अनूपा हर्बोला की लघुकथाएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------


1
फिर से नामकरण..........
"लता एक थाली में ज़रा चावल तो भर कर ला", उसकी बुआ सास बोली।
"अभी लाती हूं"।
वो थाली में चावल भर कर लाती है.......
"ये लो बुआजी पर किस लिए चाहिए ये चावल आप को"।
"अरे! भूल गई क्या,बहू को नया नाम देना है"।
"ले मुन्ना लिख इसका नया नाम इसमें”, वो चावल भरी थाली लता के बेटे की तरफ सरका देती है।"
"मेरा नाम है ना आभा जोशी" लता की बहू धीमी आवाज़ में बोली।
"अरे, वो तो तेरा मायके का नाम है, आज से वो ख़तम ,आज जो तुझे नाम मिलेगा वह आज से तेरा नाम होगा "बुआ बोली।
"पर..."
"पर वर कुछ नहीं, सबका बदला जाता है,मेरा ,तेरी सास का और उसकी सास का, सभी को शादी के बाद नया नाम मिला" बुआ बोली।
"पर मेरे सर्टिफिकेट में मेरा नाम आभा जोशी है" बहू ने बोला।
"एक एफेडेविट बन जायेगा, और हो गया नाम बदली"....बुआ ने कहा।
"पर..."
"फिर पर”, बुआ बोली।
"बुआ जी मैं नाम को आभा जोशी लोहनी कर लेती हूं ये भी तो नया नाम है", बहू ने फिर कोशिश की ।
"नहीं तेरा नाम आज से काव्या लोहनी है, कमल के नाम से मिलता हुआ। क से कमल, क से काव्या देख, मैचिंग मैचिंग" बुआ बोली।
नई बहू का चेहरा देख कर सास जान जाती है कि आभा (नई बहू) खुश नहीं है।
"बुआ आज के समय में कोई नहीं बदलता है नाम, ये पुराने दिनों की बात है, जब औरतें घर पर रहती थी,पर आज के समय में लड़कियां नौकरी करती हैं, कितनी परेशानी होती है नए नाम के चक्कर में ,कोई नहीं देता नया नाम बहू को अब" लता बोली।
"सही सीख दे रही है तू अपनी बहू को मेरी बात काट कर" गुस्से में बुआ बोली।
"अरे बुआजी, गुस्सा काहे हो रही हो, ज़माने की बात कर रही हूं मैं"।
"जो करना है करो "बोलकर बुआ पीछे सरक जाती है।
आभा आँखों आँखों में अपनी सास को धन्यवाद बोलती है, दोनों सास बहू एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा देते हैं।
कमल चावल की थाली में "आभा जोशी "लिख देता है....
--
2
चार लड़के पर एक बेटा
शाम का समय है रिया पार्क में टहलने निकली है,ये उसका रोज का नियम है। रोज पार्क में टहलने जाने के कारण उसकी दोस्ती कई लोगो से हो गई है।
आज उसने देखा कि बुजुर्ग अंकल लोगो का ग्रुप नहीं है,सिर्फ एक अंकल अकेले बैठे हैं। वो उन्हें अकेले देख उनके पास जाती है।
"नमस्ते अंकल ! आज आप अकेले" वो बोली।
"वो सब पिक्चर देखने गए है" अंकल बोले
"आप नहीं गए"
"नहीं, मेरी बहू और पत्नी को बाज़ार जाना था तो मैं बच्चो के साथ था "।
"अच्छा" वो बोली।
"हां" अंकल बोले।
"आप अपने बेटे के साथ रहते हैं"
"हां"
बात को आगे बढ़ाते हुए वो बोली " कितने बच्चे है आपके अंकल"।
"मेरे चार लड़के है  ,पर बेटा एक ही है, मै उसी के साथ रहता हूं" अंकल बोले।
---
अनूपा हर्बोला
Anupa Harbola
N-3/6 JSW Township
Vidyanagar Dist: Ballari
Karnataka-583275

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "अनूपा हर्बोला की लघुकथाएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.