रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु रचनाएँ आमंत्रित.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ http://www.rachanakar.org/2018/10/2019.html देखें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

लोककथा // 7 जंगली हंस // नौर्स देशों की लोक कथाएँ–1 // सुषमा गुप्ता

साझा करें:

7 जंगली हंस [1] बहुत दूर एक देश में जहाँ ठंड में चिड़ियें उड़ती हैं, यानी डेनमार्क देश में, एक राजा रहता था। उसके 11 बेटे थे और एक बेटी थी जिस...

clip_image007

7 जंगली हंस[1]

बहुत दूर एक देश में जहाँ ठंड में चिड़ियें उड़ती हैं, यानी डेनमार्क देश में, एक राजा रहता था। उसके 11 बेटे थे और एक बेटी थी जिसका नाम था ऐलीसा[2]। इन बच्चों की माँ नहीं थी।

राजा के 11 बेटे अपनी कमर में तलवार लटका कर और अपनी छाती पर एक तारा लगा कर स्कूल जाते थे। वे हीरे की कलम से सोने की स्लेट पर लिखते थे।

उनको अपने पाठ ऐसे जबानी याद थे जैसे वे उसको किताब से पढ़ रहे हों। तुम उनको देख कर ही यह कह सकते थे कि वे कितने राजकुमार जैसे लगते थे।

उनकी बहिन ऐलीसा एक साफ सुथरे शीशे के नीचे स्टूल पर बैठती थी। उसके पास तस्वीरों की एक किताब थी जिसकी कीमत राजा के आधे राज्य के बराबर थी।

सब बच्चे बहुत खुशी खुशी रह रहे थे पर उनकी यह खुशी बहुत दिनों तक नहीं रही।

कुछ दिन बाद उनके पिता ने दूसरी शादी कर ली। उनकी नयी माँ एक बहुत ही बुरी स्त्र्ी थी। वह राजा के बच्चों को ठीक से नहीं रखती थी। बच्चों ने यह बात पहले दिन से ही जान ली थी।

एक दिन सारे महल में खूब खाना पीना चल रहा था। बच्चे भी मेहमानों के स्वागत में लगे हुए थे। पर उनको केक और बेक[3] किये गये सेब के मिलने की बजाय जो ऐसी दावतों में उनको अक्सर मिला करता था उनकी नयी सौतेली माँ ने उनको प्याले में रेत भर कर दे दिया। और उनसे कहा कि वे उसको खास खाना समझ कर खायें। बच्चों को यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगा।

अगले हफ्ते रानी ने ऐलीसा को एक गाँव में कुछ किसानों के साथ रहने के लिये भेज दिया। और इस बीच उसने राजा को बच्चों के बारे में कुछ झूठी बातें कह कर उसका मन ऐसा कर दिया कि राजा का मन अपने बच्चों से फिर गया।

[post_ads]

एक दिन रानी ने राजकुमारों से कहा — “जाओ, तुम लोग बड़ी चिड़िया बन कर उड़ जाओ जिसकी आवाज नहीं होती और जा कर अपनी रोजी रोटी अपने आप कमाओ। ”

पर वह राजकुमारों को इतना नुकसान नहीं पहुँचा सकी जितना कि वह चाहती थी। क्योंकि उसके यह कहते ही वे बहुत ही खूबसूरत 11 सफेद हंसों में बदल गये और एक अजीब सी आवाज के साथ महल की खिड़की से बाहर बागीचे के पार जंगल में उड़ गये।

अभी सुबह होने में देर थी और ऐलीसा अभी सो ही रही थी कि वे हंस उसकी झोंपड़ी के ऊपर से उड़े जहाँ वह रह रही थी। वे उसकी झोंपड़ी की छत पर उतर गये।

वहाँ उन्होंने अपनी लम्बी गरदन को इधर उधर घुमाया, अपनी चोंचों से उस झोंपड़ी की छत को खुरचा, अपने पंख फड़फड़ाये पर न तो उनको किसी ने देखा और न ही उनको किसी ने सुना।

सो वे बेचारे फिर आसमान में ऊपर बादलों में उड़ गये और दुनिया में दूर चले गये। उड़ते उड़ते वे एक बड़े से घने जंगल में आ गये जो समुद्र तक फैला चला गया था।

ऐलीसा बेचारी वहीं किसान की झोंपड़ी में रहती और एक हरी पत्ती से पीकेबू[4] खेलती रहती क्योंकि उसके पास खेलने के लिये और कोई चीज़ ही नहीं थी।

वह पत्ते में एक छेद बना लेती और उस छेद में से सूरज को देखती। उस छेद में से सूरज को देख कर उसको ऐसा लगता जैसे वह अपने भाइयों की चमकीली आँखें देख रही हो।

और जब भी सूरज की गरम किरणें उसके गालों को छूतीं तो उसको लगता जैसे उसके भाई उसको प्यार कर रहे हों।

एक दिन हवा चली और उसने उस झोंपड़ी के चारों तरफ लगी गुलाब के पौधों की दीवार पर लगे गुलाबों को हिला दिया और उनके कान में फुसफुसायी — “तुमसे ज़्यादा सुन्दर और कौन हो सकता है?”

फूल अपना सिर ना में हिला कर बोले “हम नहीं, ऐलीसा। ”

इतवार को जब उस किसान की पत्नी दरवाजे में बैठी साम्स की किताब[5] पढ़ रही थी तो हवा ने उसकी किताब के पन्ने उड़ाये और उससे पूछा — “तुमसे बड़ा संत और कौन हो सकता है?”

वह किताब भी बोली “मैं नहीं, ऐलीसा। ”

गुलाबों ने भी कहा कि यह किताब बिल्कुल सच कह रही है।

ऐलीसा को जब वह 15 साल की हो जाती तब घर वापस जाना था पर रानी ने देखा कि वह तो बहुत ही सुन्दर राजकुमारी होती जा रही थी तो उसके मन में राजकुमारी के लिये और ज़्यादा नफरत पैदा हो गयी।

उसको उस बच्ची को भी हंस में बदलने में कोई हिचक नहीं हुई जैसे कि उसने उसके भाइयों को बदला था। पर वह यह काम उसी समय नहीं कर सकती थी क्योंकि राजा अपनी बेटी को देखना चाहता था।

सो सुबह सवेरे ही रानी अपने संगमरमर के बने कमरे में नहाने के लिये गयी जिसमें बहुत कीमती कालीन बिछा हुआ था और गद्दियाँ पड़ी हुईं थीं।

clip_image002

वहाँ वह अपने साथ तीन मेंढक[6] ले गयी और उनको चूम कर उनमें से एक मेंढक से बोली — “जब ऐलीसा नहाये तो तुम उसके सिर पर बैठ जाना जिससे वह तुम्हारे जैसी आलसी हो जाये। ”

फिर वह दूसरे मेंढक से बोली — “तुम ऐलीसा के माथे पर बैठ जाना ताकि वह उतनी ही बदसूरत हो जाये जितने तुम खुद हो। ”

फिर वह तीसरे मेंढक से बोली — “तुम उसके दिल के ऊपर बैठ जाना ताकि उसके मन में हमेशा बुरी बुरी इच्छाएँ उठती रहें। ”

[post_ads_2]

उसके बाद रानी ने वे तीनों मेंढक साफ पानी में छोड़ दिये। पानी में पड़ते ही वे मेंढक हरे रंग के हो गये। फिर उसने ऐलीसा को बुलाया और उसको कपड़े उतार कर नहाने के लिये जाने के लिये कहा।

जब ऐलीसा पानी में घुसी तो एक मेंढक उसके बालों से चिपक गया, दूसरा मेंढक उसके माथे से चिपक गया और तीसरा मेंढक उसके दिल पर बैठ गया। पर ऐलीसा को इसका पता ही नहीं चला।

clip_image004

जब वह नहा कर खड़ी हुई तो तीन लाल रंग के पौपी के फूल[7] पानी में तैर गये। अगर वे मेंढक जहरीले न हुए होते और उस जादूगरनी ने न चूमे होते तो वे लाल गुलाब बन गये होते। पर वे उसका माथा और दिल छू कर कम से कम फूलों में तो बदल गये।

ऐलीसा इतनी ज़्यादा भोली थी कि रानी की जादूगरी भी उसके ऊपर असर नहीं कर पायी।

जब रानी ने यह महसूस किया कि उसकी जादूगरी बेकार गयी तो उसने ऐलीसा के शरीर पर अखरोट का रंग मल दिया जिससे उसका शरीर गहरे कत्थई रंग का हो गया।

उसके चेहरे पर एक गन्दी सी क्रीम का लेप कर दिया और उस के बाल बिगाड़ दिये। अब सुन्दर ऐलीसा को कोई नहीं पहचान सकता था।

फिर वह उसको राजा के पास ले गयी तो राजा तो उसको देख कर दंग रह गया। राजा ने उसको देखते ही कहा कि यह मेरी बेटी नहीं हो सकती।

उसको पहरा देने वाले कुत्ते और चिड़ियों के अलावा और कोई नहीं जानता था। और वे सब बहुत ही नम्र थे सो वे कुछ कह नहीं सकते थे।

यह सब देख कर बेचारी ऐलीसा रो पड़ी और अपने भाइयों को याद करने लगी जो अब सब बहुत दूर थे। भारी दिल से वह महल से बाहर निकल आयी और सारा दिन वह खेतों और मैदानों में घूमती रही।

घूमते घूमते वह एक बड़े जंगल में आ निकली। वह नहीं जानती थी कि अब वह कहाँ जाये। वह बहुत दुखी थी और बस उसकी यही इच्छा थी कि काश उसके भाई उसके पास होते।

उसको लगा कि लगता है वे भी उसी की तरह से महल से बाहर निकाल दिये गये होंगे सो उसने तय किया कि वह उनको ढूँढ कर ही रहेगी।

वह अभी कुछ ही देर जंगल में ठहरी थी कि रात होने लगी। उसको लगा कि वह रास्ता भूल गयी थी। सो उसने अपनी रात की प्रार्थना की और एक जगह मुलायम सी घास देख कर उस पर लेट गयी। उसने एक पेड़ की लकड़ी का तकिया बना लिया था।

सब कुछ शान्त था। हवा बहुत ही धीरे बह रही थी। बहुत सारे पटबीजने[8] इधर उधर घास में चमक रहे थे। वह जल्दी ही सो गयी। सारी रात वह अपने भाइयों के ही सपने देखती रही।

सपने में उसने देखा कि जैसे वे सब फिर से बच्चे बन गये हैं। आपस में खेल रहे हैं। अपनी हीरों की कलम से सोने की स्लेटों पर लिख रहे हैं। और वह अपनी तस्वीरों की किताब देख रही है। उसमें छपी हुई हर तस्वीर उसको जानदार दिखायी दे रही थी।

जब वह सुबह उठी तो सूरज बहुत देर का निकल आया था। पहले तो उसको साफ साफ दिखायी नहीं दिया क्योंकि पेड़ की शाखों का साया उसकी आँखों पर पड़ रहा था। पर फिर बाद में ठीक हो गया। चिड़ियें भी उसके पास आ कर उसके कन्धे पर बैठ गयीं।

तभी उसको पानी में छपाकों की आवाज आयी। वह आवाज वहाँ के एक तालाब में से आ रही थी जिसमें कई झरनों से पानी गिर रहा था। उसकी तली में बहुत सुन्दर रेत पड़ी हुई थी।

हालाँकि उस तालाब के चारों तरफ घनी झाड़ियाँ लगी हुई थीं फिर भी किसी हिरन ने पानी के पास तक जाने के लिये एक छोटा सा रास्ता बना लिया था। ऐलीसा उस रास्ते से हो कर पानी तक जा सकती थी।

उस तालाब का पानी इतना साफ था कि अगर हवा से पानी न हिल रहा हो तो उसमें पड़े पेड़ों के साये ऐसे लग रहे थे जैसे तालाब की तली में किसी ने कोई तस्वीर बना दी हो। उसमें पेड़ों की हर पत्ती का साया बहुत साफ था।

वह उस रास्ते से हो कर तालाब तक गयी और पानी में अपना चेहरा देखा तो वह तो उसे देख कर बहुत डर गयी – कितना कत्थई और कितना बदसूरत।

पर जैसे ही उसने अपना पतला सा हाथ पानी में डाल कर उस पानी से अपनी भौंहें और आँखें साफ कीं तो उसका गोरा रंग फिर से वापस आ गया। यह देख कर उसने कपड़े उतारे और उस साफ पानी में कूद गयी।

सारी दुनिया में राजा की बेटी ऐलीसा जैसी सुन्दर और कोई लड़की नहीं थी। नहा धो कर वह पानी से बाहर आयी। उसने अपने कपड़े पहने। फिर अपने लम्बे बालों की चोटी बनायी। वहाँ से वह एक झरने पर गयी और दोनों हाथों से ले कर ठंडा पानी पिया।

वह फिर जंगल में इधर उधर बिना मतलब के घूमती रही। वह बस अपने भाइयों और भगवान के बारे में ही सोचती रही कि भगवान उसको ऐसे ही नहीं छोड़ देगा। वही तो है जो भूखों के लिये खट्टे सेब उगाता है।

फिर वह एक पेड़ की तरफ चली गयी जिसकी डालियाँ फलों से लदी नीचे को झुकी जा रही थीं। वहाँ से फल खा कर वह फिर जंगल की तरफ चल दी।

आगे चल कर वह एक बड़ी शान्त जगह पहुँच गयी। वहाँ एक चिड़िया भी नहीं थी। सूरज की एक किरन भी जंगल के पेड़ों की घनी डालियों मे से हो कर जमीन तक नहीं आ रही थी।

बहुत जल्दी ही वहाँ रात हो गयी और वह भी बहुत अँधेरी रात। रात को सो कर वह सुबह को फिर चल दी।

clip_image006

आगे जा कर राजकुमारी को एक बुढ़िया मिली जिसके पास बैरीज़[9] की एक टोकरी थी। उसने उसको कुछ बैरीज़ दीं तो उसने उस बुढ़िया से पूछा कि क्या उसने 11 राजकुमारों को जंगल से जाते हुए देखा है।

बुढ़िया बोली — “मैंने 11 राजकुमारों को तो नहीं देखा पर हाँ 11 सफेद हंसों को जरूर देखा है जो सुनहरे ताज पहने हुए थे। वे एक नदी में तैर रहे थे। वह नदी यहाँ से पास में ही है। ”

कह कर वह बुढ़िया ऐलीसा को एक छोटी सी पहाड़ी की चोटी पर ले गयी। वहाँ से फिर वे दोनों नीचे उतर गये। नीचे उतरते ही नदी थी और नदी के दोनों तरफ पेड़ लगे हुए थे।

वहाँ ऐलीसा ने बुढ़िया को गुड बाई कहा और वह नदी के नीचे की तरफ चल दी जिधर वह समुद्र की तरफ जा रही थी। ऐलीसा ने देखा कि उसके सामने बहुत बड़ा समुद्र पड़ा हुआ था पर उसमें एक भी नाव या जहाज़ नहीं था। तो वह उसको कैसे पार करे।

किनारे पर अनगिनत पत्थर और लोहे के छोटे छोटे टुकड़े पड़े थे जिनको समुद्र का पानी किनारे पर डाल गया था। उसने सोचा कि एक दिन यह समुद्र का पानी जैसे वे पत्थर यहाँ डाल गया है उसी तरह से वह उसको भी उसके भाइयों के पास ले जायेगा।

वहाँ समुद्री घास भी उगी हुई थी। वहाँ उसको सफेद हंसों के कुछ पंख मिल गये तो वह उसने इकठ्ठे कर लिये। उन पर अभी भी पानी की बूँदें थीं पर वे बूँदें पानी की थीं या फिर आँसू की यह नहीं कहा जा सकता। ऐलीसा वहीं बैठ गयी और बहुत देर तक समुद्र को देखती रही।

शाम को उसको 11 सफेद हंस दिखायी दिये जिनके सिर पर सुनहरे ताज रखे हुए थे। वे उड़तेे हुए किनारे की तरफ ही आ रहे थे। जब वे एक के पीछे एक उड़ रहे थे तो वे ऐसे लग रहे थे जैसे आसमान में कोई सफेद रिबन उड़ा चला आ रहा हो।

ऐलीसा वहाँ से उठ कर एक झाड़ी के पीछेे छिप गयी। हंस वहीं तक आ गये जहाँ ऐलीसा छिपी हुई थी।

जब सूरज समुद्र के नीचे जा रहा था तो उन हंसों ने अपने अपने पंख उतार दिये और अब वहाँ 11 सुन्दर राजकुमार खड़े थे। वे उसके भाई थे। हालाँकि उनकी शक्लें काफी बदल गयी थीं पर फिर भी उसको पूरा विश्वास था कि वह उनको पहचानने में गलती नहीं कर सकती।

उनको देख कर वह रोती हुई अपनी जगह से निकली और अपने सारे भाइयों का अलग अलग नाम लेते हुए उनकी बाँहों में जा कर गिर गयी। वे अपनी छोटी बहिन को देख कर बहुत खुश हुए। वे भी अपनी बहिन को पहचान गये थे हालाँकि वह भी अब लम्बी और सुन्दर हो गयी थी।

वे रो रहे थे, वे हँस रहे थे। उनको तुरन्त ही पता चल गया कि उनकी सौतेली माँ ने उन सबके साथ बहुत बेरहमी का बरताव किया है।

बड़े भाई ने अपनी बहिन को बताया — “हम सब जब तक सूरज आसमान में है तब तक जंगली हंस के रूप में उड़ने के लिये मजबूर किये गये। और जब सूरज डूब जाता है तब हम आदमी के रूप में आ सकते हैं।

इसलिये जब सूरज डूबने वाला होता है तो हमको यह देखना पड़ता है कि हम किसी ऐसी जगह के आस पास हो जहाँ हम खड़े हो सकें। क्योंकि अगर उस समय हम आसमान में हुए तो हमारे नीचे गिर जाने का डर है।

हम लोग यहाँ इस किनारे पर नहीं रहते। इस समुद्र के उस पार एक और जमीन है जो इतनी ही अच्छी है वहाँ रहते हैं और वहाँ पहुँचने के लिये हमें इस समुद्र को पार करना पड़ता है।

हमारे इस रास्ते पर कोई ऐसा टापू नहीं है जहाँ हम रात बिता सकें। बस एक छोटी सी चट्टान है जो समुद्र के बीच में उठी हुई है। वह चट्टान भी इतनी बड़ी नहीं है जो हम सबको जगह दे सके।

हाँ अगर हम बहुत ही पास पास खड़े हों तब हम उसके ऊपर आराम कर सकते हैं। पर अगर समुद्र में तूफान आने लगे तब वहाँ बहुत मुश्किल हो जाती है पर फिर भी वह हमारे लिये एक सहारा तो है ही।

जब हम अपनी आदमी की शक्ल में होते हैं तब हम वहाँ आराम करते हैं। बिना उस चट्टान के हम अपने घर कभी नहीं आ सकते हैं क्योंकि हमको यहाँ आने के लिये साल के दो सबसे ज़्यादा लम्बे दिन लगते हैं।

हमको यहाँ अपनी जमीन पर साल में केवल एक बार आने की और केवल 11 दिन रहने की ही इजाज़त है।

जब हम इस जंगल के ऊपर से उड़ते हैं तो अपना महल देख लेते है जहाँ हमारे पिता रहते हैं और जहाँ हम पैदा हुए थे। यहाँ से हम अपने उस चर्च की ऊँची मीनार भी देख सकते हैं जहाँ हमारी माँ सोयी हुई है।

यह बहुत अच्छा हुआ कि हमने तुमको यहाँ देख लिया। हम यहाँ दो दिन ज़्यादा रह सकते हैं पर उसके बाद हमको अपनी जमीन पर चले जाना चाहिये जो हमारी तो नहीं है पर ठीक है।

पर हम तुमको अपने साथ कैसे ले जायें क्योंकि न तो हमारे पास कोई जहाज़ है और न ही कोई नाव। ”

ऐलीसा बोली — “पर मैं तुमको इस जादू से कैसे आजाद कराऊँ?”

वे लोग बस कुछ ही देर सोये होंगे वरना तो उनकी सारी रात यही सब बात करते करते बीत गयी।

सुबह को ऐलीसा की आँख हंसों के पंख के फड़फड़ाने से खुली। उसके सब भाई सुबह होते ही हंस बन चुके थे और वे सब ऊपर आसमान में उड़ रहे थे। उसके बाकी सब भाई तो चले गये पर उसका सबसे छोटा भाई उसी के पास रह गया।

वह उसकी गोद में सिर रख कर लेटा हुआ था और वह उसके पंख सहला रही थी। उन दोनों ने सारा दिन साथ साथ बिताया। शाम को उसके दूसरे भाई भी वापस आ गये। जब सूरज डूब गया तो उसके सभी भाई फिर से आदमी बन गये।

उसका एक भाई बोला — “कल हम लोग चले जायेंगे और फिर एक साल तक नहीं आयेंगे। पर हम तुमको यहाँ ऐसे भी नहीं छोड़ सकते। क्या तुम हमारे साथ चलने की हिम्मत रखती हो?

जब मेरी बाँहें इतनी मजबूत हैं कि वह तुमको जंगल के उस पार तक ले जा सकती हैं तो हमारे पंख भी इतने मजबूत होने चाहिये जो हम तुमको समुद्र पार ले जा सकें। ”

ऐलीसा बोली — “हाँ हाँ क्यों नहीं। तुम मुझे अपने साथ ले चलो। मैं तुम्हारे साथ चलने के लिये तैयार हूँ। ”

वह सारी रात उन सबने एक जाल बनाने में गुजार दी। उन्होंने वह जाल काफी बड़ा और मजबूत बनाया। ऐलीसा उस जाल में लेट गयी और जब सुबह हो गयी तो उसके भाई फिर से हंस बन गये।

उन्होंने अपनी चोंचों में उस जाल को उठाया और अपनी बहिन को ले कर आसमान में उड़ चले ऐलीसा अभी भी सो रही थी। जब सूरज की रोशनी उसकी आँखों पर पड़ी तो एक हंस उसके ऊपर ऐेसे उड़ा जिससे उसकी आँखों पर सूरज की रोशनी न पड़े।

वे अभी किनारे से बहुत दूर ही थे कि ऐलीसा की आँख खुल गयी। उसको लगा कि जैसे वह सपना देख रही है – समुद्र के ऊपर आसमान में उड़ना। उसके बराबर में ही उसके खाने के लिये पकी हुई बैरीज़ की एक शाख और कुछ मीठी जड़ें रखी हुई थी।

उसके सबसे छोटे भाई ने उसके लिये उनको इकठ्ठा किया था और उनको उसके लिये वहाँ रख दिया था। उसको यह भी पता चल गया था कि वही उसकी आँखों को सूरज की धूप से बचाने के लिये उसके सिर के ऊपर उड़ रहा था।

वे लोग हवा में सारा दिन तीर की तरह से उड़ते रहे। पर क्योंकि वे अपनी बहिन को ले जा रहे थे इसलिये वे पहले के मुकाबले में बहुत धीरे उड़ पा रहे थे। रात होने वाली थी और तूफान आने वाला था।

ऐलीसा सूरज डूबता देख कर डर गयी क्योंकि वह समुद्र के बीच की चट्टान जिसका उसके भाइयों ने जिक्र किया था उसको कहीं दिखायी ही नहीं दे रही थी।

उसको ऐसा लगा कि हंसों के पंख और बहुत ज़ोर ज़ोर से चलने लगे हैं। उसको इस बात का भी बहुत अफसोस हुआ कि उसकी वजह से वे जल्दी नहीं उड़ पा रहे हैं।

सूरज जल्दी ही डूब जायेगा और वे हंस से फिर आदमी बन जायेंगे। और आदमी बन जायेंगे तो वे समुद्र में गिर जायेंगे और डूब जायेंगे।

उसने दिल से भगवान की प्रार्थना करनी शुरू कर दी पर फिर भी कोई भी चट्टान उसको कहीं भी नजर नहीं आ रही थी।

काले काले बादल घिरते चले आ रहे थे और चलती हुई तेज़ हवाएँ बता रहीं थीं कि जल्दी ही तूफान भी आने वाला है। बादल बहुत तेज़ी से इधर उधर दौड़ रहे थे। बिजली भी चमकना शुरू हो गयी थी। तभी सूरज समुद्र के किनारे को छूने वाला था।

उसी समय हंसों ने नीचे की तरफ बहुत ज़ोर से उड़ान भरी। ऐलीसा को लगा कि वे हंस नीचे गिर रहे हैं सो उसका दिल बहुत ज़ोर से धड़का। पर वे बीच में ही रुक गये।

सूरज समुद्र में आधा डूब गया था कि तभी ऐलीसा को समुद्र में वह चट्टान दिखायी दी। ऊपर से वह चट्टान पानी में से बाहर निकलते हुए एक सील मछली के सिर जितनी बड़ी दिखायी दे रही थी।

सूरज बहुत तेज़ी से नीचे जा रहा था। वह अब एक सितारे जितना बड़ा दिखायी दे रहा था कि उसके पैरों ने जमीन छुई। उसने देखा कि उसके भाई भी हाथ में हाथ डाले उसके पास खड़े हुए थे। उन लोगों के लिये बस वह ठीक जगह थी।

समुद्र की लहरें उस चट्टान से टकरा टकरा कर उनके ऊपर पानी डाल रही थीं। बार बार बिजली चमक जाती थी। तब भाई बहिन ने मिल कर एक साम्स गाया जिसने उनको तसल्ली और हिम्मत दी।

अगले दिन सुबह हवा शान्त थी। जैसे ही सूरज निकला ऐलीसा के भाई फिर से हंस बन गये थे सो वे ऐलीसा को ले कर फिर उड़ चले। नीचे समुद्र में अभी भी ऊँची ऊँची लहरें उठ रही थीं और उन पर बहुत सारे हंस तैर रहे थे।

जब सूरज थोड़ा और ऊपर उठा तो ऐलीसा को एक पहाड़ी जगह दिखायी दी जिसकी चोटियाँ उसको हवा में तैरती नजर आ रही थीं। वे चोटियाँ बरफ से ढकी हुई थीं और उनके बीच में एक किला था जो करीब करीब एक मील लम्बा था।

नीचे बहुत सारे पाम के पेड़[10] लगे हुए थे और किसी चक्की के पाट जितने बड़े बहुत सारे रंगों के बहुत सारे फूल खिले हुए थे। ऐलीसा ने अपने भाइयों से पूछा कि क्या यही वह जगह थी जहाँ उनको आना था। उन्होंने कहा “नहीं। ”

वास्तव में उसने जो देखा वह फ़ैटा मौरगैना[11] का हमेशा जगह बदलता हुआ महल था। उसमें धरती का कोई भी आदमी जाने की हिम्मत नहीं कर सकता था।

ऐलीसा ने जब दोबारा उस तरफ देखा तो वह किला, पाम के पेड़, फूल सभी कुछ उसको गायब होता नजर आया। उसकी जगह अब वहाँ 20 शानदार चर्च खड़े थे – सब एक से और सबकी खिड़कियाँ नुकीली।

जब वह उनके और पास आयी तो वे जहाज़ी बेड़ा[12] बन गये और जब उसने उनकी तरफ दोबारा देखा तो वहाँ कोहरे के अलावा और कुछ भी नहीं था।

इस तरह से नयी नयी चीज़ें देखते हुए आखिर में वे उस जमीन पर आ गये जहाँ उनको आना था। वहाँ नीले नीले सुन्दर पहाड़ खड़े हुए थे जिन पर सीडर के पेड़[13] लगे हुए थे और वहाँ कई सारे शहर ओैर महल थे।

वे लोग वहाँ शाम होने से बहुत पहले ही पहुँच गये थे और एक पहाड़ के पास एक गुफा में बैठ गये थे जिसमें बड़ी बड़ी बेलें इतनी घनी फैली हुई थीं कि लगता था जैसे उस गुफा में हरा हरा कालीन बिछा हो।

ऐलीसा के सबसे छोटे भाई ने उसको उसके सोने की जगह दिखायी और बोला — “अब देखते है कि यहाँ तुम क्या सपने देखती हो। ”

वह तुरन्त बोली — “काश मैं सपने में यह देख सकूँ कि मैं तुम सबको कैसे आजाद कराऊँ। ” इस बारे में वह इतना ज़्यादा सोचती रही और भगवान से प्रार्थना करती रही कि वह यह सब सपने में भी करती रही।

जब वह वहाँ सो गयी तो उसको लगा कि वह अकेली ही फ़ैटा मौरगैना के बादलों के महल के ऊपर उड़ रही है।

वहाँ उसको एक परी मिली जो बहुत गोरी और सुन्दर थी। फिर भी उसकी शक्ल उस बुढ़िया से मिलती थी जो उसको जंगल में मिली थी और जिसने उसको बैरीज़ दी थीं और उन हंसों के बारे में बताया था जो सोने का ताज पहने थे।

परी बोली — “तुम्हारे भाई आजाद हो सकते हैं पर उसके लिये क्या तुम्हारे पास हिम्मत है? यह सच है कि वह समुद्र का पानी जो पत्थरों की शक्ल बदल सकता है तुम्हारे हाथों से ज़्यादा मुलायम है पर तुम्हारे हाथ जो दर्द महसूस कर सकते हैं वह दर्द वह पानी महसूस नहीं कर सकता। क्योंकि उसके तो दिल ही नहीं है जो वह गुस्सा या दिल में दर्द महसूस कर सके जो तुम कर सकती हो।

तुम मेरे हाथ में यह काटने वाला नैटिल[14] देख रही हो? ऐसे बहुत सारे नैटिल के पौधे उस गुफा के आस पास उगे हुए हैं जहाँ तुम सोती हो।

पर याद रखना कि तुमको केवल वही पौधे इस्तेमाल करने हैं जो चर्च के कम्पाउंड में कब्रों के ऊपर उगे हुए हैं। सो तुम उन्हीं को इकठ्ठा करो। हालाँकि उससे तुम्हारे हाथ जलने लगेंगे और उनमें छाले पड़ जायेंगे।

उन नैटिल के पौधों को अपने पैरों से कुचलना तो उसमें से रुई जैसी चीज़ निकलेगी। उस रुई को तुम कातना और उसके धागे से लम्बी बाँह वाली 11 शाही कमीजें बनाना।

एक बार जब तुमने ये 11 कमीजें बना कर अपने भाइयों के ऊपर फेंक दीं तो उनके ऊपर किया हुआ जादू टूट जायेगा।

एक बात तुम और ध्यान में रखना कि तुमको इस काम में चाहे कई साल लग जायें पर जब से भी तुम इस काम को शुरू करो और जब तक खत्म करो तुम बोलना नहीं।

जैसे ही तुम एक शब्द बोली तो वह तुम्हारे भाइयों के दिल में चाकू की तरह से लगेगा। इस तरह उनकी ज़िन्दगी तुम्हारी जबान में है। जो भी मैंने तुमसे कहा है वह सब तुम याद रखना। ”

फिर परी ने ऐलीसा के हाथ से नैटिल छुआयी तो उसने ऐलीसा के हाथ में जलन पैदा कर दी जिससे वह जाग गयी।

दिन निकले काफी देर हो चुकी थी। उसने देखा कि जैसे नैटिल के पौधे उसने सपने में देखे थे वैसे ही पौधे उसके चारों तरफ बहुतायत से लगे हुए थे जहाँ वह सो रही थी। उसने घुटने के बल बैठ कर भगवान को धन्यवाद दिया और वहाँ से उठ कर अपना काम शुरू करने चल दी।

उसने अपने कोमल हाथों से उन नैटिल के पौधों से वह काँटों वाली नैटिल चुनी जो चर्च के कम्पाउंड में कब्रों के ऊपर उगे हुए हैं।

नैटिल चुनते समय उसने उसके हाथों पर बड़े बड़े छाले डाल दिये पर उसने वह सब इस आशा में सह लिया कि वह अपनी प्यारे भाइयों को अपनी सौतेली माँ के जादू से आजाद करा सकेगी।

उसने नैटिल के हर पौधे को अपने नंगे पैरों से कुचला और उससे निकली हुई हरी रुई को काता।

जब उसके भाई शाम को घर लौटे तो वे यह देख कर चिन्ता में पड़ गये कि उनकी बहिन तो बोल ही नहीं रही थी। उनको लगा कि यह कहीं उनकी सौतेली माँ का डाला हुआ कोई नया जादू तो नहीं है।

पर जब उन्होंने उसके हाथ देखे तो वे समझ गये कि वह उनको आजाद करने के लिये ही यह सब कर रही थी। सबसे छोटा भाई तो बहिन के हाथों को देख कर रो ही पड़ा।

पर आश्चर्य की बात ऐलीसा के शरीर पर जहाँ जहाँ उसके आँसू गिरे वहाँ वहाँ से उसका दर्द भी खत्म हो गया और उसके छाले भी ठीक हो गये।

वह रात भर करवटें बदलती रही क्योंकि उसको चैन ही नहीं था जब तक वह अपने भाइयों को उस जादू से आजाद नहीं करा लेती।

अगले दिन जब उसके भाई वहाँ से चले गये तो वह सारा दिन अकेली बैठी रही पर समय इससे पहले कभीे इतनी जल्दी नहीं भागा था।

उसकी एक कमीज बन गयी थी और अब वह दूसरी कमीज बनाने बैठी। तभी उसने पहाड़ पर शिकारी बिगुल[15] बजने की आवाज सुनी।

वह आवाज सुन कर वह डर गयी क्योंकि वह आवाज तो उसके पास ही आती जा रही थी और फिर उसने शिकारी कुत्तों के भाैंकने की आवाज सुनी। डर कर वह अपना सामान ले कर गुफा के अन्दर भागी और जा कर उस गठरी पर बैठ गयी जिसमें नैटिल रखी हुई थी।

तभी पास की एक झाड़ी में से एक बड़ा सा शिकारी कुत्ता भागता हुआ आया। उसके पीछे एक और कुत्ता था और उसके पीछे एक और कुत्ता था। उन कुत्तों के पीछे पीछे भागते भागते कुछ ही देर में शिकारी भी वहीं आ कर इकठ्ठे हो गये।

इन शिकारियों में से सबसे सुन्दर शिकारी था वहाँ का राजा। वह ऐलीसा के पास आया। राजा ने इतनी सुन्दर लड़की पहले कभी नहीं देखी थी। उसने ऐलीसा से पूछा — “बच्ची, तुम यहाँ कैसे आयीं?”

ऐलीसा ने ना में अपना सिर हिला दिया क्योंकि वह बोल नहीं सकती थी। क्योंकि उसके भाइयों की आजादी और ज़िन्दगी इसी बात पर आधारित थी कि वह न बोले। उसने अपने हाथ भी अपने ऐप्रन के पीछे छिपा लिये ताकि राजा यह न देख ले कि वह कितने कष्ट में थी।

राजा को उसको इस तरह वहाँ अकेले बैठे देख कर उसके ऊपर तरस आ गया। वह बोला — “चलो, तुम मेरे साथ चलो। मैं तुमको यहाँ इस तरह से अकेले नहीं छोड़ सकता। तुम यहाँ इस तरीके से नहीं रह सकतीं।

अगर तुम इतनी ही अच्छी हो जितनी तुम सुन्दर हो तो मैं तुमको रेशम और मखमल के कपड़े पहनाऊँगा, तुम्हारे सिर पर सोने का ताज रखूँगा और तुमको अपने सबसे अच्छे महल में रखूँगा। ”

इतना कह कर राजा ने उसको उठा कर अपने घोड़े पर बिठा लिया। यह सब देख कर ऐलीसा रो पड़ी और अपने हाथ मलने लगी तो राजा बोला — “मेरी तो बस यही इच्छा है कि तुम खुश रहो। देखना, एक दिन तुम इस सबके लिये मुझे धन्यवाद दोगी। ”

और वह उस लड़की को अपने घोड़े पर अपने आगे बिठा कर घोड़े को पहाड़ों में से हो कर दौड़ाता हुआ चला गया। उसके शिकारी लोग उसके पीछे आ रहे थे। शाम तक वह अपने महल पहुँच गया।

राजा उसको अपने महल में ले गया जहाँ संगमरमर के ऊँचे ऊँचे कमरों में बहुत सुन्दर शानदार फव्वारे चल रहे थे। और जहाँ छतें और दीवारें दोनों ही तस्वीरों से सजी हुई थी। पर राजकुमारी ने इनमें से किसी की तरफ नहीं देखा। वह तो बस रोती रही और दुखी होती रही।

महल में पहुँच कर स्त्र्यिों ने उसको शाही कपड़े पहनाये, उसके बालों में मोती गूँथे और उसके छालों भरे हाथों में बहुत ही मुलायम दस्ताने पहनाये। ये सब पहन कर वह इतनी सुन्दर लग रही थी कि राजा का सारा दरबार उसके सामने बहुत नीचे तक झुक रहा था।

फिर राजा ने उससे शादी करने का विचार किया हालाँकि पादरी[16] ने राजा से कहा भी कि जंगल में पायी जाने वाली यह लड़की जादूगरनी भी हो सकती है जिसने राजा की आँखों पर परदा डाल दिया हो और पलक झपकते ही उसका दिल चुरा लिया हो।

पर राजा ने उसकी एक न सुनी और हुकुम दिया कि संगीत बजाया जाये, बढ़िया बढ़िया खाने लगाये जायें और सुन्दर सुन्दर लड़कियाँ वहाँ नाच करें।

लड़की को खुश करने के लिये उसको खुशबूदार बागीचों में घुमाने के लिये ले जाया गया, शानदार कमरे दिखाये गये पर कोई भी चीज़ उसके होठों पर मुस्कुराहट और आँखों में चमक न ला सकी। भाइयों के दुख ने उसकी हर खुशी पर ताला लगा रखा था।

अन्त में राजा ने उसके सोने वाले कमरे के साथ लगा एक छोटे से कमरे का दरवाजा खोला। वह कमरा उसकी गुफा की तरह से हरे रंग की कढ़ाई के काम से भरा हुआ था और बिल्कुल वैसा ही लग रहा था जैसी कि उसकी वह गुफा थी जहाँ से वह उसको ले कर आया था।

उस कमरे के फर्श पर नैटिल की रुई की एक गठरी पड़ी हुई थी जिससे वह उसका सूत कात रही थी। और उस कमरे की छत से वह कमीज लटक रही थी जो उसने खत्म कर ली थी। उसका एक शिकारी उत्सुकतावश उसकी वे चीजें, वहाँ से उठा लाया था।

राजा बोला — “यहाँ बैठ कर तुमको लगेगा कि तुम अपनी पुरानी जगह बैठी हुई हो। यह वह तुम्हारा काम है जो तुम वहाँ कर रही थीं। इन सबके बीच में तुमको वहीं बैठे रहने का आनन्द मिलेगा। ”

जब ऐलीसा ने वह सब चीज़ें देखीं जो उसके लिये बहुत कीमती थीं तो एक मुस्कुराहट उसके होठों पर दौड़ गयी। उसके चेहरे की लाली लौट आयी।

उसकी यह आशा वापस आ गयी कि अब वह अपने भाइयों को उस जादू से आजाद करा सकेगी जो उसकी सौतेली माँ ने उसके भाइयों के ऊपर डाला था और इस खुशी में उसने राजा के हाथ चूम लिये।

राजा ने भी उसको अपने सीने से लगा लिया और यह घोषणा करने का हुकुम दिया कि उनकी शादी की तैयारी की जाये। सो जंगल से लायी गयी देश की एक गूँगी लड़की देश की रानी बनने वाली हो गयी।

चर्च के पादरी ने राजा के कान में फिर से उसकी कुछ बुराई की लेकिन राजा ने फिर से उसको अनसुना कर दिया और अब तो उन दोनों की शादी होने वाली थी। पादरी को खुद अपने हाथ से उसके सिर पर ताज रखना था।

पर क्योंकि राजा ने पादरी की बात नहीं सुनी थी इसलिये गुस्से के मारे उसने ताज का गोला ऐलीसा के सिर पर थोड़ा नीचे की तरफ रख दिया जिससे उसके सिर को बड़ी तकलीफ हुई।

पर उससे भी ज़्यादा उसके दिल को तकलीफ हुई क्योंकि वह अपनी इस तकलीफ को बोल कर अपने भाइयों को दुख नहीं पहुँचाना चाहती थी इसलिये वह उस शरीर की तकलीफ को सह गयी।

वह कुछ नहीं कह सकती थी क्योंकि अगर वह एक शब्द भी बोलती तो उसके भाइयों को अपनी ज़िन्दगी से हाथ धोना पड़ता।

पर इस दयावान और सुन्दर राजा के लिये उसके मन में सच्चा प्यार था क्योंकि वह उसको खुश रखने के लिये अपने तरीके से पूरी कोशिश कर रहा था। हर दिन वह उसको ज़्यादा और ज़्यादा चाहने लगी थी।

काश वह उसमें अपने लिये विश्वास पैदा कर सकती और उसे यह बता सकती कि वह क्यों दुखी थी। पर उसको तो चुप ही रहना है और अपना काम खत्म करना है।

सो वह रात को समय निकाल कर अपने उस गुफा जैसे कमरे में जाती और वहाँ जा कर एक के बाद एक कमीज बनाती। जब वह सातवीं कमीज बना रही थी तो उसकी रुई खत्म हो गयी।

उसको मालूम था कि उसको चर्च के कम्पाउंड में कब्रों के ऊपर उगे हुई नैटिल के पौधे ही लेने चाहिये। और वह उसको अपने आप ही इकठ्ठे करने होंगे पर वह वहाँ जाये कैसे?

“मेरे दिल के दर्द के सामने मेरी उँगलियों का दर्द क्या है? मुझे यह खतरा तो लेना ही पड़ेगा। मुझे पूरा विश्वास है कि भगवान मेरा जरूर ख्याल रखेंगे। ”

यह सोच कर जैसे कोई बुरा काम करता है और उसमें उसको डर लगता है उसी तरह से डरती हुई वह दबे पाँव उठ कर लम्बे लम्बे गलियारों में से होती हुई चाँदनी में नहाये बागीचे को पार करती हुई सूनी सड़काें से होती हुई चर्च के कम्पाउंड में पहुँच गयी।

वहाँ पहुँच कर उसने देखा कि कुछ चुड़ैलें कब्र के एक बड़े से पत्थर पर बैठी थीं। उन्होंने अपने फटे कपड़े उतारे हुए थे जैसे कि वे अभी नहाने जाने वाली हों। अपनी पतली पतली उँगलियों से वे नयी बनी कब्रें खोद खोद कर खोल रहीं थीं और उनमें रखे मरे हुए शरीरों का माँस खा रही थीं।

ऐलीसा को उनके पास से गुजरना था और वे उसको देख रही थीं। सो उसने पहले एक प्रार्थना की, फिर अपने नैटिल के पौधे उखाड़े और महल वापस आ गयी।

ऐसा करते हुए उसको केवल एक आदमी ने देखा और वह था चर्च का पादरी क्योंकि जब सब लोग सो रहे थे वह जाग रहा था। जो कुछ भी उसने उस लड़की के बारे में कहा था अब उसके पास उस बात का सबूत था।

उसने सोचा रानी के साथ कुछ गड़बड़ तो थी। वह जरूर ही कोई जादूगरनी थी और इसी वजह से वह राजा और उसके लोगों को धोखा देने में सफल हो गयी थी।

अगले दिन पादरी ने राजा को चर्च में बुलाया और उसको वह सब बताया जो कुछ उसने पिछली रात देखा था और जिसका उसे डर था।

जैसे ही उसके मुँह से रानी के बारे में कड़वे शब्द निकलने शुरू हुए तो वहाँ लगी संतों की मूर्तियों ने ना में अपना सिर हिलाया जैसे वे कह रही हो कि यह आदमी झूठ बोल रहा है और ऐलीसा बिल्कुल बेकुसूर है।

पर पादरी के पास इसकी दूसरी सफाई थी। उसने कहा कि संत भी यही बात कह रहे हैं जो वह कह रहा है और वे उस लड़की की नीचता पर अपना सिर हिला रहे हैं।

यह सुन कर राजा की आखों से दो बड़े आँसू निकल कर उसके गालों पर ढुलक गये और वह भी उस लड़की पर शक करता हुआ अपने महल को चला गया।

उस रात उसने सोने का बहाना किया पर उसकी आँखों में नींद कहाँ। रात को उसने देखा कि ऐलीसा उठी।

हर रात वह ऐलीसा को उठते देखता रहा। हर बार वह चुपचाप उसका पीछा करता रहा और हर बार उसने उसको उस छोटे कमरे में गायब हो जाते हुए देखा। रोज ब रोज यह सब देख कर उसका गुस्सा बढ़ता ही गया।

ऐलीसा ने भी यह देखा कि राजा गुस्सा है पर उसकी समझ में उसकी कोई वजह नहीं आयी बल्कि उसने उसको और ज़्यादा चिन्ता में डाल दिया। इस तरह एक और चिन्ता उसकी अपने भाइयों की चिन्ता में जुड़ गयी।

यह सोच कर वह रो पड़ी और उसके आँसू उसकी शाही जामुनी पोशाक पर गिर पड़े। गिरते ही वे वहाँ हीरों की तरह चमकने लगे। और जिसने भी यह तमाशा देखा वह यही इच्छा करने लगा कि काश वह रानी होता।

इस बीच उसका काम करीब करीब खत्म हो गया था। बस एक कमीज रह गयी थी। पर फिर से उसकी वह रुई कम पड़ गयी थी सो उसको फिर से नैटिल का पौधा लेने के लिये चर्च के कम्पाउंड में जाना था।

अब उसके पास नैटिल का एक भी पौधा नहीं था। एक बार फिर से, शायद आखिरी बार, उसको चर्च के कम्पाउंड में जाना होगा और थोड़े से पौधे और लाने होंगे।

अबकी बार वह अकेले जाते में और उन चुड़ैलों से डर रही थी। पर उसकी इच्छा शक्ति और भगवान में विश्वास बहुत मजबूत थे सो वह अपना काम करने चल दी। उधर राजा और पादरी भी उसके पीछे पीछे चल दिये।

उन्होंने देखा कि वह चर्च के कम्पाउंड के लोहे के दरवाजे के अन्दर जा कर गायब हो गयी। वे भी हिम्मत करके उसके पीछे पीछे चर्च के कम्पाउंड में दाखिल हो गये तो उन्होंने देखा कि एक कब्र के एक बड़े से पत्थर पर कुछ चुड़ैलें बैठीं हैं। जैसे ऐलीसा ने उनको तब वहाँ देखा था जब वह पहली बार यहाँ आयी थी।

राजा वहाँ से वापस लौट आया क्योंकि राजा ने सोचा कि ऐलीसा भी उन्हीं में से एक होगी – वही ऐलीसा जो उस शाम उसके इतने पास बैठी हुई थी।

उसका मन उसको सजा देने का हुआ पर फिर उसने सोचा कि जनता को ही इस बात का फैसला करने दो। सो उसने जनता के सामने अपना मामला रखा तो जनता ने अपना फैसला सुनाया कि रानी को जला कर मार देना चाहिये।

इस तरह रानी को उसके शाही महल से हटा कर एक अँधेरे और सीलन भरे तहखाने में बन्द कर दिया गया। उस तहखाने में उसकी खिड़की की सलाखों में से आती हवा सीटी बजाती थी।

रेशम और मखमल का तकिया देने की बजाय उसके सिर के नीचे लगाने के लिये उसको नैटिल की एक पोटली दे दी गयी जो उसने कमीज बनाने के लिये इकठ्ठी करके रखी थी। ओढ़ने के लिये उसको नैटिल की वे कमीजें दे दी गयीं जो उसने पूरी कर ली थीं।

वह फिर से अपने काम में लग गयी और प्रार्थना करती रही। पर उसको तसल्ली देने के लिये कोई भी नहीं आया।

शाम को उसने अपनी खिड़की के पास हंसों के पंखों की फड़फड़ाहट सुनी। उसके सबसे छोटे भाई ने आखिर उसे ढूँढ ही लिया था।

वह खुशी से रो पड़ी। हालाँकि उसको पता था कि यहाँ उसकी यह आखिरी रात है क्योंकि अब उसका काम खत्म हो चुका था और उसके भाई भी यहाँ थे।

पादरी उसके आखिरी समय में उसके पास ठहरने के लिये आना चाहता था क्योंकि राजा से उसने इस बात का वायदा किया था कि कम से कम वह उसके लिये यह काम तो कर ही सकता था।

पर ऐलीसा ने ना में सिर हिला कर और इशारों से उसको मना कर दिया था कि वह उसको अपने पास नहीं आने देना चाहती थी। यह उसकी वहाँ आखिरी रात थी और आज उसको अपना काम हर हाल में खत्म करना था नहीं तो उसकी मेहनत और तकलीफ, उसके आँसू, उसकी रातों का जागना जो कुछ भी तकलीफें उसने उठायी थीं सब बेकार जातीं।

सो पादरी ऐलीसा को बुरा भला कह कर वहाँ से चला गया। पर ऐलीसा को मालूम था कि वह बेकुसूर है सो वह अपने काम में लगी रही।

कुछ छोटी छोटी चुहियें फर्श पर इधर उधर दौड़ रही थीं और उसकी सहायता कर रही थीं। वे उसको नैटिल ला ला कर दे रही थीं। एक चिड़ा भी उसकी खिड़की पर आ कर बैठ गया था और उसके लिये सारी रात गाना गाता रहा ताकि उसका अपने काम में मन लगा रहे।

अभी पौ ही फटी थी और सूरज निकलने में अभी एक घंटा बाकी था कि उसके 11 भाई महल के दरवाजे पर पहुँच गये और उन्होंने राजा से मिलने की इच्छा प्रगट की।

पर वहाँ के चौकीदारों ने उनको कहा कि यह नामुमकिन है क्योंकि अभी तो रात ही थी और राजा सो रहा था और उसको अभी जगाया नहीं जा सकता था।

उन्होंने उन चौकीदारों से प्रार्थना भी की पर जब उन्होंने उनकी प्रार्थना नहीं सुनी तो उन्होंने उनको इतनी ज़ोर से चिल्ला कर धमकी दी कि वे डर गये और राजा यह जानने के लिये बाहर निकल आया कि मामला क्या है।

पर उसी समय सूरज निकल आया और उसके भाई फिर से हंस बन कर महल के ऊपर उड़ गये।

उधर सारे शहर वाले वहाँ इकठ्ठा हो रहे थे ताकि वे रानी को जलते हुए देख सकें। ऐलीसा को एक गाड़ी में बिठा कर ले जाया जा रहा था जिसे एक बूढ़ा घोड़ा खींच रहा था।

उसको बहुत ही खुरदरे कपड़े पहनाये गये थे। उसके बाल उसके चेहरे के चारों तरफ बिखरे हुए थे। उसके चेहरे का रंग पीला पड़ा हुआ था। उसके होठ चुपचाप से प्रार्थना कर रहे थे और उसकी उँगलियाँ हरी रुई के सूत से कुछ बुन रही थीं।

उसने अपना अधूरा काम नहीं छोड़ा था वह उसको अपने साथ ही ले आयी थी। मरने के लिये जाते समय भी वह काम कर रही थी। 10 कमीजें उसके पैरों में पड़ी हुई थीं और ग्यारहवीं कमीज पर वह काम कर रही थी।

देखने वाले लोग कह रहे थे — “देखो यह क्या बुड़बुड़ा रही है। इसके पास तो साम्स की किताब भी नहीं है। लगता है कि यह वहाँ बैठी बैठी अपना कुछ जादू कर रही है। उसका वह जादू छीन लो और उसे तोड़ कर फेंक दो। ”

वे आगे बढ़ कर यह सब करने ही वाले थे कि 11 हंस आसमान से नीचे उतरे और उसकी गाड़ी के चारों तरफ गोला बना कर उड़ने लगे। भीड़ डर गयी और डर के मारे पीछे हट गयी।

बहुत से लोग फुसफुसाये — “यह तो अच्छी निशानी है। लगता है कि यह बेकुसूर है। ” पर यह बात किसी की खुल कर कहने की हिम्मत नहीं हुई।

ऐलीसा की गाड़ी वहाँ पहुँच चुकी थी जहाँ उसको सजा मिलने वाली थी। सजा देने वाले ने उसका हाथ पकड़ कर उसको गाड़ी से नीचे उतारा तो जल्दी से उसने वे 11 कमीजें उन 11 हंसों के उपर फेंक दीं।

वे 11 हंस तुरन्त ही 11 सुन्दर राजकुमार बन गये पर सबसे छोटे भाई की एक बाँह अभी भी हंस का पंख रह गयी थी क्योंकि उसकी कमीज की एक बाँह नहीं लग पायी थी। ऐलीसा उसको खत्म ही नहीं कर पायी थी।

उन हंसों को राजकुमारों में बदलते देख कर वह खुशी से चिल्लायी — “अब मैं बोल सकती हूँ कि मैं बिल्कुल बेकुसूर हूँ। ”

जब सब लोगों ने देखा कि वहाँ क्या हो रहा था तो सबने उसके सामने ऐसे सिर झुकाया जैसे कि वे किसी संत के आगे सिर झुकाते।

पर इतने समय में जो दुख, दर्द और गुस्सा उसने सहा था वह इतना ज़्यादा था कि अब उससे वह और नहीं सहा जा रहा था सो वह बेजान सी अपने भाइयों की बाँहों में गिर पड़ी।

उसके सबसे बड़े भाई ने कहा — “यह बेचारी तो बिल्कुल बेकुसूर है। ”

और तब उसने बताया कि क्या सब कैसे हुआ था। जब वह यह कहानी सुना रहा था तो लाखों गुलाबों की खुशबू से वहाँ की सारी हवा महक गयी।

क्योंकि जितनी लकड़ी उसको जलाने के लिये वहाँ इकठ्ठी की गयी थी सब में गुलाब के फूलों के पेड़ की जड़ें निकल आयी थीं और उनमें से शाखें निकल निकल कर उनमें लाखों लाल गुलाब के खुशबूदार फूल खिल गये थे।

उनमें सबसे ऊपर एक सफेद गुलाब सितारे की तरह चमक रहा था। राजा ने वह फूल तोड़ कर ऐलीसा के सामने की तरफ लगा दिया।

चर्च की सारी घँटिया अपने आप बजने लगीं और चारों तरफ चिड़ियें ही चिड़ियें दिखायी देने लगीं। अब तो दुलहिन महल की तरफ अपने जुलूस के साथ ऐसे जा रही थी जैसे किसी राजा ने किसी भी दुलहिन को इस तरह से जाते हुए इससे पहले कभी नहीं देखा था।



[1] The Wild Swans – a fairy tale from Denmark, Europe. Taken from the Web Site :

http://www.andersen.sdu.dk/vaerk/hersholt/TheWildSwans_e.html Collected by Hans Christian Andersen. Translated in English by Jean Hersholt

[Other tales of this type include “The Magic Swan Geese”, “The Seven Ravens”, “The Twelve Wild Ducks”, “Udea and Her Seven Brothers” and “The Twelve Brothers”. Read all these and more such tales in the Book “Chhah Hans Jaisi Kahaniyan” written by Sushma Gupta in Hindi language]

[2] Elisa – name of the sister of 11 brothers

[3] Baking is a process in which the raw material is cooked under fire kept around it. It is cooked with its heat only. Now a days where this type of food is cooked it is called oven. This type of cooking is very common in western countries. Bread, cookies, buiscuits, bread etc items are cooked in this way only.

[4] Pee-k-boo is a game, normally played with very young children. One person hides behind something and at time to time peeps out of that hiding place and calls Pee-k-boo to the other child. The child laughs as first he does not see anybody and then suddenly he sees the face of the person.

[5] Psalms is one of the several books of Bible.

[6] There are two types – frogs and toads. Frogs are beautiful having smooth moist shiny bright green color skin; while toads are of dull green sandy color, with dry and warty skin. Frogs live on both land and water.

[7] Poppy flowers grow in quite a few colors but normally they are red. Its extract is called opium – see its picture above

[8] Translated for the word “Fireflies”

[9] Berry is a small fruit grown on bushes such as huckleberry, strawberry, blackberry, blueberry etc – see their picture above.

[10] Palm trees are of many types. They normally grow on sea coastal areas. In India these rees are flound plentily in Tamilnadu and Keral.

[11] Fata Morgana – the name of a witch whose name appears in the story of “Love for Three Oranges” also published in “Italy Ki Lok Kathayen-8” by Sushma Gupta in Hindi language

[12] Translated for the words “Fleet of Ships”

[13] Cedar trees

[14] Stinging Nettle – a plant having several species, five of which have many hollow stinging hairs on their leaves and stems, which act like hypodermic needles – see one of its kinds above.

[15] Translated for the words “Hunting horn”

[16] Translated for the word “Archbishop” – a high ranking person in the church

---

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं के संकलन में से सैकड़ों लोककथाओं के पठन-पाठन का आनंद आप यहाँ रचनाकार के  लोककथा खंड में जाकर उठा सकते हैं.

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3841,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,336,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2786,कहानी,2116,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,486,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,17,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,831,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,4,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,315,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1919,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,648,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,688,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,55,साहित्यिक गतिविधियाँ,184,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: लोककथा // 7 जंगली हंस // नौर्स देशों की लोक कथाएँ–1 // सुषमा गुप्ता
लोककथा // 7 जंगली हंस // नौर्स देशों की लोक कथाएँ–1 // सुषमा गुप्ता
https://lh3.googleusercontent.com/-n5CRO7PlsfQ/W9ChcaWtS5I/AAAAAAABE4w/eOHL2E9yl3sfkZ5r-1hs6Kuwl1TRBG79gCHMYCw/clip_image007_thumb%255B1%255D?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-n5CRO7PlsfQ/W9ChcaWtS5I/AAAAAAABE4w/eOHL2E9yl3sfkZ5r-1hs6Kuwl1TRBG79gCHMYCw/s72-c/clip_image007_thumb%255B1%255D?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2018/10/7-1.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2018/10/7-1.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ