लोककथा // ईकटोमी और भैंस की खोपड़ी // सुषमा गुप्ता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

clip_image002

देश विदेश की लोक कथाएँ — उत्तरी अमेरिका–ईकटोमी :

clip_image002

चालाक ईकटोमी


संकलनकर्ता


सुषमा गुप्ता


4 ईकटोमी और भैंस की खोपड़ी[1]

एक बार ईकटोमी कहीं जा रहा था तो उसने गाने की आवाज सुनी। गाने की आवाज सुन कर उसका मन भी गाने और नाचने का हुआ पर वह यह नहीं जान सका कि वह गाने की आवाज आ कहां से रही है।

काफी इधर उधर ढूंढने के बाद उसको लगा कि वह आवाज तो उसके पास में पड़ी भैंस की एक खोपड़ी में से ही आ रही है। वह जब उस खोपड़ी के पास आया तो उसने उसकी आंखों के अन्दर झांक कर देखा तो उसने देखा कि उसके अन्दर तो कई चूहे नाच रहे थे।

उसने उनसे पूछा कि क्या वह भी उनके साथ नाच सकता है। पर फिर उसने उनके बिना कुछ कहे ही उस खोपड़ी की आँख में अपना सिर दे दिया। इससे वे चूहे डर गये और डर के मारे वहाँ से भाग गये।

चूहों के भागने के बाद ईकटोमी ने अपना सिर उस खोपड़ी में से बाहर निकालने की बहुत कोशिश की पर वह उसे निकाल ही नहीं सका। खोपड़ी के इस तरह से अपने सिर में फंस जाने से ईकटोमी को बहुत परेशानी हुई।

वह खोपड़ी को अपने सिर में फंसाये फंसाये ही एक चट्टान के पास पहुंचा और उस खोपड़ी को उस चट्टान पर दे दे कर मारने लगा। वह उसे जब तक मारता रहा जब तक कि वह खोपड़ी टूट कर उसके सिर से निकल नहीं गयी।

पर इससे ईकटोमी का सिर बहुत घायल हो गया और वह बहुत दिनों तक बहुत बीमार और बेहोशी की हालत में रहा।

यह कहानी कई तरह से कही जाती है। इसके एक तरीके से कहने में ईकटोमी को यह सलाह दी गयी कि वह खोपड़ी को पानी में डुबोये ताकि वह मुलायम हो जाये और फूल कर बड़ी हो जाये। उसने यह सलाह मानी और वह पानी में डूब गया।

एक दूसरे तरीके से कहने में उसको कहा गया कि वह आग जलाये और उसमें खोपड़ी जला दे। जब उसने ऐसा किया तो वह खुद भी उसमें जल कर मर गया।



[1] Iktomi and the Skull of Buffalo – a Native American folktale from Lakota Tribe, North America.

Adapted from the Web Site : http://www.nativeamerican-art.com/lakota-legend.html .


---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से क्रमशः  - रैवन की लोक कथाएँ,इथियोपिया व इटली की  ढेरों लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "लोककथा // ईकटोमी और भैंस की खोपड़ी // सुषमा गुप्ता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.