'कुछ दूर तो चलकर देखो' अभिरंग का सांस्कृतिक भ्रमण

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

IMG_8191

दिल्ली। फाउंडेशन फ़ॉर क्रिएटिविटी एंड कम्युनिकेशन के सहयोग से हिन्दू कालेज की नाट्य संस्था अभिरंग ने सांस्कृतिक भ्रमण का आयोजन किया। बुधवार को हुई इस यात्रा का शीर्षक 'कुछ दूर तो चलकर देखो' था। जाने माने नाटककार और यात्रा आख्यानकार असग़र वजाहत के निर्देशन में युवा कलाकारों को ग़ालिब की हवेली, जामा मस्जिद और गुरुद्वारा शीशगंज साहिब के दर्शन किये। असग़र वजाहत ने भारत की सामासिक संस्कृति से जुड़े अनेक प्रसंग और इन स्थानों से जुड़े ऐतिहासिक वृतांतों की जानकारी दी। उन्होंने जामा मस्जिद के निर्माण की जानकारियां तथा इससे जुड़ी किंवदन्तियां भी बताई। यहाँ सूफी संत सरमद और औरंगजेब के प्रसंगों तथा जामा मस्जिद के वास्तुकार खलील के बारे मे जानना विद्यार्थियों को बेहद रोचक लगा। जामा मस्जिद से गली कासिमजान जाते हुए प्रो वजाहत ने मीर तक़ी मीर के प्रसिद्ध शेर - 'कूचे न थे दिल्ली के औराक़ ए मुसव्विर थे, जो शक्ल नजर आई तस्वीर नजर आई' को सुनना विद्यार्थियों के लिए विरासत का हृदयस्पर्शी चित्रण था। गालिब की शायरी के महत्त्व को बताते हुए उन्होंने कहा कि वे भारत के पहले आधुनिक लेखक हैं। प्रो वजाहत ने गुरु तेगबहादुर की शहादत और गुरुद्वारे के ऐतिहासिकता के कुछ प्रसंग भी बताए। इससे पहले अभिरंग के परामर्शदाता डॉ पल्लव ने टूरिज्म और सोशल टूरिज्म का भेद बताते हुए कहा कि असग़र वजाहत के यात्रा आख्यान सोशल टूरिज्म के दस्तावेज हैं। भ्रमण में हिन्दू कालेज के युवा रंगकर्मियों की अनेक जिज्ञासाओं के उत्तर भी प्रो वजाहत ने दिया। अभिरंग की तरफ से रंग निर्देशक आशीष मोदी ने प्रो वजाहत को स्मृति चिह्न भेंट किया। अंत में अभिरंग के संयोजक पीयूष पुष्पम ने सभी का आभार प्रदर्शित किया और चाँदनी चौक की प्रसिद्ध बेड़मी पूरी का रसास्वादन किया।

पीयूष पुष्पम

संयोजक

अभिरंग

हिन्दू कालेज, दिल्ली

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "'कुछ दूर तो चलकर देखो' अभिरंग का सांस्कृतिक भ्रमण"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.