370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

रोने का सुख - कमल किशोर वर्मा

मनुष्य के जीवन में और कुछ हो या ना हो ,दो चीजें जरूर होती है। रोना और हँसना , जैसे ही उसका जन्म होता है सबसे पहले वह रोता है , हँसता नहीं ! अर्थात जीवन की शुरूआत ही रोने से है बाद में वह अपना मन बहलाने को कुछ चीजों में खुशी ढूंढ कर हँसने का प्रयास करता है। अर्थात हँसी बाद में प्रयास स्वरूप की गई प्राप्ति है। लोग हँसना चाहते हैं, लोग हँसते हैं, कुछ दूसरों की गलती पर हँसते हैं कुछ दूसरों की हानि पर ! परन्तु रोने का मजा ही अलग है।

जब कोई मनुष्य किसी मनवाँछित स्थिति को प्राप्त करता है, विजयी होता है, कोई बहुत बड़ा ईनाम जीतता है, या मौत से बच निकलता है तो वह हँसता नहीं है , उसकी आंखों में आँसू आते हैं ! जब कोई बात या भावना दिल को छू जाती है तो आंसू आते हैं हँसी नहीं ! जब कोई बिछुड़ा हुआ अपना मिलता है तो आँसू आते हैं। अर्थात जीवन का प्रगाढ़तम भाव रोना है , हँसना नहीं। आपसे सच्चा प्रेम करने वाला वो नहीं है जो हँस - हँस के बात करता है बल्कि सच्चा प्रेमी वह है जो आपके लिये रोता है। यदि आपसे कोई कहे कि मैं ऐसा हूँ - वैसा हूँ ... ये बातें झूठ भी हो सकती है ? क्योंकि जबान झूठ बोल सकती है ! परन्तु आँसू झूठ नहीं बोल सकते ! आँसू , दिल की जबान होते हैं।

रोने से मन हल्का हो जाता है हँसने से नहीं ! जीवन का आनन्द रोने में है - जब आदमी गहरी कथा भागवत सुनता है, ईश्वर के प्रेम में डूबता है तो उसके आँसू बहने लगते है , रोने से वह ईश्वर के नजदीक जाता है। मीरा ने भी कृष्ण के प्रेम में आँसू बहाए थे।

असुँवन जल सींची सींची प्रेम बेल बोई

अब तो बेलि फैलि गई आनन्द फल होई

जब सुदामा के यही आँसू कृष्ण ने देखे, तब उनका भक्त वत्सल भाव छलक उठा -

पानी परात को हाथ छुओ नहीं

नैनन के नीरन सों पग धोयो

आँसू दो प्रकार के होते हैं - सुख के आँसू और दुःख के आँसू

हँसी खुशी मिलन और उत्सव के अवसर पर आने वाले आँसू सुख के आँसू हैं, ये भावप्रधान दया ममता प्रेम और मानवीय संवेदनाओं से ओतप्रोत, निश्छल निर्मल करूण हृदय की निशानी है, कठोर हृदय के स्वामी आँसू मुक्त होते हैं। कष्ट विरह वेदना और आत्म-सम्मान को ठेस पहुँचने पर आए आँसू , दुःख के आँसू है। ये विवशता ग्लानि और छटपटाहट को प्रदर्शित करने वाले होते है और बह जाए तो अच्छा है। यदि ये न बहे तो आक्रोश में बदलते हैं और मन बुद्धि को क्रोधित कर द्वेष उत्पन्न करते हैं। यही सामाजिक विद्वेष बदले की भावना और अपराध का जनक है।

किसी के दुःख के आँसू देखकर लोग उसकी हँसी उड़ाते हैं , इसीलिए मैं आँसू से कहता हूँ -

ओ निश्छल से भोले आँसू

क्यों पागलपन दिखलाते हो

कहने को मन की पीड़ा क्यों

पलकों से ढल जाते हो

देख चुके हो जग का हँसना

फिर भी समझ न पाते हो

थोड़ी सी नादानी में तुम

क्यों ? अपमान कराते हो

मत बाहर आओ नैनों के

आँसू तुम छुप जाओ यार

देखो जग उपहास करेगा

मतलब का है सब संसार

मन के भाव छुपे रहने दो

निष्ठुर मेला जग संसार

चोट हृदय की खुद सह लेना

ना बहना यूँ ही बेकार

आँसू तुम अनमोल धरोहर

दिल के छालों का तुम सार

खुशियों में भी पलक भिगोकर

अपनों की करते मनुहार

कृष्ण और सुदामा के आँसू में

भेद कहाँ जाने संसार

उसके आँसू प्रेम समर्पण

कृष्ण के आँसू में मनुहार

---


कवि - कमल किशोर वर्मा कन्नौद

कवि परिचय -

कमल किशोर वर्मा , दुर्गा कालोनी कन्नौद जिला देवास म.प्र. शिक्षा - बी. एससी . एम.ए. बी.एड.

कवि, लेखक, गीतकार, संगीतकार, चि़त्रकार, ज्योतिषी, हस्तरेखा विशेषज्ञ, सामुद्रिकशास्त्र, वास्तुशास्त्र विशेषज्ञ, आयुर्वेद के ज्ञाता, प्राचीन भारतीय संस्कृति के मर्मज्ञ इतिहासकार

लिखी गई पुस्तकें -

काव्यांजलि निहारिका भाग 1 तथा भाग 2 ( काव्य संग्रह )

एक चम्मच सच ( व्यंग्य लेख व कहानी संग्रह )

मुगल काल का काला सच ?

राजा राममोहन राय का सच ?

कैसा महात्मा था गाँधी ?

सिन्धु का विनाश कारण और विश्लेषण

देव चर्चा

पुस्तक परिचय - देव चर्चा

पुस्तक देवचर्चा का कथानक इस प्रकार प्रारम्भ होता है कि भगवान विष्णु ने एक बार नारदजी से कहा कि हे नारद, हमारे प्रिय आर्यावर्त भारतखंड से हमें श्रीकृष्ण रूप से आए लगभग 5000 साल हो गए हैं आप भारत में जाकर 6 माह रहिए और हमें वहाँ का सब बात हाल समाचार विस्तार से बताइये। तब नारदजी भारत आए और यहाँ के हालात का विस्तार से वर्णन किया .. यहाँ के दुःख-दर्द, लाचारी, चोरी, बेइमानी, सत्तालोलुपता, भ्रष्टाचार, अन्याय और अत्याचार की कथा विस्तार से सुनाई। वही कथानक है।

पुस्तक परिचय - सिन्धु का विनाश कारण और विश्लेषण

सिन्धु घाटी की सभ्यता के बारे में आज बहुत सी बातें जानी जा चुकी है। सब जानते हैं कि सिन्धु घाटी की सभ्यता बहुत विकसित थी। परन्तु खुदाई से प्राप्त कुछ बर्तन औजार मकान गली सड़क से उस समय की भौतिक जानकारी ही प्राप्त होती है, मानसिक वैचारिक कर्तव्यनिष्ठा कार्यशैली आपसी तालमेल, विचारधारा, शासन व्यवस्था अधिकारियों कर्मचारियों की कार्य शैली उनके कार्य व्यवहार नियम रीति-रिवाज और भ्रष्टाचार के बारे में खुदाई से पता नहीं चल सकता ! अब सबसे बड़ा प्रश्न है कि इतनी विकसित सभ्यता नष्ट क्यों हो गई ? सिन्धु घाटी की सभ्यता नष्ट होने का कारण मैं जानता हूँ। सिन्धु घाटी में उस समय लगभग 38 विभाग थे जिनमें लगभग 5000 नियम, कानून, योजना, कार्य, कार्यशैली, और कार्यपद्धति मूर्खतापूर्ण और भ्रष्ट थी। ये योजनाएँ सिर्फ इस लिये बनाई गई थी कि राजा और अधिकारियों को कमीशन और रिश्वत मिल सके ! समाज देश मानवता का क्या होगा ? इसका न तो उनको ज्ञान था न इससे उनको मतलब ? वे सिर्फ वही योजना बनाते थे जिसमें उनको धन मिले ! उन सब मूर्खतापूर्ण योजनाओं का वर्णन इस पुस्तक में है। राजा और अधिकारियों की सत्तालोलुपता जिद तानाशाही भ्रष्टता और मूर्खता से कैसे विनाश हो जाता है यही विवेचना है।

कविता 1153392679056911916

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव