डॉ. श्याम गुप्त की कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

कवि ! गुनुगुनाओ आज.....

 
कवि ! गुनगुनाओ आज ,
एसा गीत कोई ।

बहने लगे रवि रश्मि से भी,
प्रीति की शीतल हवाएं ।
प्रेम के संगीत सुर को-
लगें कंटक गुनगुनाने |
द्वेष द्वंद्वों के ह्रदय को -
रागिनी के स्वर सुहाएँ.

वैर और विद्वेष को ,
भाने लगे प्रिय मीत कोई ||

अहं में जो स्वयं को
जकडे हुए |
काष्ठवत और लोष्ठ्वत
अकड़े खड़े |
पिघलकर -
नवनीत बन जाएँ सभी |

देश के दुश्मन, औ आतंकी यथा-
देश द्रोही और द्रोही-
राष्ट्र  और समाज के;
जोश में भर लगें
वे भी गुनगुनाने,
राष्ट्र भक्ति के वे -
शुचि सुन्दर  तराने |

आज अंतस में बसालें ,
सुहृद सी ऋजु नीति कोई ||



वे अकर्मी औ कुकर्मी जन सभी
लिप्त हैं जो-
अनय और अनीति में |
अनाचारों का तमस-
चहुँ ओर फैला ;
छागये घन क्षितिज पर अभिचार के |
धुंध फ़ैली, स्वार्थ, कुंठा, भ्रम
  तथा अज्ञान की |
ज्ञान का इक दीप
जल जाए सभी में |

सब अनय के भाव , बन जाएँ -
विनय की रीति कोई ||

000000000000000000

१. पीर ज़माने की.... ग़ज़ल --

उसमें घुसने की मुझको ही मनाही है |
दरो दीवार जो मैंने ही बनाई है |

मैं ही सज़दे के काबिल नहीं उसमें,
ईंट दर ईंट मस्जिद मैंने ही चिनाई है |

पुस्तक के पन्नों मे उसी का ज़िक्र नहीं ,
पन्नों पन्नों ढली वो बेनाम स्याही है |

लिख दिए हैं ग्रंथों पर किस किस के नाम,
अक्षर अक्षर तो कलम की लिखाई है |

2.बुरी आदत है ---- ग़ज़ल---

माना की हमें कदमों पे झुकने की बुरी आदत है

नक़्शे कदम पे गैरों के चलने की बुरी आदत है |


रही है अपनी मेधा हज़ारों साल तक बंधक,

माना की हमें गुलामी में रहने की बुरी आदत है |


सिर्फ एक यही वज़ह नहीं कि पिछलग्गू हैं हम,

अपनी संस्कृति को भूलने की बुरी आदत है |


अपनी प्राचीन दीवारों से सबक लेकर हमें,

नयी दीवारें खडी न करने की बुरी आदत है |


अपनी संस्कृति के चन्दन की सुगंध भूल,

मिलावटी गंध पे लुटने की बुरी आदत है |


बहुत खो चुके, अब तो समझें कि ज़िंदा कौम हैं हम,

जिसको देश की मिट्टी पे मिटने की बुरी आदत है |


दुनिया फिर चलेगी तेरे नक़्शे कदम पे श्याम,

तुझे नवसृजन के गीत गढ़ने की बुरी आदत है ||

गगनचुम्बी अटारियों पर  है सब की नज़र,
नींव के पत्थर की सदा किसको सुहाई है |

सज संवर के इठलाती तो हैं इमारतें, पर,
अनगढ़ पत्थरों की पीर नींव में समाई है |

वो दिल तो कोई दिल ही नहीं जिसमें,
भावों की नहीं बजती शहनाई  है |

इस सूरतो-रंग का क्या फ़ायदा श्याम,
जो मन नहीं पीर ज़माने की समाई है ||

.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "डॉ. श्याम गुप्त की कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.