रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 4 - माँ जो धूल में बदल गयी // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

देश विदेश की लोक कथाएँ — दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ अंगोला, बोट्सवाना, लिसोठो, मलावी, मोरेशस, मौज़ाम्बीक, नामिबिया, स्वाज़ीलैंड, जाम्बिया, ज़...

clip_image002_thumb

देश विदेश की लोक कथाएँ — दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ

अंगोला, बोट्सवाना, लिसोठो, मलावी, मोरेशस, मौज़ाम्बीक, नामिबिया, स्वाज़ीलैंड, जाम्बिया, ज़िम्बाब्वे

clip_image004

संकलनकर्ता

सुषमा गुप्ता

---

4 माँ जो धूल में बदल गयी[1]

यह लोक कथा दक्षिणी अफ्रीका के मलावी देश में कही सुनी जाती है। एक बार की बात है कि भगवान सूरज की एक बेटी थी। अपने पिता की तरह से वह भी एक चमकता हुई तारा थी। बल्कि वह अपने पिता सूरज से भी ज़्यादा चमकदार थी।

वह तारों की सीपियों के बने जूते पहनती थी और अपनी उँगलियों पर, पैरों में, कलाइयों में और कमर में गिरते हुए तारों की चमक पहनती थी।

इन सबको पहन कर वह बहुत चमक जाती और सूरज से भी ज़्यादा दूर तक अपनी रोशनी फैलाती। वह वहाँ बड़ी अक्लमन्दी और प्रेम के साथ राज करती थी।

एक दिन वह अपने राज्य के अनगिनत ग्रहों को देखने के लिये निकली तो उसने दूर एक कोने में एक ग्रह देखा। वह रास्ते से थोड़ा हट कर था – करीब करीब सूरज की उँगलियों के कोने पर। वह हरे और नीले रंग का था।

उसने उसको फिर से देखा और सूरज से बोली — “उस ग्रह पर, वहाँ मुझे अपनी गद्दी चाहिये पिता जी। मैं अपनी ज़िन्दगी उस हरे और नीले रंग की ठंडक में गुजारना चाहती हूँ।

सूरज ने एक आह भरी, फिर उसने और सितारों की तरफ देखा और फिर एक आह भरी। उसकी आँखें आगे के बहुत साल देख सकती थीं।

उसने कहा — “सब कुछ तुम्हारा है बेटी। तुम जहाँ जाना चाहो वहाँ जाओ और जो करना चाहो वह करो। पर इतना जान लो कि अगर तुम वहाँ गयीं तो तुमको अपनी बहुत सारी ताकत यहीं छोड़ कर जानी पड़ेगी।

तुम्हारा साफ रोशनी का यह चमकीला कोट, तारों की सीपी के बने तुम्हारे ये जूते, तुम्हारी पाजेब[2] और ये कंगन और माला जो सुबह और शाम के तारों की चमक से बने हैं – ये सब तुम वहाँ नहीं ले जा सकोगी।

उस ग्रह का हरा रंग बहुत ही नाजुक है वह तुम्हारी चमक की गरमी को सहन नहीं कर सकता और नीला रंग तो बिल्कुल ही सूख जायेगा।

हाँ तुम अपनी इस चमकीली पोशाक के बदले में तीन वरदान[3] लेना चाहो तो ले सकती हो जो तुरन्त ही बिना किसी शर्त के पूरे किये जा सकते हैं।

वह बोली — “ठीक है तो मुझे सोचने दीजिये पिता जी। ”

सो वह बरसों तक सोचती रही कि वह क्या करे। क्योंकि इस दुनिया में तो तारों और सूरज का यही तरीका है कि किसी भी काम को होने में बरसों लगते है हालाँकि उनके लिये वह समय एक पलक झपकने के बराबर का ही होता है।

clip_image004_thumb

सो बरसों सोचने के बाद उसने अपना इरादा बना लिया। उसने सोच लिया कि वह अपना कोट, अपना सुबह का शाल[4], तारों की सीपी से बने अपने जूते, शाम से बनी अपनी सैन्डिल, शाम के बाद की चमक से बने अपने स्लिपर, सब कुछ यहीं छोड़ देगी और उस हरे नीले ग्रह पर जायेगी।

उसने यह सब सूरज को सौंपा और बोली — “पिता जी, मैने सोच लिया है। अब मैं हरे और नीले ग्रह पर जाऊँगी और उस ग्रह की माँ बनूँगी। ”

सूरज बोला — “तुमको जो चाहिये वह सब तुम ले जाओ पर साथ में यह भी सुनती जाओ कि तुम यहाँ पर बहुत याद की जाओगी। हालाँकि हम तुमको यहाँ से हमेशा और रोज देखते रहेंगे फिर भी यहाँ आने के लिये तुम्हारा हमेशा स्वागत है।

और एक बात और कि हमारी ये किरनें तुम्हारे इस नये शरीर के लिये तुम्हारे उस छोटे से ग्रह पर हमेशा ही अच्छी नहीं रहेंगीं। ”

सो सूरज के चारों तरफ अँगूठियाँ, पाजेबें, कंगन और तारों की मालाओं की कतार लग गयी और सारे आसमान में बिखर गयी जैसे दूध बिखर जाता है।

वे सब इस तरह से सज गये कि सूरज की बेटी उनको अपने नये हरे और नीले ग्रह से देख सके और याद रख सके कि वह कहाँ से आयी थी।

आखिर में वह चली, पहले एक तारे पर चढ़ कर जो समय और दूरी के साथ साथ अपनी एक लाइन बनाता गया। उसके बाद वह दिन की सुबह की कोमलता में रोशनी की एक किरन पर चढ ,कर गयी। पर अभी भी उसको बहुत दूर जाना था।

clip_image006_thumbclip_image008_thumb

उसने अपने साथ एक हल ले लिया था, एक ओखली और एक मूसल ले लिया था, एक अनाज बोने वाली टोकरी ले ली थी और एक पानी का बरतन ले लिया था।

उसने एक पकाने का बरतन, बाँस और लकड़ी की बनी कुछ प्लेटें, एक छोटी सी कुल्हाड़ी, एक चटाई और एक बड़ा सा ढकने का कपड़ा भी ले लिया था।

आखीर में वह रोशनी की पहली किरन पर सवार हो कर हरे नीले ग्रह पर आ गयी।

हरे नीले ग्रह पर आने के बाद उसको पता चला कि आसमान में वह ग्रह दूर से ऐसा हरा नीला क्यों दिखायी दे रहा था। वहाँ जंगल और घास के मैदान इतने सुन्दर थे कि उनको देख कर दिल खुश हो जाता था और उनके लिये पहले से भी ज़्यादा नरम हो जाता था।

उसने वहाँ उगे हुए सब पेड़ पौधों की तरफ बड़े प्यार से देखा और उसकी उस प्यार भरी नजर पा कर वे और ज़्यादा खुशी से बढ़ने लगे। हरी चीज़ें और ज़्यादा हरी हो गयीं।

वहाँ झाड़ियाँ थी, पेड़ थे और उन सबके उस पार थे रोशनी के कई रंगों के फूल जो उसके घर से बहुत दूर से आये थे – पीले, नारंगी, नीले, जामुनी, सफेद, गुलाबी, वसन्ती, हल्के हरे, हल्के नीले और इनके बीच के अनगिनत रंग।

वहाँ आ कर वह बोली — “बच्चे, अब मुझे बच्चे चाहिये, बहुत सारे बच्चे चाहिये। मुझे प्यार करने के लिये बच्चे चाहिये। घास में भागने के लिये बच्चे चाहिये, गाने के लिये बच्चे चाहिये, हँसने के लिये बच्चे चाहिये और पहाड़ों पर गूँजने के लिये आवाजें चाहिये।

पुकारने के लिये और गोद में बिठाने के लिये और जब मैं बूढ़ी हो जाऊँ और मुझे किसी की सहायता की जरूरत हो तब मेरी देखभाल करने के लिये मुझे बच्चे चाहिये।

जब मैं कमजोर हो जाऊँगी और जीते जीते बेहोश होने लगूँगी तब वे बच्चे मेरी ताकत बनेंगे और जब मेरा समय आयेगा तब वे बच्चे मुझे सुला देंगे। ”

उसकी इच्छा पूरी कर दी गयी और वहाँ बहुत सारे बच्चे हो गये। उसके चारों तरफ बच्चे ही बच्चे, इधर बच्चे उधर बच्चे, सामने बच्चे पीछे बच्चे। वहाँ बेटे थे लम्बे, पतले और इतने ताकतवर कि वे एक पैर पर घंटों खड़े रह सकते थे।

और कुछ वहाँ पर कोमल और दयावान बच्चे भी थे जो अपनी चीज़ें उनसे बाँटते थे जो उतने मजबूत और तेज़ नहीं थे कि वे उतनी देर तक खड़े रह सकें।

वहाँ बेटियाँ थीं जो लम्बी और मजबूत थीं अपने भाइयों की तरह। वे भाग सकतीं थीं और हिरन की तरह से सारा दिन कूद सकती थीं और फिर भी नहीं थकतीं थी।

और वहाँ कुछ ऐसी बेटियाँ थी जो बहुत ही कोमल और प्यारी थीं जैसे फूल, अपनी माँ जितनी प्यारी और अपने भाइयों और पिता जैसी दयावान। वे सूरज की बेटी के चारों तरफ घूमतीं और उसको माँ कह कर पुकारतीं।

और इस तरह वह तारा, सूरज की बेटी जो आसमान पर अपनी चमक से राज करती थी, इन सब बच्चों की माँ बन गयी जो हरे नीलेे ग्रह पर पैदा हुए थे।

वह उन सबको प्यार करती थी और हर एक की अच्छी तरह से देखभाल करती थी – लम्बे और ठिगने बच्चे, मोटे और पतले बच्चे, काले पीले और सुनहरी बच्चे। वह दिन रात सबकी देखभाल करती थी।

उनमें से कुछ बच्चे ऐसे थे जो केवल चलते थे कभी भाग नहीं सकते थे और कुछ ऐसे भी थे जो केवल भाग सकते थे और कभी चल नहीं सकते थे।

उनमें से कुछ बच्चे माइनर[5] थे जिनको सब कुछ अपने लिये ही चाहिये था और कुछ बच्चे नथिंग[6] वाले थे जिनके पास “नथिंग” शब्द के अलावा और कुछ नहीं था।

वहाँ “आई विल बी बैक”[7] वाले बच्चे भी थे जो आये और तुरन्त ही चले गये और कुछ “नौट मी” वाले बच्चे थे जो कभी यह नहीं मानते थे कि उन्होंने कभी कुछ गलत किया है।

उनमें से कुछ “मैं नहीं जानता”[8] वाले बच्चे थे, कुछ “उसने शुरू किया”[9] वाले बच्चे थे। कुछ “उसने कहा”[10] वाले बच्चे थे जो बहुत ही नीच स्वभाव के थे और वे दूसरों का बिल्कुल भी खयाल नहीं रखते थे। और भी बहुत तरह के बच्चे थे।

पर वह सबकी देखभाल करती थी। वह उन सबके लिये बारिश लाती थी। आसमान की हालत देखते हुए वह उनके लिये सूरज और उसकी धूप भी लाती थी।

और जब पौधों के आराम का समय आता तो वह उनके लिये पतझड़ ले कर आती और जब उनको नींद की जरूरत होती तो जाड़ा ले कर आती।

वह अपने बच्चों की देखभाल करती जब वे जगे हुए होते और जब वे सो रहे होते। सुबह वह हर किसी के उठने से पहले उठ जाती और एक बड़ी सी झाड़ू ले कर सारी सफाई करती।

फिर वह अपना हल ले कर अपने बच्चों के लिये अन्न उगाती। उसके बहुत सारे बच्चे बहुत खाते थे फिर भी वह उन सबके खाने के लिये काफी खाना रखती थी।

इस तरह काफी समय निकल गया। हालाँकि यह “सब बच्चों की माँ”[11] बहुत ही ताकतवर थी पर फिर भी क्योंकि अब उसको वहाँ रहते रहते बहुत साल हो गये थे इसलिये वह अब बहुत थक गयी थी। धरती के बच्चे भी अब बदल गये थे।

एक बार उसने सूरज से शिकायत की थी — “वे सब बहुत बदल गये हैं। अब मैं उनके लिये कुछ भी नहीं रह गयी हूँ। मुझे तो शक है कि वे मुझे देखते भी हैं या नहीं। ”

सूरज बोला — “याद रखो बेटी, वे सब तुम्हारे बच्चे हैं। उन्होंने तुमसे अपने आपको दुनियाँ में लाने के लिये नहीं कहा था तुम खुद उनको दुनियाँ में ले कर आयी थीं।

उनके साथ मिल कर काम करो तो तुमको खजाना वहाँ मिलेगा जहाँ तुम उसको सबसे कम उम्मीद करती होगी और उस समय मिलेगा जब तुम उसको सबसे कम उम्मीद करती होगी। ”

उसने अपने पिता की बात मानी और वैसा ही किया। उसने अपने उन बच्चों की सेवा करनी शुरू की जिन्होंने लड़ना शुरू कर दिया था। वे न तो अपने लिये कुछ करते थे और न ही एक दूसरे की सहायता करते थे बस हर समय एक दूसरे की शिकायत करते रहते थे।

“मुझे भूख लगी है। ”, “मुझे प्यास लगी है। ”, मुझे यह चाहिये। ”, “मुझे वह चाहिये। ”, “मुझे उठा कर ले चलो। ”, “मुझे अपनी गोद में बिठा लो। ”, “तुम तो माँ हो, तुम ही तो मुझे इस दुनियाँ में ले कर आयी हो। तुम ही मेरी देखभाल करो। ”

और “सब बच्चों की माँ” ने सब दुखी लोगों का इलाज किया, भूखों को खाना दिया, प्यासों को पानी दिया और उनको आदमी और औरत बनाया। फिर वे दूर जगहों में घूमते रहे। वे कभी कभी तो वापस आ जाते थे या फिर कभी वापस नहीं भी आते थे।

अब तक वे सब इतने नीच और जंगली हो गये थे कि वे एक दूसरे को जान से मार देते थे।

माँ का दिल दुखने लगा। जहाँ वह पहले सिर ऊँचा करके शान से रहती थी वहाँ अब उसका सिर दर्द और शरम से नीचे झुका जाता था क्योंकि उसके बच्चे हर चीज़ के लिये उसी को जिम्मेदार ठहराते थे।

उनके पास अपनी माँ के लिये कोई अच्छा शब्द नहीं था और यह दुख उसके दुखी दिल को टुकड़े टुकड़े करके तोड़ रहा था।

यही बात हवा में भी थी। वह ज़ोर से चलने लगी थी और पेड़ों को गिराने लगी थी।

सूरज की बेटी अब जब अपना काम करती थी तो वह केवल अपने लिये ही गाती थी। वह अब जब सुबह होती तो ठंडी हवा के रूप में गाती और सोयी हुई चिड़ियों को जगाती।

जब बारिश बहुत तेज़ पड़ती और वह खुली जमीन को छीलती हुई उसको समुद्र की तरफ ले जाती तब वह उस बारिश की ज़ोर की आवाज में गाती।

वह उस शान्त टप टप में भी गाती जो दुनियाँ के पहाड़ों के ऊपर पंखों की तरह पड़ती। और उन ठंडी जगहों में भी गाती जहाँ बारिश बरफ में बदल जाती थी। और उन जगहों में भी गाती जहाँ बारिश ओलों के रूप में पड़ती।

वह सारे दिन गाती हुई सारे आसमान में घूमती रहती जैसे वहाँ कोई था जो उसकी सहायता करता था। फिर वह नीचे अपने काम को देखती और फिर और गाती।

कभी वह जब जंगल में आग जलाने के लिये लकड़ी इकठ्ठा कर रही होती और या फिर ऐसे मैदानों मे होती जहाँ लकड़ी बहुत होती तो वह ऐसे जंगल के बारे में गाती जिनमें से कुछ को उसके घूमते हुए बच्चे काट देते।

वे उन पेड़ों के सारे के सारे तने ले जाते जो इतना बड़ा होने के लिये सालों लेते और धरती बेचारी अधमरी सी पड़ी रह जाती।

“सब बच्चों की माँ” जानती थी कि उसके बच्चे अब धरती की कोई परवाह नहीं करते थे। वे उसको वेशकीमती धातु को ढूँढने के लिये खोदते रहते पर फिर उसके उन घावों को ऐसे ही छोड़ देते।

जब वह धरती पर घूमती तो वह यह गीत गाती कभी धीरे से तो कभी ज़ोर से , , ,

तुम मुझे अपने दिल की इच्छा के पूरा होने तक जोतो और अन्न काटो

जब तक तुम मुझे नंगा नहीं कर देते घायल नहीं कर देते

सूखे को सजा देते हुए मुझे बंजर नहीं कर देते

भारी बारिश मेरे माँस को तकलीफ देती है

सो जो भी यहाँ से गुजरता है मुझ पर थूकता है

और मैं सब सहती हूँ, मैं जो माँ हूँ और देने के लिये पैदा हुई हूँ

मैं अपने लिये कुछ भी नहीं बचाती

मैं दुनियाँ को खिलाती हूँ और मेरे बच्चे देखते हैं

जब मैं उनके द्वारा जहर दे कर लिटा दी जाती हूँ

क्योंकि बच्चों के कान धरती के गीत को सुनने के आदी नहीं थे इसलिये उसने क्या गाया वे उसकी तरफ कोई ध्यान ही नहीं देते।

केवल कभी कभी जब वह शाम को गाती, वह भी कभी कभी, तो उसको सुन कर उन बच्चों के दिल जो कभी बहुत नम्र और एक दूसरे के लिये दया से भरे हुए हुआ करते थे भारी हो जाते।

जैसे जैसे बच्चे और दूर तक बिखरते चले गये वे और और और ज़्यादा जगह माँगते गये। वे रोज सुबह उठ कर पेड़ों के ऊपर लड़ते। वे चमकते हुए पत्थरों पर लड़ते। वे जमीन के छोटे छोटे टुकड़ों पर लड़ते।

“यह पेड़ मेरा है। ”, “नहीं, यह पेड़ मेरा है। ” हर जगह यही सुनायी पड़ता है “मेरा मेरा मेरा। ”

उन्होंने जंगलों से चिड़ियाँ इकठ्ठी करके पिंजरों में बन्द कर ली हैं जहाँ उनके लिये उड़ने की जगह ही नहीं है। उन्होंने समुद्र से मछलियाँ निकाल कर डिब्बों में बन्द कर ली हैं जहाँ उनको तैरने की जगह नहीं है।

वे लोग जानवरों को केवल अपने आनन्द के लिये मार देते हैं और उनके सिर और खाल इकठ्ठा कर लेते हैं। कभी कभी वे जंगलों से भी जानवरों को पकड़ लाते हैं और उनको कैद कर लेते हैं। वे पेड़ काट कर जंगलों को नंगा कर देते हैं।

सो जब धरती थक गयी और “सब बच्चों की माँ” बूढ़ी हो गयी, तो वह बीमार हो गयी और मर गयी। बच्चों को यह पता ही नहीं था कि उनको किसी की परवाह करनी थी।

उसके मरने के बाद उसकी दूसरी इच्छा पूरी की गयी – कि उसकी देह को काले कपड़े पहना कर जितना भी उससे हो सकता था उसके बच्चों की सेवा करने दिया जाये।

इस तरह मरने के बाद भी वह काम करती रही हर दिन और हर रात, काले कपड़े पहन कर। बल्कि अब वह और ज़्यादा काम करती थी क्योंकि अब उसको सोने की भी ज़रूरत नहीं थी।

पर बच्चों ने अभी भी उसकी परवाह नहीं की। वे अभी भी उससे यही कहते रहे – हमको दो, हमको दो। और वह उनकी लगातार सेवा करती रही।

क्योंकि वह तो अब भूत[12] थी इसलिये उसने कुछ नहीं कहा। अब वह केवल रात को और सुबह पौ फटे[13] गाती थी क्योंकि हवा ने उन गीतों को केवल घाटियों में और पहाड़ों में ही पाया जहाँ वह तभी भी गूँजते रहते थे।

माँ ने अपनी एक बच्ची की खास परवाह की थी जो बहुत पहले पैदा हुई थी पर जो बात नहीं कर सकती थी। उस बच्ची की आँखें बहुत सुन्दर थीं और उसके काले बाल चोटी बन कर उसके सिर के पीछे लटके हुए थे। वह बच्ची बहुत ताकतवर भी थी।

जैसे जैसे उसके बाल बढ़ते गये उसका दिल भी बड़ा होता गया और उसके हाथ पाँव भी मजबूत होते गये और वह एक सुन्दर स्त्री बन गयी।

एक दिन जब वह अपना काम कर रही थी कि वह अचानक रुक गयी और उसने ऊपर माँ की तरफ देखा। उस समय वह पहली बार बोली — “माँ मैं तुम्हारी सहायता करूँगी। तुम बैठ जाओ और आराम करो। ”

उसकी आवाज में बहुत दया भरी हुई थी और उसके यह कहने के बाद एक शान्ति सी फैल गयी। दया ने तो यह ग्रह बहुत दिन पहले ही छोड़ दिया था और अब तो यह भी लगने लगा कि सब कुछ रुक सा गया है, हालाँकि केवल एक पल के लिये ही।

माँ ने एक उसाँस भरी और बोली — “धन्यवाद मेरी बच्ची। ”

केवल इस एक दया भरे काम से माँ आज़ाद हो गयी। वह जमीन पर एक ढेर के रूप में गिर पड़ी और धूल में बदल गयी।

तभी वहाँ एक बहुत बड़ी हवा आयी और उसको उड़ा कर आसमान की तरफ फेंक दिया जहाँ वह चाँद बन गयी जिसको हम आज वहाँ आते जाते देखते हैं।

उसकी तीसरी इच्छा थी कि एक बहुत ही कोमल सी रोशनी उस के ऊपर चमके ताकि वह अपने बच्चों और हरे नीले ग्रह को साल के हर महीने देख सके। वह भी पूरी की गयी।

और आज तक चाँद हर महीने अपने बच्चों को लड़ते झगड़ते देखती है। वह अपनी बेटियों को देखती है कि वे सबकी सेवा कर रही हैं जैसे पहले वह खुद करती थी।

पर चाँद की बेटियों के बच्चे अभी भी लड़ते हैं और अभी भी शिकायत करते हैं।

यह सब देख कर चाँद को अपना चेहरा छिपाना पड़ता है और रोना पड़ता है और इससे पहले कि वह यह सब देख सके वह एक बहुत ही पतले हँसिये के रूप में दिखायी देती है। उसके बाद वह धीरे धीरे बाहर आती है और आखिर में अपना प्यार से भरा हुआ पूरा चेहरा दिखाती है।

ऐसी ही रात को कुछ लोग उसका प्यार पा लेते हैं और उसे बाँट देते हैं। चाँद की बेटियाँ उनके बारे में गाना गाती हैं जो सेवा करते हैं और उनके लिये एक और इच्छा पूरी करने की इच्छा प्रगट करतीं हैं – कि बच्चे अपनी माँ को एक बार फिर से प्यार करना सीख सकें।


[1] Mother Who Turned in to Dust (Story No 29) – a folktale from Malawi, Southern Africa.

Adapted from the book : “Favorite African Folktales”, edited by Nelson Mandela.

Told by Kasia Malaka. A creation story

[2] Translated for the word “Anklet” – an ornament worn in the feet

[3] Boon

[4] Translated for the word “Cloak”. See its picture above.

[5] Miner – everything is mine

[6] Nothing – who had nothing

[7] I will be back

[8] I don’t know

[9] He started it

[10] She asked for it

[11] Mother of all Children

[12] Ghost

[13] At the daybreak

---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से सैकड़ों लोककथाओं के पठन-पाठन का आनंद आप यहाँ रचनाकार के लोककथा खंड में जाकर उठा सकते हैं.

***

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=1$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|लघुकथा_$type=complex$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$va=1$com=0$s=200$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$count=5$page=1$com=0$va=1$src=random

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3821,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2761,कहानी,2094,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,234,लघुकथा,816,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1904,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,642,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,684,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,66,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 4 - माँ जो धूल में बदल गयी // सुषमा गुप्ता
दक्षिणी अफ्रीका की लोक कथाएँ // 4 - माँ जो धूल में बदल गयी // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-ThiCjpBEP8w/WwKsB1UZImI/AAAAAAABBvQ/b-Xx8WFEl6UjsKDcktAU_4gF4Di2lCQaACHMYCw/clip_image002_thumb_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-ThiCjpBEP8w/WwKsB1UZImI/AAAAAAABBvQ/b-Xx8WFEl6UjsKDcktAU_4gF4Di2lCQaACHMYCw/s72-c/clip_image002_thumb_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/05/4_1.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/05/4_1.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ