15 वाँ अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन मास्को में सम्पन्न

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

                   
       प्रबोध कुमार गोविल के नये उपन्यास ‘‘अक़ाब’’ का विमोचन

FB_IMG_1528708027359


जयपुर। राजस्थान के सुप्रसिद्ध साहित्यकार प्रबोध कुमार गोविल को मास्को में जून के प्रथम सप्ताह में सम्पन्न सम्मेलन के दौरान ‘‘दोस्तोवस्की’’ सम्मान प्रदान किया गया। इस अवसर पर समारोह के अध्यक्ष मण्डल ने श्री गोविल के नवीनतम उपन्यास ‘‘अक़ाब’’ का विमोचन भी किया। दिशा प्रकाशन दिल्ली से प्रकाशित ‘‘अक़ाब’’ गोविल का आठवां उपन्यास है।


सम्मेलन के दौरान भारत से गये साहित्यकारों ने रूस के कालजयी लेखकों- टॉलस्टॉय, मैक्सिम गोर्की तथा पुश्किन के आवास का दौरा भी किया।

सृजनगाथा के संयोजक श्री जयप्रकाश मानस ने बताया कि सम्मेलन का आगामी स्थल भारत के केरल प्रान्त को चुना गया है। इस अवसर पर श्री सवाई सिंह शेखावत एवं जयप्रकाश मानस द्वारा सम्पादित पुस्तक ‘‘विजयिनी मानवता हो जाये’’ का विमोचन भी किया गया। इस पुस्तक में देशभर से कुछ चुनिंदा आलेखों को प्रकाशित किया गया है। प्रतिनिधि मण्डल ने मास्को के साथ-साथ सेंट पीटर्सबर्ग का भ्रमण भी किया। पीटर्सबर्ग रूस की पुरानी राजधानी है जिसका प्राचीन नाम लेनिनग्राड था।


इस अवसर पर सर्वभाषा कवि सम्मेलन एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम भी सम्पन्न हुआ। सभी ने मास्को की सुप्रसिद्ध आर्ट गैलेरी का अवलोकन भी किया।


                                                          - हिमांशु जोनवाल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "15 वाँ अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन मास्को में सम्पन्न"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.