370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

लघुकथा // कशमकश // संजय दुबे

image

रात काफी हो चुकी थी। शायद दो बज चुके थे। आसमान में चांद अपनी गति से चल रहा था। चांदनी रात होने से घर की छत पर दूर-दूर तक सब कुछ रोशन था। यूं तो जाड़े में कोहरे की वजह से अंधेरा कुछ ज्यादा ही लगता है, फिर भी मन की बेचैनी बहुत कुछ साफ-साफ दिखा देती है।

दरअसल कल की बात अभी तक दिल में चुभ रही है। आखिर वह ऐसी बात क्यों बोला, जिससे हमें तकलीफ हुई। ना सिर्फ तकलीफ बल्कि टीस भी है। दर्द  किसी ने भी दिया हो, कैसा भी हो, पता नहीं क्यों चुभता जरूर है। वैसे जाड़े की इस चांदनी रात में जो सबसे ज्यादा चुभ रहा है, वह है प्रकाश, रोशनी। काश आज अंधेरा होता तो हम अपने मन की बात चांद से कह पाते!

चांद खुद तो अकेला है, लेकिन रोशनी उसके साथ है। रोशनी और चांद का संबंध कुछ वैसा ही है, जैसा मेरा और मुझे दर्द देने वाले का है। वह नहीं मिलता तो दर्द होता है, और मिलता है तो हमारा अकेलापन छीन लेता है। मन कितना अबोध है, पर उम्र अबोध वाली नहीं रह गई है। मन बेचैन होता है तो मुसीबत होती है और बेचैन नहीं होता है तो अपनापन नहीं दिखता। भावों, जज्बातों में शराफत दिखती है और शराफतदार लोग अमूमन जज्बाती नहीं होते हैं।

दुनिया अजीब कसमसाहट में जी रही है। जीऊं तो आफत न जीऊं तो भी आफत। वैसे शायद जिंदगी इसी को कहते हैं। सच कहूं तो जिन्हें अपनी जिंदगी का अहसास नहीं है, वे कैसे जानेंगे कि मरने के बाद क्या होता है।  

लघुकथा 6467241450456791867

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव