी हिंदी भी मुझे समझाने में असमर्थ थी। आधी–अधूरी समझ मुझे उसके बारे में जानने को और अधिक उत्सुक कर गई। मौसी ने बताया कि इसकी शादी इसके मामा से हुई है।

“मामा से” मैं तपाक से पुछी।

मौसी ने समझाया कि “यहाँ मामा–भगिनी की शादी को बहुत ही शुभ माना जाता है। ” जबकि हमारे यहाँ तो मामा, भगिनी की पूजा करते हैं , शादी की सोच भी पाप है। इसके दो बेटे हैं। दोनों अच्छी नौकरी करते हैं। पत्नी और पैसा आ जाने के बाद बूढ़ी माँ भार लगने लगी। वैसे भी यहाँ शादी के बाद लड़के ससुराल के तरफ ज्यादा झुके रहते हैं हर पर्व–त्योहार में माँ के घर नहीं सास से आर्शीवाद लेने जाते हैं। इसका पति किसी और के चक्कर में है सारी कमाई उसे ही उढे,ल देता है। ये बहुत ही स्वाभिमानी औरत है, खुद कमा कर खाएगी किसी से एहसान नहीं लेगी।

धीरे–धीरे कोंडम्मा मेरे जेहन में समाने लगी। रोज सूर्योदय से पहले हल्दी लगाकर नहाती, पीले चेहरे पर बड़ी सी कुमकुम की बिंदी लगाती। बालों में फूल जरुर लगाती भले ही वो गेंदा या गुड़हल ही क्यों न हो। रोज ललिता–सत्यनारायण का पाठ पढ़ती। यहाँ बालों में फूल लगाने का प्रचलन अधिक है। वो कभी– कभी मेरे लिए भी गजरा या गुलाब लाती। लगाने के लिए कहती बताती इसे बहुत शुभ मानते है। मैं खुश होकर लगा लेती। लगता दीपक होते तो इतराकर दिखाती।

एक दिन मौसी के साथ पड़ोस की एक औरत आयीं। उसने मेरे माथे पर कुमकुम लगाया, मुस्काते हुए कहा– “ पापा की मैच्योर फंक्शन रंडी। ”

मकान में ही कर दी थी। साथ में एक कामवाली भी। मौसी ने कहा “आहूति, ये कोंडम्मा है थोड़ी बूढ़ी ह मैं अवाक उसे देख रही थी। वो मुस्काती रही। मुस्कान की भाषा सर्वोपरी थी। मुझे समझ तो आ गया कि ये मुझे अपने घर बुलाना चाहती है पर क्यों समझ नहीं आ रहा था। उसका माथे पर कुमकुम लगाकर निमंत्र्ण देने का अंदाज अच्छा लगा। मौसी ने बताया कि इसकी बेटी का मासिक धर्म शुरू हो गया है। उसी का समारोह है। कितना अजीब लगा सुनकर मैं कह नहीं सकती। हमारे यहाँ तो कोई इसका जिक्र भी नहीं करता और यहाँ पार्टी। मैं अवाक् उसकी मुस्कान से अपनी मुस्कान मिलाती रही।

“ओ के” मैंने मुस्काते हुए कहा।

मैं मौसी के साथ उपहार लेकर उस महिला के घर गयी। सभी महिलाएं सोने के भारी–भारी आभूषण, भारी पट्टू साड़ी पहनी हुई थी। उनके लंबे–लंबे बाल बेली फूल के गजरे से और भी अधिक खिल रहे थे। छोटी सी गुड़िया भी सोने के आभूषणों से लदी थी। वहीं पर बगल में एक प्लेट में पीला अक्षत व गुलाब की पंखुड़ी रखी हुई थी। सभी उस गुड़िया को आशीर्वाद देने के लिए लाइन में खडे, थे। इतनी भीड़ होने के बाद भी सभी कार्यक्रम व्यवस्थित तरीके से चल रहा था। मैं और मौसी भी लाइन में लग गए। हमने भी उसके सिर पर अक्षत डाला। उसका सिर चावल व गुलाब की पंखुड़ियों से भर गया था। वो तो और भी प्यारी दिख रही थी। हँस–हँस कर सबका सम्मान करती। उपहार लेती। बीस साल पहले का जमाना याद आया, जब मैंने माँ को बताया था और माँ मुझसे ढाई रस्सी कटवा कर कपड़ा बाँध दी थी। मैं शर्म से गड़ी जा रही थी।

खाना खाने के बाद जब हम जाने लगे तो उस महिला ने हमें उपहार दिया, साथ में ब्लाउज पीस, पान का पत्ता, सुपारी, हल्दी, कुमकुम और दो केला। ऐसे हुई हमारी वहाँ से बिदाई। मौसी ने बताया कि यहाँ सभी कार्यक्रमों में ऐसा ही होता है।

मुझे यहाँ जो सबसे अधिक परेशानी थी वह खाने में ही थी। मैं खुद बनाना चाहती थी पर कोंडम्मा को मेरा रसोई में आना मंजूर नहीं था। शायद वह मुझे ज्यादा सुख व आराम देना चाहती थी । “पढ़ो, मैं बनाती” कहकर मुझे हटा देती।

मैं उसकी भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचाना चाहती थी। उसके शौक से बनाए खानों को जबरन मुस्काते हुए खा लेती। एक दिन उसने बिरयानी बनाया बिलकुल अपने पुलाव जैसा उसके साथ प्याज का रायता दी, मुझे तो पुलाव के साथ आलुदम ही अच्छा लगता है मां ने शुरु से वैसा ही खिलाया, दीपक और बच्चों को भी तो वही अच्छा लगता है पर आज रायता के साथ खायी। रोज तरह–तरह के खाने, हर चीज में इमली। धीरे–धीरे इमली के रस से बना रसम और पुलुसू का स्वाद भी भाने लगा।

प्रशिक्षण केंद्र से आते समय कणिति बस स्टॉप पर गाड़ी रुकी। गुमटी में कोल्ड डिंक्स की बोतल देख दीपक की याद आयी। कभी–कभी वे घर आते वक्त ले आते थे। वो जानते है कि खाना खाने के बाद कोल्ड डिंरक्स पीना मुझे बहुत पसंद है। मैं स्प्राईट की एक बोतल ले ली। खाना खाने के बाद थोड़ा खुद ली और थोड़ा कोंडम्मा को भी दी।

कोंडम्मा को ये बिलकुल पसंद नहीं कि खाने के बाद मट्ठा के अलावा कुछ और भी पीया जाये। मुझे भी मना करने लगी। खुद तो चखी भी नहीं। मेरा देर रात तक जग कर पढ़ना उसे अच्छा नहीं लगता। कहती जल्दी सो जाओ देर रात तक जगने से हाजमा खराब हो जाती है। सुबह जल्दी उठा करो, थोड़ा टहलो, तबीयत अच्छी रहेगी। रात में जब तक मैं न सो जाऊं वहीं बैठी रहती। उसे देख मुझे लगता मेरी आजादी छिन गई, फिर मैं सो जाती। पहले सोची थी कि यहाँ देर रात तक चिंतामुक्त होकर आराम से पढ़ती रहूँगी। वहाँ चाहकर भी समय नहीं निकाल पाती थी। सुबह उठने की जल्दबाजी में जल्दी सोना पड़ता था। उल्टे यहाँ तो जल्दी सोने व जल्दी उठने की आदत बन गई। एक दिन ‘गीता’ ले आई। कही इसे रोज पढ़ो, इसमें बहुत शक्ति है। फिर रोज पूछती भी, ई रोज पढ़ा धीरे–धीरे भगवान कृष्ण की बातें जेहन में घुसने लगी, लगा ये तो जीवन–पुस्तिका है। जीवन की हर समस्या का समाधान है इसमें।

‘अक्षय तृतीया’ के दिन कोंडम्मा मुझे सिंहाचलम ले कर गई। हिरण्य कश्यप को मारकर जब भगवान पत्थर का रूप ले लिए थे उस पत्थर का दर्शन करवाया। आज के दिन ही केवल ‘चन्दन महोत्सव’ में भगवान को आवरण मुक्त किया जाता है। दर्शन कर मन शांत हो गया। प्रसाद में लड्डू ओर पुलिहौरा (नमकिन खट्टा चावल) मिला। प्रसाद में नमक, अजीब लगा पर लड्डू खाकर मन तृप्त हो गया, वह समय याद आया जब कॉलेज टूर में दक्षिण भारत गए थे और वहाँ हम सब दिन–भर लाइन लगाने के बाद रात में तिरूपति बालाजी का दर्शन कर पाए तथा लड्डू प्रसाद खाये थे। यहाँ भी लड्डू का वही स्वाद मज़ा आ गया। कुछ लड्डू दीपक और बच्चों के लिए भी ले ली। कल वापिस भी तो जाना है। पहाड़ी से उतरते समय गरमागरम जलेबी छनती दिखी। मैं खुद ली और कोंडम्मा को भी दी, पता चला उसे जलेबी पसंद नहीं। आग्रह करने पर भी वह चखी तक नहीं। मुझे बुरा लगा। मेरा चेहरा उतर गया, लगा उसे तनिक भी मेरी भावनाओं की चिंता नहीं।

दोपहर में प्रशिक्षण केंद्र जाकर अपना जरुरी कागज़ात ली। निकट के बाज़ार गाजुवाका जाकर बच्चों के लिए खिलौने व गेम सीडी ले आयी। सामान बांधने की चिंता हो रही थी। सोची पहले चाय पी ली जाए। कोंडम्मा को चाय बनाने के लिए कहने रसोई में जा ही रही थी कि दरवाजे पर ही कदम रुक गए, चप्पल निकाल कर अंदर गई। कोंडम्मा की द्रवित आँखें देख मन में तीर सी चुभी। मेरा जाना उसे भी वैसा ही कचोट रहा था जैसे कि मुझे। मुझे देख वह समझ गई, बोली– “चलो तुम सामान बांधो मैं टी लाती। ” मैं वापस आकर अपने काम में भिड़ गई। मैं कोंडम्मा को भी अपने साथ ले जाना चाहती थी पर मौसी ने बताया कि इसे कहीं भी मन नहीं लगता। कई बार इसके रिश्तेदार इसे यहाँ से ले जाना चाहे पर ये कहीं जाती नहीं। यदि कहीं जाती भी है तो, दो–चार दिन से अधिक कहीं नहीं रहती।

टे्रन में चा–चाय चिल्लाते हुए लड़के की आवाज से तंद्रा खुली। कोंडम्मा के साथ बिताये वात्सल्य भरे मधुर पल मेरे चेहरे पर सितारों सी छिटक गई। सुबह–सुबह चाय की तलब में चाय तो ले ली पर पी न सकी बिना ब्रश किये। सुबह के छः बजने वाले थे। रायपुर आने ही वाला था सोची अब सब घर में ही करूंगी। हाथ में चाय लिये–लिये माथा घनघनाता रहा। सोचती रही। कितना कुछ सीख ली इन चार महीनों में। किस चीज के साथ क्या खाना, घर को कैसे रखना, जल्दी सोना, जल्दी उठना, हर काम संयम के साथ करना, गीता पढ़ना। पर हर बार यही भाव उठता कि चाह कर भी मैं कोंडम्मा को कुछ ना सिखला सकी।

खिड़की से ही दीपक और बच्चों को देखकर आँखें छलक आयी।

……


परिचय

नाम –डॉ़ दीपा गुप्ता

जन्म – रामानुज गंज, छत्तीसगढ़, भारत

शिक्षा– एम ए(हिंदी), एल एल बी(स्वर्ण पदक), बी एड, पीएच डी

संप्रति– हिंदी प्राध्यापिका

माता– शारदा देवी

पिता–स्व़मदन प्रसाद गुप्ता

पति– श्री पवन कुमार गुप्ता(अभियंता)

संतान– बिपुल मृदुल

प्रकाशित रचनाएं– पवन…एक झोंका(काव्य–संग्रह), मृगतृष्णा( कहानी–संग्रह)

सम्मान– भारत–भारती सम्मान(जबलपुर, मध्य प्रदेश)भारत के अनमोल रत्न (तेजस्वी अस्तित्व

फाउंदेशन, दिल्ली)

पता– विल्ला नं़ 99, सरदार नेस्ट, गाजुवाका, विशाखापट्टणम, आंध्र प्रदेश, भारत, पिन–530044

COMMENTS

BLOGGER

विज्ञापन

----
--- विज्ञा. --

---***---

-- विज्ञापन -- ---

|ताज़ातरीन_$type=complex$count=8$com=0$page=1$va=0$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts$s=200

-- विज्ञापन --

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|लोककथाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|लघुकथाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|आलेख_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|काव्य जगत_$type=complex$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|संस्मरण_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

-- विज्ञापन --

|बच्चों के लिए रचनाएँ_$type=blogging$com=0$au=0$count=7$page=1$src=random-posts

|विविधा_$type=blogging$au=0$com=0$label=1$count=10$va=1$page=1$src=random-posts

 आलेख कविता कहानी व्यंग्य 14 सितम्बर 14 september 15 अगस्त 2 अक्टूबर अक्तूबर अंजनी श्रीवास्तव अंजली काजल अंजली देशपांडे अंबिकादत्त व्यास अखिलेश कुमार भारती अखिलेश सोनी अग्रसेन अजय अरूण अजय वर्मा अजित वडनेरकर अजीत प्रियदर्शी अजीत भारती अनंत वडघणे अनन्त आलोक अनमोल विचार अनामिका अनामी शरण बबल अनिमेष कुमार गुप्ता अनिल कुमार पारा अनिल जनविजय अनुज कुमार आचार्य अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ अनुज खरे अनुपम मिश्र अनूप शुक्ल अपर्णा शर्मा अभिमन्यु अभिषेक ओझा अभिषेक कुमार अम्बर अभिषेक मिश्र अमरपाल सिंह आयुष्कर अमरलाल हिंगोराणी अमित शर्मा अमित शुक्ल अमिय बिन्दु अमृता प्रीतम अरविन्द कुमार खेड़े अरूण देव अरूण माहेश्वरी अर्चना चतुर्वेदी अर्चना वर्मा अर्जुन सिंह नेगी अविनाश त्रिपाठी अशोक गौतम अशोक जैन पोरवाल अशोक शुक्ल अश्विनी कुमार आलोक आई बी अरोड़ा आकांक्षा यादव आचार्य बलवन्त आचार्य शिवपूजन सहाय आजादी आदित्य प्रचंडिया आनंद टहलरामाणी आनन्द किरण आर. के. नारायण आरकॉम आरती आरिफा एविस आलेख आलोक कुमार आलोक कुमार सातपुते आशीष कुमार त्रिवेदी आशीष श्रीवास्तव आशुतोष आशुतोष शुक्ल इंदु संचेतना इन्दिरा वासवाणी इन्द्रमणि उपाध्याय इन्द्रेश कुमार इलाहाबाद ई-बुक ईबुक ईश्वरचन्द्र उपन्यास उपासना उपासना बेहार उमाशंकर सिंह परमार उमेश चन्द्र सिरसवारी उमेशचन्द्र सिरसवारी उषा छाबड़ा उषा रानी ऋतुराज सिंह कौल ऋषभचरण जैन एम. एम. चन्द्रा एस. एम. चन्द्रा कथासरित्सागर कर्ण कला जगत कलावंती सिंह कल्पना कुलश्रेष्ठ कवि कविता कहानी कहानी संग्रह काजल कुमार कान्हा कामिनी कामायनी कार्टून काशीनाथ सिंह किताबी कोना किरन सिंह किशोरी लाल गोस्वामी कुंवर प्रेमिल कुबेर कुमार करन मस्ताना कुसुमलता सिंह कृश्न चन्दर कृष्ण कृष्ण कुमार यादव कृष्ण खटवाणी कृष्ण जन्माष्टमी के. पी. सक्सेना केदारनाथ सिंह कैलाश मंडलोई कैलाश वानखेड़े कैशलेस कैस जौनपुरी क़ैस जौनपुरी कौशल किशोर श्रीवास्तव खिमन मूलाणी गंगा प्रसाद श्रीवास्तव गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर ग़ज़लें गजानंद प्रसाद देवांगन गजेन्द्र नामदेव गणि राजेन्द्र विजय गणेश चतुर्थी गणेश सिंह गांधी जयंती गिरधारी राम गीत गीता दुबे गीता सिंह गुंजन शर्मा गुडविन मसीह गुनो सामताणी गुरदयाल सिंह गोरख प्रभाकर काकडे गोवर्धन यादव गोविन्द वल्लभ पंत गोविन्द सेन चंद्रकला त्रिपाठी चंद्रलेखा चतुष्पदी चन्द्रकिशोर जायसवाल चन्द्रकुमार जैन चाँद पत्रिका चिकित्सा शिविर चुटकुला ज़कीया ज़ुबैरी जगदीप सिंह दाँगी जयचन्द प्रजापति कक्कूजी जयश्री जाजू जयश्री राय जया जादवानी जवाहरलाल कौल जसबीर चावला जावेद अनीस जीवंत प्रसारण जीवनी जीशान हैदर जैदी जुगलबंदी जुनैद अंसारी जैक लंडन ज्ञान चतुर्वेदी ज्योति अग्रवाल टेकचंद ठाकुर प्रसाद सिंह तकनीक तक्षक तनूजा चौधरी तरुण भटनागर तरूण कु सोनी तन्वीर ताराशंकर बंद्योपाध्याय तीर्थ चांदवाणी तुलसीराम तेजेन्द्र शर्मा तेवर तेवरी त्रिलोचन दामोदर दत्त दीक्षित दिनेश बैस दिलबाग सिंह विर्क दिलीप भाटिया दिविक रमेश दीपक आचार्य दुर्गाष्टमी देवी नागरानी देवेन्द्र कुमार मिश्रा देवेन्द्र पाठक महरूम दोहे धर्मेन्द्र निर्मल धर्मेन्द्र राजमंगल नइमत गुलची नजीर नज़ीर अकबराबादी नन्दलाल भारती नरेंद्र शुक्ल नरेन्द्र कुमार आर्य नरेन्द्र कोहली नरेन्‍द्रकुमार मेहता नलिनी मिश्र नवदुर्गा नवरात्रि नागार्जुन नाटक नामवर सिंह निबंध नियम निर्मल गुप्ता नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’ नीरज खरे नीलम महेंद्र नीला प्रसाद पंकज प्रखर पंकज मित्र पंकज शुक्ला पंकज सुबीर परसाई परसाईं परिहास पल्लव पल्लवी त्रिवेदी पवन तिवारी पाक कला पाठकीय पालगुम्मि पद्मराजू पुनर्वसु जोशी पूजा उपाध्याय पोपटी हीरानंदाणी पौराणिक प्रज्ञा प्रताप सहगल प्रतिभा प्रतिभा सक्सेना प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार दाश दीपक प्रदीप कुमार साह प्रदोष मिश्र प्रभात दुबे प्रभु चौधरी प्रमिला भारती प्रमोद कुमार तिवारी प्रमोद भार्गव प्रमोद यादव प्रवीण कुमार झा प्रांजल धर प्राची प्रियंवद प्रियदर्शन प्रेम कहानी प्रेम दिवस प्रेम मंगल फिक्र तौंसवी फ्लेनरी ऑक्नर बंग महिला बंसी खूबचंदाणी बकर पुराण बजरंग बिहारी तिवारी बरसाने लाल चतुर्वेदी बलबीर दत्त बलराज सिंह सिद्धू बलूची बसंत त्रिपाठी बातचीत बाल कथा बाल कलम बाल दिवस बालकथा बालकृष्ण भट्ट बालगीत बृज मोहन बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष बेढब बनारसी बैचलर्स किचन बॉब डिलेन भरत त्रिवेदी भागवत रावत भारत कालरा भारत भूषण अग्रवाल भारत यायावर भावना राय भावना शुक्ल भीष्म साहनी भूतनाथ भूपेन्द्र कुमार दवे मंजरी शुक्ला मंजीत ठाकुर मंजूर एहतेशाम मंतव्य मथुरा प्रसाद नवीन मदन सोनी मधु त्रिवेदी मधु संधु मधुर नज्मी मधुरा प्रसाद नवीन मधुरिमा प्रसाद मधुरेश मनीष कुमार सिंह मनोज कुमार मनोज कुमार झा मनोज कुमार पांडेय मनोज कुमार श्रीवास्तव मनोज दास ममता सिंह मयंक चतुर्वेदी महापर्व छठ महाभारत महावीर प्रसाद द्विवेदी महाशिवरात्रि महेंद्र भटनागर महेन्द्र देवांगन माटी महेश कटारे महेश कुमार गोंड हीवेट महेश सिंह महेश हीवेट मानसून मार्कण्डेय मिलन चौरसिया मिलन मिलान कुन्देरा मिशेल फूको मिश्रीमल जैन तरंगित मीनू पामर मुकेश वर्मा मुक्तिबोध मुर्दहिया मृदुला गर्ग मेराज फैज़ाबादी मैक्सिम गोर्की मैथिली शरण गुप्त मोतीलाल जोतवाणी मोहन कल्पना मोहन वर्मा यशवंत कोठारी यशोधरा विरोदय यात्रा संस्मरण योग योग दिवस योगासन योगेन्द्र प्रताप मौर्य योगेश अग्रवाल रक्षा बंधन रच रचना समय रजनीश कांत रत्ना राय रमेश उपाध्याय रमेश राज रमेशराज रवि रतलामी रवींद्र नाथ ठाकुर रवीन्द्र अग्निहोत्री रवीन्द्र नाथ त्यागी रवीन्द्र संगीत रवीन्द्र सहाय वर्मा रसोई रांगेय राघव राकेश अचल राकेश दुबे राकेश बिहारी राकेश भ्रमर राकेश मिश्र राजकुमार कुम्भज राजन कुमार राजशेखर चौबे राजीव रंजन उपाध्याय राजेन्द्र कुमार राजेन्द्र विजय राजेश कुमार राजेश गोसाईं राजेश जोशी राधा कृष्ण राधाकृष्ण राधेश्याम द्विवेदी राम कृष्ण खुराना राम शिव मूर्ति यादव रामचंद्र शुक्ल रामचन्द्र शुक्ल रामचरन गुप्त रामवृक्ष सिंह रावण राहुल कुमार राहुल सिंह रिंकी मिश्रा रिचर्ड फाइनमेन रिलायंस इन्फोकाम रीटा शहाणी रेंसमवेयर रेणु कुमारी रेवती रमण शर्मा रोहित रुसिया लक्ष्मी यादव लक्ष्मीकांत मुकुल लक्ष्मीकांत वैष्णव लखमी खिलाणी लघु कथा लघुकथा लतीफ घोंघी ललित ग ललित गर्ग ललित निबंध ललित साहू जख्मी ललिता भाटिया लाल पुष्प लावण्या दीपक शाह लीलाधर मंडलोई लू सुन लूट लोक लोककथा लोकतंत्र का दर्द लोकमित्र लोकेन्द्र सिंह विकास कुमार विजय केसरी विजय शिंदे विज्ञान कथा विद्यानंद कुमार विनय भारत विनीत कुमार विनीता शुक्ला विनोद कुमार दवे विनोद तिवारी विनोद मल्ल विभा खरे विमल चन्द्राकर विमल सिंह विरल पटेल विविध विविधा विवेक प्रियदर्शी विवेक रंजन श्रीवास्तव विवेक सक्सेना विवेकानंद विवेकानन्द विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक विश्वनाथ प्रसाद तिवारी विष्णु नागर विष्णु प्रभाकर वीणा भाटिया वीरेन्द्र सरल वेणीशंकर पटेल ब्रज वेलेंटाइन वेलेंटाइन डे वैभव सिंह व्यंग्य व्यंग्य के बहाने व्यंग्य जुगलबंदी व्यथित हृदय शंकर पाटील शगुन अग्रवाल शबनम शर्मा शब्द संधान शम्भूनाथ शरद कोकास शशांक मिश्र भारती शशिकांत सिंह शहीद भगतसिंह शामिख़ फ़राज़ शारदा नरेन्द्र मेहता शालिनी तिवारी शालिनी मुखरैया शिक्षक दिवस शिवकुमार कश्यप शिवप्रसाद कमल शिवरात्रि शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी शीला नरेन्द्र त्रिवेदी शुभम श्री शुभ्रता मिश्रा शेखर मलिक शेषनाथ प्रसाद शैलेन्द्र सरस्वती शैलेश त्रिपाठी शौचालय श्याम गुप्त श्याम सखा श्याम श्याम सुशील श्रीनाथ सिंह श्रीमती तारा सिंह श्रीमद्भगवद्गीता श्रृंगी श्वेता अरोड़ा संजय दुबे संजय सक्सेना संजीव संजीव ठाकुर संद मदर टेरेसा संदीप तोमर संपादकीय संस्मरण संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018 सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन सतीश कुमार त्रिपाठी सपना महेश सपना मांगलिक समीक्षा सरिता पन्थी सविता मिश्रा साइबर अपराध साइबर क्राइम साक्षात्कार सागर यादव जख्मी सार्थक देवांगन सालिम मियाँ साहित्य समाचार साहित्यिक गतिविधियाँ साहित्यिक बगिया सिंहासन बत्तीसी सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध सीताराम गुप्ता सीताराम साहू सीमा असीम सक्सेना सीमा शाहजी सुगन आहूजा सुचिंता कुमारी सुधा गुप्ता अमृता सुधा गोयल नवीन सुधेंदु पटेल सुनीता काम्बोज सुनील जाधव सुभाष चंदर सुभाष चन्द्र कुशवाहा सुभाष नीरव सुभाष लखोटिया सुमन सुमन गौड़ सुरभि बेहेरा सुरेन्द्र चौधरी सुरेन्द्र वर्मा सुरेश चन्द्र सुरेश चन्द्र दास सुविचार सुशांत सुप्रिय सुशील कुमार शर्मा सुशील यादव सुशील शर्मा सुषमा गुप्ता सुषमा श्रीवास्तव सूरज प्रकाश सूर्य बाला सूर्यकांत मिश्रा सूर्यकुमार पांडेय सेल्फी सौमित्र सौरभ मालवीय स्नेहमयी चौधरी स्वच्छ भारत स्वतंत्रता दिवस स्वराज सेनानी हबीब तनवीर हरि भटनागर हरि हिमथाणी हरिकांत जेठवाणी हरिवंश राय बच्चन हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन हरिशंकर परसाई हरीश कुमार हरीश गोयल हरीश नवल हरीश भादानी हरीश सम्यक हरे प्रकाश उपाध्याय हाइकु हाइगा हास-परिहास हास्य हास्य-व्यंग्य हिंदी दिवस विशेष हुस्न तबस्सुम 'निहाँ' biography dohe hindi divas hindi sahitya indian art kavita review satire shatak tevari undefined
नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3751,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,325,ईबुक,181,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,233,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2730,कहानी,2039,कहानी संग्रह,223,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,482,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,129,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,82,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,309,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,325,बाल कलम,22,बाल दिवस,3,बालकथा,47,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,211,लघुकथा,791,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,16,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,302,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,57,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1864,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,616,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,668,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,49,साहित्यिक गतिविधियाँ,179,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,51,हास्य-व्यंग्य,51,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 56 : कुछ न सिखला सकी // डॉ़. दीपा गुप्ता
संस्मरण लेखन पुरस्कार आयोजन - प्रविष्टि क्र. 56 : कुछ न सिखला सकी // डॉ़. दीपा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-ufDk3RbabfY/WquF_qkeXVI/AAAAAAAA_iI/kza6A3GMltY9SmCMYphAB-Jx-28iFcqywCHMYCw/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-ufDk3RbabfY/WquF_qkeXVI/AAAAAAAA_iI/kza6A3GMltY9SmCMYphAB-Jx-28iFcqywCHMYCw/s72-c/image_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/03/56.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/03/56.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ