370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

अनूपा हरबोला की दो नई लघुकथाएँ

अनूपा हरबोला  

   खाली 

गीता जब छुट्टियों में इस बार अपने ससुराल गई तो उसने अपने  देवर को बात-बात पर घर पर सभी पर चिल्लाते हुए पाया। ऐसा लगता था मानो बीबी और माँ पर चिल्लाए बैगर तो उसका खाना ही नहीं पचता। गुस्सैल होने के कारण ही उसने तैश में आकर  एक दिन अपनी लगी लगाई नौकरी छोड़ दी।पिता की पेंशन, बीबी की नौकरी से घर का खर्चा चल रहा था,चल क्या रहा था ज़बरदस्ती खींचा जा रहा था। घर की पहली  मंज़िल में एक कमरा खाली पड़ा था, तो गीता साफ-सफाई करने लगी। थोड़ी देर बाद उसकी सास वहाँ आ गई। दोनों सफाई कर ही रहे थे तो उसका देवर भी वहाँ आ गया।

"कोई और काम नहीं है क्या? जो इस कमरे की सफाई कर रहे हो," वो बोला।

"तेरी भाभी कह रही है कि इस कमरे को भी किराए पर लगा दो, कुछ और आमदनी हो जाएगी, वैसे भी खाली ही पड़ा है।"

इतना सुनते ही उसने ज़ोर-ज़ोर से गालियाँ देना और चिल्लाना शुरू कर दिया,"हर कोई आ जाता है मुझे जताने कि मैं बेरोजगार हूँ, निठल्ला हूँ, दूसरों की दया पर हूँ, खाली कमरा होने के कारण आवाज़ कर्कश ध्वनि के रूप में इतनी तेज़ गूँजी कि नीचे के कमरे में सोए उसके ससुर भी उठ गए।  ऐसा बोलकर वो तो चला गया पर मम्मी रोने लगी। उनको चुप कराते हुए गीता ने सास को कहा, " देवरजी को काम की सख्त जरूरत है, खालीपन चाहे कमरे का हो या दिमाग का बहुत चुभन भरी आवाज़ करता है...।"

----

[post_ads]

इंसानियत

"तिन्नी एक कप चाय और चार पीस ब्रेड को सेक कर रवि को दे दे। दस बज गए हैं, फिर उसके खाना खाने का समय हो जाएगा।" नीतू ने अपनी बेटी को कहा।

"मम्मी! मैं नहीं बना सकती ,मैंने नेल पेंट लगाया है, खराब हो जाएगा, रोज तो देती हो चाय नाश्ता, एक दिन नहीं दोगी तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा। वैसे भी सरकार उसे पैसे देती है,  हमारे घर  काम करने के, ये बहुत बुरी आदत है आपकी, अपने से ज्यादा दूसरे के बारे में सोचती हो आप" तिन्नी ने उत्तर दिया।

"फर्क पड़ेगा बेटा, सुबह से वो धूप में काम कर रहा है, हमारी बगिया के फूलों की देखभाल करता है, हमारा फ़र्ज़ नहीं कि उसकी देखभाल करें।"

"कहीं लिखा है कि उसे चाय नाश्ता देना है।"

"हाँ लिखा है, इंसानियत की किताब में लिखा है, अमीर को तो सब खिलाते है,गरीब को खिलाना इंसान होने की सबसे बड़ी निशानी है...,अगर ये बुरी आदत है तो गर्व है मुझे अपनी बुरी आदत पर।"



अनूपा हरबोला

लघुकथा 5516660241309717513

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव