रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

नदी के राक्षस // पश्चिमी अफ्रीका की लोककथाएँ // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

देश विदेश की लोक कथाएँ — पश्चिमी अफ्रीका–1 : पश्चिमी अफ्रीका की लोक कथाएँ–1 बिनीन, बुरकीना फासो, केप वरडे, गाम्बिया, गिनी, गिनी बिसाऔ, आइवर...

देश विदेश की लोक कथाएँ — पश्चिमी अफ्रीका–1 :

clip_image002

पश्चिमी अफ्रीका की लोक कथाएँ–1

बिनीन, बुरकीना फासो, केप वरडे, गाम्बिया, गिनी, गिनी बिसाऔ, आइवरी कोस्ट, लाइबेरिया,


संकलनकर्ता

सुषमा गुप्ता


9 नदी के राक्षस[1]

यह लोक कथा भी पश्चिम अफ्रीका के लाइबेरिया देश की लोक कथाओं से ली गयी है।

एक बार की बात है कि बहुत दूर के एक गाँव में एक स्त्री अपनी दो बेटियों के साथ रहती थी। वे दोनों बहिनें परिवार के लिये बारी बारी से खाना बनाती थीं।

जब उनकी माँ खेत पर चली जाती तब उनमें से एक बहिन खाना बनाती और उसको एक कैलेबाश[2] में रख लेती और एक मिट्टी के ढेर पर रख देती। वह खाना तब तक वहीं रखा रहता जब तक उनकी माँ खेत पर से वापस आती थी।

उसके बाद वे लड़कियाँ खेलने चली जातीं और तब तक खेलती रहतीं जब तक उनकी माँ खेत से वापस आती। फिर सब लोग एक साथ खाना खाते।

यह गाँव एक टापू पर था जो चारों तरफ पानी से घिरा हुआ था। वह पानी भी इतना सारा था कि उस टापू से पानी के उस पार कोई जमीन दिखायी नहीं देती थी।

उस पानी में एक राक्षस रहता था जो केवल उन लोगों को खाता था जो गलत काम करते थे।

जब भी कभी किसी पर किसी गलत काम करने का इलजाम लगता तो वह उस नदी के बीच में ले जाया जाता और उस नदी की कसम खाता।

अगर उसने कोई गलत काम नहीं किया होता तो नदी उसको छोड़ देती नहीं तो वह नदी वाला राक्षस अपना बड़ा सा मुँह खोलता और उसको निगल जाता।

उस स्त्री के घर में कभी कभी कुछ ऐसा होता कि जब भी यह स्त्री जहाँ अपना खाना रखवाती थी वहाँ से उसकी एक बेटी वह खाना खा लेती थी। माँ जब भी पूछती कि खाना किसने खाया तो वे दोनों ही मना कर देतीं कि हमने खाना नहीं खाया।

एक दिन वह स्त्री खेत से एक खरगोश ले कर आयी जो उसने वहाँ मारा था। उसने खरगोश को साफ किया और काटा। उसमें से उसका कुछ माँस उसने अपनी बड़ी बेटी को उसका सूप बनाने को दे दिया और बाकी बचा हुआ माँस उसने आग पर रख दिया।

उस रात सबने इतना अच्छा खाना खाया जितना पहले कभी नहीं खाया था। सब बहुत खुश थे और सबका पेट खूब भरा हुआ था। अगले दिन उन लड़कियों की माँ बेटियों को घर छोड़ कर खेत पर चली गयी।

जब माँ शाम को खेत से वापस आयी तो उसने देखा कि उसका खरगोश का बचा हुआ माँस तो गायब था। वह बहुत गुस्सा हुई।

उसने सोचा — “खाना खाना तो मेरी समझ में आता है कि लड़कियों ने खा लिया होगा क्योंकि वे भूखी थीं पर माँस खाना? यह तो सीधे सीधे लालच है। और जो भी बच्चा इस तरह के स्वाद से बड़ा होता है वह अच्छा बच्चा नहीं होता। अगर उसका ऐसा ही स्वाद रहा तो वह तो घर में एक बीमारी बन जायेगा। ”

यही सोच कर उसने लड़कियों से पूछताछ करने का निश्चय किया। उसने अपनी बेटियों को बुलाया और उनसे पूछा — “खरगोश का माँस किसने खाया?”

पर दोनों ने मना कर दिया कि उनको इस बात की कोई जानकारी नहीं थी कि खरगोश का माँस किसने खाया।

उसकी बड़ी बेटी बोली — “मुझे तो यह भी नहीं पता था कि वह माँस आग पर रखा था। ”

छोटी बेटी बोली — “न ही मुझे इस बात का पता था। मैंने सोचा कि हम लोगों ने कल रात ही उसे खत्म कर लिया था। ”

माँ उनके इन जवाबों से खुश नहीं थी। उसने उनसे कई बार सच बताने को कहा — “मैं तुम लोगों को कोई सजा नहीं दूँगी, बस तुम लोग मुझे सच सच बता दो कि खरगोश का माँस किसने खाया।

तुम लोगों को तो मालूम है कि मुझे चोरी करने वाले लोगों से कितनी नफरत हैं। तुम लोगों को कोई चीज़ लेने से पहले पूछना चाहिये। पर अगर तुमने कोई चीज़ बिना पूछे ले भी ली है तो फिर तुमको मान लेना चाहिये कि वह चीज़ तुमने ही ली है। ”

बड़ी बेटी बोली — “पर माँ, मैंने सच में माँस नहीं लिया। ”

छोटी बेटी बोली — “और मैं तो सारा दिन खेल रही थी। मुझे तो पता ही नहीं था कि हमारे घर में खरगोश का माँस और भी रखा है। ”

वह बेचारी स्त्री बोली — “और मैं सोच रही थी कि मैं अपने बच्चों को बहुत अच्छे तरीके से पाल रही हूँ। पर अब मुझे लग रहा है कि मैं तो न केवल चोरों को पाल रही हूँ बल्कि झूठ बोलने वालों को भी पाल रही हूँ। ”

कई दिनों तक वह सोचती रही कि वह क्या करे क्या करे। क्या मुझे उनसे सच उगलवाना चाहिये? या फिर मुझे उनका खाना बन्द कर देना चाहिये?

पर उसको लगा कि उन दोनों में से कोई भी तरीका ठीक नहीं है क्योंकि इस तरह से तो वह उन भोली भाली लड़कियों को केवल सजा ही देगी। फिर उसने सोचा कि कहीं ऐसा तो नहीं है कि उन्होंने दोनों ने एक साथ मिल कर माँस खाया हो।

बहुत सोचने के बाद उसने अपनी बेटियों को एक साथ बुलाया और उनको अपना प्लान बताया।

उसने कहा — “क्योंकि मैं तुम लोगों से सच नहीं निकलवा सकी इसलिये मैं तुम लोगों को नदी वाले राक्षस के पास ले जाऊँगी। पर मैं तुम लोगों को एक आखिरी मौका और देती हूँ कि अगर तुम लोगों ने वह माँस चुराया हो तो मुझे अभी बता दो।

तुम लोगों के लिये यह आसान बनाने के लिये मैं एक काम कर सकती हूँ कि तुम मेरे पास आ कर मुझे अकेले में बता सकती हो कि वह माँस तुमने खाया है और मैं दूसरी को नहीं बताऊँगी कि वह माँस तुमने खाया है।

पर अगर कल सुबह तक तुमने मुझ से कुछ नहीं कहा तो मैं तुम को उस नदी वाले राक्षस को खाने के लिये दे दूँगी। ” यह कह कर वह अपने कमरे में सोने चली गयी।

clip_image004

उसकी दोनों बेटियाँ भी अपने कमरे में सोने चली गयीं। वहाँ जा कर वे सीधी लेट गयीं और रात भर अपने छप्पर की छत पर बैठी रात में आने वाली मौथ[3] को देखती रहीं।

बड़ी बेटी ने कहा — “तुम इस बात को मान क्यों नहीं लेतीं? क्यों कल तुम सबको शर्मिन्दा करना चाहती हो?”

छोटी बेटी बोली — “और तुम? तुम ही इस बात को क्यों नहीं मान लेतीं?”

काफी रात गये तक वे एक दूसरे से ऐसे ही बहस करती रहीं फिर पता नहीं कब उनको नींद आ गयी। जब वे सुबह सो कर उठीं तो उनकी माँ खेत पर जा चुकी थी। यह देख कर उन दोनों को कम से कम दिन भर के लिये तसल्ली मिली।

माँ के घर लौट कर आने से पहले छोटी बेटी ने सोचा कि नदी पर जाने के लिये काफी देर हो जायेगी।

दोपहर बाद उन्होंने देखा कि उनकी माँ खेत पर से वापस आ रही थी। उसको देखते ही दोनों बेटियों के मुँह लटक गये और उनके दिल ज़ोर ज़ोर से धड़कने लगे।

वे अपने में इतनी खोयी हुईं थीं कि उनको पता ही नहीं चला कि कब उनकी माँ उनके सामने आ कर खड़ी हो गयी।

उसने पूछा — “क्या तुम लोग मेरा स्वागत नहीं करोगी। ”

वे कुछ परेशान सी बोलीं — “हाँ हाँ आओ माँ। ” और उन्होंने अपनी माँ के हाथ में पकड़ा बोझा ले कर जमीन पर रख दिया।

उन्होंने अपनी माँ को खाना परोसा और जब वह खाना खा चुकी तो उसने उनसे फिर पूछा कि क्या वे लोग यह बात मानने के लिये तैयार थीं कि खरगोश का माँस उन्होंने ही खाया था? पर उनमें से कोई कुछ नहीं बोला।

सो उनकी माँ उन दोनों को ले कर नदी पर गयी। वहाँ पहुँच कर उसने अपनी छोटी बेटी को एक बड़े से कैलेबाश के कटोरे में रखा और यह कहते हुए नदी में बहा दिया।

“बेटी, अगर तुम सच्ची हो तो वह तुमको छोड़ देगा, और अगर तुम सच्ची नहीं हो तो अलविदा मेरी बेटी। मैं तुमको आखिरी बार देख रही हूँ। ”

कैलेबाश का कटोरा बहता बहता नदी के बीच में चल दिया तो लड़की ने गाया —

नदी के राक्षस, ओ नदी के राक्षस, अगर मैंने खरगोश का माँस खाया है

तो मैं तुम्हारे पास आ रही हूँ और मैं तुम्हारी हूँ

अपना मुँह खोलो ताकि मैं उसमें घुस सकूँ

पर अगर माँस किसी और ने खाया है

तो हमेशा के लिये तुम अपना मुँह बन्द कर लो ताकि मैं यहाँ से वापस जा सकूँ

दो या तीन लाइनें गाने के बाद उसको कुछ नहीं हुआ। नदी का बहाव बदल गया और लड़की अपनी माँ के पास किनारे पर आ कर लग गयी। उसकी माँ ने उसको कैलेबाश के कटोरे में से निकाल लिया और फिर उसकी बड़ी बहिन को उसमें रख कर बहा दिया।

जब बड़ी बहिन उस कैलेबाश में बैठ कर नदी के बीच में पहुँची तो उसने भी गाना शुरू किया —

नदी के राक्षस, ओ नदी के राक्षस, अगर मैंने खरगोश का माँस खाया है

तो मैं तुम्हारे पास आ रही हूँ और मैं तुम्हारी हूँ

अपना मुँह खोलो , , , ,

इतना गाते ही नदी के पानी ने भँवर खाना शुरू किया और उसको अपने भँवर में निगलना शुरू कर दिया। उसकी माँ ने उससे बहुत कहा कि वह अपनी गलती मान ले पर वह उसने अपनी गलती नहीं मानी।

जल्दी ही पानी उसकी गरदन तक आ गया। उसकी माँ ने एक बार फिर उससे कहा कि वह अपनी गलती मान ले परन्तु वह मना ही करती रही कि उसने खरगोश का माँस नहीं खाया।

वह धीरे धीरे नदी के पानी में डूबती चली गयी और नदी के पानी ने उसको पूरी तरह से ढक लिया।

इसके बाद माँ अपनी बेटी के लिये बहुत रोती रही। जब वह रोते थक गयी तो वह अपनी छोटी बेटी को ले कर घर वापस चली गयी।

वे दोनों माँ बेटी बहुत दिनों तक ज़िन्दा रहीं पर जब भी वे नदी की तरफ जातीं तो वे अपनी बेटी और बहिन के लिये बहुत रोतीं।

clip_image008


[1] The River Demons – a Kpelle folktale from Liberia, West Africa. Adapted from the Book :

“The Orphan Girl and the Other Stories”, by Offodile Guchi. 2011.

[2] Dry outer cover of a pumpkin-like fruit which can be used to keep both dry and wet things – mostly found in Africa. See its picture above.

[3] Moth – a kind of butterfly which is very dull in color, mostly of brown color, comes out in night and sleeps in daytime. Sometimes it is beautiful also and makes good pattern when she sits down. See the picture of its one kind above.

---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से सैकड़ों लोककथाओं के पठन-पाठन का आनंद आप यहाँ रचनाकार के  लोककथा खंड में जाकर उठा सकते हैं.

***

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2771,कहानी,2097,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,820,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1908,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: नदी के राक्षस // पश्चिमी अफ्रीका की लोककथाएँ // सुषमा गुप्ता
नदी के राक्षस // पश्चिमी अफ्रीका की लोककथाएँ // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-U2JtphSIUoU/Wx0M408GMKI/AAAAAAABCaA/RJsQlKwIVfUIPcR6cyfnBVURWMWdxmbNwCHMYCw/clip_image002_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-U2JtphSIUoU/Wx0M408GMKI/AAAAAAABCaA/RJsQlKwIVfUIPcR6cyfnBVURWMWdxmbNwCHMYCw/s72-c/clip_image002_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/06/blog-post_84.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/06/blog-post_84.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ