लघुकथा // अहंकार // राजेश माहेश्वरी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

दिनेश के दुबे की कलाकृति

महेश अपने माता पिता का इकलौता बेटा था। वह पढ़ाई में भी बहुत होशियार था। उसके माता पिता को उससे काफी आशायें थी। उनकी हार्दिक अभिलाषा थी कि वह आइ.ए.एस में उत्तीर्ण होकर उच्च अधिकारी के रूप में देश की सेवा करे। उसकी शिक्षा के लिये उन्होंने अपना घर गिरवी रखकर धन का प्रबंध किया। वे नौकरी पेशा व्यक्ति थे जो किसी तरह अपना घर चला रहे थे। उनकी पत्नी, बेटे की सफलता के लिये प्रतिदिन ईश्वर से प्रार्थना करती थी।

महेश के कठोर परिश्रम और प्रभु कृपा से उसका चयन आइ.ए.एस में हो गया जिससे उसके माता पिता अत्यंत प्रसन्न हो गये। विशेष प्रशिक्षण पाकर जब वह घर वापस आता है तो अपनी माता का अभिवादन तो करता है परंतु पिता से अनमने ढंग से बात करता है। उसके इस व्यवहार से माता पिता को दुख पहुँचता है और वे महसूस करते है कि उसे पद का घमंड हो गया है। वह मन में सोचता था कि उसके पिता का पद उसके सामने कुछ भी नहीं है।

एक दिन जब माँ के द्वारा उसकी शिक्षा हेतु पिताजी के द्वारा किये गये त्याग का पता होता है तो उसका घमंड खत्म होकर उसे स्वयं के व्यवहार पर अत्यंत दुख एवं लज्जा महसूस होती है। अब वह अपने पिता से सामान्य व्यवहार करने लगता है परंतु पिता उसे उपेक्षित करने लगते है वह समझ जाता है कि उसकी बातों से पिता को बहुत दुख पहुँचा है।

वह अपने पिता के चरण छूकर माफी माँगता है और कहता है कि उनका ऋण वह कभी नहीं चुका सकता। पिता अपने सब गिले शिकवे भूलकर उसे गले से लगाकर कहते है कि अहंकार ही सबसे बडी कठिनाई है जो व्यक्ति के पतन का कारण बनता है, तुमने समय रहते इसे पहचान लिया है। अब जीवन में सफलता तुम्हारे कदम चूमेगी।


परिचय

राजेश माहेश्वरी का जन्म मध्यप्रदेश के जबलपुर शहर में 31 जुलाई 1954 को हुआ था। उनके द्वारा लिखित क्षितिज, जीवन कैसा हो व मंथन कविता संग्रह, रात के ग्यारह बजे एवं रात ग्यारह बजे के बाद ( उपन्यास ), परिवर्तन, वे बहत्तर घंटे, हम कैसें आगे बढ़े एवं प्रेरणा पथ कहानी संग्रह तथा पथ उद्योग से संबंधित विषयों पर किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं।

वे परफेक्ट उद्योग समूह, साऊथ एवेन्यु मॉल एवं मल्टीप्लेक्स, सेठ मन्नूलाल जगन्नाथ दास चेरिटिबल हास्पिटल ट्रस्ट में डायरेक्टर हैं। आप जबलपुर चेम्बर ऑफ कामर्स एवं इंडस्ट्रीस् के पूर्व चेयरमेन एवं एलायंस क्लब इंटरनेशनल के अंतर्राष्ट्रीय संयोजक के पद पर भी रहे हैं। लेखक को पाथेय सृजन सम्मान एवं जबलपुर चेंबर ऑफ कामर्स द्वारा साहित्य सृजन हेतु लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

आपने अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी, फ्रांस, इंग्लैंड, सिंगापुर, बेल्जियम, नीदरलैंड, स्विट्जरलैंड, हांगकांग आदि सहित विभिन्न देशों की यात्राएँ की हैं। वर्तमान में आपका पता 106 नयागांव हाऊसिंग सोसायटी, रामपुर, जबलपुर (म.प्र) है।

प्रकाशित पुस्तकें -

क्षितिज - कविता संग्रह - प्रकाशक - जबलपुर चेम्बर ऑफ कामर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज।

जीवन कैसा हो, मन्थन - कविता संग्रह - प्रकाशक - राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली।

परिवर्तन, वे बहत्तर घण्टे - कहानी संग्रह - प्रकाशक - राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली।

रात के 11 बजे - उपन्यास - प्रकाशक - राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली।

पथ - लघु उपन्यास - प्रकाशक - राधाकृष्ण प्रकाशन, नई दिल्ली।

हम कैसे आगे बढ़े - कहानी संग्रह - प्रकाशक - पी∙एम∙ पब्लिकेशन, नई दिल्ली।

प्रेरणा पथ - कहानी संग्रह - प्रकाशक - पी∙एम∙ पब्लिकेशन, नई दिल्ली।

रात 11 बजे के बाद - उपन्यास - प्रकाशक - पी∙एम∙ पब्लिकेशन, नई दिल्ली।

जीवन को सफल नही सार्थक बनाए - प्रकाशक - कहानी संग्रह - प्रकाशक - ग्रंथ अकादमी , नई दिल्ली ।

92 गर्लफ्रेन्ड्स - उपन्यास - इंद्रा पब्लिकेशन, भोपाल।

संपर्क -

RAJESH MAHESHWARI

106, NAYAGAON CO-OPERATIVE

HOUSING SOCIETY, RAMPUR,

JABALPUR, 482008 [ M.P.]

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "लघुकथा // अहंकार // राजेश माहेश्वरी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.