कहानी // माँ // राजेश माहेश्वरी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

माँ

श्यामा सुबह-सुबह नहा-धोकर एक लोटे में जल और डलिया में फूल लेकर मन्दिर चली जा रही थी। यह उसकी प्रतिदिन की दिनचर्या थी। उसे अचानक ही किसी शिशु के रोने का स्वर सुनाई दिया। उसने उस ओर देखा और यह देखकर आश्चर्यचकित हो गयी कि मन्दिर के पास की उस खुली जगह में कपड़ों में लिपटा हुआ एक शिशु पड़ा था। आसपास कोई नहीं था और शिशु रो रहा था। श्यामा ने उसे अपनी गोद में उठा लिया और वह उस शिशु की मां की तलाश में इधर-उधर देखने लगी। जब समय अधिक होने लगा और उसे कोई नहीं दिखा तब वह उसे लेकर मन्दिर के पुजारी के पास गयी।

पण्डित जी यह बच्चा बाहर चबूतरे पर अकेले पड़ा-पड़ा रो रहा था। किसका है? उसने पण्डित जी से पूछा।

पता नहीं बेटी ! अभी तो यहां कोई नहीं आया।

मैं काफी देर से प्रतीक्षा कर रही हूँ। इसे किसको सौंप दूं?

अब अभी तो यहां कोई नहीं है। कुछ देर और ठहर जाओ इसे लाने वाला आ जाए तो उसे सौंप देना। श्यामा फिर काफी देर तक मन्दिर के अन्दर ठहरी रही। उसने उस शिशु को पानी पिलाया। श्यामा को उस शिशु को गोद में लिये हुए एक घण्टे से भी अधिक हो गया था। पुजारी का मन्दिर के पट बन्द करने का समय हो गया था। श्यामा चिन्तित थी कि घर पर उसका बेटा अकेला था। वह भी अभी छोटा ही था।

पुजारी जी का जब जाने का समय हो गया तो श्यामा ने उनसे पूछा कि पण्डित जी इस बच्चे का क्या करुं?

मैं क्या कहूँ? ऐसा करो सबसे पहले तो इसे पुलिस के पास ले चलो जमाना खराब मैं भी तुम्हारे साथ चलता हूँ। पुलिस थाने में सिपाही टेबल पर सिर रखकर सो रहा था। इन दोनों के पहुँचने से उसकी नींद में खलल पड जाने से वह झल्लाकर पूछने लगा कि क्या बात है ? पंडित जी ने उसे सारी बात बतलाई तो वह चकराकर बोला कि थोडा ठहरो अभी थानेदार साहब आने वाले है। वे ही बतलायेंगे कि क्या करना है ? कुछ ही देर में थानेदार साहब आ गये और उनकी बात सुनने के बात उन्होंने प्रश्नों की झडी लगा दी कि यह शिशु का कब, कहाँ और किस हालत में मिला ? सारी बात सुनने के पश्चात उन्होंने अपने उच्चाधिकारियों से बात की लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। वे भी चिंता में पड गये और उन्होंने कुछ सोचकर श्यामा को समझाया कि यह बच्ची अभी बहुत छोटी है और इसे अभी थाने में नहीं रखा जा सकता और यहाँ कहीं अनाथआश्रम जैसी जगह भी नहीं है जहाँ इसे रखा जा सके, अभी तो तुम इस बच्चे को अपने ही पास रखो और जैसे ही इसके माता पिता का पता हमें लगेगा हम तुम्हें बुला लेंगे।

श्यामा उस बच्चे को घर ले आई। श्यामा के पति की मृत्यु हो चुकी थी और उसका एक बेटा था सूरज जिसका किसी भी स्कूल में दाखिला नहीं हुआ था। पति की मृत्यु के बाद श्यामा अपने कर्तव्यों को पूरी निष्ठा से पूरा कर रही थी। वह अधिक पढ़ी-लिखी नहीं थी। महिलाओं और बच्चों के कपड़े सिलकर और खाली समय में बड़ी, पापड़ आदि बनाकर उन्हें बेचकर वह अपने दो प्राणियों के परिवार का पालन-पोषण कर रही थी। जब वह उस शिशु को लेकर घर पहुँची तो सूरज ने उससे पूछा- माँ यह कौन है?

श्यामा को समझ में नहीं आया कि एक तीन साल के बच्चे के इस स्वाभाविक जिज्ञासा भरे प्रश्न का क्या उत्तर दे। उसने उसे संतुष्ट करने के लिये कह दिया कि यह तुम्हारी छोटी बहिन है।

इसका नाम क्या है?

इस प्रश्न का भी कोई उत्तर श्यामा के पास नहीं था। पर कुछ न कुछ उत्तर तो देना ही था। वह बोल पड़ी- इसका नाम चांदनी है।

सूरज ने आगे कोई और प्रश्न नहीं किया। वह उस नन्हीं सी गुड़िया जैसी चांदनी से खेलने लगा। श्यामा भी उसे सूरज के पास खेलता छोड़कर घर के काम करने लगी।

वह हर एक दो दिन में स्वयं थाने जाकर पता करती लेकिन उस बच्चे के माता पिता का कोई पता नहीं चल पा रहा था। अब श्यामा ने भी थक हार कर थाने जाना बंद कर दिया।

इस बीच चांदनी उसके घर की ही सदस्य बन चुकी थी। धीरे-धीरे उसने चांदनी के माता-पिता की खोज बन्द कर दी। इस नये शिशु के आ जाने से अब वे तीन हो चुके थे।

श्यामा और सूरज उस नन्हीं सी जान को पूरी तरह अपना चुके थे। जिस स्नेह से श्यामा उसका पालन पोषण कर रही थी उतनी ही आत्मीयता के साथ सूरज उसे खिलाता और उसके साथ खेलता था। जब सूरज पाठशाला जाने लगा तो चांदनी भी उसके साथ जाने की जिद करती किन्तु अभी वह बहुत छोटी थी। जब सूरज के पाठशाला से आने का समय होता तो चांदनी उसकी प्रतीक्षा करती। समय के साथ श्यामा यह पूरी तरह भूल चुकी थी कि चांदनी उसकी अपनी नहीं किसी और की संतान है।

समय बहुत तेजी से बीतता रहा। चांदनी भी पाठशाला जाने लगी थी। सूरज और चांदनी दोनों होनहार थे। वे सिर्फ अपनी मां के ही नहीं बल्कि सभी के प्रिय थे और श्यामा को उन पर गर्व था। उसने उन दोनों को उच्च शिक्षा दिलवाई और अच्छे संस्कार दिये।

सूरज को अमेरिका की एक कम्पनी में अच्छे पद पर काम मिल गया। जब वह अपने भविष्य और अपनी मां से बिछोह की दुविधा में था उस समय श्यामा और चांदनी ने उसे दुविधा से मुक्त कराया और उसे अमेरिका जाने की प्रेरणा दी थी। वह अमेरिका चला गया। वहां से वह अपनी माँ और बहिन के लिये रूपये आदि भी भेजता था और उनका लगातार खयाल भी रखता था।

चांदनी वही के एक स्कूल में शिक्षिका हो गई थी। वह मां का पूरा ध्यान रखती और उसकी सेवा करती थी। श्यामा के जीवन में अब कोई अभाव नहीं था। सुख, संतोष और शान्ति से उसका जीवन चल रहा था पर उम्र बढ़ रही थी। उम्र ने अपना प्रभाव दिखाया और वह बीमार हो गई। चांदनी उसकी पूरी देखभाल और इलाज करा रही थी। मां की बीमारी से सूरज भी विचलित था। वह अमेरिका से छुट्टियां लेकर भागा-भागा मां के पास आया। वह मां और बहिन को अपने साथ अमेरिका ले जाना चाहता था लेकिन वे दोनों राजी नहीं हुए। जब उसकी छुट्टियों का समय पूरा हो गया तो उसे ना उसे चाहते हुये भी वापिस जाना पड़ा।

चांदनी मां की देखभाल करती रही पर मां की हालत दिनोंदिन खराब होती जा रही थी और एक दिन वह इस दुनिया को छोड़कर चली गई। जाने से पहले उसने चांदनी को बतला दिया कि चांदनी को जन्म देने वाली वह नहीं कोई और मां है। वह तो सिर्फ पालने वाली मां है।

भाई-बहिन ने मिलकर मां का अंतिम संस्कार किया। एक दिन अवसर देखकर चांदनी ने सूरज से कहा-

भैया! मां के बहुत जेवर मेरे पास रखे हैं। आप वापिस जाने से पहले वे जेवर मुझसे लेकर सुरक्षित रख लेना।

वे जेवर तुम्हीं रखे रहो।

वे तो आपके हैं।

हां ! मेरे हैं तब भी उनको तुम्हीं रखे रहो।

आपको पता नहीं है। मां ने एक दिन मुझे मेरे इस घर में आने की कथा बताई थी।

सूरज बीच में ही बोल पड़ा- तुझे मां ने बताई थी और मैंने अपनी आंखों से देखी थी और तुम जो सोच रही हो वह भी मैं समझता हूँ। घर जैसा है वैसा ही रहेगा जो यहां है वह यहां ऐसा ही रहेगा और तुम जैसे इस घर में रह रही हो वैसे ही रहोगी। मैं कुछ लेने या ले जाने वाला नहीं हूँ।

सूरज चांदनी से बड़ा था। चांदनी उसका अदब और सम्मान करती थी। दोनों में अटूट स्नेह था। उसकी वह स्नेह और अधिकार युक्त बात सुनकर चांदनी मौन रह गई। वह सूरज से कुछ न कह सकी लेकिन उसके मन में यह बात घर कर गई थी कि उसे जन्म देने वालों ने उसे लावारिस छोड़ दिया था। उसे बार-बार यह लगता था कि उसे मां की सारी पूंजी उसके बेटे सूरज को दे देना चाहिये। यह उसी की है पर सूरज की बात काटना भी उसके लिये संभव नहीं था। वह जानती थी कि आज दुनिया में अगर कोई उसका है तो वह सूरज ही है और वह यह भी जानती थी कि सूरज उसे बहुत चाहता है। वह अपनी छौटी बहिन के लिये कुछ भी कर सकता है।

अगले दिन चांदनी ने फिर समय देखकर सूरज से कहा- भैया! मैं सोच रही थी कि मां के नाम से एक आश्रम बना दिया जाए जहां अनाथ बच्चों को सहारा मिले और उनके जीवन को संवारा जाए। सूरज नादान नहीं था। वह चांदनी के मन की बात समझ गया। उसे यह भी समझ में आ गया कि चांदनी ऐसा क्यों कह रही है। वह कुछ पल मौन रहा और फिर उसने उसे अपनी सहमति दे दी।

सूरज ने अपने पुराने घर में मां की पूंजी में अपनी ओर से भी कुछ धन लगाकर उस घर में मां के नाम से एक आश्रम खोल दिया। वह आश्रम अनाथ बच्चों को संरक्षण देने उनका पालन पोषण करने और उनके जीवन को संवारने के लिये खोला गया। इसके कारण सूरज को कुछ दिन और भारत में रूकना पड़ा। जब यह काम पूरा हो गया तो वह उस आश्रम की जवाबदारी चांदनी को सौंपकर वापिस अमेरिका चला गया। चांदनी उस आश्रम की संचालिका थी। एक समय वह स्वयं अनाथ थी किन्तु आज वह दूसरे अनाथों की नाथ थी और उन्हें स्वावलंबी बनाने में हर संभव मदद कर रही थी।

--

राजेश माहेश्वरी

106, नया गांव हाउसिंग सोसायटी

रामपुर, जबलपुर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "कहानी // माँ // राजेश माहेश्वरी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.