370010869858007

---प्रायोजक---

---***---

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

इस युग की कथा व अन्य कविताएँ // सुशांत सुप्रिय

1. इस युग की कथा


---------------------

इस युग की कथा
जब कभी लिखी जाएगी
तो यही कहा जाएगा कि
फूल ढूँढ़ रहे थे ख़ुशबू
शहद मिठास ढूँढ़ रही थी
गुंडों ने पहन रखे थे सफ़ेद लिबास
नदी प्यासी रह गई थी

पलस्तर-उखड़ी बदरंग दीवारें
ढूँढ़ रही थीं ख़ुशनुमा रंगों को
वृद्धाएँ शिद्दत से ढूँढ़ रही थीं
अपनी देह के किसी कोने में
शायद कहीं बच गए
युवा अंगों को

जिसके पास सब कुछ था
वह भी ' और ' के लालच में
खोया हुआ था
सूर्योदय कब का हो चुका था
किंतु सारा देश सोया हुआ था

----------०----------

2. मौत


----------

वह नहीं मरा
एबोला वायरस
एड्स
बर्ड-फ़्लू या
स्वाइन-फ़्लू से

वह मेरा
सबसे अच्छा
मित्र था
खुद से ज़्यादा
मुझे उस पर
भरोसा था

लेकिन एक दिन
मेरी निगाह से
वह ऐसा गिरा
जैसे गिरता है कोई
दुनिया की
सबसे ऊँची इमारत से

चील के झपट्टे-सी
अचानक आई
उसकी मौत
मेरे लिए

----------०----------

3. पशु कौन


-------------

कल मैं
बेटे को ले कर
चिड़ियाघर गया

वहाँ तरह-तरह के
पशु-पक्षी
पिंजरों में क़ैद थे

बेटा पूछने लगा --
पापा , ये जानवर
दुखी और उदास
क्यों लग रहे हैं

मैंने ध्यान से
पास के पिंजरे में बंद
एक पशु की ओर देखा
मुझे लगा
पशु के भीतर से
कोई देख रहा है मुझे
जैसे कह रहा हो --
पशु मैं हूँ या तुम

----------०----------

4. ग़लत युग में


-----------------

यदि तुम
सूरज को गाली दे कर
धूप से दोस्ती नहीं कर सकते

यदि तुम
चाँद को दाग़दार कह कर
चाँदनी से इश्क़ नहीं कर सकते

यदि तुम
फूल को नकार कर
ख़ुशबू को नहीं अपना सकते

तो तुम
ग़लत युग में पैदा हुए हो

----------०----------

5. छटपटाहट भरे कुछ नोट्स


---------------------------

( एक )

आज चारों ओर की बेचैनी से बेपरवाह
जो लम्बी ताने सो रहे हैं
वे सुखी हैं
जो छटपटा कर जाग रहे हैं
वे दुखी हैं
( दो )

आज हमारी बनाई इमारतें
कितनी ऊँची हो गई हैं
लेकिन हमारा अपना क़द
कितना घट गया है

( तीन )

आज विश्व एक
ग्लोबीय गाँव बन गया है
हमने स्पेस-शटल
बुलेट और गतिमान रेलगाड़ियाँ
बना ली हैं
एक जगह से दूसरी जगह की दूरी
कितनी कम हो गई है
लेकिन आदमी और आदमी के
बीच की दूरी
कितनी बढ़ गई है

( चार )

आज दीयों के उजाले
कितने धुँधले हो गए हैं
आज क़तार में खड़ा
आख़िरी आदमी
कितना अकेला है

( पाँच )

आज लम्बी-चौड़ी गाड़ियों में
घूम रहे हैं छोटे लोग
बड़े-बड़े बंगलों में
रह रहे हैं लघु-मानव
बौने लोग डालने लगे हैं
लम्बी परछाइयाँ

----------०----------

6. सबसे अच्छा आदमी


-----------------------

सबसे अच्छा है
वह आदमी
जो अभी पैदा ही नहीं हुआ

उसने हमें कभी नहीं छला
प्रपंचों पर वह कभी नहीं पला
हमें पीछे खींच कर
वह आगे नहीं चला

बची हुई है अभी
वे सारी जगहें
जिन्हें घेरता
उसका अस्तित्व
अपनी परछाईं से
बची हुई है अभी
उन सारी जगहों की
आदिम सुंदरता
उसके हिस्से की रोशनी में
नहाती हुई

बची हुई है
अब भी निर्मल
उसके हिस्से की
धूप पानी हवा
आकाश मिट्टी
बचा हुआ है अभी फ़िज़ा में
उसके हिस्से का ऑक्सीजन
राहत की बात है कि
इसी बहाने थोड़ी कम है अभी
वायु-मंडल में
कार्बन-डायॉक्साइड की मात्रा

नहीं बनी है एक और सरल रेखा
वक्र-रेखा अभी
बची हुई हैं बेहतरी की
कुछ सम्भावनाएँ अभी

कि उपस्थित के बोझ से
कराह रही धरती को
अनुपस्थित अच्छे आदमी से
मिली है
थोड़ी-सी राहत ही सही

------------०------------

परिचय

--------—

सुशांत सुप्रिय

जन्म : 28 मार्च , 1968

शिक्षा : अमृतसर ( पंजाब ) , व दिल्ली में ।

प्रकाशित कृतियाँ :

-----------------

# हत्यारे ( 2010 ) , हे राम ( 2013 ) , दलदल ( 2015 ) , ग़ौरतलब कहानियाँ

( 2017 ) , पिता के नाम ( 2017 ) : पाँच कथा - संग्रह ।

# इस रूट की सभी लाइनें व्यस्त हैं ( 2015 ) ,अयोध्या से गुजरात तक ( 2017 ): दो काव्य-संग्रह ।

# विश्व की चर्चित कहानियाँ ( 2017 ) , विश्व की श्रेष्ठ कहानियाँ ( 2017 ) , विश्व की कालजयी कहानियाँ ( 2017) : तीन अनूदित कथा-संग्रह ।

सम्मान :

--------

भाषा विभाग ( पंजाब ) तथा प्रकाशन विभाग ( भारत सरकार ) द्वारा रचनाएँ पुरस्कृत । कमलेश्वर-स्मृति ( कथाबिंब ) कहानी प्रतियोगिता ( मुंबई ) में लगातार दो वर्ष प्रथम पुरस्कार । स्टोरी-मिरर.कॉम कथाप्रतियोगिता , 2016 में कहानी पुरस्कृत । साहित्य में अवदान के लिए साहित्य-सभा , कैथल ( हरियाणा ) द्वारा सम्मानित ।

अन्य प्राप्तियाँ :

--------------

# कई कहानियाँ व कविताएँ अंग्रेज़ी , उर्दू , नेपाली , पंजाबी, सिंधी , उड़िया, मराठी, असमिया , कन्नड़ , तेलुगु व मलयालम आदि भाषाओं में अनूदित व प्रकाशित । कहानी " हे राम ! " केरल के कलडी वि.वि. ( कोच्चि ) के एम.ए. ( गाँधी अध्ययन ) पाठ्य-क्रम में शामिल । कहानी " खोया हुआ आदमी " महाराष्ट्र स्कूल शिक्षा बोर्ड की कक्षा दस के पाठ्य-क्रम में शामिल । कहानी " एक हिला हुआ आदमी " महाराष्ट्र स्कूल शिक्षा बोर्ड की ही कक्षा नौ के पाठ्यक्रम में शामिल । कहानी " पिता के नाम " मध्यप्रदेश व हरियाणा के स्कूलों के कक्षा सात के पाठ्यक्रम में शामिल । कविताएँ पुणे वि. वि. के बी. ए.( द्वितीय वर्ष ) के पाठ्य-क्रम में शामिल । कहानियों पर आगरा वि. वि. , कुरुक्षेत्र वि. वि. , पटियाला वि. वि. , व गुरु नानक देव वि. वि. , अमृतसर आदि के हिंदी विभागों में शोधार्थियों द्वारा शोध-कार्य ।

# आकाशवाणी , दिल्ली से कई बार कविता व कहानी-पाठ प्रसारित । लोक सभा टी.वी. के " साहित्य संसार " कार्यक्रम में जीवन व लेखन सम्बन्धी इंटरव्यू प्रसारित ।

# अंग्रेज़ी व पंजाबी में भी लेखन व प्रकाशन । अंग्रेज़ी में काव्य-संग्रह ' इन गाँधीज़ कंट्री ' प्रकाशित । अंग्रेज़ी कथा-संग्रह ' द फ़िफ़्थ डायरेक्शन ' प्रकाशनाधीन ।

# लेखन के अतिरिक्त स्केचिंग , गायन , शतरंज व टेबल-टेनिस का शौक़ ।

# संप्रति : लोक सभा सचिवालय , नई दिल्ली में अधिकारी ।


संपर्क -


ई-मेल : sushant1968@gmail.com


डाक का पता: A-5001,

गौड़ ग्रीन सिटी ,

वैभव खंड ,

इंदिरापुरम ,

ग़ाज़ियाबाद - 201014

( उ. प्र. )

कविता 7027385781662570448

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

---प्रायोजक---

---***---

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव