370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

व्यंग्य // ईट इंडिया प्रोग्राम // यशवंत कोठारी

मित्रों ,इन दिनों मैं ईट इंडिया प्रोग्राम में व्यस्त हूँ. चाय-पकौड़ों से निपटा तो भटूरे-छोले आ गये.इनसे निपटा तो काजू बादाम की प्लेट आ गई. जो लोग डिजिटल इंडिया ,मेक इन इंडिया.कैश लेस इंडिया,क्लीन इंडिया स्टार्ट अप इंडिया स्किल इंडिया,स्मार्ट इंडिया,बुलेट इंडिया के गीत गा रहे हैं उनसे निवेदन है मेरे ईट इंडिया प्रोग्राम में शामिल हो.असली मज़ा यहीं है .बिहार में सात दिन में आठ लाख से ज्यादा शौचालय बन गए.ये है ईट इंडिया के मज़े.थोड़े दिनों के बाद शौचालय घोटाले के समाचारों के लिए तैयार रहिये. ईट इंडिया कार्यक्रम में सबका स्वागत है,बहनों और भाइयों फिर न कहना खबर न हुईं.

गरीबों के लिए ईट इंडिया प्रोग्राम के लिए कोई जगह नहीं है.ये आनंद केवल अमीरों,नौकर शाहों, नेताओं, उद्ध्योग पतियों के लिए है. बैंकों से माल लो विदेश भाग जाओ.आई .पी ल कराओ मॉल जिमो और ईट इंडिया में अपनी जिम्मेदारी निभाओ. इंडिया को आप भी खाओ और मुझे भी खाने दो.जो नहीं खाने की बात करते थे उनके दल में सबसे ज्यादा माल जमा हुआ,और मित्रों यह तो सफ़ेद लक्ष्मी है काली लक्ष्मी के बारे में सोचो. आखिर हर चुनाव के बाद बाज़ार में इतना पैसा आता कहाँ से है? ईट इंडिया के कारण ही हर एम् अल ए एम् पी हर चुनाव में करोड़ों खर्च कर रहा है,फिर वसूल कर रहा है. ईट इंडिया प्रोग्राम जिन्दाबाद.

इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए हमने क्या नहीं किया? हमने साधु को मुख्यमंत्री बना दिया , बाबा को व्यापारी बना दिया, व्यापारी को लोन ले कर विदेश भागने की सुविधा दे दी. कुछ अपनों को केबिनेट के बाहर केबिनेट दे दी ,कुछ को राज्य मंत्री का दर्जा दे दिया.जो बचे उनको इस योजना में निगमों बोर्डों में बैठा दिया.हमने नए सचिव बना दिये जो निर्धारित पात्रता नहीं रखते.हमने नोट बंदी कर दी .हमने देश के गरीबों के खाते बेंक में खुलवा दिए.हमने इन खातों से लाभ ले लिया.चार कदम सूरज की ओर जाने के लिए हमने शाइनिंग इंडिया का नारा दिया.हम विदेश गए.जो किया जा सकता है वो सब किया जा रहा है. फिर भी जनता नहीं समझती हैं .हमने बलात्कार से पीड़ित के बाप को मरवा दिया.विधायक को खुला छोड़ दिया.नियम से जितने मंत्री बन सकते थे उनसे दोगुना को मंत्री पद के लाभ दे दिए.और क्या करे ? बोल बाबा और क्या करे? हमने दलितों अल्प संख्यकों को दूसरे दर्जे का नागरिक बना दिया .देख तमाशा ज़माने का .अत्याचार अब बंद हो गए हैं सब ईट इंडिया में व्यस्त हैं.बेरोजगारों को हमने भीड़ का काम दे दिया है,जहाँ भी भीड़ चाहिए इनको काम दे देते हैं.

विपक्ष देश के विकास में रोड़े अटकाता है ,काम नहीं करने देता मगर सरकार सभी रोड़ों को किनारे कर के विकास के मार्ग पर तेज़ी से बढ़ती जा रही है . ईट इंडिया प्रोग्राम जा री है.सब का साथ सबका विकास जारी है.

संतों, असंतों घोंगा बसंत मत बनो ,इस प्रोग्राम का महत्व समझो. ये सब योजनायें आप के लिए लायें हैं.

शोर शराबे से गुमराह मत होइए. यह सब तो लोक तंत्र में चलता रहता है. और हमारा प्रोग्राम भी चलता रहता है,चलता रहेगा.काले झंडों से कुछ नहीं होता.

हमारे पास आंकड़ों का ऐसा माया जाल है की हम हत्या को आत्महत्या और बलात्कार को विदेशी हरकत बता सकते हैं. आप लोग समझते क्यों नहीं?

गरीबी हटाने का यह सबसे अचूक और आसान इलाज है. देश को प्लेट समझ लो,बस सब ठीक हो जायगा. हमने हर योजना में पूरा ध्यान रखा है.बाबा ने साफ कह दिया निचले स्तर पर रिश्वत की रेट बढ़ गयी है.इस प्रोग्राम में भी यह नियम लागू है .

साहित्य कला संस्कृति में भी हमने ईट इंडिया प्रोग्राम शुरू कर दिया है.वेतन भत्तों के बाद जो बचेगा उसे ईट इंडिया प्रोगाम में शामिल कर दिया जायगा,वैसे कुछ बचेगा इसमें पूरा संशय है.इस क्रम में हमने पुरस्कारों की मेरा थन दोड़ शुरू कर दी है जो ज्यादा तेज दौडेगा उसे सम्मानित किया जायगा.

ईट इंडिया कार्य क्रम में आप सबका स्वागत है.आईये हुजूर .

००००००००००००००००००००००००००००००००००००

यशवंत कोठारी ,८६,लक्ष्मी नगर ब्रह्मपुरी बाहर जयपुर-३०२००२

व्यंग्य 283081291047200045

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव