लघुकथा // *अंतर्द्वन्द* // *श्रद्धा मिश्रा*

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

लघुकथा

*अंतर्द्वन्द*

*श्रद्धा मिश्रा*

image
मैं मोटी भी हो गयी हूँ।, देखने में भी अब पहले जैसी नहीं लगती। काम भी कायदे से नहीं करती या ये भी हो सकता है उनका मन भर गया हो मुझसे। कुछ भी हो सकता है होने को तो रोज एक ही बात के झगड़े होते हैं, कि तुम करती ही क्या हो,घर भी साफ नहीं रखती टाइम से खाना नहीं देती। मैं सच में कुछ भी नहीं करती क्या?शायद नहीं करती। और करूँ भी क्यों? क्या इन सब का ठेका मैंने ले रखा है। क्या मैं सिर्फ काम करने के लिए आई हूँ। मैं ये सोच कर तो नहीं आई थी या शायद यही सोचना था। मेरी भूल थी ये की मैंने सपनों को सच समझ लिया।


मन व्यथित है वर्तमान से, व्याकुल है भविष्य के लिए और अतीत तो जैसे तैसे गुजार लिया था। मेरी व्याकुलता का कारण सिर्फ यही है कि माँ बाप की मर्जी के बिना शादी कर ली ये सोच कर की अतीत की कोई भी परछाई मुझ पर न पड़े। मगर क्या औरत का जन्म इसीलिए हुआ ही है, या पुरुष को औरत सिर्फ दासी के रूप में ही चाहिए। कितना कटु है मगर सत्य तो है। लोग प्यार करते है और फिर परेशान रहते है अपने प्यार को हमसफर बनाने के लिए। मगर होता क्या है जरा सोचती हूँ तो मेरी माँ ने अपने माँ बाप की मर्जी से शादी की वो भी वही करती है, जो मैं करती हूँ जब कि मैंने अपने प्यार से शादी की। शायद कृष्ण और राधा साथ रहते तो उनका प्यार भी नार्मल ही गिना जाता उनकी मिसाल नहीं दी जाती प्रेम के लिए। दूर रहने से ही प्रेम बना रहता है साथ रहने से तो एक दूसरे के अवगुण ही दिखते हैं। एक समय के बाद प्यार धूमिल पड़ ही जाता है। एक दूसरे पर प्रश्न चिन्ह लग ही जाते हैं। औरत दासी ही हो जाती है। और जो न हो दासी महारानी बनी रहे वो ? उसे तो कोई पुरुष नहीं चाहेगा सारे संबंध क्षीण होने लगते है जब औरत अपने अधिकार समझने लगती है। जो औरत पुरुष के अनुसार कार्य न करे वो हो जाती है कुलटा। कितना दूर है प्रेम और विवाह एक दूसरे से,और लोग दोनों को एक साथ बोलते हैं प्रेमविवाह।


किसी को किसी से प्रेम हो न हो उनके विचार मिलें न मिलें मगर एक चीज अगर हो स्त्री में तो सम्बन्ध जन्म जन्मांतर तक चल जाएगा खामोशी । मगर ये खामोशी कब तक चलेगी दादी से माँ तक माँ से मुझ तक और मुझसे....

*श्रद्धा मिश्रा*

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "लघुकथा // *अंतर्द्वन्द* // *श्रद्धा मिश्रा*"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.