रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

मुक्तिबोध की कविताः ‘अँधेरे में’, भाष्यालोचन-8 // शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव

साझा करें:

मुक्तिबोध की कविताः ‘ अँधेरे में ’, भाष्यालोचन-8 प्रसंगागतः रिहा होकर सैनिकों की पकड़ से दूर जाता कवि, भागता हुआ कवि, कुछ कुछ सार्थक सोचता ...

clip_image002

मुक्तिबोध की कविताः अँधेरे में’, भाष्यालोचन-8

प्रसंगागतः

रिहा होकर सैनिकों की पकड़ से दूर जाता कवि, भागता हुआ कवि, कुछ कुछ सार्थक सोचता आगे बढ़ रहा है. वह सोचता जाता है कि उसने जो स्वप्न देखा है (साम्यवादी समाज रचना का) उस स्वप्न की कोमल किरनें केवल किरनें भर नहीं हैं बल्कि वे उसकी दृढ़ीभूत कर्म-शिलाएँ हैं. इन्हीं से उस समाज की नींव पड़ेगी. इसी में जन की मुक्ति है. इसे न कोई रोक सकता है न कोई इससे छल कर सकता है.

एकाएक हृदय....................................................................................गोली चल गई

चलते चलते कवि जब सोच के इस बिंदु पर था कि स्वतंत्रता चाहने वाला कोई व्यक्तिवादी मुक्ति चाहने वाले के मन को छल नहीं सकता, उसे नगर में अचानक भयानक धुँआ उठता हुआ दिखता है. यह देख एकाएक उसका हृदय धड़क कर रह जाता है. ऐसा क्या हुआ कि नगर से भयानक धुँआ उठ रहा है, नगर में कहीं आग लग गई है और कहीं गोली चल गई है. सड़कें सुनसान हैं जैसे चारों ओर मरा हुआ सन्नाटा फैला है. हवाओं में अदृश्य ज्वाला (आग की ज्वाला उसकी आँखों से ओझल है, केवल उठता हुआ धँआ ही दीख रहा है) की गरमी है और उस गरमी का (उसको धक्का देकर उसे आगे बढ़ाता हुआ) आवेग है. ऐसे में सैन्य-जुलूस के सैनिक साथ साथ घूमते हैं, साथ साथ रहते हैं, साथ साथ सोते हैं, साथ साथ खाते हैं और साथ साख पीते हैं. उनका एक मात्र उद्देश्य जन का मन है अर्थात जन के मन को दहशत में लाना है. खाकी के कसे हुए ड्रेस में ये पथरीले चेहरे वाले सैनिक यंत्रवत घूमते हैं. वाकई वे जाने पहचाने से लगते हैं. अह! कहीं आग लगी है, कहीं गोली चल रही है.

इस कहीं आग लगने और कहीं गोली चलने की घटना पर सभी चुप हैं. साहित्यिक भी चुप हैं. वे साहित्य में इस संवेदना को ढाल सकते थे पर नहीं ढालते. कविजन गा-गा कर ऐसी कुचेष्टा के विरुद्ध जनता को जागरित कर सकते थे, पर नहीं करते. चिंतक, शिल्पकार और नर्तक भी चुप हैं. ये अपने चिंतन, शिल्प और नृत्य के माध्यम से विरोध कर सकते थे पर नहीं करते. कवि सोचता है इन सब की दृष्टि में उक्त जन ऐसी घट रही घटनाओं के विरोध में कुछ करते हैं, यह सब गप है अर्थात ऐसा कोई करता नहीं रहा है. उनके लिए ऐसा उद्धृत करना मात्र किंवदन्ती भर है. ये सभी लोग, रक्तपायी वर्ग (शोषक वर्ग) से नाभि-नाल बद्ध हैं अर्थात इनमें से एक की नाभि (साहित्यिक, चिंतक...की) और दूसरे के नाल (शोषक वर्ग के), नवजात शिशु के नाभि और नाल के समान जुड़े हुए हैं. ये नपुंषक भोग-शिराओं के जाल में उलझे हुए हैं. उक्त बौद्धिक वर्ग ऐसा क्यों करता है, कवि के सामने एक प्रश्न है. कवि महसूस करता है कि इस प्रश्न की उसे कुछ उथली-सी (ऊपर ऊपर की) पहचान है. अर्थात ये ऐसा क्यों करते हैं उसे इसकी कुछ कुछ समझ है. वह उस राह से अनजान है जिसपर चल कर वे यहाँ पहुँचते हैं. यह सोच कर कवि की वाणी में रुआँसापन आ जाता है. इस अराजक स्थिति में कवि को लगा जैसे कहीं कोई निर्दयी किसी के कलेजे पर चढ़ गया और कहीं आग लग गई और कही गोली चल गई.

इस भयंकर आगजनी और गोलियों की बौछार के डर से समाचारपत्रों के स्वामियों के समाचार लिखने स्थल अब उनके आलीशान भवनों के विवररूपी भीतर के कमरों में कर लिए गए हैं. इन बंद कमरों में अब संवाद और समीक्षाएँ गढ़ी जा रही हैं (जो वास्तविकताओं से दूर होते हैं) और जन के मन और हृदय के शूरता (वीरता) की टिप्पणियाँ गढ़ी जा रही हैं अर्थात कृत्रिम रूप से जन के मन की दृढ़ता की बात लिखी जा रही हैं. बैद्धिक वर्ग पूँजीपति वर्ग का क्रीतदास बना हुआ है. सभी जगह किराए के विचारों का ही उद्भास है अर्थात जन में केवल उन्हीं विचारों का प्रसार है जो शोषकों द्वारा खरीद लिए गए हैं. बड़े बड़े लोगों के चेहरों पर, जिनने शोषक वर्ग का विरोध करने का, ढोंग कर रखा था, उनकी पोल खुल गई है, उनके चेहरों पर स्याही पुत गई है. जन के प्रति उनके मन में जो नपुंसक श्रद्धा थी वह सड़क के नीचे की गटर में छिप गई है अर्थात उन्होंने अपने मुँह छिपा लिए हैं. ऐसे बिरोधहीन माहौल में कहीं आग लग रही है और कहीं गोली चल रही है. आग और गोली चलने से जो धुँआ जो चतुर्दिक फैल रहा है उससे लहरीले हो गए मेघों के नीचे प्रत्येक पल तेजी से लोगों की अपनी गतियाँ बिखर रही हैं (लोग तितर बितर हो रहे हैं). स्प्लिट सेकेंड (सेकेंड के खंडों में) में सैकड़ों साक्षात्कार लिए जा रहे हैं (संवाददाताओं द्वारा). ऐसे बने माहौल में, आजादी-प्राप्ति के बाद लोगों के मन में रूप ले रहे सपने, धोखे-से भरे हुए लग रहे हैं. लोगों के मन में इस शान की किरनें बह रही हैं कि उनकी आत्मा विश्व-मूर्ति में ढली हुई है अर्थात वे सबका कल्याण चाहते हैं, आततायियों का भी. कवि नगर में कहीं आग लगने और कहीं गोली चलने से बहुत बेचैन है.

रात के पत्थर............................................................................................चल गई

नगर में आग लगने और गोली चलने का ऐसा प्रभाव है कि कवि की अनुभूति में राह के पत्थर के ढोकों (खड्डों) में पहाड़ों से गिरने वाले झरने मानो तड़पने लगे हों अर्थात झरनों के लिए जैसे पानी की कमी पड़ गई हो. कल्पना में कवि का ध्यान उन श्रमिकों की तरफ जाता है जो परती खेतों में ईंटें पाथ रहे हैं. नगर में लगी आग की धाह से मिट्टी के लोंदे (निट्टी को सान कर बनाया गया गीला गोला) के भीतर भक्ति की अग्नि का उद्रेक (लोंदे के भीतर उपस्थित पानी, जो ईंट को रूप देने के काम आता है, को सुखाती अग्नि का बढ़ना) भड़कने लग गया हो अर्थात वह लोंदा, जिसे साँचे में ढाल कर ईंट बनानी हो, उसके शूख जाने के कारण, उसे ईंट का रूप नहीं दिया जा पा रहा हो. (मकानों को बनाने के लिए ईंटें बनाने हेतु पहले मिट्टी के लोंदे बनाए जाते हैं और उस लोंदे को सांचे में ढाल कर ईंटें बनाई जाती हैं. वे लोंदे आग और गोली की प्रज्वल उष्णता से सूख कर कठोर हुए जा रहे हैं जिससे ईंटों का ढालना असंभव हुआ जा रहा है. कवि इस कल्पना द्वारा अपनी दृष्टि की व्यापकता और श्रमिक के प्रति अपनी सहिष्णुता का बोध कराता है). वायु में उपस्थित धूल-कणों में अनहद नाद का खतरनाक कंपन व्याप्त हो रहा है (यह कंपन कानों को फाड़े दे रहा है). गोलियों की धमक से मकानों की छतों से गार्डर धम्म की आवाज करते हुए गिर रहे हैं. मकानों में खड़े किए गए खंभे भी भयानक वेग से हवा में घूम जा रहे हैं अर्थात गिरने गिरने को हो रहे हैं. दादा का सोटा भी जो किसी की खबर लेने के काम आता था, अपना दाँव पेच खेलता हुआ हवा में नाच रहा है. कक्का की लाठी भी जिससे वह किसी पर अपना दबदबा बनाते थे आकाश में नाच रही है. कहने का अर्थ यह कि इन गोलियों के आगे सभी कुछ बेकार हो चुके हैं. यहाँ तक कि रोते हुए बच्चे की पें-पें की आवाज भी हवा में गुम हो जा रही है. बच्चों की स्लेट पट्टी भी हवा में तेजी से लहराती घूम रही है. एक एक वस्तु हवा में इतनी जेजी से उड़ रही है कि लगता है ये प्रत्येक वस्तु प्राणाग्नि बम-से लगते हैं, ये परमास्त्र, प्रक्षेपास्त्र या किसी बम के जैसे लगते हैं. लगता है वे शून्य आकाश में होते हुए अपने शत्रुओं पर अनिवार्य रूप से टूट ही पड़ रहे हों. कवि कहता है कि यह सब कथा नहीं है जिसे बना कर कहा गया हो. यह सब सच है कि नगर में कही आग लग गई है और कहीं गोली चल गई है.

किसी एक.........................................................................................गोली चल गई

कवि यहाँ उपमा देकर यह बताने की चेष्टा कर रहा है कि किस तरह कोई संकल्प शक्ति हमारी आत्मा को एक लोहे के ज्वलंत टायर (शक्ति की कसावट) में जकड़ने की कोशिश कर रही है. कवि उस उपमा का पहले पूरा ब्योरा दे रहा है. कहता है- एक बलवान साँवले तन वाला लुहार बैलगाड़ी के चक्के पर लोहे का हाल (लोहे का गोल चक्का) चढ़ाने के लिए कण्डों का एक मंडल (गोल घेरा) बनाता है, उसपर कंडों (गोबर से बने) को सजाकर उसमें आग लगाता है. जब कण्डे जल कर लाल-लाल अंगारे-से हो जाते हैं और उससे सुनहरे कमलों की पंखुरियों के समान ज्वालाएँ उठने लगती हैं, उस समय वह लुहार उस गोल ज्वलंत रेखा में लोहे का चक्का रखता है. जलते कण्डों की गोलाई में लोहे के चक्के के लाल होने पर उससे नीली लाल स्वर्णिम चिनगारियाँ निकलने लहती है जैसे फूल खिल रहे हों. ऐसे में कुछ साँवले मुख वाले जन (उस लुहार के शाथ) लोहे के चक्के की लाल हुई पट्टी (हाल) को घन मार मार कर लकड़ी के चक्के पर जबरन चढ़ाते हैं, कवि सोचता है कि उसी प्रकार हमारी आत्मा के चक्के पर आतताइयों की संकल्प शक्ति के लोहे का मजबूत और ज्वलंत टायर चढ़ाया जा रहा है. वह महसूस करने लगता है कि वास्तव में युग बदल गया है. कैसा युग आ गया है कहीं आग लग रही है और कहीं गोलियाँ बरस रही हैं.

गेरुआ मौसम.....................................................................................गोली चल गई

नगर में लगी आग से अंगारे उड़ रहे हैं जिससे आकाश का रंग गेरुआ हो उठा है। लगता है जैसे मौसम गेरुआ हो गया है। इन ओंगारों में जिंदगी के जंगल जल रहे हैं अर्थात नगर की अनेक जिंदगियाँ इस आग में स्वाहा हो रही हैं. इस आग में जलने से लोग भीषण रूप से पज्वलंत और प्रकाशित फूलों से दिख रहे हैं जैसे ज्वालामुखी से निकलने वाले फूल हों. इनकी आत्माओं से उठते हाहाकार में उनकी वेदना (तड़पन) की नदियाँ बह रही हैं. उनकी वेदना-नदियों के जल में (तरल प्रवाह में) सचेत होकर सैकड़ों सदियाँ अपने ज्वलंत बिंब पेंकती हैं अर्थात सदियों से लोगों की जीवन सरणियों में जो संस्कृतियाँ उनका अंग बन चुकी हैं वे उनकी वेदना के माध्यम से उफन कर सतह पर आ रही हैं. इन वेदना-नदियों में मानो युगों-युगों से (श्रमिक वर्ग के?) आँसू डूबे हुए हैं. इसमें पिताओं (आँसू देने वाली पिछली पीढ़ी) की चिंताओं के उद्विग्न रग और विवेक रूपी पीड़ा की बेचैन गहराई भी है (अर्थात गहरे में भी उनमें बेचैनी है) जिसमें श्रमिकों का संताप डूबा हुआ है. श्रमिकों के संताप से तर जल को पीने से अर्थात उसमें घुली उनकी वेदना को गुन कर कवि से प्रभावित युवकों में व्यक्तित्वांतर (व्यक्तित्व का अंतरण या बदलाव) हो रहा है. व्यक्तित्वांतरित हुए ये युवक विभिन्न क्षेत्रों में कई तरह के संग्राम कर रहे हैं मानो ज्वाला रूपी पंखुरियों से घिरे, वे सब अग्नि के शतदल-कोष में बैठे हुए हैं अर्थात अग्नि के ढेर पर बैठे हैं. निश्चयी शक्तियाँ (सबकुछ निश्चित कर देने वाली शक्तियाँ या लिश्चय के साथ कुछ करने वाली शक्तियाँ) तीव्र-वेग से बह रही हैं. कहीं आग लगी हुई है और कहीं गोली चल रही है.

x x x x

एकाएक फिर.................................................................................कौन थी कौन थी

पूरी काव्य-रचना में कई बार कवि का स्वप्न भंग होता है. अब एकबार फिर उसका स्वप्न भंग होता है. अबतक के स्वप्नों में जो चित्र उसके मन के पर्दे पर बने थे वे सब बिखर गए. अब वह फिर से अपने को अकेला महसूस करता है उन चित्रों के साथ होने से वह अपने को दुकेला समझता था. इस स्वप्नभंग से उसके मस्तिष्क और हृदय में छेद पड़ गए हैं. अर्थात उसके मस्तिष्क और हृदय में टीस की पीड़ा भर गई है. इन दुखते हुए रगों के रंध्रों में गहरे प्रदीप्त ज्योति अर्थात जन-क्रांति के उभार का रस बस गया है.

कवि उन देखे गए स्वप्नों का आशय खोज रहा है. और उस आशय की समझ आने पर उसके अर्थों की वेदना (अर्थात अर्थों की संवेदना) उसके मन में घिर आती है. कवि इसे एक अजीब झमेला समझ रहा है. यहाँ अपने मन की अंतर्पीड़ाओं को कवि द्वारा झमेला समझा जाना कवि की सोच और व्यक्तित्व पर एक प्रश्नचिह्न खड़ा करता है. तब तो यह भी कहा जा सकता है कि जनक्रांति भी उसके लिए झमेला सदृश ही होगी. यह बात अजीब लगती है कि, कवि के अनुसार इस अजीब झमेला के होते हुए भी उसका मन घाव-रूप उन अर्थों के आस-पास घूमता है (अर्थात उन स्वप्नों के आशय कवि को घाव करते से लगते हैं) किंतु इससे उसकी आत्मा में चमक भरी (आकर्षक) प्यास भर गई है (अर्थात उसके मन में हो रहा है कि ये घाव लेने जैसे हैं). कवि को संसार भर में (साम्यवादी समाज की रचना की) सुनहली तस्वीर दिखती है, कुछ इस तरह कि गत सपनों के किसी अनपेक्षित क्षण में सहसा उसने जीवन भर के लिए प्रेम कर लिया हो. मानो उस क्षण उसे किन्हीं अतिशय मृदु बाँहों ने (प्रेमिका की) कस लिया हो और उसके मृदुस्पर्श और चुंबन की उसे याद आ रही हो. कवि उस स्वप्न-प्रणयिनी के प्रति अनजान है. अपने आप से ही पूछता है वह अज्ञात प्रणयिनी कौन थी, कौन थी?

कमरे में धूप...........................................................................अंतरिक्ष-वायु में सिहरा

किसी स्वप्न-प्रणयिनी के अहसास के साथ कवि का स्वप्न टूटता है. स्वप्न से विरत कवि महसूस करता है कि उसके कमरे में सुबह की धूप आ गई है. गैलरी में सूरज की सुनहली किरणें फैल गई हैं. स्वप्न टूटने पर वह अपने आप से पूछता है, क्या यह स्वप्न फलित होगा? क्या सचमुच में उसे कोई प्रेमिका मिलेगी? वह अपने भीतर इस अहसास के जगने से प्रसन्न नहीं होता. वह उद्विग्न हो उठता है- हाय! स्नेह की यह गहरी वेदना क्योंकर उसके अंदर जाग गई? इसे जगना नहीं चाहिए था.

स्वप्नलोक से इस जगतलोक में आने पर कवि महसूस करता है कि जग में सब ओर विद्युत्तरंगीय हलचल अर्थात अलक्ष्य, केवल महसूस होने वाला हलचल है. इस हलचल में चुंबक का आकर्षण है. हर वस्तु की अपनी निजी गरिमा का आलोक है, मानो अलग अलग फूलों का अलग अलग रंगीन और बेमाप (जिसे मापा नहीं जा सकता) वातावरण है. इन वस्तुओं का एक अपना प्रकट अर्थ है पर एक अन्य अर्थ भी इसमें छिपा हुआ साफ साफ झलक रहा दिखता है. कवि महसूस करता है कि उसके कमरे की डेस्क पर रखे महान ग्रंथों के लेखक उसकी इन मानसिक क्रियाओं के प्रेक्षक बन गए हैं. उसे यह भी महसूस होता है कि उसके कमरे में इस क्षण आकाश उतर आया है, उसका मन अंतरिक्ष की वायु में सिहर उठा है. इन काव्य-पंक्तियों से यही बोध होता है कि जिस स्वप्न-चिंतन में वह लगा था वह उसके लिए बोझस्वरूप था. उससे मुक्त होकर वह अब निर्ग्रँथ है और प्रकृति की बाँहों में है.

उठता हूँ जगता हूँ.................................................................................आत्म-संभवा

धूप निकल आने पर कवि अब अपनी जगह से उठता है और गैलरी में जाकर खड़ा हो जाता है. वह देखता है कि एकाएक वह व्यक्ति (जो कभी मशाल की रौशनी के साथ दिखा था, रक्तालोकस्नात पुरुष) उसकी आँखों के सामने गलियों और सड़कों से होता हुआ लोगों की भीड़ में चला जा रहा है. उसे स्मरण होता है कि यह वही व्यक्ति है जिसे उसने एक गुहा में देखा था. उस व्यक्ति को देख कर उसका दिल धड़कने लगता है. और जैसे ही उसे पुकारने को उसका मुँह खुलता है कि अचानक वह दिखते दिखते फिर वह किसी जन-यूथ में गुम हो जाता है और उसका हाथ उसे पुकारने को उठा का उठा ही रह जाता है.

इन पंक्तियों में कवि स्पष्ट करता है कि अकस्मात दिखा वह पुरुष उसकी अनखोजी (जो खोजी न जा सकी हो) निजी समृद्धि का परम उत्कर्ष है. वह उसकी परम अभिव्यक्ति है. कवि उसका शिष्य है और वह कवि का गुरु है, परम गुरु है. वह कभी उसके पास न आया था न बैठा ही था. उसे कवि ने एकबार तिलस्मी खोह में देखा था, आखिरी बार. किंतु वह रहस्य –पुरुष प्रत्येक पल जगत की गलियों में फटेहाल घूमता रहता है. उसमें विद्युततरंग-सी वही गतिमयता है. वह उत्यंत उद्विग्न ज्ञान का तनाव है. उसमें अतिशय सक्रिय प्रेमस्वरूप की है किंतु उसका रूप वही फटेहाल है जैसा तब था. वह परम अभिव्यक्ति सारे संसार में घूमती है, पता नहीं कहाँ कहाँ, यह भी पता नहीं कि इस समय वह कहाँ है. कवि कहता है कि इसीलिए वह उसे हर गली में और हर सड़क पर झाँक झाँक कर ढूँढ़ता है, हर एक चेहरे को गौर से देखता है. वह प्रत्येक चेहरे की गतिविधि, चरित्र और हर एक आत्मा का इतिहास देखता है. वह हर एक देश की राजनैतिक परिस्थिति, मनुष्य से संबंधित उसका प्रत्येक स्वानुभूत आदर्श, विवेक की प्रक्रिया और उस क्रिया की परिणति भी देखता है. वह उसे (परम अभिव्यक्ति को) पठारों पर, पहाड़ों में, समुद्र में जहाँ उसके मिलने की संभावना है, खोज रहा है. इतना प्रयास करने के उपरांत कवि को यह प्रतीति होती है कि उसकी वह खोई हुई परम अभिव्यक्ति अनिवार्य है किंतु आत्मसंभवा है अर्थात अपने आप प्रकट होने वाली है या कहें स्वतः रूप लेने वाली है.

आलोचनाः

‘अँधेरे मेंकविता का यह आठवाँ खंड उसका समापन अंश है. इस अंश में कवि अनुभव करता है कि कोई बलवान शक्ति उसकी आत्मा को एक लौह-शक्ति के शिकंजे में कसती जा रही है मानो कोई बलवान लोहार अपने साथियों संग घन से पीट पीट कर उसकी आत्मा रूपी गाड़ी के चक्के पर लोहे की पट्टी चढ़ा रहा हो.

इस अंश में कवि एक खास बात करता है कि आग और गोलियों की मार से आक्रांत जन की वेदना-नदियों की समानुभूति में आकर युवा वर्ग अपने व्यक्तित्वों का अंतरण कर रहे हैं. इस बात से यह ध्वनि निकलती है कि युवाओं में इन आक्रांताओं के विरुद्ध जंग छेड़ने की मनोवृत्ति जाग रही है. वे उनसे लड़ने का मन बनाने लगे हैं.

इस कविता की कई पंक्तियाँ अपना स्पष्ट अर्थ नहीं देतीं. कवि ने इस कविता में जो “मिट्टी के लोंदे के भीतर/भक्ति की अग्नि का उद्रेक/भड़कने लग गया हो वाक्य-विन्यास की रचना की है, इसमें न तो स्पष्टता है न किसी काव्य-सौंदर्य की अनुभूति होती है. यहाँ मिट्टी के लोंदे के भीतर भक्ति की अग्नि क्या चीज है. लोंदे के भीतर पानी की स्थिति होती है. यहाँ किस सहज गुण धर्म की सामान्यता से भक्ति का प्रतीक पानी माना जाय. हाँ पानी की अग्नि से पानी की ऊर्जा का अर्थ लिया जा सकता है जो मिट्टी के अणुओं को जोड़े रखता है. इस ऊर्जा के भड़कने का क्या तात्पर्य हो सकता है. आग की धाह से पानी सूखेगा तभी ईंटें रूप ले सकेंगीं. इसका अर्थ होगा पानी की ऊर्जा में कमी का होना तो फिर अग्नि (ऊर्जा) के भड़कने से क्या आशय लिया जाए.

इस कविता से स्पष्ट होता है रक्तपायी वर्ग के द्वारा निकाले गए जुलूस के सैनिकों द्वारा घटित की जाने वाली आगजनी से हर वर्ग विशेषतः श्रमिक वर्ग संत्रस्त है. लेकिन कवि जब अगली फैंटेसी में यह उद्भावना करता है कि आग लगने और गोलियों के चलने से नगर के गेरुए हो गए मौसम में उड़ते अंगारों में अब जिंदगी के जंगल जल रहे हैं (जंगल जल रहे जिंदगी के अब), तो इस पंक्ति से यह आशय भी निकलता है कि नगर की जिंदगियाँ यहाँ स्वाभाविक रूप से नहीं वरन जंगल झाड़ की तरह विकसित हैं. तब तो इन्हें जलाकर साफ करना ही उचित है. जबकि कवि का आशय शांत ढंग से जी रही जिंदगियों में आए विक्षोभ को व्यक्त करना प्रतीत होता है. कवि उसे अभिव्यक्त करने में विफल हुआ प्रतीत होता है.

कविता के अंतिम छंद में कवि अपनी उस खोई हुई अभिव्यक्ति की चर्चा करता है जिसे आरंभिक कविता में वह रक्तालोकस्नात पुरुष के रूप में देखता है. वह कहता है कि वह रहस्यमय पुरुष उसकी निजी समृद्धि का परम उत्कर्ष है, वही उसकी परम अभिव्यक्ति है.

मेरा अनुमान है कि कवि जो कुछ कहना चाहता है, उसमें उसकी इच्छा है कि जीवन के सर्वाँग की अभिव्यक्ति आ जाए. और जीवन के सर्वांग में मनुष्य की सकल अनुभूति आ जाती है क्योंकि जीवन की कल्पना मनुष्य के संदर्भ में ही है. उस अभिव्यक्ति के लिए वह अपने भीतर की ओर न देख अपने बाहर के जगत की ओर देख रहा है. जबकि अभिव्यक्ति व्यक्तित्व के तल (बाहरी तल) से नहीं आती, आत्मा के तल (अंतस्तल) से आती है. बाहर के तल से आने वाली अभिव्यक्ति तू-तू मैं-मैं वाली होती है जो पल पल बदलती रहती है. पर आत्मा के तल से आने वाली अभिव्यक्ति अंतर की खुशबू लिए हुए और स्थायी होती है. वही उसकी सच्ची अभिव्यक्ति भी होती है. कवि अपनी अभिव्यक्ति को एक खास पक्ष में खड़ा होकर खोज रहा है. वह जीवन के एक राजनीतिक पक्ष (साम्यवाद) में खड़ा है जिसमें व्यक्ति-स्वातंत्र्य पर सत्ता का पहरा है. जीवन के और भी कई पक्ष हैं- धार्मिक, लोकतंत्री आदि. इनमें व्यक्ति-स्वातंत्र्य की भरपूर गुंजाइश है. पर इनके पक्ष में होने पर साम्यवाद अलोप तो नहीं होगा पर उसका रूप बदल अवश्य जाएगा. कदाचित साम्यवाद के बदले रूप से कवि सहमत नहीं है. मनुष्य के स्तर पर जीवन के अनेक पक्षों में से केवल एक पक्ष में होकर, वह भी रूढ़ रूप में, मनुष्य के पक्ष में कैसे हुआ जा सकता है और परम अभिव्यक्ति कैसे पाई जा सकती है. परम अभिव्यक्ति में तो सभी पक्षों की अनुभूतियों का समाहार होना चाहिए.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=1$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|लघुकथा_$type=complex$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$va=1$com=0$s=200$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$count=5$page=1$com=0$va=1$src=random

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3821,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2761,कहानी,2093,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,234,लघुकथा,816,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,306,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1904,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,641,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,684,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,66,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: मुक्तिबोध की कविताः ‘अँधेरे में’, भाष्यालोचन-8 // शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव
मुक्तिबोध की कविताः ‘अँधेरे में’, भाष्यालोचन-8 // शेषनाथ प्रसाद श्रीवास्तव
https://lh3.googleusercontent.com/-CUCB8VaWLtk/WxNyuii3mYI/AAAAAAABCE8/9YQWXDQ0jNkntBDLUPAwoy9ws5IKQZYegCHMYCw/clip_image002_thumb?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-CUCB8VaWLtk/WxNyuii3mYI/AAAAAAABCE8/9YQWXDQ0jNkntBDLUPAwoy9ws5IKQZYegCHMYCw/s72-c/clip_image002_thumb?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/06/8.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/06/8.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ