ग़ज़लें : कुमार अरविन्द

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

1
है  चाह   मिलूं  उससे  जो  अक्सर  नहीं  मिलता ।
दीवार   घरों    में    है   मगर   घर   नहीं  मिलता ।

ये  आप भी  देखें  है  कि  बस  मुझको  भरम  है ।
हर   शख़्स   परेशान  है   खुलकर  नहीं  मिलता ।

इस   ज़िन्दगी  के   चिथड़े  सिलाने  है  मुझे  सब ।
इस  शहर  में   पर   कोई   रफूगर  नहीं   मिलता ।

जज्बाती   दिलों   ने   मेरे  जब  आग   लगा  ली ।
इस   से   कोई  गमगीन  तो  मंज़र  नहीं  मिलता ।

सन्नाटे   हैं    तनहाई    है   रुसवाई   है   दिल  में ।
धोखा  जो  जमाना दे  वो  पढ़  कर  नहीं मिलता ।

वो  प्यास   बुझा  देती   मेरी   आज   सभी ,  पर ।
अच्छा  है  कि   प्यासे  को  समंदर  नहीं  मिलता ।

हैं   दोस्त  भी  ' अरविन्द   बहुत  सारे   मेरे   पर ।
जब दिल को जरूरत हो तो दिलवर नहीं मिलता ।


2
जख्म  हूं   दर्द  हूं   ज़हर  भी  हूं ।
मैं  समन्दर  भी  हूं  लहर  भी  हूं ।

आ   तुझे  ' आईना   बना   दूं  मैं ।
आईने  का  ही   शीशगर  भी  हूं ।

तुम जरा अपनी ही नजर देखना ।
मैं  जमाने  की  हर  नजर  भी हूं ।

कौन  मुझको  ही ' माँ  रुलायेगा ।
मैं   दुआ  का  तेरी  असर  भी हूं ।

कतरनों  में  करो   नहीं  शामिल ।
जान लो  आप  सुख़नवर  भी हूं ।

जबसे   तूने    निगाह   फेरी   है ।
बन  गया   एक  खंडहर  भी  हूं ।

जिस्म 'अरविन्द  में बसाओ तब ।
रात  का तेरे  हम - सफ़र  भी हूं ।


3
नहीं तकदीर में  जो  मेरे  क्यों  फिर जुस्तजू  करते ।
मेरी किस्मत में क्या है वो पता  जाकर  के यूं करते ।

रखी इज्जत हमेशा है जिसने अपना समझकर तो ।
उसी  इंसान  को   ऐसे  नहीं   बे  -  आबरू   करते ।

हमें मिलने का मौका  तो  नहीं मिल पायेगा जानम ।
कभी ख्वाबों में आ जाओ तो जी भर गुफ़्तगू करते ।

ज़हर का  घूंट  पीकर भी  बचे  यदि  तो  बचा लेना ।
किसी भी हाल में  साहब  नहीं 'रिश्तों का खूं करते ।

ये दिल का 'आइना है  जो सदा सच ही दिखाता है ।
मुखौटे को अलग रखकर जो  इसको रूबरू करते ।

मुहब्बत    रास     आएगी     हँसेगी    मुस्कुराएगी ।
बशर्ते  सच में  शिद्दत  से  मुहब्बत  तो शुरू  करते ।

तमन्नाएँ  मचलती  हैं  ' ये  मचलेंगी   यही  सच  है ।
मगर काबू में रख  इनको  बहुत मत  सुर्खरू करते ।

नहीं  कोई   करेगा  तो ,  हमें  क्या  है  लेना - देना ।
भली  जो बात लगती हो  उसे  खुद ही शुरू करते ।

सभी आदत इरादा  आरजू ' अरविन्द तुम कर लो ।
जो तुम हो  सोचते  वो  सब गलत है   हूबहू करते ।


4
गैर के  जख्मों  को हर रोज सुखाते रहिये ।
अपने किरदार का किरदार निभाते रहिये ।

राब्ता ही न  रहा  मुझसे तो शिकवा कैसा ।
करके    बर्बाद   मुझे  ज़श्न  मनाते  रहिये ।

उनको फुर्सत ही कहां हाल सुनाने की पर ।
दिल  मिले  या न मिले हाथ मिलाते रहिए ।

कब कहा मैंने  ज़रूरत नहीं  मुझको  तेरी ।
ख़्वाब में आ के  मुझे  यूँ ही  सताते रहिए ।

कोई तो  आपके नज़रों से ही घायल होगा ।
आप  नज़रों  से  यूँ  ही  तीर चलाते रहिए ।

वो नज़ारे  वो नजाकत वो अदाएं वो हँसी ।
अपने ज़ज़्बात सभी दिल के सुनाते रहिये ।

हाले ' अरविन्द  नहीं  पूछता  है कोई  गर ।
जब  मिले मौका  नये  दोस्त बनाते रहिये ।


5
सबको  रस्ता  दिखा  रहा  हूं मैं ।
साथ  '  मिट्टी   उड़ा  रहा  हूं  मैं ।

इन  दरख्तों में अब भी जिंदा हूं ।
अपना  साया  मिटा  रहा  हूं  मैं ।

मुझको लाकर लिटा गए जबसे ।
कब्रे  -  रौनक  बढा  रहा  हूं  मैं ।

आइने   में    नजर   न   आयेंगे ।
ऐसे    चेहरे   बना   रहा   हूं  मैं ।

इश्क करना ही सीख लो मुझसे ।
इश्क  करना सिखा  रहा  हूं  मैं ।

सब  मुझे  बदतमीज  कहते  हैं ।
खुद जो खुद का बता रहा हूं मैं ।

वो  रुलाती  रही   मुझे   हरदम ।
कह  जिसे ' बेवफा  रहा  हूं  मैं ।

चाहता हूं  लिपट के फिर रो लूं ।
माँ  तेरे  घर  से जा  रहा  हूं  मैं ।

आग   अरविन्द  मय्यसर  लेना ।
अपनी  बस्ती  जला  रहा  हूं मैं ।


6
बिना   किये  मेहनत  आसमान   चाहता  है ।
क़दम  कदम  पे नया बस  मकान चाहता है ।

ज़रूरतों की हरेक चीज़ जिसको हासिल हो ।
वो अपने  घर में  ही  सारा  जहान चाहता है ।

ख़ुदा  करे  कि  मुहब्बत  में  ये  मकां  आये ।
कि  छाती  चीर  दिखा दूं  निशान चाहता है ।

मिला नहीं  है    मुझे  दोस्त  एक  अरसे  से ।
वो  मुझसे  दोस्ती  का  इम्तिहान  चाहता है ।

किसी के इश्क में  पागल है  सरफिरा है जो ।
खिलाफ़े - इश्क  के  देना  बयान  चाहता है ।

रखोगे    क़ैद   तो  ' परवाज़  भूल  जाऊंगा ।
क़फस  खोलो  न  परिन्दा  उड़ान चाहता है ।

वो  बन  गये  है  खुदा  इश्क  के  मेरे जबसे ।
बस रख देना  मेरी हथेली पे जान चाहता है ।

उसे खुदा की ' मुहब्बत पे जाने है शक क्यों ।
तसल्ली  के  लिये  वो ' इम्तिहान  चाहता है ।

नुमाइँदा   नहीं    अरविन्द   हैं   कबूतर   ये ।
जो पर निकलने से  पहले  उड़ान चाहता है ।


7
एक दिन  आसमां  से  गुजर जायेंगे ।
कब्र  दर  कब्र  में  हम  उतर जायेंगे ।

आँधियों  से  ये  कह दो रहें होश में ।
गर  नहीं  तो  गुजर  रौंदकर जायेंगे ।

लाख   तूफ़ान  दरिया  उठाती  रही ।
बस तेरा  नाम  लेकर  गुजर जायेंगे ।

क्या करूँ मैं सभी लोग बिगड़े यहाँ ।
पर  घरों  में  रहें  तो  सुधर  जायेंगे ।

चाँद तारों  से  कह दो  घरों  में  रहें ।
सामने  से  नहीं  तो   गुजर  जायेंगे ।

मानता  हूँ , दिलों में ही  महफूज हैं ।
गर यहाँ से  गये  तो  बिखर जायेंगे ।

चाँद तारों रहो हद में सब , गर नहीं।
लफ्ज  तासीर तक भी उतर जायेंगे ।

ए  परिंदे  उड़ो  तुम  जमीं  देखकर ।
जो  मरेंगे  खुदा  के ही  घर जायेंगे ।

अब जरा देख 'अरविन्द गुब्बार को ।
पर हवा साथ खुद ही गुजर जायेंगे ।


8
रोग  जाता  ही  नहीं  कितनी  दवा  ली हमने ।
माँ के  क़दमों  में  झुके  और  दुआ  ली हमने ।

इस  ज़माने ने  सताया  भी  बहुत  है  मुझको ।
आग ये  सीने की  अश्कों  से  बुझा  ली हमने ।

जब नजर आई नहीं ख्वाब में ' माँ  की  सूरत ।
अपनी आंखों से हर इक  नींद  हटा ली हमने ।

देखने   तो  आज   सभी  आये  तमाशा  मेरा ।
जब  से  दीवार  घरों  में   ही  उठा  ली  हमने ।

तेरी   चाहत   में   हुआ  हाल ' दीवानों  जैसा ।
अपनी  पगड़ी  ही  सरे  आम  उछाली  हमने ।

हर तरफ ही यूं  नजर आने लगी उल्फ़त जब ।
दिल में नफरत थी मुहब्बत ही सजा ली हमने ।

खत्म   हो   जाये  न  ये  दौर  मुलाकातों  का ।
ज़िंदगी   बस   तेरे   वादे  पे  बिता  दी  हमने ।

माँ  के क़दमों  में ये सारा ही  जहां दिखता है ।
बस  तेरी  याद में  हस्ती  भी  मिटा  ली हमने ।

खौफ था मुझको चरागों से ही घर जलने का ।
आग ' अरविन्द ' घरों   में ही  लगा ली  हमने ।


9
मुफलिसी जहां की बस मैं जबान रखता हूं ।
आज  हाथ  में  अपने  आसमान  रखता हूं ।

गौर  कर  जरा  बस्ती  पे  कभी  खुदा  मेरे ।
हैं  गरीब  सब  तो  घर में  दुकान रखता हूं ।

है  खबर  जमीं तो  तुमने  खरीद ली  सारी ।
आसमान पे , लो  अपना  मकान रखता हूं ।

तुम्हें गर लगाना है  आग तो लगा  दो , पर ।
आँख  में  जहाँ  वालों  मैं तूफ़ान रखता हूं ।

जानते    रहे    बेईमान  है  खुदा  हम  भी ।
इसलिए   बेईमां  के  घर पे जान रखता हूं ।

काश  इश्क का वो आगाज तो करें गर 'मैं ।
इक तरफ  मुहब्बत  ए  कद्रदान  रखता हूं ।

जब यहाँ वहाँ का अरविन्द ने जमीं छोड़ा ।
हाथ  में  तेरे  लो ' सारा  जहान  रखता हूं ।


10
हुआ  हूँ  ख़ाक  यहां  रह  गया ' धुआं मेरा ।
किसी  में  दम  है  तो रोको ये कारवां  मेरा ।

सभी  ये  कहते  है अक्सर  ज़मीन  मेरी है ।
कोई  ये क्यों नहीं  कहता  है  आसमां मेरा ।

बदन से रूह तलक  मैं ही बस  गया तुझमें ।
मिटायेगा   तू  कहाँ  तक बता  निशां  मेरा ।

मेरे   लबों   से   हँसी  तू   मिटा  न  पायेगी ।
ए  ज़िन्दगानी  ले कितना भी  इम्तिहां मेरा ।

नहीं है खौफ  कि दुश्मन  जहां  हुआ  कैसे ।
कि अब जहां का खुदा खुद है मेहरबां मेरा ।

कई   हज़ार   फफोले  हैं  पावँ  में  लेकिन ।
खुदा  गवाह ' अभी   अज़्म  है  जवां  मेरा ।

ये और  बात  कि  मेरी  ज़बान  कट  जाये ।
मगर  बदल नहीं  सकता  कभी  बयां मेरा ।

फकत यही न  कि तुमसे ये दिल लगा बैठे ।
रोशन  तुम्ही से  है  सारा  ये आशियां मेरा ।

वो दिल्लगी हुई  अरविन्द  खत्म सारी पर ।
ये दिल भी तो नहीं भटका कहाँ कहाँ मेरा ।

--

१.पूर्ण नाम: - अरविन्द शुक्ला

२.साहित्यिक उपनाम: - कुमार अरविन्द

३.जन्मतिथि: - 31/07/1994

४.वर्तमान पता: - बंजरिया , पोस्ट - विशुनपुर संगम , इंटियाथोक

५.शहर - गोंडा

६.जिला - गोंडा  ( 271202 )

७.राज्य - उत्तर प्रदेश

८.विधा: - गजल

१०.अणुडाक (ईमेल): - arvindshukla91700@gmail.com

११.अंतरताना (वेबसाइट या ब्लॉग) : - कोई नहीं

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "ग़ज़लें : कुमार अरविन्द"

  1. बहुत बढ़िया ग़ज़लें

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर रचना हेतु बधाई,

    मेरे हिन्दी ब्लॉग "हिन्दी कविता मंच" पर "अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस" के नए पोस्ट "मजदूर - https://hindikavitamanch.blogspot.in/2018/05/world-labor-day.html " पर भी पधारे और अपने विचार प्रकट करें|

    उत्तर देंहटाएं
  3. काबिले गौर बहुत काबिले तारीफ़ कहन.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.