370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बुन्देली लोक कथा- * दो ठग * संकलन- डॉ आर बी भण्डारकर.

image

दो ठग थे। एक का नाम था गुमान और दूसरे का नाम था खुमान।

जिस गाँव के ठग थे,उसी के पड़ौसी गाँव में एक गौना होकर आया था। चर्चा थी कि नवागत बहू गहनों से लदी है। बहू के पिता ने गौने में भेंट  में ढेर सारी सामग्रियाँ दी हैं।

ठगों ने इसी घर को अपना निशाना बनाने का निश्चय किया।

गुमान ने खुमान से कहा कि तुम औंढा लगा कर घुसना और घर का सामान-सट्टा चुराना। मैं वेश बदलकर अंदर जाऊँगा, तुम्हें सावधान करता रहूँगा और बाद में मैं ही नवागत बहू के जेवर ठगूंगा।

दोनों अपने अपने काम पर लग गए।

देर रात गुमान स्त्री का वेश धारण कर उत्सव वाले घर पहुँचा।  घर के बाहर पुरुष या तो सो चुके थे या फिर चुपचाप लेटे हुए थे। घर के अंदर नवागत बहू की खुशी में गाना-बजाना चल रहा था; सभी महिलाएँ उसी मेँ मशगूल थीं। स्त्री वेश में गुमान महिलाओं में घुस कर बैठ गया। गाने-बजाने में डूबी महिलाओं ने पहले तो ध्यान ही नहीं दिया पर जब बहू की सास का ध्यान गया तो उसने पूछा कि बहिन आप कौन हैं,कहाँ से आईं हैं।

गुमान-हाय राम ! परवतिया तू मोय भूल गयीं।

[post_ads]

(माथा पीट  कर)-परवतिया, तेरी गलती नहीं है। मेरे ही करम खराब हैं। जबसे तेरे जीजा मरे हैं तब से तेरे घर आ ही नहीं पाई। अब आज बिटवा के गौने का पता चला तो बिन बुलाए चली आई। तेरे जीजा क्या मरे,तूने तो बुलाना ही छोड़ दिया,पहले तो खूब आना-जाना था।

अबहुँ नइ पहचानों परवतिया? अरे मैं तो तेरे मामा के ममेरे भाई की बिटिया गोमतिया हूँ। हम तुम तो तेरे ममाने मेँ खूब संग संग खेले हैं। नेक सुर्त तौ कर।

सास- हाय जिजी भूल हुइ गयी। का करें बुढापौ है।क्षिमा करौ जिजी।

गुमान- कछू बात नइयां। चलौ गाव -बजाव।

सास-जिजी तुमऊ गाय ले कछू।

गुमान तो यही चाहता था ताकि किसी बहाने वह खुमान को सावधान करता रहे।

गुमान ने गाना शुरू किया-

"ऐसौ बिलकवा करियो रे खुमना, जामें छबुला अरेरां चले जाँय।"

सभी महिलाएँ हँसने लगीं। मौसी यह कैसा गाना है।

मौसी(गुमान)-अरे बहुएँ, बिटियाँ हौ ! यह दादरा है। हमाये जमाने मेँ तो ऐसेइ दादरे गवत्ते।

उधर,यह गाना सुनकर खुमान जान गया,कि सब व्यस्त हैं। अब औंढा लगा कर घुसने का सही वक्त है।

मौसी का गाना चलता रहा-

"ऐसौ बिलकवा करियो रे खुमना,जामें छबुला अरेरां चले जाँय।"

"वर्तन ले अइयो, भांडे ले अइयो, गोझा और लडुआ छूटन न पांय।"

[post_ads_2]

इस संकेत से खुमान निश्चिंत होकर दीवाल खोद कर घर में घुस आया और सामान चुरा चुरा कर अपने ठिकाने पर पहुँचाता रहा।

संयोग कि कुछ ही देर में बहू को "बाहर" (दीर्घ शंका)जाने की हाजत हुई। अधिक रात होने से प्रायः सभी बहुएँ बिटियाँ बहू को "बाहर" के लिए बाहर ले जाने में अलसाने लगीं। सास को भरा-पूरा घर अकेला छोड़कर बाहर जाना उचित न लगा। सो वह गुमान से बोली जिजी कोउ नईं जाय रओ तौ नैक तुमइँ लिबाइ जओ बहू को।

गुमान तो यही चाहता था। मन की बात पूरी हुई। वह बहू को खेतों की ओर दूर ले गया। वहाँ जाकर बहू से कहा कि  ऐसे में जेबर छोत के हो जाते हैं। इसलिए सारे जेबर उतार कर मुझे दे दो। घर चलकर हाथ-पैर धोकर फिर पहिन लेना।

बहू समझती थी कि मौसी हैं सो झाँसे में आ गयी। पूरे जेबर उतार कर मौसी को दे दिए। मौसी ने कहा कि अरहर के इस खेत में अंदर चली जाओ। जरा काफी अंदर जाना क्योंकि भुनसारा होने वाला है सो इस मेंड़ पर से लोगों की आवाजाही हो सकती है।

मौसी-सास का तर्कसंगत कहना मानकर बहू अरहर के खेत में दीर्घ शंका के लिए अंदर चली गयी।

उधर बहू खेत में गयी इधर मौसी जेबर लेकर चम्पत।

जब बहू और मौसी काफी देर तक घर नहीं लौटे तो सभी को चिंता हुई। फिर चिंता आशंका में बदली तो सब स्त्री-पुरुष खोजबीन में निकले। "हार"(कृषि क्षेत्र) में काफी दूर उन्हें बहू रोती हुई मिली। मौसी का कहीं पता ठिकाना नहीं। जब बहू ने पूरा हाल सुनाया तब सभी की समझ में आया कि वे ठगे जा चुके हैं। घर आकर छानबीन की ,औंढा देखा, सामान गायब देखा तब यह भी अनुमान लगाया गया कि ठग एक नहीं दो थे।

..................................................................

सी 9,स्टार होम्स

रोहितनगर फेस 2

भोपाल 462039

लोककथा 4257752285729588006

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव